भारत में 5G लॉन्च: जानिए किन शहरों को सबसे पहले मिला 5G का तोहफा

भारत में 5G लॉन्च: जानिए किन शहरों को सबसे पहले मिला 5G का तोहफा

Share This Post With Friends

भारत में 5G लॉन्च: लंबे इंतजार के बाद आखिरकार 5G सर्विस को भारत में लॉन्च कर दिया गया है। आज 1 अक्टूबर को पीएम मोदी ने दिल्ली में 5जी नेटवर्क लॉन्च किया। इस मौके पर पीएम मोदी के साथ संचार मंत्री अश्विनी वैष्णव भी मौजूद थे. रिलायंस/जियो प्रमुख मुकेश अंबानी, भारती एयरटेल के अध्यक्ष सुनील भारती मित्तल और वोडाफोन आइडिया (VI) के अध्यक्ष कुमार मंगलम बिड़ला ने भी मंच की शोभा बढ़ाई।

भारत में 5G लॉन्च: जानिए किन शहरों को सबसे पहले मिला 5G का तोहफा

भारत में 5G लॉन्च: जानिए किन शहरों को सबसे पहले मिला 5G का तोहफा

आपको पता ही होगा कि ऐसा ही एक मौका करीब 8 साल पहले की बात है जब पीएम मोदी ने 1 जुलाई 2015 को अपना डिजिटल इंडिया कैंपेन शुरू किया था. उस वक्त भी पीएम के साथ अनिल अंबानी और देश के कुछ और उद्योगपति भी मंच पर मौजूद थे. मुकेश अंबानी, सुनील भारती मित्तल और कुमार मंगलम बिड़ला के साथ। ऐसा हम आपको इसलिए बता रहे हैं, क्योंकि 5जी के लॉन्च होने के बाद डिजिटल इंडिया को अब एक नई दिशा मिलेगी।

डिजिटल इंडिया की शुरुआत क्यों हुई?

पीएम मोदी ने भारत के ग्रामीण क्षेत्रों को हाई-स्पीड इंटरनेट नेटवर्क से जोड़ने और डिजिटल माध्यम से साक्षरता में सुधार के उद्देश्य से डिजिटल इंडिया की शुरुआत की। डिजिटल इंडिया कार्यक्रम के माध्यम से भारत को डिजिटल रूप से सशक्त समाज और ज्ञान अर्थव्यवस्था में बदलने के लिए।

5जी डिजिटल इंडिया की सफलता की आधारशिला होगी

5जी इंटरनेट सेवा के शुभारंभ के मौके पर पीएम मोदी ने कहा कि यह 21वीं सदी का ऐतिहासिक दिन है। मुझे यकीन है कि आज लांच की गई 5जी की यह तकनीक अपनी तेज रफ़्तार से टेलीकॉम सेक्टर में मील का पत्थर साबित होगी।

यह डिजिटल इंडिया की सफलता है। उन्होंने कहा कि यह देखकर खुशी होती है कि 5जी के शुभारंभ के ऐतिहासिक कार्यक्रम में गांव भी भाग ले सकते हैं। वहीं पीएम मोदी ने कहा कि चाहे किसानों की बात हो या छोटे दुकानदारों की, हमने उन्हें ऐप के जरिए उनकी दैनिक जरूरतों को पूरा करने का तरीका दिया है. पीएम ने कहा, कि ‘हम अपने देश की क्षमता और शक्ति को अनदेखा नहीं कर सकते।

इसके साथ ही डिजिटल इंडिया के 4 स्तंभों के बारे में बात करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि हमने डिजिटल उपकरणों की कीमत, कनेक्टिविटी, डेटा की लागत और डिजिटल-फर्स्ट के विजन पर काफी जोर दिया है. इसके आलावा पीएम ने यह भी कहा कि इसके पहले भारत 2जी, 3जी और 4जी नेटवर्क के लिए अन्य देशों पर निर्भर है। लेकिन 5जी इंटरनेट लांच करके भारत ने संचार क्रांति में एक ऐतिहासिक कदम रख दिया है।

“5G स्पीड के साथ, भारत ने पहली बार दूरसंचार प्रौद्योगिकी में विश्वभर में एक अलग मुकाम हासिल कर लिया है”।

डिजिटल इंडिया के बारे में बोलते हुए, पीएम मोदी ने कहा कि कुछ लोगों को लगता है कि यह मात्र एक सरकारी योजना है। “लेकिन हमें यह नहीं भूलना चाहिए कि डिजिटल इंडिया नाम मात्र नहीं है, यह देश के विकास का एक सशक्त माध्यम सिद्ध हो रहा है।

इस डिजिटल विजन का लक्ष्य उस तकनीक को हर भारतीय तक पहुंचाना है, जो लोगों के लिए काम करती है, लोगों से मिलकर काम करती है.”

5जी के साथ डिजिटल इंडिया को कैसे मिलेगी स्पीड

भारत में वर्तमान में 50 यूनिकॉर्न स्टार्टअप हैं, यानी 1 बिलियन डॉलर से अधिक के मूल्यांकन वाले स्टार्टअप और यह तीसरा सबसे बड़ा वैश्विक स्टार्टअप बाजार है। लेकिन 5जी के लॉन्च होने के बाद स्थिति तेजी से बदल सकती है। 5जी नेटवर्क से देश में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की स्टार्टअप योजना से जो भी नए पंख मिल सकते हैं।

5जी का तेज नेटवर्क ओटीटी पर सिर्फ ऑनलाइन वीडियो या वेब सीरीज देखने या डाउनलोड करने तक ही सीमित नहीं रहेगा बल्कि यह शिक्षा के क्षेत्र में क्रांति लाएगा। 5जी डिजिटल लर्निंग को पूरी तरह से बदल देगा। इसका एक नमूना एयरटेल की ओर से 5जी लॉन्च के मौके पर भी दिखाया गया है।

  • 5जी की तेज स्पीड से डिजिटल मोबाइल पेमेंट फेल होने की समस्या खत्म हो जाएगी।
  • इसके अलावा लोगों को अब इंटरनेट से जुड़े सभी कामों में गति मिलेगी।

5G . से मजबूत होगी डिजिटल अर्थव्यवस्था

एक रिपोर्ट के अनुसार, 5G भारत को 2025 तक ट्रिलियन-डॉलर की डिजिटल अर्थव्यवस्था बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है। नोकिया की वार्षिक मोबाइल ब्रॉडबैंड इंडेक्स रिपोर्ट 2022 से पता चलता है कि भारत 53 की विकास दर के साथ दुनिया के सबसे बड़े डेटा उपयोगकर्ताओं में से एक बन गया है। पिछले 5 वर्षों में प्रतिशत।

रिपोर्ट से यह भी पता चलता है कि देश में डेटा ट्रैफिक में पिछले साल 2021 में 31 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। इससे प्रति उपयोगकर्ता औसत मोबाइल डेटा खपत 17 जीबी प्रति माह तक पहुंच गई है। 2021 में भारत में 3 करोड़ 5G डिवाइस सहित 160 मिलियन से अधिक स्मार्टफोन बेचकर एक नया रिकॉर्ड बनाया। इनमें से 4जी स्मार्टफोन 80 फीसदी से ज्यादा रहे, वहीं 5जी स्मार्टफोन्स की संख्या भी 1 करोड़ का आंकड़ा पार कर गई।

इस रिपोर्ट में यह भी अनुमान लगाया गया है कि देश में 5जी सेवाओं से राजस्व 5 साल में 164 प्रतिशत की दर से बढ़ेगा। इसके साथ ही 2030 तक वैश्विक जीडीपी में एक प्रतिशत तक एक लाख 30 हजार करोड़ डॉलर का योगदान करने की भी संभावना है।

इन शहरों को मिली 5G सर्विस

मंत्रालय के अनुसार, 13 शहरों को पहले (सभी ऑपरेटरों में) 5G मिलेगा। इन शहरों में दिल्ली, कोलकाता, चेन्नई, मुंबई, अहमदाबाद, बेंगलुरु, चंडीगढ़, गांधीनगर, गुरुग्राम, हैदराबाद, जामनगर, लखनऊ और पुणे शामिल हैं।


Share This Post With Friends

Leave a Comment

Discover more from History in Hindi

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading