Mother Teresa Biography: Birth, Death, Honors, Family, Real Name, Work in India and Priceless Sayings in Hindi

Mother Teresa Biography: Birth, Death, Honors, Family, Real Name, Work in India and Priceless Sayings in Hindi

Share This Post With Friends

Last updated on May 21st, 2023 at 08:03 pm

Mother Teresa यह सर्वमान्य सत्य है कि दुनिया के सभी लोग सिर्फ अपने लिए जीते हैं, लेकिन कुछ ऐसे महान लोग भी हुए हैं जो सिर्फ दूसरों के लिए जीते हैं। मदर टेरेसा ऐसे ही महान लोगों में से एक हैं।

For Read In English please Click here-Mother Teresa Biography in English

WhatsApp Channel Join Now
Telegram Group Join Now
Mother Teresa Biography: Birth, Death, Honors, Family, Real Name, Work in India and Priceless Sayings in Hindi
IMAGE CREDIT-PIXABY

Mother Teresa मदर टेरेसा

मदर टेरेसा, 26 अगस्त, 1910 को स्कोप्जे, मैसेडोनिया (तब ओटोमन साम्राज्य का हिस्सा) में अंजेज़ गोंशे बोजाक्सीहु के रूप में जन्मी, एक रोमन कैथोलिक नन और मिशनरी थीं। उन्होंने अपना जीवन गरीबों, बीमारों और समाज में हाशिए पर पड़े लोगों की सेवा के लिए समर्पित कर दिया, खासकर कोलकाता (पूर्व में कलकत्ता), भारत की मलिन बस्तियों में।

मदर टेरेसा ने 1950 में मिशनरीज ऑफ चैरिटी की स्थापना की, एक ऐसा संगठन जो बेसहारा और मरने वालों को देखभाल और सहायता प्रदान करता है। करुणा और मानवता के प्रति समर्पण के उनके निस्वार्थ कार्यों ने उन्हें दुनिया भर में पहचान दिलाई और 1979 में नोबेल शांति पुरस्कार मिला। मदर टेरेसा की विरासत अनगिनत लोगों को सहानुभूति, करुणा और दूसरों की सेवा के गुणों को अपनाने के लिए प्रेरित करती है।

आज का लेख संत मदर टेरेसा को समर्पित है जिनका आज 112 वां जन्मदिन है और दुनियभर के लोग उनके बारे में जानने के इच्छुक हैं जिन्हें लोगों की सेवा करने का जुनून है।

इस पेज में हम मदर टेरेसा के बारे में सम्पूर्ण जानकारी जानने वाले हैं जैसे मदर टेरेसा कौन थीं? उसका जन्म कब और कहां हुआ था? उनके कुछ अनमोल वचन आदि। अगर आप मदर टेरेसा के बारे में जानना चाहते हैं तो इस लेख को अंत तक अवश्य पढ़ें। यह लेख मदर टेरेसा द्वारा किए गए महान कार्यों का विवरण भी दिखाता है।

Mother Teresa-मदर टेरेसा की जीवनी एक नजर में

 नाम

मदर टेरेसा

वास्तविक नाम

एग्नेस गोंजा बोयाजु

पिता का नाम

निकोला बोयाजु

माता का नाम

द्रना बोयाजु

जन्म तिथि

26 अगस्त 1910

मृत्यु

5 सितंबर वर्ष 1997 में ( 87 वर्ष की आयु में )

जन्म स्थान

स्कोप्जे, उत्तरी मैसेडोनिया

संस्थापक

मिशनरी ऑफ चैरिटी kolkata India

पता

स्कोप्जे उत्तरी मैसेडोनिया, और कोलकाता भारत

पेशा

शिक्षिका, धर्म प्रचारक और समाज सेविका

 भाषा

अंग्रेजी

धर्म -

कैथोलिक धर्म

सम्मान

भारत रत्न, पद्मश्री तथा नोबेल पुरस्कार

प्रसिद्धि

गरीबों, निराश्रित, बीमारों और कुष्ठ रोगियों की सेवा के लिए

Mother Teresa Biography:

मदर टेरेसा कौन थी?

मदर टेरेसा का नाम सुनने मात्र से हमारी आँखों के सामने जो चेहरा उभरकर सामने आता तो मन में स्वयं श्रद्धा आ जाती है और हमारे चेहरे पर एक विशेष आभा आ जाती है। मदर टेरेसा एक ऐसी महान आत्मा थीं, जिन्होंने भारत सहित पूरी दुनिया में गरीब, असहाय, बीमार आदि की सेवा करके दुनिया के दिल में एक खास जगह बनाई थी।

इस दया के कारण उन्होंने जीवन भर कर्तव्य और निष्ठा के साथ ऐसे लोगों की सेवा की और उनकी भलाई के लिए कई कार्य किए।

ALSO READ-कोलकाता: मदर टेरेसा की 112वीं जयंती पर उन्हें भावपूर्ण श्रद्धांजलि अर्पित की गई

मदर टेरेसा का जीवन परिचय और उनका वास्तविक नाम

मदर टेरेसा का जन्म 26 अगस्त 1910 को उस्कुब (आज के स्कोप्जे, उत्तरी मैसेडोनिया) में हुआ था। उनके पिता का नाम निकोला बोयाजू था। उनके पिता निकोला बॉयसेउ का एक छोटा सा व्यवसाय था। उनकी माता एक गृहणी थीं और उनका नाम द्राना बोयाजू था।

मदर टेरेसा का वास्तविक नाम एग्नेस गोंजा बोयाजीजू है। जिसका अल्बानियाई भाषा में अर्थ फूल की कली होता है और इस मामले में उन्होंने अपने नाम जैसा ही काम किया है। इसमें कोई संदेह नहीं कि मदर टेरेसा एक ऐसी कली थीं, जिन्होंने बहुत ही कम उम्र में गरीबों, असहायों और दरिद्रों के इस जीवन में प्यार की खुशियां भर दीं।

मदर टेरेसा का बचपन और प्रारंभिक जीवन

जैसा कि हम अब तक जानते हैं, मदर टेरेसा के पिता एक साधारण व्यवसायी थे। तो इस तरह मदर टेरेसा एक मध्यमवर्गीय परिवार से ताल्लुक रखती थीं। एक मध्यमवर्गीय परिवार से होने के बावजूद, उन्होंने कई गरीब, दयनीय और असहाय लोगों की देखभाल की और उन्हें संभाला। मदर टेरेसा जब महज 8 साल की थीं, तब उनके पिता का देहांत हो गया था। उनकी माता द्रना बोयाजू ने उनके पिता की मृत्यु के बाद अकेले ही उनका पालन-पोषण किया।

मदर टेरेसा के अलावा, उनके परिवार में चार और बेटे और बेटियां थीं, मदर टेरेसा अपने पांच भाई-बहनों में सबसे छोटी थीं। जिस समय मदर टेरेसा का जन्म हुआ, उस समय उनकी बड़ी बहन 7 साल की थी, उनके भाई की उम्र 2 साल थी और उनकी मां के अन्य दो बच्चों की मृत्यु शैशवावस्था में ही हो गई थी। मदर टेरेसा एक बहुत ही खूबसूरत लड़की थी, वह एक खूबसूरत होने के साथ-साथ एक दयालु, अध्ययनशील, मेहनती लड़की भी थी।

मदर टेरेसा का मन पढ़ाई पर बहुत ज्यादा था, वह पढ़ाई के साथ-साथ अपने गाने गाना भी पसंद करती थीं। इसी शौक के चलते मदर टेरेसा और उनकी बड़ी बहन पास के चर्च की प्रमुख गायिका थीं।

जब मदर टेरेसा लगभग 12 वर्ष की थीं, तब वह “सिस्टर ऑफ लॉरेट” में शामिल हो गईं। इसके बाद वह आयरलैंड भी गईं, जहां उन्होंने अंग्रेजी भाषा की पढ़ाई की। उन्होंने अंग्रेजी भाषा का अध्ययन केवल इसलिए किया क्योंकि इस भाषा के माध्यम से भारत में सिस्टर ऑफ लोरेट को पढ़ाया जाना था।

मदर टेरेसा भारत में कब और क्यों आई?

जैसा कि हमने बताया कि मदर टेरेसा लोरेट सिस्टर्स में शामिल हो गई थीं, इसके लिए उन्होंने आयरलैंड जाकर अंग्रेजी भाषा का अध्ययन किया। आयरलैंड से मदर टेरेसा वर्ष 1929 में 6 जनवरी को कोलकाता के लोरेटो कॉन्वेंट नामक एक स्कूल में पहुंचीं। मदर टेरेसा एक अनुशासित शिक्षिका साबित हुईं और उनकी दयालुता के कारण सभी छात्रों द्वारा उन्हें बहुत प्यार किया गया। वह इतिहास और भूगोल पढ़ाती थीं।

इसी कड़ी मेहनत के चलते साल 1944 में मदर टेरेसा इसी स्कूल की हेडमिस्ट्रेस बनीं। मदर टेरेसा का दिमाग पढ़ने के काम में खूब घुला-मिला था, लेकिन उनके चारों ओर फैली गरीबी, गरीबी और लाचारी ने उनके मन को बहुत बेचैन कर दिया।

मदर टेरेसा के प्रधानाध्यापिका बनने के एक साल पहले यानी साल 1945 में आए अकाल के कारण पूरे शहर में बड़ी संख्या में लोगों की मौत होने लगी थी, उस समय भी मदर टेरेसा ने उनकी काफी मदद की थी.

वर्ष 1946 में कलकत्ता में भड़के हिंदू-मुस्लिम दंगों के कारण कोलकाता शहर की स्थिति को बहुत ही भयानक और डरावना हो गई थी, उस परिस्थिति में भी मदर टेरेसा ने शांति का संदेश दिया और लोगों से एकजुट रहने की अपील की।

मदर टेरेसा के पुरस्कार – पद्मश्री और भारत रत्न

मदर टेरेसा उर्फ ​​सिस्टर टेरेसा को उनके परोपकारी कामों और मानवता की सेवा के लिए कई अंतरराष्ट्रीय सम्मानों और पुरस्कारों से नवाजा जा चुका है और उन्हें सामूहिक रूप से सम्मानित भी किया जा चुका है. भारत सरकार द्वारा पहला पद्म श्री पुरस्कार मदर टेरेसा को वर्ष 1962 ई. में दिया गया था और उसके बाद भारत के सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्न से भी 1880 ई. में मदर टेरेसा को सम्मानित किया गया था।

न केवल भारत में बल्कि संयुक्त राष्ट्र संघ अमेरिका ने भी उन्हें वर्ष 1950 ई. में स्वतंत्रता पदक से सम्मानित किया। मदर टेरेसा की मानव सेवा और उनकी कर्तव्यनिष्ठा के लिए उन्हें वर्ष 1779 में नोबेल शांति पुरस्कार से भी सम्मानित किया गया था।

उन्हें यह पुरस्कार असहाय, गरीब और असहाय व्यक्तियों की मदद करने के लिए दिया गया था। मदर टेरेसा ने नोबेल पुरस्कार से प्राप्त $1,92,000 को गरीबों, गरीब और असहाय लोगों के लिए एक कोष के रूप में इस्तेमाल किया।

कोलकाता की सेंट मदर टेरेसा

रोमन कैथोलिक चर्च ने मदर टेरेसा को कोलकाता की सेंट टेरेसा भी नाम दिया था. उन्होंने कोलकाता में रहने वाले कई गरीब, गरीब, असहाय आदि के जरूरतमंद लोगों की सेवा की है और उन्होंने प्राप्त नोबेल पुरस्कार से जरूरतमंदों के लिए भोजन की व्यवस्था भी की थी।

इतना ही नहीं उन्होंने नोबेल पुरस्कार से ही अनाथों और बेसहारा बच्चों के रहने-खाने के लिए कई आवास बनवाए। शांति निवास, निर्मल बाल निवास आदि का निर्माण मदर टेरेसा ने ही किया है।

मिशनरीज ऑफ चैरिटी का निर्माण

मदर टेरेसा के महान प्रयास ने उन्हें 7 अक्टूबर 1950 को मिशनरी ऑफ चैरिटी बनने की अनुमति दी। इस संस्था में सेवा की भावना से जुड़े एक स्वयंसेवक सेंट मैरी स्कूल में शिक्षक थे। आज के समय में इस संस्थान में 4000 से अधिक ननों (धर्म के नाम पर अपनी जान देने वाली और जीवन भर शादी नहीं करने वाली महिलाएं) योगदान दे रही हैं।

इसकी शुरुआत के समय इस संस्थान में केवल 12 लोगों ने काम किया था। इस संस्थान द्वारा वृद्धाश्रम, नर्सिंग होम और अनाथालय भी बनाए गए हैं। इस संस्थान का मकसद उन लोगों की मदद करना है जिनका इस दुनिया में कोई नहीं है। उस समय कलकत्ता में व्यापक कुष्ठ रोग और प्लेग रोग से पीड़ित लोगों को इस संस्थान द्वारा मदद की जाती थी और मदर टेरेसा स्वयं अपने हाथों से लोगों पर मरहम लगाती थीं।

इस रोग के साथ-साथ कलकत्ता में भी अस्पृश्यता अधिक होती थी। इसके कारण गरीब और असहाय लोगों को समाज से बाहर कर दिया गया। मदर टेरेसा उनकी मदद करती थीं और उनके रहने और खाने की व्यवस्था करती थीं। आज मिशनरीज ऑफ चैरिटी 100 से ज्यादा देशों में काम कर रही है और वेनेजुएला में इस संस्था ने पहली बार भारत से बाहर कदम रखा है।

मदर टेरेसा के बारे में रोचक तथ्य

  • मदर टेरेसा को 12 साल की उम्र में रोमन कैथोलिक नन बनने की प्रेरणा मिली थी।
  • जब वह एक चर्च की धार्मिक यात्रा पर गई, तो उसने अपना विचार बदल दिया और यीशु मसीह के वचन को दुनिया में फैलाने का फैसला किया।
  • मदर टेरेसा को बचपन में मिशनरियों की कहानियाँ बहुत पसंद थीं। मिशनरी वे हैं जो पूरी दुनिया में धर्म को फैलाने की कोशिश करते हैं। मदर टेरेसा भी उन्हीं की तरह कैथोलिक धर्म को पूरी दुनिया में फैलाना चाहती थीं।
  • मदर टेरेसा ने अपना अधिकांश जीवन यहां भारत के गरीब लोगों की सेवा में बिताया। भारत सरकार ने भी महसूस किया कि मदर टेरेसा भारत में एक महत्वपूर्ण व्यक्ति हैं, यही वजह है कि मदर टेरेसा की मृत्यु और उनका राजकीय अंतिम संस्कार भारत में किया गया था।
  • 2015 में, मदर टेरेसा को रोमन कैथोलिक चर्च के पोप फ्रांसिस द्वारा विहित किया गया था। यानी यह विहित हो गया। इसके बाद उन्हें कैथोलिक चर्च में कोलकाता की सेंट टेरेसा के नाम से जाना जाने लगा।
  • मदर टेरेसा की मृत्यु के बाद, उनके अच्छे कामों के कारण उनके नाम पर कई सड़कें और इमारतें बनाई गईं। मदर टेरेसा का जन्म जिस स्थान पर हुआ था उसका नाम अल्बानिया रखा गया था, जिसका नाम भी मदर टेरेसा के नाम पर रखा गया था।
  • मदर टेरेसा, जिन्हें हम शांति के दूत के नाम से भी जानते हैं, लेकिन उनका असली नाम एग्नेस गोंक्सा बोजाक्षिउ था। लेकिन आयरलैंड में इंस्टिट्यूट ऑफ़ द धन्य वर्जिन मैरी में समय बिताने के बाद, उन्होंने अपना नाम बदलकर मदर टेरेसा रख लिया, जिसके बाद इसे मदर टेरेसा के नाम से जाना जाने लगा।
  • 1950 में मदर टेरेसा ने गरीबों और बीमारों की देखभाल के लिए ‘मिशनरीज ऑफ चैरिटी’ नाम से एक चैरिटी बनाई। मदर टेरेसा के निधन के बाद भी आज यह चैरिटी गरीबों और बीमारों की देखभाल कर रही है। इतना ही नहीं, देश में अलग-अलग जगहों पर इस संगठन की शाखाएं हैं।
  • यूनाइटेड नेशनल में कुछ ही प्रभावशाली लोगों को बोलने का मौका मिलता है, लेकिन मदर टेरेसा को यह मौका दिया गया। उन्हें वेटिकन में भी बोलने का मौका मिला।
  • जब मदर टेरेसा ने अपनी स्कूली शिक्षा पूरी की, तो वह चर्च जाती थीं और अपनी मां और बहन के साथ यीशु मसीह की महिमा गाती थीं। क्योंकि उसकी आवाज बहुत सुरीली थी।

मदर टेरेसा के जीवन का अंतिम क्षण

उन्होंने अपना पूरा जीवन गरीब बच्चों की सेवा में बिताया। जैसे-जैसे समय बीतता गया, वैसे-वैसे उनकी उम्र भी बढ़ती गई और ऐसे में उनकी तबीयत बिगड़ती गई। 73 साल की उम्र में उन्हें पहला दिल का दौरा पड़ा था, जिसके लिए उन्हें 1989 में पेसमेकर भी लगाया गया था ताकि वे जीवित रह सकें।

इसके बाद वह पोप जॉन पॉल द्वितीय से मिलने रोम गईं। साल 1991 में उन्हें निमोनिया हो गया था, जिससे उनकी तबीयत और भी ज्यादा बिगड़ने लगी थी। वर्ष 1997 में, 13 मार्च को उन्होंने मिशनरी ऑफ चैरिटी के पद से इस्तीफा दे दिया और वर्ष 1997 में 5 सितंबर को उन्होंने अंतिम सांस ली। ये थे मदर टेरेसा के आखिरी पल।

मदर टेरेसा पुरस्कार

  • पद्मश्री, भारत सरकार (1962)
  • नोबेल पुरस्कार (1979)
  • भारत रत्न, भारत सरकार (1980)
  • स्वतंत्रता का पदक, अमेरिकी सरकार (1985)
  • ब्रिटिश साम्राज्य का आदेश, इंग्लैंड की रानी द्वारा
  • टेम्पल ऑफ़ इंग्लैंड, प्रिंस फिलिप द्वारा
  • शांति  पॉप VI . द्वारा पॉप
  • कलकत्ता की धन्य टेरेसा (2003), पॉप जॉन पोल
मदर टेरेसा के कुछ अनमोल वचन

मदर टेरेसा के अनुसार प्रेम एक ऐसा फल है जो हर मौसम में होता है और पर्याप्त मात्रा में सभी तक पहुंचता है।

मदर टेरेसा का मानना ​​था कि व्यस्त व्यक्ति को जो कुछ भी नहीं दिया जाता है वह एक चीज खोने के समान है, यानी वह चीज खोने लायक है।

यह महत्वपूर्ण नहीं है कि आपने किसी को कितना दिया, लेकिन यह मायने रखता है कि आपने उस चीज को देते समय क्या प्यार दिया।

खूबसूरत लोग हमेशा अच्छे नहीं होते, लेकिन अच्छे लोग हमेशा खूबसूरत होते हैं।

कुछ लोग आपके जीवन में एक सबक की तरह होते हैं और कुछ लोग आपके जीवन में आशीर्वाद के रूप में आते हैं।

प्यार का पैगाम सुनने के लिए आप खुद जाते हैं, जैसे दीया जलाने से पहले तेल डालना होता है।

सबसे बड़ा गरीब वह है जो अकेला रहता है और अवांछित है।

अनुशासन किसी भी उपलब्धि और लक्ष्य के बीच की सेतु है।

दया और प्रेम से भरे शब्द भले ही छोटे हों, लेकिन वास्तव में उनकी गूंज बहुत अधिक होती है।

मैं चाहती हूं कि आप अपने पड़ोसी की चिंता करें।

अगर आप 100 लोगों का पेट नहीं भर पा रहे हैं तो कम से कम एक गरीब को खाना तो दीजिए।

किसी गरीब की देखभाल करने से आपको जो प्यार मिलता है, उसे आप अकेले ही महसूस कर सकते हैं।

ये हैं मदर टेरेसा द्वारा बोले गए कुछ ऐसे शब्द, जिनसे लोग काफी प्रभावित हुए और उनका पालन भी किया। मदर टेरेसा उनकी बातों के कारण बहुत प्रिय हैं। मदर टेरेसा के नाम का उदाहरण भी आज के समय में लोग देते हैं, यानी आज के समय में मदर टेरेसा के नाम की स्थापना हुई है।

सामान्य प्रश्न

Q-मदर टेरेसा का जन्म कब हुआ था?

26 अगस्त 1910

Q-मदर टेरेसा का जन्म कहाँ हुआ था?

Uskub (आज का स्कोप्जे, उत्तर मैसेडोनिया)

Q-मदर टेरेसा का बचपन का नाम क्या था?

मदर टेरेसा के बचपन का नाम एग्नेस गोंक्सा बोजाक्सीयू था। लेकिन आयरलैंड में इंस्टिट्यूट ऑफ़ द धन्य वर्जिन मैरी में समय बिताने के बाद, उन्होंने अपना नाम बदलकर मदर टेरेसा रख लिया, जिसके बाद इसे मदर टेरेसा के नाम से जाना जाने लगा।

Q-मदर टेरेसा के पिता का क्या नाम था?

निकोला बॉयजू

Q-मदर टेरेसा का मूल मंत्र क्या है?

मदर टेरेसा के अनुसार, हर कोई महान कार्य नहीं कर सकता है, लेकिन वे छोटे-छोटे कार्यों को बड़े प्रेम से कर सकते हैं।

Q-मदर टेरेसा की माता का नाम क्या था ?

द्राना बोयाजु

Q- मदर टेरेसा की मृत्यु कब हुई थी?

5 सितंबर 1997

Q-मदर टेरेसा की मृत्यु कैसे हुई?

पहले और दूसरे हार्ट अटैक के बाद उनकी तबीयत लगातार बिगड़ती चली गई, जिससे उनकी मौत हो गई।

Q-मदर टेरेसा को किस लिए जाना जाता है?

मदर टेरेसा अपने धर्म का प्रचार करने के लिए कैथोलिक नन बनीं और फिर अपना पूरा जीवन कोलकाता की मलिन बस्तियों में बेसहारा गरीब लोगों की देखभाल में लगा दिया।

Q-मदर टेरेसा को किसने प्रभावित किया?

मदर टेरेसा विशेष रूप से बंगाल में गरीबों और बीमारों की सेवा करने वाले यूगोस्लाव जेसुइट मिशनरियों और उनके द्वारा किए जा रहे कार्यों की रिपोर्टों से प्रेरित थीं। इसके बाद उन्होंने सिर्फ 18 साल की उम्र में आयरिश नन के समुदाय में शामिल होने के लिए घर छोड़ दिया।

निष्कर्ष

मदर टेरेसा बायोग्राफी के आज के लेख के माध्यम से हमने मदर टेरेसा के बारे में न केवल देश बल्कि पूरी दुनिया की पूरी जानकारी प्रदान की है और सबसे महत्वपूर्ण बात उनके अनमोल वचन हैं। हमें उम्मीद है कि आपको यह लेख पसंद आया होगा, कृपया इसे शेयर करें।

RELATED ARTICLE


Share This Post With Friends

Leave a Comment

Discover more from 𝓗𝓲𝓼𝓽𝓸𝓻𝔂 𝓘𝓷 𝓗𝓲𝓷𝓭𝓲

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading