भूगोल क्या है: परिभाषाएँ, शाखाएँ और महत्वपूर्ण आंकड़े

भूगोल क्या है: परिभाषाएँ, शाखाएँ और महत्वपूर्ण आंकड़े

Share This Post With Friends

प्रिय पाठकों History Classes में आपका स्वागत है। इस लेख में, हम भूगोल के विषय में तल्लीन होंगे और इसकी परिभाषा, अर्थ और प्रमुख शाखाओं जैसे महत्वपूर्ण विषयों को शामिल करेंगे। आइए यह समझने से शुरू करें कि वास्तव में भूगोल क्या है।

भूगोल क्या है: परिभाषाएँ, शाखाएँ और महत्वपूर्ण आंकड़े
Image Credit-pixabay

भूगोल क्या है?

भूगोल एक ऐसा विषय है जो पृथ्वी की सतह और इसकी विभिन्न भौतिक और मानवीय विशेषताओं के अध्ययन से संबंधित है। इसमें मानवीय गतिविधियों और प्राकृतिक परिवेश के बीच संबंधों का विश्लेषण करना शामिल है और वे एक दूसरे को कैसे प्रभावित करते हैं।

भूगोल का अर्थ

भूगोल ग्रीक शब्द Geo ‘जियो’ से बना है जिसका अर्थ है पृथ्वी और Graphia’ ‘ग्राफिया’ का अर्थ है लिखना। इसलिए, इसे पृथ्वी की सतह और इसकी विशेषताओं के अध्ययन के रूप में परिभाषित किया जा सकता है, जिसमें भूमि, जल, वायु और उनके बीच संबंध का अध्ययन शामिल है।

भूगोल की प्रमुख शाखाएँ

भूगोल को दो मुख्य शाखाओं में बांटा गया है- भौतिक भूगोल और मानव भूगोल। भौतिक भूगोल पृथ्वी की भौतिक विशेषताओं, जैसे पहाड़, महासागर और वातावरण के अध्ययन से संबंधित है। दूसरी ओर, मानव भूगोल मानव गतिविधियों और पर्यावरण पर उनके प्रभाव के अध्ययन से संबंधित है।

भूगोल की परिभाषा

रिचर्ड हार्टशोर्न, एक प्रसिद्ध भूगोलवेत्ता, भूगोल को पृथ्वी की सतह के क्षेत्रीय और स्थानिक भिन्नता के अध्ययन के रूप में परिभाषित करते हैं। सरल शब्दों में, भूगोल का उद्देश्य उन अंतरों का वर्णन और व्याख्या करना है जो विभिन्न क्षेत्रों और उनकी भौतिक और मानवीय विशेषताओं के बीच मौजूद हैं।

भूगोल: अल्फ्रेड हेटनर के अनुसार, पृथ्वी की सतह के विभिन्न भागों में कारणात्मक रूप से संबंधित तथ्यों में भिन्नता का अध्ययन है.

भूगोल एक विशाल विषय है जो पृथ्वी की सतह से संबंधित विषयों के व्यापक स्पेक्ट्रम को कवर करता है। एक भूगोलवेत्ता अल्फ्रेड हेटनर के अनुसार, भूगोल पृथ्वी की सतह के विभिन्न भागों में कारणात्मक रूप से संबंधित तथ्यों में भिन्नता का अध्ययन है। आइए भूगोल के विषय को और विस्तार से देखें।

भूगोल की उत्पत्ति और अर्थ

भूगोल शब्द 276-194 ईसा पूर्व में एक यूनानी विद्वान एराटोस्थनीज द्वारा गढ़ा गया था। यह दो ग्रीक जड़ों से बना है, ‘जियो’ अर्थ पृथ्वी, और ‘ग्राफोस’ अर्थ वर्णन। इस प्रकार, भूगोल शब्द का अर्थ ‘पृथ्वी का वर्णन’ है।

भूगोल मनुष्य के आवास के रूप में पृथ्वी का अध्ययन है

पृथ्वी को हमेशा मनुष्यों के निवास के रूप में देखा गया है, और इस दृष्टिकोण से, विद्वान भूगोल को ‘मनुष्यों के निवास के रूप में पृथ्वी के वर्णन’ के रूप में परिभाषित करते हैं। वास्तविकता बहु-आयामी है, और पृथ्वी भी बहु-आयामी है, यही कारण है कि भूगोल जमीनी वास्तविकता के विभिन्न पहलुओं का अध्ययन करता है।

भूगोल की अंतःविषय प्रकृति

भूगोल एक ऐसा विषय है जो अन्य प्राकृतिक और सामाजिक विज्ञानों से निकटता से संबंधित है। हालांकि यह सामग्री और पद्धति में अन्य विज्ञानों से अलग है, लेकिन यह इन सभी विषयों से जानकारी का संश्लेषण करता है। भूविज्ञान, मृदा विज्ञान, समुद्र विज्ञान, वनस्पति विज्ञान, जीवन विज्ञान, मौसम विज्ञान, और सामाजिक विज्ञान जैसे अर्थशास्त्र, इतिहास, समाजशास्त्र, राजनीति विज्ञान, नृविज्ञान, और अधिक जैसे प्राकृतिक विज्ञान, जमीनी वास्तविकता के विभिन्न पहलुओं का अध्ययन करते हैं, और भूगोल इन सभी क्षेत्रों से जानकारी प्राप्त करता है।

अंत में, भूगोल एक विविध और अंतःविषय विषय है जो पृथ्वी की सतह और इसकी विभिन्न भौतिक और मानवीय विशेषताओं का अध्ययन करता है। यह एक आवश्यक विषय है जो मानव गतिविधियों और पर्यावरण के बीच के जटिल संबंधों को समझने में हमारी मदद करता है।

पृथ्वी का विवरण: हेकाटेयस द्वारा भौगोलिक तत्वों का व्यवस्थित समावेश

ईसा पूर्व छठी शताब्दी के एक यूनानी विद्वान, जस पेरिडियोस (पृथ्वी का वर्णन) ने अपनी पुस्तक में सबसे पहले भौगोलिक तत्वों का एक व्यवस्थित विवरण शामिल किया था। उन्होंने ज्ञात दुनिया का विवरण प्रस्तुत किया, इसे क्षेत्रों में विभाजित किया, और उनकी विशेषताओं, निवासियों और रीति-रिवाजों का लेखा-जोखा दिया।

Hecataeus के काम को व्यवस्थित भूगोल के शुरुआती प्रयासों में से एक माना जाता है और बाद के विद्वानों के निर्माण के लिए आधार तैयार किया। उनके काम को व्यापक रूप से पढ़ा गया और अन्य प्राचीन यूनानी भूगोलवेत्ताओं, जैसे हेरोडोटस और स्ट्रैबो को प्रभावित किया।

भौगोलिक तत्वों के व्यवस्थित समावेश ने लोगों के अपने आसपास की दुनिया को देखने के तरीके में एक महत्वपूर्ण बदलाव को चिह्नित किया। यह अब केवल अलग-थलग जगहों का संग्रह नहीं था, बल्कि क्षेत्रों और परिदृश्यों की एक जटिल परस्पर प्रणाली थी।

आज, भूगोल के अध्ययन का विकास और विस्तार जारी है। यह अध्ययन का एक महत्वपूर्ण क्षेत्र है जो हमें उस दुनिया को समझने में मदद करता है जिसमें हम रहते हैं, पृथ्वी की भौतिक विशेषताओं से लेकर हमारे जीवन को आकार देने वाली सामाजिक, आर्थिक और सांस्कृतिक ताकतों तक।

हेकेटियस द्वारा पृथ्वी का विवरण: व्यवस्थित भूगोल की शुरुआत

भौगोलिक तत्वों का व्यवस्थित समावेश हेकेटियस की पुस्तक, डिस्क्रिप्शन ऑफ द अर्थ, के साथ छठी शताब्दी ईसा पूर्व में शुरू हुआ।

20वीं शताब्दी में भूगोल का विकास

20वीं शताब्दी में, भूगोल मनुष्य और पर्यावरण के बीच पारस्परिक संबंधों के अध्ययन के रूप में विकसित हुआ। इस समय के दौरान दो विचारधाराएँ उभरीं:

संभावनावाद: इस विचारधारा का सुझाव है कि मनुष्य अपने पर्यावरण में परिवर्तन करने में सक्षम हैं और प्रकृति द्वारा दी गई संभावनाओं का उपयोग अपनी इच्छा के अनुसार कर सकते हैं। इस विचारधारा का समर्थन करने वाले प्रमुख भूगोलवेत्ता विडाल-डी-ला-ब्लाचे और फैब्रो थे।

निर्धारणवाद: इस विचारधारा के अनुसार, मानव क्रिया पर्यावरण द्वारा निर्धारित होती है, और व्यक्तियों को स्वेच्छा से कार्य करने की स्वतंत्रता कम होती है। इस विचारधारा का समर्थन करने वाले भूगोलवेत्ताओं में रिटर, रैटजेल (नए नियतत्ववाद के संस्थापक), एलन सैंपल और हंटिंगटन शामिल थे।

स्ट्रैबो के अनुसार भूगोल की परिभाषा

एक ग्रीक भूगोलवेत्ता और इतिहासकार स्ट्रैबो के अनुसार, भूगोल एक ऐसा विषय है जिसका उद्देश्य लोगों को खगोलीय पिंडों, भूमि, महासागरों, वनस्पतियों, जीवों, फलों और पृथ्वी की सतह के क्षेत्रों में दिखाई देने वाली हर चीज के बारे में जागरूक करना है।

अंत में, भूगोल पृथ्वी की विशेषताओं के एक व्यवस्थित अध्ययन के रूप में अपनी प्रारंभिक शुरुआत के बाद से एक लंबा सफर तय कर चुका है। आज, यह एक अंतःविषय विषय है जो मनुष्य और पर्यावरण के बीच के जटिल संबंधों को समझने में एक आवश्यक भूमिका निभाता है।

भूगोल की कुछ महत्वपूर्ण परिभाषाएँ

भूगोल अध्ययन का एक विशाल और बहुआयामी क्षेत्र है जो पृथ्वी की सतह के विभिन्न पहलुओं से संबंधित है। यहाँ भूगोल की कुछ महत्वपूर्ण परिभाषाएँ दी गई हैं:

इमैनुएल कांट: कांट के अनुसार, भूगोल पृथ्वी की सतह के क्षेत्र के महत्वपूर्ण अध्ययन का विषय है।

कार्ल रिटर: रिटर ने भूगोल को विज्ञान की शाखा के रूप में परिभाषित किया है जो विभिन्न विशेषताओं, घटनाओं और विश्व के साथ उनके संबंधों का अध्ययन करता है। उन्होंने भूगोल के लिए क्षेत्रीय दृष्टिकोण पर जोर दिया।

अलेक्जेंडर वॉन हम्बोल्ट: हम्बोल्ट ने भूगोल को प्रकृति के अध्ययन से संबंधित विज्ञान के रूप में माना है, और इसका उद्देश्य विभिन्न प्राकृतिक तत्वों के अंतर्संबंधों का अध्ययन करना है। उन्होंने भूगोल को एक महत्वपूर्ण विज्ञान के रूप में देखा।

फ्रेडरिक रैटजेल: रैटजेल के अनुसार, भूगोल मनुष्य और उसके पर्यावरण के बीच संबंधों के अध्ययन का विषय है। उन्होंने भूगोल में मानव केंद्रीय विचारधारा पर बल दिया।

रिचर्ड हार्टशोर्न: हार्टशोर्न ने भूगोल को क्षेत्रीय भिन्नता के अध्ययन और विश्लेषण के रूप में परिभाषित किया।

क्लॉडियस टॉलेमी: टॉलेमी ने भूगोल को स्वर्ग में पृथ्वी की एक झलक देखने के लिए एक अद्भुत विषय के रूप में देखा।

आर्थर होम्स: होम्स ने भूगोल को पृथ्वी के उस भाग के अध्ययन के रूप में परिभाषित किया है जो मानव जीवन का स्थान है।

भूगोल की शाखाएँ

भूगोल अध्ययन का एक विशाल और विविध क्षेत्र है जिसे मोटे तौर पर दो मुख्य शाखाओं में वर्गीकृत किया जा सकता है:

भौतिक भूगोल:

भौतिक भूगोल पृथ्वी के प्राकृतिक और भौतिक तत्वों जैसे भू-आकृतियों, जल निकायों, जलवायु, वनस्पतियों और जीवों का अध्ययन करता है। भूगोल की यह शाखा पृथ्वी की सतह को आकार देने और बदलने वाली प्राकृतिक प्रक्रियाओं और प्रणालियों को समझने पर केंद्रित है। इसमें भू-आकृति विज्ञान, जलवायु विज्ञान, जल विज्ञान, बायोग्राफी और मृदा विज्ञान जैसे उप-विषय शामिल हैं।

मानव भूगोल:

मानव भूगोल मानव गतिविधि और पर्यावरण के साथ उसके संबंधों के अध्ययन पर केंद्रित है। भूगोल की यह शाखा इस बात की पड़ताल करती है कि मनुष्य अपने पर्यावरण के साथ कैसे बातचीत करते हैं और प्रभावित करते हैं, जिसमें जनसंख्या, शहरीकरण, आर्थिक विकास, सांस्कृतिक भूगोल, राजनीतिक भूगोल और सामाजिक भूगोल जैसे विषय शामिल हैं। यह प्राकृतिक पर्यावरण, जैसे जलवायु परिवर्तन, वनों की कटाई और प्रदूषण पर मानवीय गतिविधियों के प्रभाव की भी पड़ताल करता है।

भूगोल की अन्य महत्वपूर्ण शाखाएँ

यहाँ कुछ महत्वपूर्ण आंकड़े और वैज्ञानिक भूगोल की विभिन्न शाखाओं में उनके योगदान हैं:

Hecataeus भूगोल के पिता
एराटोस्थनीज व्यवस्थित भूगोल के जनक, भौगोलिक शब्द के पहले प्रस्तावक
पोलिडोनियस भौतिक भूगोल के जनक
कार्ल ओ सावर सांस्कृतिक भूगोल के जनक
थेल्स और एनजीमैंडर: गणितीय भूगोल के संस्थापक
एंजीनिमैंडर विश्व मानचित्र के निर्माता
मार्टिन बेहम विश्व ग्लोब निर्माता
स्ट्रैबो भौगोलिक विश्वकोश
फ्रेडरिक रैटजेल मानव भूगोल के जनक
अलेक्जेंडर बॉन हम्बोल्ट आधुनिक भूगोल के जनक

निष्कर्ष

अंत में, इस लेख में भूगोल से संबंधित महत्वपूर्ण विषयों, जैसे इसकी परिभाषा, अर्थ और प्रमुख शाखाओं को शामिल किया गया है। हम आशा करते हैं कि यह जानकारी आपके लिए उपयोगी रही होगी और आपको अधिक संबंधित ज्ञान के लिए हमारी वेबसाइट https://historyclasses.in पर जाने के लिए प्रोत्साहित करती है।


Share This Post With Friends

Leave a Comment

error: Content is protected !!

Discover more from History in Hindi

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading