|

Vijayanagara Empire 1336-1646 | विजयनगर साम्राज्य, साम्राज्य, शासक, स्थापत्य, सामाजिक दशा,आर्थिक दशा,कला एवं साहित्य

Vijayanagara Empire 1336-1646 | विजयनगर साम्राज्य, साम्राज्य, शासक, स्थापत्य, सामाजिक दशा,आर्थिक दशा,कला एवं साहित्य

Contents

Vijayanagara Empire 1336-1646 | विजयनगर साम्राज्य, साम्राज्य, शासक, स्थापत्य, सामाजिक दशा,आर्थिक दशा,कला एवं साहित्य

     विजयनगर साम्राज्य (संस्कृत: विजयनगरसामरज्याम) (पुर्तगाली द्वारा कर्नाटक साम्राज्य और बिसनगर साम्राज्य के रूप में भी जाना जाता है) भारत के दक्कन क्षेत्र में स्थित था। इसकी स्थापना 1336 में संगम वंश के दो भाइयों हरिहर राय और बुक्का राय ने की थी। संगम वंश प्राचीन दक्षिण भारत का एक देहाती वंश था और इस वंश के राजा कुरुबा क्षत्रिय थे।

     विजयनगर साम्राज्य (1336-1646) एक मध्यकालीन साम्राज्य था। इसके राजाओं ने 310 वर्षों तक शासन किया। इसका मूल नाम कर्नाटक राज्य था। इसकी स्थापना हरिहर और बुक्का राय नाम के दो भाइयों ने की थी। पुर्तगाली इस राज्य को बिसनगर साम्राज्य के नाम से जानते थे।

     करीब ढाई सौ साल तक फलने-फूलने के बाद 1565 में इस राज्य को भारी पराजय का सामना करना पड़ा और राजधानी विजयनगर जला दी गई। उसके बाद, यह कम रूप में 70 वर्षों तक जारी रहा। विजयनगर की राजधानी के अवशेष आधुनिक कर्नाटक राज्य में हम्पी शहर के पास पाए गए हैं और एक विश्व धरोहर स्थल हैं।

विजयनगर साम्राज्य (1336-1646)

   1336 ई. में अंतिम यादव शासक ‘संगम’ के दो पुत्रों हरिहर और बुक्का ने तुंगभद्रा नदी के तट पर विजयनगर साम्राज्य की स्थापना की। ये दोनों भाई पहले काकतीय राजवंश में सामंत थे, लेकिन बाद में काम्पिलि साम्राज्य में मंत्री बने।

    काम्पिली राज्य ने मुहम्मद बिन तुगलक के शत्रु बहाउद्दीन गुरशास्प को शरण दी थी, अतः मोहम्मद बिन तुगलक ने काम्पिली राज्य पर आक्रमण कर दिया। इस हमले के परिणामस्वरूप, हरिहर और बुक्का दोनों को मुहम्मद बिन तुगलक द्वारा गिरफ्तार कर लिया गया और दिल्ली ले जाया गया।

     दिल्ली ले जाने के बाद, इन दोनों भाइयों को इस्लाम में परिवर्तित कर दिया गया और उन्हें दक्षिण में होयसलों के विद्रोह को दबाने के लिए भेजा गया। दक्षिण में आकर इन दोनों भाइयों ने गुरु माधव विद्यारण्य के सान्निध्य में इस्लाम त्याग दिया और शुद्धिकरण प्रक्रिया के माध्यम से पुनः हिन्दू धर्म अपना लिया।

     हरिहर और बुक्का दोनों भाइयों ने अपने गुरु माधव विद्यारण्य और उनके भाई सयाना की प्रेरणा से तुंगभद्रा नदी के दक्षिणी तट पर विजयनगर साम्राज्य की स्थापना की। इस विजयनगर साम्राज्य की स्थापना का मुख्य उद्देश्य एक शक्तिशाली हिन्दू राज्य की स्थापना करना था।

विजयनगर साम्राज्य – 4 राजवंश

  • संगम वंश (1336 – 1485 ई.)
  • सुलुव वंश (1485 – 1505 ई.)
  • तुलुव वंश (1505 – 1570 ई.)
  • अरविदु वंश (1570 – 1649 ई.)

1-संगम वंश (1336 – 1485 ई.)

 

हरिहर प्रथम (1336 – 1356 ई.)

  • इस राजवंश की स्थापना 1336 ई. में हरिहर और बुक्का ने की थी। हरिहर और बुक्का के पिता का नाम संगम था। उन्हीं के नाम पर इस वंश का नाम संगम वंश पड़ा।
  • इस राजवंश का प्रथम शासक हरिहर प्रथम (1336 – 1356 ई.) था, जिसने 1336 ई. में विजयनगर साम्राज्य की स्थापना की और हम्पी को अपनी राजधानी बनाया।
  • हरिहर प्रथम को समुद्र का अधिपति कहा गया है। हरिहर प्रथम ने 1352-53 ई. में मदुरै पर विजय प्राप्त की।

बुक्का प्रथम (1356 – 1377 ई.)

  • हरिहर प्रथम की मृत्यु के बाद बुक्का प्रथम (1356 – 1377 ई.) विजयनगर साम्राज्य का शासक बना। बुक्का प्रथम को तीन समुद्रों का स्वामी कहा गया है।
  • बुक्का प्रथम के शासनकाल के दौरान विजयनगर और बहमनी साम्राज्य के बीच लंबे समय तक चलने वाला संघर्ष शुरू हुआ। रायचूर दोआब पर अधिकार को लेकर इन दोनों राज्यों के बीच निरन्तर संघर्ष होता रहा।
  • उल्लेखनीय है कि कृष्णा और तुंगभद्रा नदियों के बीच के क्षेत्र को रायचूर दोआब के नाम से जाना जाता है। यह क्षेत्र अपनी उपजाऊ भूमि और लोहे और हीरों के भंडार के लिए बहुत महत्वपूर्ण था।
  • बुक्का प्रथम ने ‘वेदमार्ग प्रतिष्टपक’ की उपाधि धारण की और उन्होंने ‘वैदिक मग्ग प्रवर्तक’ नामक ग्रंथ की रचना भी की।

हरिहर द्वितीय (1377 – 1404 ई.)

  • हरिहर द्वितीय (1377 – 1404 ई.) के दरबार में सुदर्शन संग्रह के रचयिता माधवाचार्य, हरिविलास ग्रन्थ के रचयिता श्रीनाथ और ऐतरेय ब्राह्मण के भाष्यकार सायण उपस्थित थे। हरिहर द्वितीय महाराजाधिराज और राजपरमेश्वर की उपाधि धारण करने वाले पहले व्यक्ति थे।

देवराय प्रथम (1406 – 1422 ई.)

  • देवराय प्रथम (1406 – 1422 ई.) के शासन काल में तुंगभद्रा नदी पर एक बांध बनाया गया था और नहरों को विजयनगर साम्राज्य में विकसित किया गया था। इस शासक के काल में इटली यात्री निकोलो कोंटी 1420 ई. में विजयनगर साम्राज्य में आया।

देवराय द्वितीय (1425 – 1446 ई.)

  • देवराय द्वितीय (1425 – 1446 ई.) को शिलालेखों में ‘गजबेटकर’ अर्थात ‘हाथियों का शिकारी’ कहा गया है। उसने मुसलमानों को जागीरें भी दीं। उनके शासनकाल के दौरान ईरान के शासक मिर्जा शाहरूख का राजदूत अब्दुर रज्जाक(1443) विजयनगर साम्राज्य में आए थे। देवराय द्वितीय ने ‘महानतक सुधानिधि’ नामक संस्कृत ग्रंथ लिखा और बादरायण के ब्रह्मसूत्र पर भाष्य भी लिखा।

सुलुव वंश (1485 – 1505 ई.)

     सुलुव वंश की स्थापना 1485 ई. में नरसिम्हा सुलुव ने की थी। इसने संगम वंश का अंत कर दिया। यह राजवंश 20 वर्षों के एक छोटे से शासन में समाप्त हो गया।

तुलुव वंश (1505 – 1570 ई.)

   तुलुव वंश की स्थापना वीर नरसिम्हा ने 1505 ई. में की थी। इस राजवंश के शासक, कृष्णदेव राय, पूरे विजयनगर साम्राज्य के सबसे महान शासक बने।-https://www.onlinehistory.in

कृष्णदेव राय-1509-1529

     कृष्णदेव राय ने तेलुगु में अमुक्तमाल्यद नामक एक प्रसिद्ध ग्रंथ की रचना की। इस ग्रंथ में कृष्णदेव राय की प्रशासनिक नीतियों तथा उनके राजनीतिक विचारों का उल्लेख किया गया है। उसके दरबार में तेलुगु के आठ विद्वान और कवि रहते थे, जिन्हें इतिहास में ‘अष्टदिग्गज’ के नाम से जाना जाता है।

    कृष्णदेव राय ने ‘यवनराज स्थापनाचार्य’ की उपाधि धारण की। पुर्तगालियों से उसके बहुत अच्छे संबंध थे। कृष्णदेव राय ने भगवान राम को समर्पित हजारा मंदिर और भगवान कृष्ण को समर्पित विठ्ठल स्वामी मंदिर का निर्माण भी करवाया।

      कृष्ण देव राय वैष्णववाद के अनुयायी थे। उसने अपने राज्य में मुसलमानों को भी नियुक्त किया। बाबर ने अपनी आत्मकथा बाबरनामा में कृष्णदेव राय को दक्षिण भारत का सबसे शक्तिशाली सम्राट बताया है।

अच्युतदेव राय-1529-1542

       कृष्णदेव राय के बाद, अच्युतदेव राय और सदाशिव ((1542-1570 ई.)) तुलुव वंश के प्रमुख शासक थे। सदाशिव के शासन काल में ही 1565 ई. में तालीकोटा का निर्णायक युद्ध हुआ। जिसमें बीजापुर, गोलकोंडा, अहमदनगर और बीदर के चार बहमनी साम्राज्यों ने एक साथ विजयनगर साम्राज्य की सेना को हराया था। इस युद्ध के बाद विजयनगर साम्राज्य का पतन लगभग स्पष्ट हो गया था।

अरविदु वंश (1570 – 1649 ई.)

     अराविदु वंश की स्थापना 1570 ई. में तिरुमला नामक व्यक्ति ने की थी। वेंकट द्वितीय इस राजवंश का एक प्रमुख शासक था, जिसने अपनी राजधानी चंद्रगिरि में स्थानांतरित कर दी थी। यह राजवंश विजयनगर साम्राज्य का अंतिम राजवंश था। इसके बाद विजयनगर साम्राज्य पूरी तरह से नष्ट हो गया।-https://www.historystudy.in/

विजयनगर साम्राज्य – अन्य महत्वपूर्ण बिंदु

विजयनगर साम्राज्य की शासन व्यवस्था राजतंत्रीय थी। इसके अन्तर्गत समस्त शक्ति राजा में ही निहित होती थी। इस दौरान साम्राज्य प्रांत, मंडल, वलनाडु, नाडु, उर (गांव) आदि प्रशासनिक इकाइयों में विभाजित था।

नयंकर प्रणाली और ऐगार प्रणाली विजयनगर साम्राज्य की मुख्य विशेषताएं हुआ करती थीं। नायक प्रणाली विजयनगर साम्राज्य की प्रांतीय व्यवस्था का हिस्सा थी, नायक, वास्तव में, सेनापति थे जिन्हें वेतन के रूप में भूमि का एक भूखंड अमराम दिया जाता था। नायकों को एक सेना रखनी पड़ती थी और आवश्यकता के समय उन्हें राजा की सहायता करनी पड़ती थी। नायक के पद वंशानुगत होते थे। कृष्णदेव राय ने नायकों के व्यवहार को नियंत्रित करने के लिए महामंडलेश्वर नामक एक अधिकारी नियुक्त किया।

विजयनगर शासन के दौरान एगर प्रणाली ग्रामीण प्रशासन की एक महत्वपूर्ण विशेषता थी। इसके तहत प्रत्येक गांव में 12 व्यक्तियों को नियुक्त किया जाता था, जिन्हें ऐगर के नाम से जाना जाता था।

भू-राजस्व राज्य की आय का मुख्य स्रोत हुआ करता था। नीलकंठ शास्त्री के अनुसार, इस अवधि के दौरान उपज का छठा हिस्सा भूमि कर के रूप में एकत्र किया जाता था। इस काल में भूमि कर को ‘शिष्ट’ कहा जाता था।

इस दौरान भूमि को विभिन्न तरीकों से वर्गीकृत किया गया था। ब्रह्मदेय ब्राह्मणों को दी गई कर-मुक्त भूमि, मठों को दी गई कर-मुक्त भूमि, माथापुर, देवदेय मंदिरों को दी गई कर-मुक्त भूमि, सैन्य और नागरिक अधिकारियों को वेतन के रूप में दी गई भूमि, अमराम, गाँव में विशेष सेवाओं के लिए दी गई कर-मुक्त भूमि एक्सचेंज को उम्ब्ली कहा जाता था, आयगारों को दी गई कर-मुक्त भूमि को मान्या कहा जाता था।

गौरतलब है कि मध्यकालीन इतिहास को मूल रूप से मुस्लिम शासकों द्वारा शासित इतिहास के रूप में जाना जाता है, लेकिन इस बीच लगभग 300 वर्षों तक विजयनगर साम्राज्य एक हिंदू शासन के रूप में अस्तित्व में रहा। इस अवधि के दौरान, विजयनगर साम्राज्य ने न केवल विभिन्न सफल प्रशासनिक प्रणालियों की शुरुआत की, बल्कि देश के सांस्कृतिक इतिहास में भी बहुत महत्वपूर्ण योगदान दिया। इस दृष्टि से विजयनगर साम्राज्य का भारतीय इतिहास में महत्वपूर्ण स्थान है।

विजयनगर साम्राज्य की वास्तुकला और मूर्तिकला

      विजयनगर साम्राज्य के शासक अपने कला प्रेम के लिए जाने जाते थे। उसने कई महल, सार्वजनिक भवन और मंदिर बनवाए। बड़ी संख्या में मंदिरों के कारण, विजयनगर को ‘मंदिरों का शहर’ भी कहा जाता था। विजयनगर साम्राज्य की वास्तुकला और मूर्तिकला का संक्षिप्त विवरण निम्नलिखित है:

1. वास्तु मंदिर

(ए) विठ्ठल मंदिर

     यह मंदिर हम्पी में कृष्णदेव (1509-1530) के समय में शुरू हुआ था और अच्युता (1530-1542 ईस्वी) के समय में पूरा हुआ था।

विठ्ठल मंदिर
मंदिर हम्पी में कृष्णदेव (1509-1530) के समय में शुरू हुआ था और अच्युता (1530-1542 ईस्वी) के समय में पूरा हुआ था।
  • यह आयताकार रूप में 152 मीटर है। लम्बा और 94 मी. चौड़ा इसकी ऊंचाई 7.05 मीटर है। हुह।
  • इसका गर्भगृह स्तम्भों की 3 कतारों से घिरा हुआ है। स्तंभों की कुल संख्या 562 है।
  • प्रत्येक स्तंभ को स्पर्श करने पर उसमें विभिन्न प्रकार का संगीत सुनाई देता है।
  • गर्भगृह में विठ्ठल की एक मूर्ति है। इसमें अर्ध और महामंडप भी हैं।
  • महामंडप का भाग 30×18 मी. है।
  • इसके खंभों की बनावट निराली है। छतें खुदी हुई हैं और खूबसूरती से डिजाइन की गई हैं।
  • अर्धमंडप में दो प्रवेश द्वार हैं।
  • चारों कोनों में चार स्तंभ हैं, जिन पर आधे मनुष्यों और आधे राक्षसों की आकृतियां बनी हुई हैं।
  • गर्भगृह में जाने का रास्ता है। इस सीमा के भीतर कल्याण मंडप हैं।
  • महामंडप के सामने ‘रथ’ नामक एक सुंदर भवन है।
  • बाहर से मंदिर की सीमा में प्रवेश करने के लिए गोपुरम सहित तीन द्वार हैं।

(b) हजाराराम स्वामी का मंदिर

    हजाराराम स्वामी का मंदिर

इसे भी कृष्णदेव राय ने बनवाया था। इस मंदिर में राजवंश के लोग पूजा करने आते थे। इसमें अर्धमंडप से गर्भगृह तक विस्तृत मार्ग बनाया गया है। इसके खंभे पूरी तरह से खुदे हुए हैं। इसमें अम्मन मंडप (बिना शिखर वाला) और विमान या रथ मंडप (शिखर वाला) बहुत सुंदर है।

मंदिर की छत पर एक विशेष प्रकार का अलंकरण है। इसकी लताएं द्रविड़ शैली में नवीनता पैदा करती हैं क्योंकि वे ईंट, सीमेंट और पेंट का उपयोग करके बनाई जाती हैं। मंदिर की दीवारों पर पत्थर पर ‘रामचर्या’ खुदा हुआ है। पूरी दीवार पर रामलीला साफ देखी जा सकती है।

(सी) अन्य मंदिर

विजयनगर साम्राज्य के कई अन्य सुंदर मंदिर वेल्लोर, कुंभकोणम, ताड़पत्री और श्रीरंगम में पाए जाते हैं। वेल्लोर मंदिर का कल्याण मंडप बहुत प्रसिद्ध है। इसके स्तंभों पर चित्रलिपि, राक्षस और अन्य आकृतियाँ हैं। मंदिर का गोपुरम विशाल है। कांची के वरदराज मंदिर में 1000 स्तंभ हैं।

तड़पत्री के मंदिर का गोपुरम सबसे सुंदर और अलंकृत है। श्रीरंगम का मंदिर द्रविड़ शैली का अद्भुत नमूना है। इसके गर्भगृह तक पहुंचने के लिए एक दिशा में 6 गोपुरम वाले द्वार बनाए गए हैं। इसके अलावा पैंपैथी का मंदिर इंजीनियरिंग कौशल का भी अजूबा है। जिज्जी के मंदिर में महिला मूर्ति गांधार और मथुरा की महिला मूर्ति के समान है।

2. मंदिरों की सजावट

विजयनगर के मंदिरों के स्तंभों और मेहराबों का अलंकरण इस प्रकार सघन हो जाता है कि पत्थर में नाटक की भावना स्पष्ट दिखाई देती है। अधिकांश स्तंभों में घोड़े या किसी दैवीय जानवर का आकार है। स्तंभ नीचे घनाभ हैं और शीर्ष पर आठ या सोलह कोण लेते हैं।

वेलोर मंदिर में वामन पुरुषों को घोड़े के नीचे दबा हुआ दिखाया गया है, जो या तो एक बर्बर जाति पर जीत या मुसलमानों की हार को दर्शाता है। विट्ठल मंदिर के गज सिंह और आसन पर विराजमान अंकित सिंह बेहद खूबसूरत हैं। कल्याण मंडप के स्तम्भों पर राजा रानी विराजमान हैं। वर्गाकार स्तंभों पर धार्मिक, सामाजिक और काल्पनिक विषयों के दृश्य हैं। नीचे चारों कोनों में सर्प हैं। मंदिरों के प्रवेश द्वार पर हाथी या द्वारपाल होते हैं।

3. महल और किला

विजयनगर साम्राज्य के अधिकांश भवन पहाड़ियों पर बने थे। इन्हें देखकर यह कहना मुश्किल है कि ये पत्थर के ब्लॉक आपस में जुड़कर बने हैं या पहाड़ों को काटकर बनाए गए हैं। दुर्गों के अवशेष उनकी विशालता को प्रकट करते हैं। उनके सभा भवन, सिंहासन स्थान और विजय स्मारक को विशेष रूप से सुंदर बनाया गया था।

4. वास्तुकला में नायकों की भूमिका

विजयनगर के वीरों ने भवनों और मंदिरों के निर्माण में भी बड़ी लगन दिखाई। मदुरा का मीनाक्षी मंदिर भारतीय वास्तुकला का बेजोड़ उदाहरण है।

5. मूर्तिकला

विजयनगर की मूर्तिकला को मध्य युग की कला का प्रतिनिधि माना जाता है। मूर्तियों में शृंगार भावों पर गहरा गया है। मूर्तियों के हिस्सों में अनुपात हैं। अधिकांश मूर्तियाँ शास्त्रीय सिद्धांतों पर बनी हैं। गर्भगृह की मूर्तियों में बाहर से भीतर की ओर प्रकाश का संचार किया जाता था, ताकि उनकी अद्वितीय शक्ति बनी रहे। मंदिरों की दीवारों पर अनेक प्रकार की मूर्तियाँ थीं।

पार्श्वदेवता की बड़ी मूर्तियाँ गर्भगृह के मुख्य मार्ग के दोनों किनारों पर रखी गई थीं। दिकपाल, शालभंजिका, शार्दुल (आधा मनुष्य, आधा पशु), गुरु-शिष्य, मिथुन, सैनिक, पशु आदि के चित्र आम थे। पत्थर की मूर्तियों के अलावा, विजयनगर में कई धातु की मूर्तियाँ भी बनाई गई थीं। शास्त्रीय शैली का समावेश होने से उनमें गम्भीरता आ गई है।

विजयनगर -सामाजिक स्थिति

विजयनगर समाज वैदिक और शास्त्रीय परंपराओं के आधार पर कई वर्गों और जातियों में विभाजित था। फिर भी, मुख्य वर्ग चार थे – ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य वर्ण (चेट्टी) और निम्न वर्ग।

ब्राह्मण

  • ब्राह्मणों का समाज में सर्वोच्च स्थान था।
  • ब्राह्मणों को कठोर दंड से मुक्त रखा गया।
  • ब्राह्मण सम्मानित जीवन व्यतीत करते थे और मांस आदि का प्रयोग नहीं करते थे।

क्षत्रिय

  • क्षत्रिय वर्ग का स्पष्ट वर्णन नहीं मिलता।
  • सम्भवतः यह कहा जा सकता है कि क्षत्रिय वर्ग के लोग राजा,
  • प्रान्तीय एवं केन्द्रीय उच्चाधिकारी, सेनापति आदि के रूप में कार्य करते थे।

वैश्य वर्ण (चेट्टी)

  • वैश्य वर्ण या मध्यम वर्ग के “चेट्टी” नामक एक विशाल वर्ग का उल्लेख मिलता है।
  • अधिकांश व्यापार वैश्य वर्ग के हाथों में था।
  • यह समूह (वैश्य वर्ग) लिपिकीय और हिसाब-किताब के काम में पूरी तरह दक्ष था।

निम्न वर्ग

  • किसान, जुलाहे, नाई, हथियार ढोने वाले, लोहार, सुनार, मूर्तिकार, बढ़ई आदि निम्न वर्ग से आते थे।
  • डोंगर (बाजीगर), मछुआरे और जॉगर्स को समाज में हेय दृष्टि से देखा जाता था।

ब्राह्मणों, क्षत्रियों और चेट्टियों का जीवन स्तर उच्च था, जबकि दूसरों का जीवन स्तर बहुत निम्न था।

विजयनगर –महिलाओं की स्थिति

  • महिलाओं की स्थिति प्राय: निम्न थी और उन्हें भोग की वस्तु समझा जाता था।
  • संभ्रांत महिलाओं का समाज में सम्मानजनक स्थान था।
  • वह शिक्षा, नृत्य, शस्त्र विद्या आदि में निपुण थी।
  • महिलाओं को अंगरक्षक के रूप में भी नियुक्त किया गया था।
  • राजघराने के लोग स्त्रियों को दासी और रखैल बनाकर रखते थे।
  • वेश्यावृत्ति में महिलाओं का एक बड़ा वर्ग शामिल था। विधवा महिलाओं का जीवन बहुत अपमानजनक समझा जाता था।
  • विधवा विवाह का प्रचलन था।
  • पर्दा प्रथा का प्रचलन नहीं था।
  • संभवतः सती प्रथा भी प्रचलित थी।
वेश्या
  • प्रत्येक वर्ण के साथ वेश्याओं का उल्लेख किया गया है।
    ये दो प्रकार के होते थे-
  • मंदिरों से संबंधित और
    अकेले रहना

विजयनगर साम्राज्य के समाज में अनेक कुरीतियाँ भी प्रचलित थीं, जैसे-
  • बाल विवाह,
  • बहुविवाह,
  • सती प्रथा,
  • दहेज प्रथा,
  • गुलामी आदि।
  • क्रिया दासों को ‘वेसावग’ कहा जाता था।
  • स्त्रियाँ भी दासी हुआ करती थीं।
  • नाटक, यक्षगान, शतरंज, पासा खेलना, जुआ, तलवारबाजी, करतब, तमाशा, मछली पकड़ना, चित्रकारी आदि लोगों के मनोरंजन के साधन थे।
  • लोग मांसाहारी भी थे और शाकाहारी भी।
  • गौमांस खाना वर्जित था।
  • ब्राह्मण मांस नहीं खाते थे।
  • सूती रेशमी वस्त्रों का प्रचलन था।
  • पुरुष धोती, कुर्ता, टोपी और दुपट्टा पहनते थे और महिलाएं धोती और चोली पहनती थीं।
  • उच्च वर्ग की महिलाएँ पेटीकोट पहनती थीं।
  • केवल धनी लोग ही जूते पहनते थे।
  • पुरुष एक पैर में कंगन (गंडपेंद्र) पहनते थे।
  • जियानगर के राजाओं ने न तो शिक्षा में रुचि ली और न ही विद्यालयों या महाविद्यालयों की स्थापना की।
  • उन्होंने अप्रत्यक्ष रूप से ब्राह्मणों को भूमि दान करके और मंदिरों और मठों को भूमि और संपत्ति दान करके शिक्षा को बढ़ावा दिया।
  • इस राज्य में चारों वेदों, पुराणों के साथ-साथ इतिहास, नाटक, दर्शन, भाषा, गणित आदि की शिक्षा दी जाती थी।

विजयनगर -आर्थिक स्थिति

  • विभिन्न विदेशी यात्रियों जैसे इटली के निवासी निकोली कोंटी, पुर्तगाल के निवासी डोमिंगो पेज़ और ईरान के निवासी अब्दुर्रज्जाक ने विजयनगर साम्राज्य की आर्थिक समृद्धि की प्रशंसा की है।
  • यहाँ कृषि और व्यापार बहुत उन्नत स्थिति में थे।
  • कृषि भूमि और सिंचाई के साधनों की उत्तम व्यवस्था की गई।
    विजयनगर साम्राज्य का व्यापार मुख्य रूप से मलाया, बर्मा, चीन, अरब, ईरान, अफ्रीका, अबीसीनिया और पुर्तगाल के साथ होता था।
  • जल और थल दोनों मार्गों से व्यापार होता था।
  • अरब, मोती, तांबा, कोयला, पारा, रेशम आदि विदेशों से आयात किए जाते थे और यहाँ से कपड़ा, चावल, गुड़, चीनी, मसाले, इत्र आदि निर्यात किए जाते थे।
  • उस समय कई प्रकार की भूमि अस्तित्व में थी जैसे

भूमि का प्रकार

कुटीर भूमि

भू-स्वामियों द्वारा भूमि किसानों को पट्टे पर दी जाती है।

Also Readभारत का इतिहास 1206-1757 The Indian History From 1206-1757

माथापुर भूमि

धार्मिक सेवाओं के बदले में भूमि को ब्राह्मणों, मंदिरों और मठों को दान कर दिया गया था।

उम्बली भूमि

एक गाँव को लगान-मुक्त भूमि दी गई।

अमराम भूमि

सराहनीय सेवाओं के बदले में सैन्य और नागरिक अधिकारियों को भूमि दी गई थी।

रतकोडगे भूमि

युद्ध में वीरता दिखाने वालों को भूमि दी जाती थी।

विजयनगर -कला और साहित्य
  • विजयनगर के राजाओं ने विभिन्न कलाओं- वास्तुकला, नाट्य कला, संगीत कला, चित्रकला आदि को बहुत प्रोत्साहन दिया।
  • कृष्णदेव राय का ‘हजारा मंदिर’ और ‘विठ्ठलस्वामी’ मंदिर इस काल की वास्तुकला के उत्कृष्ट उदाहरण हैं।
  • इस काल में नृत्य और नाट्य कला पर अनेक ग्रंथों की रचना हुई।
    राजाओं ने अनेक विद्वानों को संरक्षण दिया।
  • इस अवधि के दौरान संस्कृत, तेलुगु, तमिल और कन्नड़ भाषाओं में साहित्य लिखा गया था।
  • सायण, माधव, नाचन सोम तथा कृष्णदेव राय आदि यहाँ के प्रमुख विद्वान थे।
  • उन्होंने नृत्य कला, व्याकरण, दर्शन, धर्म आदि पर पुस्तकें लिखीं।
    संक्षेप में, प्राचीन दक्षिण भारतीय भाषाओं के हिन्दू-धर्म, संस्कृति, साहित्य, वास्तुकला, मूर्तिकला और संगीत कला को विजयनगर राज्य में बहुत प्रोत्साहन मिला।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *