महात्मा बुद्ध के अनमोल वचन: जो बदल देंगे आपकी ज़िंदगी | Gautama Buddha Motivational Quotes in Hindi

महात्मा बुद्ध के अनमोल वचन: जो बदल देंगे आपकी ज़िंदगी | Gautama Buddha Motivational Quotes in Hindi

Share This Post With Friends

Last updated on June 16th, 2023 at 07:45 am

महात्मा बुद्ध (Gautama Buddha) एक आदर्श धर्मगुरु थे जिन्होंने भारतीय जीवन में गहरा प्रभाव डाला। उन्होंने अनुयायियों को बोधिसत्त्वता, मैत्री, करुणा, और अनन्यता के मार्ग पर चलने के लिए प्रेरित किया। उनके विचारों और उपदेशों ने अनेकों लोगों को आत्मज्ञान, सांत्वना, और आत्मिक सुधार की दिशा में प्रेरित किया।

WhatsApp Channel Join Now
Telegram Group Join Now
महात्मा बुद्ध के अनमोल वचन: जो बदल देंगे आपकी ज़िंदगी | Gautama Buddha Motivational Quotes in Hindi

Gautama Buddha-महात्मा बुद्ध के अनमोल वचन जीवन के विभिन्न पहलुओं को समझने और सुधारने के लिए मार्गदर्शन प्रदान करते हैं। ये वचन न केवल धार्मिक बल्कि मानवता और सामाजिक मामलों पर भी प्रभाव डालते हैं। इसलिए, आइए कुछ महात्मा बुद्ध के प्रमुख वचनों को जानते हैं:

“जो कुछ हम सोचते हैं, वह हम बनते हैं।” यह उद्धरण हमें अपने मन के शक्ति और विचारों की महत्ता के बारे में बताता है। मन एक शक्तिशाली और सृजनशील उपकरण है जिससे हम अपना भविष्य निर्माण कर सकते हैं।

“अपने मन को शांत रखो, तुम सभी समस्याओं का समाधान पा लोगे।”

महात्मा बुद्ध के अनमोल वचन: जो बदल देंगे आपकी ज़िंदगी | Gautama Buddha Motivational Quotes in Hindi

  1. जल की बून्द -बून्द से घड़ा भरता है। अर्थात अच्छे कर्म निरंतर आपका भाग्य बनते हैं।
  2. हमारी सोच वास्तविकता में परिणत हो जाती है। अर्थात जैसा हम सोचते हैं वैसे ही बन जाते हैं।
  3. हर व्यक्ति अपने स्वास्थ्य या बीमारी का निर्माता है। अर्थात अपने दुखों के लिए हम स्वयं जिम्मेदार हैं।
  4. मन हमारी सृजनशक्ति है। जो विचार आपके मन में होते हैं, वे आप बन जाते हैं। अर्थात मन में उत्प्न्न विचार ही हमारे लिए मार्ग प्रशस्त करते हैं।
  5. बुद्धिमान लोगों को मौत से भी डर नहीं लगता।
  6. पैर तभी अपनी स्थिति महसूस करते हैं जब वे धरती को स्पर्श करते हैं।
  7. वास्तव में आप वही हैं जो आप रह चुके हैं, और आप वही होंगे जो आप करेंगे। यानी आप वैसे ही होंगे जैसा आप सोचेंगे।
  8. हजारों खोखले शब्दों के बजाय, एक शब्द (क्षमा) शांति को लाता है।
  9. घृणा, घृणा से नहीं, प्रेम से ही खत्म होती है, अर्थात हमें बुराई को अच्छे से जीतना है।
  10. अपने मोक्ष के लिए खुद ही प्रयास करें। दूसरों पर निर्भर न हों। अर्थात दूसरों पर निर्भर रहने की बजाय अपना काम स्वयं करें।
  11. अज्ञानी मस्तिष्क एक बैल के जैसा होता है। वह बुद्धि और ज्ञान की बजाय आकार (शरीर) में विकसित होता है। यानी         अज्ञानी व्यक्ति सिर्फ शरीर से विकसित होता है मगर मस्तिष्क से खोखला होता है।
  12. सूरज, चंद्रमा और सत्य – ये तीन चीजें कभी नहीं छिपाई जा सकतीं हैं।
  13. शांति मन के भीतर से उद्भव होती है, इसलिए उसे खोजने की जरूरत नहीं है। अर्थात स्वयं को जानिए।
  14. जब तक आप खुद अपना पथ नहीं निर्माण करते, आप अपने पथ की यात्रा नहीं कर सकते। अर्थात अपने लक्ष्य स्वयं निर्धारित कीजिये।
  15. आप अपने क्रोध के लिए दंड नहीं पाएंगे, आप अपने क्रोध से दंड पाएंगे। अर्थात गुस्सा हमेशा नुकसान पहुंचाता हैं।
  16. एक ऐसा व्यक्ति जो अपने मस्तिष्क को अशुद्ध विचारों से मुक्त रखता है, वही निश्चित शांति प्राप्त करता है।
  17. मैं कभी देखता नहीं कि क्या हुआ है, मैं केवल यह देखता हूँ कि क्या करना बाकी है। अर्थात कर्म करते रहिये।
  18. बिना सेहत के जीवन जीना असंभव है; यह केवल दुख की स्थिति है और मौत का परिणाम है। अर्थात स्वस्थ रहना आवश्यक है।
  19. स्वास्थ्य सबसे बड़ा वरदान है, संतोष सबसे बड़ी धनराशि है, और वफादारी सबसे बड़ा सम्बंध है।
  20. भूतकाल पर ध्यान न दें, भविष्य के बारे में सोचने में वक़्त बर्बाद न करें, बल्कि वर्तमान का आनंद लें।
  21. जिस तरह मोमबत्ती आग के बिना नहीं जल सकती, वैसे ही मनुष्य भी आध्यात्मिक जीवन के बिना नहीं जी सकता।
  22. सभी बुरे कार्य मन के कारण होते हैं। अगर मन परिवर्तित हो जाए, तो क्या अनैतिक कार्य संभव हो सकते हैं?
  23. किसी विवाद में हम जब क्रोधित होते हैं, तब हम सच्चाई के मार्ग को छोड़ देते हैं और अपने ही लिए संघर्ष करने लगते हैं।
  24. शरीर को स्वस्थ रखना मनुष्य का एक कर्तव्य है। अन्यथा हम अपने मन को मजबूत और स्पष्ट रखने के लिए सक्षम नहीं हो सकते।
  25. आपके पास जो कुछ भी है, उसे बढ़ावा न दें और दूसरों से ईर्ष्या न करें। जो दूसरों से ईर्ष्या करता है, उसे मन की शांति कभी नहीं मिलती।
  26. जो पचास लोगों से प्रेम करता है, उसके पचास संकट होते हैं, वहीं जो किसी से प्रेम नहीं करता, उसका एक भी संकट नहीं होता।
  27. क्रोध को पाले रखना गर्म कोयले को किसी और पर फेंकने के समान है; इसमें आप ही जलते हैं।
  28. मनुष्य चाहे जितने पवित्र शब्द या बातें सीख लें या बोलें, वे वे तब तक निरर्थक हैं जब तक आप स्वयं उन्हें व्यवहार में नहीं लाते?
  29. शक की आदत से भयावह कुछ नहीं होता। शक लोगों को अलग करता है। यह एक ज़हर है जो मित्रता को ख़त्म करता है और  अच्छे रिश्तों को तोड़ता है। यह एक कांटा है जो चोट पहुंचाता है, एक तलवार है जो वध करती है।
  30. सत्य के मार्ग पर चलते हुए कोई सिर्फ दो गलतियाँ कर सकता है: पूरा रास्ता ना तय करना और इसकी शुरुआत ही न करना।
  31. एक पूर्णतः निःस्वार्थ जीवन व्यतीत करने के लिए, व्यक्ति को यह भरोसा करना चाहिए कि बहुत कुछ में भी उसका अपना कुछ भी नहीं है।
  32. हजारों लड़ाइयाँ जीतने से अच्छा विकल्प है खुद पर विजय प्राप्त करना। यह विजय सिर्फ आपकी विजय होगी।
  33. जीभ एक तेज़ चाकू की तरह होती है, जो खून तक नहीं निकलती। इसका अर्थ है कि आपके बोलने का तरीका किसी को तकलीफ पहुंचा सकता है, इसलिए सोच-समझकर बोलें।
  34. स्वस्थ रहने, परिवार को खुश रखने और सभी को शांति देने के लिए, व्यक्ति को सबसे पहले अपने मन को अनुशासित रखना चाहिए। जब कोई व्यक्ति अपने मन को अनुशासित कर लेता है, तो वह ज्ञान की ओर आगे बढ़ता है।
  35. आकाश में पूरब और पश्चिम के बीच कोई भेद नहीं होता है, लेकिन लोग अपने मन में भेदभाव पैदा करते हैं और इस धारणा में रहते हैं कि ऐसा होता है।
  36. हमारी सोच के परिणामस्वरूप हम वह बन जाते हैं जो हमने अब तक सोचा है। यदि कोई व्यक्ति बुरी सोच के साथ बोलता या काम करता है, तो उसे केवल कष्ट ही मिलते हैं। यदि कोई व्यक्ति शुद्ध विचारों के साथ बोलता या काम करता है, तो उसकी परछाई खुशी का संगीत बन जाती है, और वह हमेशा साथ रहती है।
  37. जंगली जानवर की तुलना में, एक कपटी और दुष्ट मित्र से ज्यादा डरने चाहिए, क्योंकि जानवर सिर्फ आपके शरीर को हानि पहुंचा सकता है, परंतु एक बुरा मित्र आपकी बुद्धि को हानि पहुंचा सकता है।
  38. निःस्वार्थ जीवन जीने के लिए, एक व्यक्ति को अपने संगठन और संघर्षों के प्रति निरंतर समर्पण और समर्थन का अनुभव करना चाहिए। जब हम अपने आप को सेवा में लगाते हैं और दूसरों की मदद करते हैं, तो हम स्वयं के लिए कोई अपेक्षा नहीं रखते हैं और सभी के हित में समर्पित हो जाते हैं।
  39. असली जीत है खुद को विजेता बनाना। जब हम खुद को समझते हैं, अपनी सीमाओं को पार करते हैं और अपने स्वयं के मार्ग पर चलते हैं, तब हम अपनी सफलता का अनुभव करते हैं। यह हमें बाहरी प्रतिस्पर्धाओं से अलग बनाता है और हमें स्वतंत्रता का आनंद देता है।
  40. हमारी जीभ हमारी शक्ति का प्रतीक है, और हमें इसे सत्यापित और सामर्थ्यपूर्ण ढंग से उपयोग करना चाहिए। जब हम सोचपूर्वक बोलते हैं, तो हम विचारशीलता और समझदारी के साथ अपने शब्दों का चयन करते हैं। इससे हम समाधानों को बढ़ावा देते हैं और संबंधों को मजबूत बनाते हैं।

Share This Post With Friends

Leave a Comment

Discover more from 𝓗𝓲𝓼𝓽𝓸𝓻𝔂 𝓘𝓷 𝓗𝓲𝓷𝓭𝓲

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading