| |

भारत में प्रागैतिहासिक संस्कृतियाँ – पुरापाषाण, मध्यपाषाण, नवपाषाण, ताम्रपाषाण, लौह युग

    प्रागैतिहासिक शब्द एक समय सीमा को संदर्भित करता है इससे पहले कि हम लिखना शुरू करें। इस काल के अस्तित्व का कोई लिखित प्रमाण नहीं प्राप्त होता है। भारत में प्रागैतिहासिक संस्कृतियों का अध्ययन उस काल की कलाकृतियों, मिट्टी के बर्तनों, औजारों और पुरातात्विक स्थलों पर पाई जाने वाली अन्य भौतिक वस्तुओं के माध्यम से किया जाता है।

भारत में प्रागैतिहासिक संस्कृतियाँ - पुरापाषाण, मध्यपाषाण, नवपाषाण, ताम्रपाषाण, लौह युग

Contents

भारत में प्रागैतिहासिक संस्कृतियाँ – पुरापाषाण, मध्यपाषाण, नवपाषाण, ताम्रपाषाण, लौह युग

कुल मिलाकर तीन युग हैं- पाषाण युग, कांस्य/तांबा युग और लौह युग। पाषाण युग 2.6 मिलियन पहले था और 3300ईसा पूर्व तक कायम रहा। अंततः कांस्य और लौह युग का अनुशरण किया गया।

ये चरण कुल मिलाकर लगभग 8000 वर्ष लंबे थे। उनकी अपनी विशेषताएं और उपकरण हैं जो उन्हें एक दूसरे से अलग बनाते हैं।

  • पाषाण युग                   30000 ईसा पूर्व – 3000 ईसा पूर्व
  • ताम्र युग                      3000 ईसा पूर्व – 1050 ईसा पूर्व
  • लौह युग                      1050 ईसा पूर्व – 600 ईसा पूर्व

भारत में प्रागैतिहासिक संस्कृतियां

भारत में प्रागैतिहासिक संस्कृतियों के पाँच भाग हैं – पुरापाषाण काल, मध्यपाषाण काल, नवपाषाण काल, ताम्रपाषाण काल ​​और लौह युग। पहले तीन पत्थर का हिस्सा हैं जबकि ताम्रपाषाण कांस्य युग का दूसरा नाम है।

ये काल प्राचीन भारतीय इतिहास के प्रथम भाग हैं। आइए भारतीय इतिहास को बेहतर ढंग से समझने के लिए इनमें से प्रत्येक प्रभाग की विशिष्ट विशेषताओं पर एक नज़र डालें।

भारत में प्रागैतिहासिक संस्कृतियाँ समयरेखा

  • पुरापाषाण युग      2 मिलियन ईसा पूर्व – 10,000 ईसा पूर्व
  • मध्यपाषाण काल (Mesolithic) ​​10,000 ईसा पूर्व से – 8000 ईसा पूर्व तक
  • नवपाषाण युग 8000 ईसा पूर्व – 4000 ईसा पूर्व
  • तांबें एवं पत्थर का युग (ताम्रपाषाण युग) 4000 ईसा पूर्व से – 1500 ईसा पूर्व तक
  • लौह युग (Iron Age) 1500/1050 ईसा पूर्व -750/600 ईसा पूर्व

पुरापाषाण काल (Paleolithic) ​​- 2 मिलियन ईसा पूर्व से – 10,000 ईसा पूर्व तक

यह भारत में मानव विकास का प्रारंभिक काल था। उस काल का मानव एक शिकारी था। वे अपना पेट भरने के लिए पूरी तरह शिकार पर निर्भर थे। वे शिकार करने और अन्य गतिविधियों के लिए भी पत्थर के नुकीले औजारों का इस्तेमाल करते थे। कृषि इस युग में विकास नहीं हुआ था।

इस काल में आदिमानव एक शिकारी और अन्न संग्रहकर्ता था। पुरातत्वविदों का कहना है कि उस काल के मनुष्य गुफाओं में रहते थे, जड़ और फल खाते थे और शिकार करते थे। यह पाषाण युग का हिस्सा है और इसे औजारों की विषेशताओं के आधार पर तीन भागों में विभाजित किया गया है – पूर्व पुरापाषाण काल, मध्य पुरापाषाण काल ​​​​और उत्तर पुरापाषाण काल।

ALSO READ-अजंता की गुफाएं, इतिहास और मुख्य विशेषताएं | Ajanta Caves, History and Highlights

पूर्व पुरापाषाण काल ​​(Early Paleolithic) – 100,000 ईसा पूर्व तक

महाराष्ट्र में बोरी नमक स्थल भारत में सबसे पुराना पूर्व पुरापाषाण स्थल है। इनका निवास स्थान मुख्य रूप से गुफाएं और शैलाश्रय थे। मध्य प्रदेश में भीमबेटका रॉक शेल्टर उनके आवास का एक प्रमुख उदाहरण है। यह स्थल 2003 में विश्व धरोहर स्थल बन गया।

एक और महत्वपूर्ण विशेषता यह है कि वे पानी के स्रोतों के पास निवास करते थे क्योंकि वहां पत्थर उपलब्ध था। उनके अधिकांश शिकार पाषाण उपकरण जैसे चूना पत्थर से बनी कुल्हाड़ी आदि, जानवरों की खाल निकालने, खुदाई करने और काटने के लिए उपयोग किया जाता है।

भारत में कुछ महत्वपूर्ण पूर्व पुरापाषाण के स्थल हैं – मिर्जापुर की बेलन घाटी, राजस्थान में डीडवाना, नर्मदा घाटी और सोन घाटी।

मध्य पुरापाषाण काल (Middle Paleolithic) ​​- 100,000 ईसा पूर्व – 40,000 ईसा पूर्व

इस युग की अधिकांश विशेषताएं निम्न पुरापाषाण काल ​​के समान हैं। इस काल में सर्वप्रथम अग्नि के प्रयोग के प्रमाण मिले। शिकार के उपकरण कुल्हाड़ियों से बदलकर गुच्छे के उपयोग में बदल गए। वे दिखने में अधिक नुकीले और धारदार थे।

वे हल्के, पतले और आकार में छोटे भी थे। कुछ महत्वपूर्ण और प्रारंभिक मध्य पुरापाषाण स्थल हैं – नर्मदा नदी घाटी, तुंगभद्रा नदी घाटी और लूनी घाटी।

उत्तर पुरापाषाण काल ​​(Late Palaeolithic)- 40,000 ईसा पूर्व – 10,000 ईसा पूर्व

इस अवधि में होमो सेपियन्स का उदय हुआ। इस काल की संस्कृति को ओस्टियोडोन्टोकरेटिक संस्कृति कहा जाता है जिसमें हड्डियों, दांतों और सींगों से बने उपकरण होते थे। इसमें केवल शिकार के औजारों के बजाय मछली पकड़ने के उपकरण भी शामिल थे।

यह अवधि बहुत कम थी, कुछ का कहना है कि यह कुल पुरापाषाण काल ​​​​का 1/10 था। भीमबेटका शैलाश्रयों में चित्रकारी इसी काल की है। पूर्व पुरापाषाण काल ​​के कुछ महत्वपूर्ण और प्रारंभिक स्थल हैं – बेलन घाटी, सोन घाटी, छोटा नागपुर का पठार, महाराष्ट्र और उड़ीसा।

हड़प्पा सभ्यता से संबंधित इम्पोर्टेन्ट प्रश्नोत्तरी

मध्य पाषाण काल (Mesolithic) ​​- 10,000 ईसा पूर्व से – 8000 ईसा पूर्व तक

यह काल भी पाषाण युग का ही एक भाग है। हालांकि इस काल में शिकार और भोजन एकत्र करना जारी रहा, लेकिन जानवरों का पालतू बनाना पहली बार देखा गया। इस अवधि के दौरान प्रमुख जलवायु हुई, मौसम अधिक गर्म और आर्द्र हो गया।

इस अवधि में वर्षा में वृद्धि हुई और वनस्पतियों और जीवों की किस्मों में वृद्धि हुई। मवेशियों और कुत्तों को पालतू जानवरों के रूप में रखा जाता था, मुख्य रूप से इस समय के दौरान उपकरण बहुत छोटे थे, इसलिए उन्हें माइक्रोलिथ कहा जाता था।

बैकड ब्लेड, कोर, पॉइंट, ट्रायंगल, लूनेट और ट्रेपेज़ इस अवधि के कुछ माइक्रोलिथ थे। अनेक शैलाश्रयों में चित्रकारी इसी काल की है। आदमगढ़, मध्य प्रदेश में पशुपालन का सबसे पहला प्रमाण है।

गुजरात में लंघनाज और उत्तर प्रदेश में मोहराणा पहाड़ में मृतकों को दफनाने के प्रारम्भिक प्रमाण मिलते हैं। गंगा के मैदानों का पहला मानव उपनिवेश मध्यपाषाण काल ​​से भी है।

मध्यपाषाण काल ​​के कुछ महत्वपूर्ण और प्रारंभिक स्थल हैं – ब्रह्मगिरी, नर्मदा, विंध्य, गुजरात और उत्तर प्रदेश।

सिन्धु सभ्यता की शिल्प, प्रौद्योगिकी, और कलाकृतियां | Crafts, Technology, and Artifacts of Indus Civilization

नवपाषाण काल (Neolithic period) ​​- 8000 ईसा पूर्व – 4000 ईसा पूर्व

यह पाषाण युग का अन्तिम चरण है। यह अवधि भारत में कृषि की शुरुआत थी। मनुष्यों की जीवन शैली खानाबदोश से एक स्थान पर बसे हुए में बदल गई। इन लोगों का संपत्ति पर समान अधिकार था और उन्होंने मिट्टी और सरकण्डे के गोलाकार घर बनाए।

ये खाद्य उत्पादक थे, और रागी, घोड़ा चना, कपास, चावल, गेहूं और जौ इस काल की कुछ प्रमुख फसलें थीं।

वे कला और मिट्टी के बर्तनों में भी रुचि रखते थे। खेती के लिए हड्डियों और पत्थरों से बने औजार मौजूद थे। यह मानव शरीर को ढकने के लिए कपड़ों के उपयोग की भी शुरुआत थी। इस अवधि में मृतकों का अंतिम संस्कार करने की प्रथा का प्रारम्भ हुआ।

भारत में कुछ महत्वपूर्ण और शुरुआती नवपाषाण स्थल हैं – मेहरगढ़, इनामगाँव, हुल्लर, बुर्जहोम, गुफकराल, चिरांद और उत्नूर।

ताम्रपाषाण काल (Chalcolithic period) ​​- 4000 ईसा पूर्व – 1500 ईसा पूर्व

यह भारत में पहला धातु युग है। यह कांस्य और ताम्र युग का हिस्सा है। इस काल के औजार निम्न कोटि की धातुओं के थे। यह मुख्य रूप से कृषक समुदायों के लिए प्रसिद्ध था। मछली पकड़ने और खेती के अलावा शिकार अभी भी एक व्यवसाय था।

भेड़, भैंस, बकरी, मवेशी और सूअर सहित जानवरों ने इन लोगों के भोजन के रूप में काम किया। इस अवधि में चावल की फसल उगाने और कपास की खेती का विकास हुआ। कुछ मुख्य फसलें जौ और गेहूं, मसूर, बाजरा, ज्वार, रागी बाजरा, हरी मटर, और हरे और काले चना थे।

घर आयताकार थे जिनमें ज्यादातर एक कमरा था और मिट्टी और गाय के गोबर के थे। इस समय के दौरान काले और लाल मिट्टी के बर्तन प्रमुख थे। मनुष्य अपने गहनों सहित घर के नीचे (गड्ढेनुमा घरों में) थे।

ये लोग उपनिवेशवादी थे और ज्यादातर पहाड़ियों और नदियों के पास बसे थे। हड़प्पा संस्कृति इसी काल का अंग थी। कुछ महत्वपूर्ण और शुरुआती ताम्रपाषाण काल के स्थल ​​हैं – ब्रह्मगिरी नेवादा टोली, चिरांद, महिषादल, और देश के विभिन्न क्षेत्रों में।

प्रागैतिहासिक काल से सम्बंधित 100 अति मत्वपूर्ण प्रश्नोत्तर

लौह युग – 1000 ईसा पूर्व से 600 ईसा पूर्व

पेंटेड ग्रे वेयर कल्चर और नॉर्दर्न ब्लैक पॉलिश्ड वेयर इस अवधि की सबसे प्रमुख संस्कृति थे। इस काल में आर्यों का आगमन हुआ (वैदिक काल)। जनपद इस काल के क्षेत्र थे और 16 महाजनपदों को जन्म दिया।

ये थे प्राचीन भारत के 16 राज्य। औजार और हथियार बनाने के लिए लोहे को गलाने से इस काल की शुरुआत हुई। यह सभ्यता और देश में राज्यों के उद्भव की शुरुआत थी।

इस काल में गेरू रंग के बर्तन और मूर्तियों की पूजा शुरू हुई। अहार-बना नामक श्वेत चित्र का विचार भी इसी काल का है। सिरेमिक से बर्तन बनाने का विचार यहीं से शुरू हुआ। जैन धर्म और बौद्ध धर्म जैसे धर्म विभाजन भी लौह युग से ही आते हैं।

सिंधु घाटी के बाद गंगा नदी के तट पर पहली सभ्यता महाजनपदों ने की थी। यह काल मौर्य साम्राज्य के उदय के साथ समाप्त हुआ। भारत में कुछ महत्वपूर्ण लौह युग स्थल हैं – मल्हार, दादूपुर, राजा नाल का टीला, लहुरादेव, कौशाम्बी और झूसी, इलाहाबाद।

निष्कर्ष

इस लेख में भारत में प्रागैतिहासिक युगों और संस्कृतियों के बारे में सब कुछ शामिल किया गया है। जैसा कि ऊपर उल्लेख किया गया है – मुख्य रूप से पाँच काल थे जो कई मायनों में एक दूसरे से भिन्न थे। तीन बुनियादी आयु वर्गों को आगे भारत में पाँच भागों में विभाजित किया गया है।

लेकिन उन सभी का विस्तार से अध्ययन करना महत्वपूर्ण है। यूपीएससी मेन्स हमेशा व्यक्तिपरक प्रश्न पूछता है, इसलिए उम्मीदवारों को इस विषय से अच्छी तरह परिचित होना चाहिए।

यह लेख आपको समय-समय पर विवरण के साथ मार्गदर्शन करेगा जैसे – समयरेखा, संस्कृतियां, जीवन शैली, और बहुत कुछ। इतिहास और मानव विज्ञान के पेपर में यह विषय अपने पाठ्यक्रम के हिस्से के रूप में है। यदि आप इनमें से किसी एक को अपने यूपीएससी वैकल्पिक विषय के रूप में चुनने की योजना बना रहे हैं, तो आपको इस लेख को अवश्य पढ़ना चाहिए।

यह पूरी तरह से तथ्यों पर आधारित है और समझने में आसान है। मूल बातें पढ़ने और याद रखने में ज्यादा समय नहीं लगना चाहिए।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *