Sanyasi Revolt 1763-1800 AD | सन्यासी विद्रोह, कारण, परिणाम, महत्व-upsc विशेष

Sanyasi Revolt 1763-1800 AD | सन्यासी विद्रोह, कारण, परिणाम, महत्व-upsc विशेष

Share This Post With Friends

Sanyasi Revolt 1763-1800 AD | सन्यासी विद्रोह, कारण, परिणाम, महत्व-upsc विशेष
Image Credit-Quora

Sanyasi Revolt |

Sanyasi Revolt 1763-1800 AD, कारण, परिणाम, महत्व-upsc विशेष – अठारहवीं शताब्दी के अन्तिम वर्षों में सन् 1763-1800 ई. में भारत के कुछ भागों में सन्यासियों (केना सरकार, द्विजनारायण) ने ब्रिटिश शासन के विरुद्ध हिंसक आन्दोलन चलाया था, जिसे इतिहास में सन्यासी विद्रोह कहा जाता है।

यह आंदोलन ज्यादातर उस समय ब्रिटिश भारत के बंगाल और बिहार प्रांतों में हुआ था। 18वीं शताब्दी के अंत में ईस्ट इंडिया कंपनी के पत्राचार में फकीरों और सन्यासियों के आक्रमणों का कई बार उल्लेख किया गया है। ये छापे उत्तरी बंगाल में लगते थे।

Also Readसंथाल विद्रोह

1770 ई. में बंगाल में आए भयंकर अकाल के कारण हिन्दू और मुसलमान इधर-उधर घूमते थे और अमीरों तथा सरकारी अधिकारियों के घर और अन्न-भंडार लूट लेते थे। ये सन्यासी धार्मिक भिक्षुक थे, लेकिन वे मूल रूप से किसान थे जिनकी जमीन छीन ली गई थी। किसानों की बढ़ती समस्याओं और भू-राजस्व में वृद्धि के कारण 1770 ई. में अकाल के कारण छोटे जमींदार, कर्मचारी, सेवानिवृत्त सैनिक और गाँव के गरीब लोग इन तपस्वियों में शामिल हो गए।

Also Read1859-60 के नील विद्रोह के कारणों की विवेचना कीजिए

ये पांच से सात हजार लोगों की टोली बनाकर बंगाल और बिहार में घूमते थे और हमले के लिए गोरिल्ला तकनीक का इस्तेमाल करते थे। प्रारम्भ में ये लोग धनी लोगों के अन्न-भंडारों को लूटते थे। बाद में वे सरकारी अधिकारियों को लूटने लगे और सरकारी खजाने को भी लूटने लगे। कभी-कभी वे लूटे गए धन को गरीबों में बांट देते थे।

समकालीन सरकारी रिकॉर्ड इस विद्रोह का उल्लेख इस प्रकार करते हैं: – “सन्यासियों और फकीरों के रूप में जाने जाने वाले डकैतों का एक गिरोह है जो इन क्षेत्रों में अव्यवस्था पैदा कर रहे हैं और भिक्षा और लूट के लिए तीर्थयात्रियों के रूप में बंगाल के कुछ हिस्सों में जा रहे हैं।” वे मैला ढोने का काम करते हैं क्योंकि यह उनके लिए आसान काम है। अकाल के बाद इनकी संख्या में बेतहाशा वृद्धि हुई। भूखे किसान उनके दल में शामिल हो गए, जिनके पास खेती करने के लिए न तो बीज थे और न ही उपकरण।

1772 की सर्दियों में इन लोगों ने बंगाल के निचले इलाकों की खेती पर खूब लूटपाट की। ये लोग 50 से 1000 की टोली बनाकर लूटपाट, लूटपाट और जलाने का काम करते थे।https://www.onlinehistory.in

इसकी शुरुआत बंगाल के गिरि संप्रदाय के तपस्वियों ने की थी। जिसमें जमींदार, किसान और कारीगर भी शामिल हुए। इन सभी ने मिलकर कंपनी के सेल और फंड पर हमला किया। ये लोग कंपनी के सिपाहियों से बहुत बहादुरी से लड़े।

इस संघर्ष की विशेषता यह थी कि इसमें हिन्दू और मुसलमानों ने कंधे से कंधा मिलाकर भाग लिया। इस विद्रोह के प्रमुख नेताओं में केना सरकार, दिर्जिनारायण, मंजर शाह, देवी चौधरानी, मूसा शाह और भवानी पाठक उल्लेखनीय हैं। 1880 ई. तक बंगाल और बिहार में अंग्रेजों के साथ सन्यासियों और फकीरों का विद्रोह चलता रहा। अंग्रेजों ने इन विद्रोहों को दबाने के लिए अपनी पूरी शक्ति का प्रयोग किया।https://www.historystudy.in/

प्रसिद्ध बंगाली उपन्यासकार [highlight color=”yellow”]बंकिमचंद्र चट्टोपाध्याय का 1882 में प्रकाशित उपन्यास आनंद मठ[/highlight] इसी विद्रोह की घटना पर आधारित है।

सन्यासी विद्रोहियों ने बोगरा और मैमनसिंह में अपनी स्वतंत्र सरकार की स्थापना की। उनके हमले का तरीका गुरिल्ला युद्ध पर आधारित था।

सन्यासी विद्रोह (1763-1800 ई.)-समयरेखा

  • विद्रोह का समय – 1763-1800 ई
  • स्थान – बंगाल।
  • विद्रोही – सन्यासी शंकराचार्य के अनुयायी।
  • आंदोलन का कारण – हिंदू, नागा और गिरि के सशस्त्र तपस्वियों की तीर्थ यात्रा पर प्रतिबंध
  • परिणाम– विद्रोह को दबा दिया गया।

विद्रोह का प्रारंभिक कारण

विद्रोह का प्रारंभिक कारण तीर्थ यात्रा पर लगाया गया कर था। बाद में बेदखली से प्रभावित किसान, विघटित सैनिक, अपदस्थ जमींदार और धार्मिक नेता भी आंदोलन में शामिल हो गए। विद्रोह के प्रमुख नेता थे: मूसाशाह, मंजरशाह, देवी चौधरी और भवानी पाठक, बंकिम चंद्र चटर्जी ने विद्रोह को एक कथानक बनाकर उपन्यास आनंद मठ लिखा। वारेन हेस्टिंग्स को विद्रोह को दबाने का श्रेय दिया जाता है।

  • फकीर विद्रोह (1776-77 ई.): बंगाल में मजमुन शाह और चिराग अली।
  • रंगपुर विद्रोह (1783 ई.): बंगाल में विद्रोहियों ने भू-राजस्व देना बंद कर दिया था।
  • दीवान वेल्लताम्पी विद्रोह (1805 ई.): इसे 1857 के विद्रोह का पूर्ववर्ती भी कहा जाता है। त्रावणकोर के शासक पर सहायक संधि थोपने के खिलाफ वेल्लताम्पी के नेतृत्व में यह आंदोलन शुरू हुआ।
  • कच्छ विद्रोह (1819 ई.) : यह विद्रोह राजा भारमल को गद्दी से हटाने के कारण हुआ था। इसका नेतृत्व भारमल और झरेजा ने किया था।
  • सन्यासी विद्रोह 1763 ई. से प्रारम्भ होकर 1800 ई. तक चला। इसकी शुरुआत बंगाल के गिरि संप्रदाय के तपस्वियों ने की थी।
  • इसमें जमींदार, किसान और कारीगर भी शामिल हुए। इन सभी ने मिलकर कंपनी के सेल और फंड पर हमला किया। ये लोग कंपनी के सिपाहियों से बहुत बहादुरी से लड़े।
  • वारेन हेस्टिंग्स एक लम्बे अभियान के बाद ही सन्यासी विद्रोह को दबाने में सफल हुआ।
  • ‘बंकिमचंद्र चट्टोपाध्याय’ ने अपने प्रसिद्ध उपन्यास ‘आनंदमठ’ में सन्यासी आंदोलन का उल्लेख किया है। इस विद्रोह में शामिल लोग “ओम वंदे मातरम्” का जाप करते थे।
  • सन्यासी आन्दोलन की विशेषता ‘हिन्दू-मुस्लिम एकता’ थी। इस विद्रोह के प्रमुख नेता मजमून शाह, मूसा शाह, द्विज नारायण, भवानी पाठक, चिराग अली और देवी चौधरानी आदि थे।

सन्यासी विद्रोह के कारण

  • सन्यासी विद्रोह का मुख्य कारण तीर्थ यात्रा पर प्रतिबंध लगाना और भू-राजस्व की कठोरता से वसूली करना था।
  • प्लासी के युद्ध के बाद बंगाल में ब्रिटिश शासन की स्थापना हुई। इसलिए, अंग्रेजों ने अपनी नई आर्थिक नीतियों की स्थापना की।
  • इससे भारतीय जमींदार, किसान और कारीगर नष्ट होने लगे।
  • 1770 ई. में बंगाल में भयंकर अकाल पड़ा। अकाल के समय भी राजस्व वसूली कठोरता से की जाती थी। इससे किसानों के मन में विद्रोह की भावना जागृत होने लगी।
  • तीर्थ स्थानों पर जाने पर लगाए गए प्रतिबंधों से सन्यासी बहुत परेशान हो गए। सन्यासियों में अन्याय के विरुद्ध संघर्ष करने की परंपरा थी। इसलिए उन्होंने अंग्रेजों का विरोध किया। जमींदार, कारीगर और किसान भी उनके साथ हो लिए।
  • संन्यासी विद्रोह का नेतृत्व धार्मिक भिक्षुओं और बेदखल जमींदारों ने किया था। इन लोगों ने बोगरा नामक स्थान पर अपनी सरकार बनाई। सन्यासी विद्रोह को कुचलने के लिए वारेन हेस्टिंग्स को कठोर कदम उठाने पड़े।

sources-Wikipedia


Share This Post With Friends

Leave a Comment

error: Content is protected !!

Discover more from History in Hindi

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading