शाहजहाँ: ताजमहल और भारत की सांस्कृतिक विरासत के पीछे मुगल सम्राट

शाहजहाँ: ताजमहल और भारत की सांस्कृतिक विरासत के पीछे मुगल सम्राट

Share This Post With Friends

शाहजहाँ: ताजमहल और भारत की सांस्कृतिक विरासत के पीछे मुगल सम्राट
Image Credit-The Indian Portrait

शाहजहाँ: मुगल बादशाह जिसने ताजमहल बनवाया

शाहजहाँ, जिसे राजकुमार खुर्रम के नाम से भी जाना जाता है, भारत का पाँचवाँ मुगल सम्राट था, जिसने 1628 से 1658 तक शासन किया। वह व्यापक रूप से कला, वास्तुकला और ताजमहल के निर्माण के लिए जाना जाता है, जो सबसे प्रतिष्ठित में से एक है। और दुनिया में प्रसिद्ध स्मारक। शाहजहाँ एक प्रतिभाशाली शासक था, जिसने मुगल साम्राज्य के विस्तार की देखरेख की, और उसके शासनकाल को भारतीय इतिहास में एक स्वर्ण युग माना जाता है।

प्रारंभिक जीवन और सत्ता में वृद्धि

शाहजहाँ का जन्म 5 जनवरी, 1592 को लाहौर, वर्तमान पाकिस्तान में हुआ था। वह सम्राट जहाँगीर और उनकी पत्नी जगत गोसाईं के तीसरे पुत्र थे। शाहजहाँ अपने पिता का पसंदीदा पुत्र था और कम उम्र से ही उसे राजगद्दी के लिए तैयार किया गया था। उन्हें राजकुमार खुर्रम की उपाधि दी गई, जिसका अर्थ है “हर्षित” या “खुश”।

एक युवा राजकुमार के रूप में, शाहजहाँ अपनी बहादुरी, बुद्धिमत्ता और कला के प्रति प्रेम के लिए जाना जाता था। वह एक कुशल तलवारबाज, घुड़सवार और तीरंदाज था और उसे कविता, संगीत और चित्रकला में भी गहरी रुचि थी। शाहजहाँ अपने समय के सूफी संतों और कवियों से गहरे प्रभावित थे और अपने उदार और सहिष्णु विचारों के लिए जाने जाते थे।

1612 में, शाहजहाँ ने अर्जुमंद बानू बेगम से शादी की, जिन्हें मुमताज़ महल के नाम से भी जाना जाता है, जो उनके पहले चचेरे भाई और आसफ खान की बेटी थीं, जो मुगल दरबार के सबसे शक्तिशाली रईसों में से एक थे। ये शादी एक लव मैच थी और ये कपल एक-दूसरे के लिए समर्पित था। मुमताज महल शाहजहाँ का निरंतर साथी, सलाहकार और विश्वासपात्र बन गया, और वह राज्य और शासन के मामलों में उसकी सलाह पर निर्भर था।

1627 में, सम्राट जहाँगीर की मृत्यु हो गई, और शाहजहाँ ने उसे सिंहासन पर बैठाया। उनके शासनकाल को समृद्धि, स्थिरता और सांस्कृतिक उपलब्धियों द्वारा चिह्नित किया गया था। शाहजहाँ कला का संरक्षक था और उसने वास्तुकला, चित्रकला, सुलेख और संगीत के विकास को प्रोत्साहित किया। उन्होंने संस्कृत ग्रंथों के फ़ारसी में अनुवाद को भी प्रायोजित किया और विद्वानों और कवियों के कार्यों का संरक्षण किया।

शाहजहाँ का वैवाहिक जीवन

शाहजहाँ एक मुग़ल बादशाह था जिसने 1628 से 1658 तक शासन किया। वह अपने वास्तुकला के प्यार के लिए जाना जाता था और उसे अपनी प्यारी पत्नी मुमताज महल की याद में ताजमहल बनाने का श्रेय दिया जाता है।

शाहजहाँ ने अपने पूरे जीवन में कई महिलाओं से शादी की थी। उनकी पहली पत्नी कंधारी बेगम थीं, जिनसे उन्होंने 1609 में शादी की। उन्होंने 1614 में अपनी पहली संतान, जहाँआरा बेगम नाम की एक बेटी को जन्म दिया। शाहजहाँ की दूसरी पत्नी जगत गोसाईं थीं, जिनसे उन्होंने 1617 में शादी की। वह एक राजपूत राजकुमारी थीं और 1615 में उनके पहले बेटे, दारा शिकोह को जन्म दिया। शाहजहाँ की तीसरी पत्नी मुमताज़ महल थीं, जिनसे उन्होंने 1612 में शादी की। वह उनकी पसंदीदा पत्नी थीं और वह उनसे बहुत प्यार करते थे। उनके औरंगज़ेब सहित 14 बच्चे थे, जो बाद में सम्राट बने।

1631 में अपने 14वें बच्चे को जन्म देते समय मुमताज महल की मृत्यु हो गई। शाहजहाँ उसकी मौत से तबाह हो गया और उसकी याद में ताजमहल बनाने का फैसला किया। उन्होंने दिल्ली में लाल किला, दिल्ली में जामा मस्जिद और आगरा में मोती मस्जिद समेत कई अन्य इमारतों और स्मारकों को भी चालू किया।

मुमताज़ महल की मृत्यु के बाद, शाहजहाँ ने कई अन्य पत्नियाँ लीं, लेकिन उनमें से कोई भी उसे मुमताज़ महल की तरह प्यारी नहीं थी। अंततः उन्हें 1658 में अपने ही बेटे औरंगज़ेब द्वारा उखाड़ फेंका गया और अपना शेष जीवन आगरा के किले में नजरबंद कर दिया, जहाँ 1666 में उनकी मृत्यु हो गई।

यहां उनकी पत्नियों की सूची उनकी शादी के अनुमानित वर्ष के साथ दी गई है:

  • कंधारी बेगम – 1609 में शादी की
  • जगत गोसाईं – 1617 में शादी की
  • मुमताज महल – 1612 में शादी की
  • अकबराबादी महल – 1637 में शादी हुई
  • उदयपुरी महल – 1639 में शादी हुई
  • फतेहपुरी महल – 1646 में शादी की
  • अजमेरी बेगम – 1646 में शादी की
  • तुर्कान बानू बेगम – 1628 में शादी की
  • सफवी बेगम – 1647 में शादी की

ताजमहल का निर्माण

ताजमहल को दुनिया की सबसे खूबसूरत और विस्मयकारी इमारतों में से एक माना जाता है। इसे शाहजहाँ ने अपनी प्यारी पत्नी मुमताज महल की याद में बनवाया था, जिनकी मृत्यु 1631 में अपने 14वें बच्चे को जन्म देते समय हो गई थी। ताजमहल का निर्माण 1632 में शुरू हुआ और इसे पूरा होने में 20 साल से अधिक का समय लगा।

ताजमहल का निर्माण
Image Credit-pixabay.com

ताजमहल मुगल वास्तुकला की एक उत्कृष्ट कृति है, जो फारसी, भारतीय और इस्लामी शैलियों के तत्वों को जोड़ती है। ताजमहल की मुख्य संरचना सफेद संगमरमर से बनी है और जटिल नक्काशियों से सुशोभित है, कीमती पत्थरों से जड़ा हुआ है, और सुलेख से सजाया गया है। ताजमहल एक विशाल उद्यान में स्थापित है, जो एक जल चैनल द्वारा चार भागों में विभाजित है, और एक लाल बलुआ पत्थर की दीवार से घिरा हुआ है।

ताजमहल न केवल प्रेम का एक स्मारक है, बल्कि यह मुगल वास्तुकला की पराकाष्ठा और भारतीय शिल्प कौशल के शीर्ष का भी प्रतिनिधित्व करता है। यह इमारत उन हजारों शिल्पकारों, कारीगरों और मजदूरों के कौशल का एक वसीयतनामा है, जिन्होंने इंजीनियरिंग और कला के इस चमत्कार को बनाने के लिए अथक परिश्रम किया। ताजमहल यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थल है और हर साल दुनिया भर से लाखों पर्यटकों को आकर्षित करता है।

शाहजहाँ की अन्य उपलब्धियाँ

ताजमहल के अलावा, शाहजहाँ को अपने शासनकाल के दौरान कई अन्य उपलब्धियों का श्रेय भी दिया जाता है। उन्होंने दिल्ली में लाल किला, दिल्ली में जामा मस्जिद और आगरा में मोती मस्जिद समेत कई अन्य शानदार इमारतों के निर्माण का निरीक्षण किया। दिल्ली में लाल किला 1638 और 1648 के बीच बनाया गया था और ब्रिटिश राज तक मुगल सम्राटों का निवास स्थान था। किला एक विशाल परिसर है, जिसकी दीवारें 2 किलोमीटर तक लंबी हैं। इसमें कई महल, हॉल और मस्जिद हैं, और यह मुगल वास्तुकला का एक बेहतरीन उदाहरण है।

दिल्ली में जामा मस्जिद भारत की सबसे बड़ी मस्जिदों में से एक है और इसे 1650 और 1656 के बीच बनाया गया था। यह 25,000 उपासकों को समायोजित कर सकती है और इसकी जटिल नक्काशी और सुलेख के लिए जाना जाता है। आगरा में मोती मस्जिद एक छोटी मस्जिद है, जो पूरी तरह से सफेद संगमरमर से बनी है, और अपनी सुंदरता और सादगी के लिए जानी जाती है।

शाहजहाँ कला का संरक्षक भी था और अपने कविता, संगीत और चित्रकला के प्रेम के लिए जाना जाता था। उन्होंने प्रसिद्ध फ़ारसी कवि सादी और भारतीय संगीतकार तानसेन सहित कई कलाकारों और कवियों को प्रायोजित किया। शाहजहाँ गहनों और कीमती पत्थरों का एक बड़ा संग्रहकर्ता भी था और उसके पास 6,000 से अधिक हीरे और अन्य कीमती रत्नों का संग्रह था।

विदेश नीति और सैन्य उपलब्धियां

शाहजहाँ न केवल कला का संरक्षक था बल्कि एक सक्षम सैन्य कमांडर और रणनीतिकार भी था। उसने मुग़ल साम्राज्य का विस्तार जारी रखा और अपने शत्रुओं के विरुद्ध सफल अभियान चलाया। 1636 में, उसने दक्खन के शासक सुल्तान मोहम्मद आदिल शाह को हराया और बीजापुर राज्य पर कब्जा कर लिया। 1646 में, उसने गोलकुंडा के शासक अब्दुल्ला कुतुब शाह को हराया और हैदराबाद राज्य पर कब्जा कर लिया।

शाहजहाँ की विदेश नीति में भी गहरी दिलचस्पी थी और उसने फारस के सफ़वी साम्राज्य और तुर्क साम्राज्य के साथ राजनयिक संबंध बनाए रखे। उन्होंने इन देशों में कई दूतावास भेजे और व्यापार और सांस्कृतिक संबंध स्थापित किए। शाहजहाँ अपनी उदारता के लिए जाना जाता था और फारस और तुर्क साम्राज्य में अपने समकक्षों को उपहार में गहने, कालीन और वस्त्र भेजता था।

पतन और ठहराव

शाहजहाँ का शासनकाल महान उपलब्धियों से चिह्नित था, लेकिन यह राजनीतिक साज़िश, विद्रोह और अशांति से भी चिह्नित था। 1657 में, शाहजहाँ गंभीर रूप से बीमार पड़ गया, और उसके बेटे सिंहासन के लिए एक दूसरे के खिलाफ साजिश रचने लगे। इनमें से सबसे महत्वाकांक्षी औरंगजेब, शाहजहाँ और मुमताज़ महल का तीसरा पुत्र था।

1658 में, औरंगजेब ने अपने पिता के खिलाफ विद्रोह किया और उन्हें युद्ध में हरा दिया। शाहजहाँ को आगरा के किले में कैद कर दिया गया, जहाँ उसने अपने जीवन के अंतिम वर्ष अलगाव और निराशा में बिताए। 1666 में उनकी मृत्यु हो गई, और उनके शरीर को उनकी प्यारी पत्नी मुमताज महल के बगल में ताजमहल में दफ़नाया गया।

परंपरा

शाहजहाँ को सबसे महान मुगल सम्राटों में से एक के रूप में याद किया जाता है, जिसने भारतीय इतिहास में एक स्वर्ण युग की अध्यक्षता की। वह कला के संरक्षक, एक कुशल सैन्य कमांडर और एक दूरदर्शी शासक थे, जिन्होंने मुगल साम्राज्य के विस्तार की निगरानी की। शाहजहाँ की सबसे बड़ी विरासत ताजमहल है, जो उसकी पत्नी के प्रति उसके प्रेम और कला और वास्तुकला के प्रति उसकी प्रतिबद्धता का प्रमाण है।

ताजमहल न केवल प्रेम का एक स्मारक है, बल्कि यह मुगल वास्तुकला की पराकाष्ठा और भारतीय शिल्प कौशल के शीर्ष का भी प्रतिनिधित्व करता है। यह दुनिया भर के वास्तुकारों, कलाकारों और प्रेमियों के लिए प्रेरणा का स्रोत है और भारत की समृद्ध सांस्कृतिक विरासत का प्रतीक बन गया है।

निष्कर्ष

शाहजहाँ एक दूरदर्शी शासक था जिसने भारतीय इतिहास पर एक अमिट छाप छोड़ी। कला के उनके संरक्षण, उनके सैन्य अभियानों और उनकी कूटनीतिक उपलब्धियों ने उन्हें भारतीय इतिहास में सबसे प्रसिद्ध शख्सियतों में से एक बना दिया है। शाहजहाँ की सबसे बड़ी विरासत निस्संदेह ताजमहल है, जो भारत की सांस्कृतिक विरासत का प्रतीक बन गया है और इसे दुनिया के सात अजूबों में से एक माना जाता है।

ताजमहल न केवल प्रेम का स्मारक है, बल्कि यह मुगल वास्तुकला की उत्कृष्ट कृति भी है। इसका डिजाइन, अनुपात और जटिल सजावट इसे बनाने वाले कारीगरों के कौशल और शिल्प कौशल का एक वसीयतनामा है। ताजमहल की सुंदरता ने पर्यटकों को सदियों से आकर्षित किया है और यह भारत की समृद्ध सांस्कृतिक विरासत का एक स्थायी प्रतीक बन गया है।

हालाँकि, शाहजहाँ का शासन इसकी परेशानियों के बिना नहीं था। राजनीतिक साज़िश, विद्रोह और अशांति ने उनके बाद के वर्षों को चिह्नित किया, और उनके अपने बेटे द्वारा बयान एक शानदार शासन का दुखद अंत था। फिर भी, शाहजहाँ की उपलब्धियाँ उसकी असफलताओं से कहीं अधिक हैं, और भारतीय इतिहास में उसके योगदान को आज भी मनाया जाता है।

कुल मिलाकर, शाहजहाँ का जीवन और शासनकाल भारतीय इतिहास में एक उल्लेखनीय अवधि की एक आकर्षक झलक प्रस्तुत करता है। अपनी पत्नी के लिए उनके प्यार और कला के प्रति उनके जुनून ने भारतीय संस्कृति पर एक अमिट छाप छोड़ी है, और उनकी सैन्य और कूटनीतिक उपलब्धियों ने उनकी विरासत को अब तक के सबसे महान मुगल सम्राटों में से एक के रूप में मजबूत किया है।

सामान्य प्रश्न-FAQ

Q-शाहजहाँ कौन था?

शाहजहाँ एक मुगल सम्राट था जिसने 1628 से 1658 तक भारत पर शासन किया था।

Q-शाहजहाँ का जन्म कब हुआ था?

शाहजहाँ का जन्म 5 जनवरी, 1592 को हुआ था।

Q-मुमताज महल कौन थी?

मुमताज महल शाहजहाँ की पत्नी थी, जिसकी मृत्यु 1631 में हुई थी।

Q-ताजमहल किस लिए बनाया गया था?

ताजमहल को मुमताज महल के मकबरे के रूप में बनवाया गया था।

Q-ताजमहल कब बनाया गया था?

ताजमहल 1632 और 1653 के बीच बनाया गया था।

Q-ताजमहल किससे बना है?

ताजमहल मुख्य रूप से सफेद संगमरमर से बना है।

Q-ताजमहल का डिजाइन किसने बनाया था?

ताजमहल को उस्ताद अहमद लाहौरी ने डिजाइन किया था।

Q-शाहजहाँ ने और कौन-सी इमारतें बनवाईं?

शाहजहां ने दिल्ली में लाल किला और आगरा में जामा मस्जिद समेत कई अन्य इमारतों का निर्माण किया।

Q-मुगल साम्राज्य के विस्तार में शाहजहाँ की क्या भूमिका थी?

शाहजहाँ ने मुगल साम्राज्य के विस्तार को जारी रखा, भारत और उसके बाहर कई क्षेत्रों पर विजय प्राप्त की।

Q-शाहजहां के दुश्मन कौन थे?

शाहजहाँ को अपने साम्राज्य के भीतर और बाहर दोनों दुश्मनों का सामना करना पड़ा, जिसमें उसके अपने बेटे और फ़ारसी सफ़वी साम्राज्य शामिल थे।

Q-शाहजहाँ की विदेश नीति क्या थी?

शाहजहाँ ने कूटनीति और पड़ोसी राज्यों, विशेष रूप से सफ़वीद साम्राज्य और तुर्क साम्राज्य के साथ गठजोड़ की नीति अपनाई।

Q-शाहजहाँ के बाद बादशाह कौन बना?

शाहजहाँ को उसके पुत्र औरंगजेब ने बादशाह बनाया।

Q-शाहजहाँ को कहाँ कैद किया गया था?

शाहजहाँ को औरंगजेब ने अपने जीवन के अंतिम आठ वर्षों तक आगरा के किले में कैद रखा था।

Q-शाहजहाँ की मृत्यु कब हुई थी?

22 जनवरी, 1666 को शाहजहाँ की मृत्यु हो गई।

Q-शाहजहाँ की विरासत क्या है?

शाहजहाँ को अपनी पत्नी के प्रति प्रेम, कला के संरक्षण और ताजमहल सहित उसकी कई वास्तुशिल्प उपलब्धियों के लिए याद किया जाता है।


Share This Post With Friends

Leave a Comment

error: Content is protected !!

Discover more from History in Hindi

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading