Happy Guru Ravidas Jayanti Wishes 2024, दोस्तों और रिश्तेदारों को संत रविदास जयंती की शुभकामनाएं भेजें

Happy Guru Ravidas Jayanti Wishes 2024, दोस्तों और रिश्तेदारों को संत रविदास जयंती की शुभकामनाएं भेजें

Share This Post With Friends

Last updated on February 24th, 2024 at 11:01 am

WhatsApp Channel Join Now
Telegram Group Join Now
Happy Guru Ravidas Jayanti Wishes 2024, दोस्तों और रिश्तेदारों को संत रविदास जयंती की शुभकामनाएं भेजें

Happy Guru Ravidas Jayanti Wishes 2024, दोस्तों और रिश्तेदारों को संत रविदास जयंती की शुभकामनाएं भेजें- माघ मास की पूर्णिमा तिथि को महान संत रविदास जयंती का पर्व बड़ी धूमधाम से मनाया जाता है. इस खास मौके पर देश के अलग-अलग हिस्सों में कई तरह के कार्यक्रम और कीर्तन आयोजित किए जाते हैं। इस दिन संत रविदास जी के वचनों और दोहों का पाठ किया जाता है। संत रविदास जी की जन्मतिथि को लेकर इतिहासकारों में मतभेद है।

बता दें कि कृष्ण भक्त मीरा बाई ने संत रविदास जी की भक्ति से प्रभावित होकर अध्यात्म का मार्ग अपनाया था। संत रविदास जी ने अपने दोहों के माध्यम से समाज में ऊंच-नीच के भेद को नकारा। इस खास मौके पर अपने दोस्तों और रिश्तेदारों को बधाई संदेश भेजना न भूलें।

Ravidas Jayanti 2024, हर साल माघ मास की पूर्णिमा तिथि को संत रविदास जयंती मनाई जाती है. रविदास जयंती और माघी पूर्णिमा पर गंगा स्नान का विशेष महत्व है। इस वर्ष रविदास जी की जयंती 24 फरवरी 2024 को मनाई जा रही है। संत रविदास जी रैदासजी के नाम से भी प्रसिद्ध हैं। इस दिन संत रविदास के अनुयायी बड़ी संख्या में उनकी जन्मभूमि (वाराणसी) पर एकत्रित होते हैं, भजन कीर्तन करते हैं, रैलियां निकालते हैं और उनके द्वारा बताए गए अमूल्य विचारों पर चलने का संकल्प लेते हैं।

Happy Guru Ravidas Jayanti Wishes 2024

संत रविवास जी बड़े धार्मिक स्वभाव के थे। रविदास एक भक्ति संत और एक महान समाज सुधारक थे। उन्होंने ईश्वर भक्ति में समर्पित होने के साथ-साथ अपने सामाजिक और पारिवारिक कर्तव्यों का भी बखूबी निर्वाह किया। उन्होंने उन्हें बिना किसी भेदभाव के एक-दूसरे से प्यार करना सिखाया और इसी तरह उन्होंने भक्ति के मार्ग का अनुसरण किया और संत रविदास कहलाए। उनकी शिक्षाओं और उपदेशों से आज भी समाज को मार्गदर्शन मिलता है।https://www.onlinehistory.in

Happy Guru Ravidas Jayanti Wishes 2023, यूपी के वाराणसी में हुआ था जन्म

संत रविदासजी का जन्म माघ पूर्णिमा को 1376 ई. में उत्तर प्रदेश के वाराणसी शहर में स्थित गोवर्धनपुर ग्राम में हुआ था। उनके पिता का नाम राहु और माता का नाम कर्मा था। उनकी पत्नी का नाम लोना बताया जाता है, उन्हें संत रविदास, गुरु रविदास, रैदास, रूहीदास और रोहिदास जैसे कई नामों से जाना जाता है। कहा जाता है कि जिस दिन रविदास जी का जन्म हुआ उस दिन माघ पूर्णिमा के साथ-साथ रविवार भी था, इसलिए उनका नाम रविदास रखा गया।

वे समतामूलक समाज के प्रबल समर्थक थे। अपने त्यागी, आडंबरपूर्ण जीवन, उदारता और विनम्रता के कारण उन्हें हरिभक्त, एक गुरु, उपदेशक, समाज सुधारक और संत शिरोमणि के रूप में जाना जाता है। पढ़िए उनके अनमोल वचन और विचारhttps://www.historystudy.in/

Happy Guru Ravidas Jayanti Wishes 2024, हैप्पी गुरु रविदास जयंती 2024 के लिए शुभकामनाएं

1. जाति के भीतर जाति है,

जो केतन का पात है,

रैदास मानव जुड़ न सका,

जब तक जाति नहीं जाती।

गुरुपर्व की शुभकामनाएं।

2. यदि आप अच्छा नहीं कर सकते तो कम से कम दूसरों का बुरा तो मत करो।

फूल नहीं बन सकते तो कम से कम कांटे तो मत बनो।

हैप्पी गुरु रविदास जयंती 2023

3. कर्म बंधन में बंधे रहो,

फल की आशा मत करो,

कर्म मनुष्य का धर्म है,

संत भकाई रविदास।
अर्थ: हमें हमेशा अपने काम में लगे रहना चाहिए और अपने काम का फल मिलने की उम्मीद कभी नहीं छोड़नी चाहिए। कर्म करना हमारा धर्म है तो फल मिलना हमारा सौभाग्य है।

हैप्पी गुरु रविदास जयंती 2024

4. मैं ऐसा नियम चाहता हूँ जहाँ सबको भोजन मिले।

युवा-वृद्ध सब मिल कर बसे, सुखी हों रविदास॥

संत रविदास जयंती 2023 की हार्दिक शुभकामनाएं।

5. जन्म जात, जात, जात मत पूछो।

रैदास पूत सम प्रभु की जात-कुजात नहीं।

गुरु रविदास जयंती 2023 की हार्दिक शुभकामनाएं।

6. रविदास कहे जन्म से कोई नीच नहीं,

डरो नीच कर्मों से, नीच कर्मों के मैल से

अर्थ : संत रविदास जी के अनुसार कोई भी व्यक्ति किसी जाति में जन्म लेने से छोटा या छोटा नहीं होता। जो व्यक्ति को नीचा बनाता है वह उसके कर्म हैं। इसलिए हमें हमेशा अपने कर्मों पर ध्यान देना चाहिए

हैप्पी गुरु रविदास जयंती 2024

मन ही पूजा है, मन ही धूप है,
मन से ही सेऊं सहज रूप।
अर्थ : शुद्ध मन में ही भगवान का वास होता है। यदि आपके मन में किसी के प्रति शत्रुता, लोभ या द्वेष नहीं है तो आपका मन भगवान का मंदिर, दीपक और अगरबत्ती है। ऐसे शुद्ध विचारों वाले मन में सदैव प्रभु निवास करते हैं।

गुणों से रहित ब्राह्मणों की पूजा मत करो,
गुणों से सम्पन्न चांडाल के चरणों की वन्दना करो।
अर्थ: किसी की पूजा सिर्फ इसलिए नहीं की जानी चाहिए कि वह उच्च पद या जाति से है। इसके स्थान पर यदि कोई ऐसा व्यक्ति हो, जो उच्च पद पर न हो, पर अत्यंत गुणी हो, तो उसकी पूजा अवश्य करनी चाहिए।

कृष्ण, करीम, राम, हरि, राघव, जब लग एक न देखा
वेद कतेब कुरआन, पुराणन, सहज एक नहीं देखा
अर्थ : राम, कृष्ण, हरि, करीम और राघव ये सब एक ही ईश्वर के विभिन्न नाम हैं, इसी प्रकार वेद, कुरान, पुराण आदि सभी ग्रन्थों में एक ही ईश्वर की स्तुति की गई है। भगवान की भक्ति के लिए सदाचार का पाठ पढ़ाते हैं।

Swami Vivekananda Jayanti 12 January 2023, प्रारंभिक जीवन, शिक्षा, कार्य, विचार और प्रसिद्ध उद्धरण

Guru Nanak Dev Ji | गुरु नानक देव जी का जीवन परिचय और शिक्षाएं


Share This Post With Friends

Leave a Comment

Discover more from 𝓗𝓲𝓼𝓽𝓸𝓻𝔂 𝓘𝓷 𝓗𝓲𝓷𝓭𝓲

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading