एनसीईआरटी इतिहास सिलेबस: NCERT ने इतिहास की पाठ्यपुस्तकों में संशोधन किया, 'मुगलों' के सभी उल्लेख हटा दिए

एनसीईआरटी इतिहास सिलेबस: NCERT ने इतिहास की पाठ्यपुस्तकों में संशोधन किया, ‘मुगलों’ के सभी उल्लेख हटा दिए

Share This Post With Friends

नेशनल काउंसिल ऑफ एजुकेशनल रिसर्च एंड ट्रेनिंग (NCERT) ने मुगल साम्राज्य पर अध्यायों को हटाकर अपनी पाठ्यपुस्तकों को संशोधित किया है, जिसमें 12 वीं कक्षा की इतिहास की पुस्तक शामिल है।

एनसीईआरटी इतिहास सिलेबस: NCERT ने इतिहास की पाठ्यपुस्तकों में संशोधन किया, 'मुगलों' के सभी उल्लेख हटा दिए

एनसीईआरटी इतिहास सिलेबस

स्थानीय रिपोर्टों के मुताबिक, यह बदलाव पूरे भारत में एनसीईआरटी से सम्बद्ध सभी स्कूलों पर लागू होगा।

एनसीईआरटी इतिहास, हिंदी और नागरिक शास्त्र की पाठ्यपुस्तकों को संशोधित करता है

एनसीईआरटी ने ‘किंग्स एंड क्रॉनिकल्स; द मुगल कोर्ट्स (सी. 16वीं और 17वीं शताब्दी)’ इतिहास की किताब ‘थीम्स ऑफ इंडियन हिस्ट्री-पार्ट 2’ से।

इसी तरह एनसीईआरटी भी हिंदी की पाठ्यपुस्तकों से मुगल साम्राज्य का जिक्र करने वाली कविताएं और पैराग्राफ हटा देगी।

परिवर्तन वर्तमान शैक्षणिक सत्र (2023-2024) के लिए लागू किए जाएंगे। 12वीं कक्षा की नागरिक शास्त्र की किताब के अलावा ‘अमेरिकन हेगेमनी इन वर्ल्ड पॉलिटिक्स’ और ‘द कोल्ड वॉर एरा’ शीर्षक वाले दो अध्यायों को हटाते हुए इसमें संशोधन किया गया है।

परिवर्तनों को जारी रखते हुए, एनसीईआरटी ने कक्षा 12 की पाठ्यपुस्तक ‘आजादी के बाद की भारतीय राजनीति’ से दो अध्यायों, ‘लोकप्रिय आंदोलनों का उदय’ और ‘एक पार्टी के प्रभुत्व का युग’ को हटा दिया है।

एनसीईआरटी ने 10वीं और 11वीं की पाठ्यपुस्तकों को भी संशोधित किया है। 10वीं कक्षा की किताब ‘डेमोक्रेटिक पॉलिटिक्स-2’ से ‘लोकतंत्र और विविधता’, ‘लोकप्रिय संघर्ष और आंदोलन’ और ‘लोकतंत्र की चुनौतियां’ वाले अध्याय हटा दिए गए हैं।

इसके अतिरिक्त, ‘सेंट्रल इस्लामिक लैंड्स’, ‘संस्कृतियों का टकराव’ और ‘औद्योगिक क्रांति‘ जैसे अध्यायों को ग्रेड 11 की पाठ्यपुस्तक ‘थीम्स इन वर्ल्ड हिस्ट्री’ से हटा दिया गया है।

वरिष्ठ अधिकारियों ने पुष्टि की कि नए पाठ्यक्रम और पाठ्यपुस्तकों को इस वर्ष से अपडेट किया गया है और विभिन्न स्कूलों में लागू किया जा रहा है।

भारत के मुगल कौन हैं?

मुग़ल साम्राज्य एक शक्तिशाली इस्लामी साम्राज्य था जिसने 16वीं शताब्दी के प्रारंभ से लेकर 19वीं शताब्दी के मध्य तक भारतीय उपमहाद्वीप के बड़े हिस्से पर शासन किया। इसकी स्थापना तुर्क-मंगोल राजकुमार बाबर ने की थी, जिसने चंगेज खान और तामेरलेन दोनों के वंश का दावा किया था।

बाबर और उसके उत्तराधिकारियों के शासन में मुगल साम्राज्य दुनिया के सबसे धनी और सबसे शक्तिशाली साम्राज्यों में से एक बन गया। यह अपनी समृद्ध संस्कृति, कला और वास्तुकला के साथ-साथ अपनी सैन्य शक्ति के लिए जाना जाता था। साम्राज्य की विशेषता एक मजबूत केंद्रीकृत सरकार, एक परिष्कृत प्रशासनिक प्रणाली और धार्मिक सहिष्णुता की नीति थी।

सबसे प्रसिद्ध मुगल सम्राटों में से कुछ में अकबर महान शामिल हैं, जिन्होंने साम्राज्य को अपनी सबसे बड़ी सीमा तक विस्तारित किया और धार्मिक सहिष्णुता की नीति लागू की; शाहजहाँ, जिसने अपनी पत्नी के लिए ताजमहल को एक मकबरे के रूप में बनवाया था; और औरंगजेब, जिसने साम्राज्य का विस्तार किया लेकिन अपनी कट्टर धार्मिक नीतियों के कारण उसे चुनौतियों का भी सामना करना पड़ा।

18वीं शताब्दी में आंतरिक संघर्ष, आर्थिक कठिनाइयों और यूरोपीय औपनिवेशिक शक्तियों के दबाव के संयोजन के कारण मुगल साम्राज्य का पतन हो गया। मुगल साम्राज्य के अंत को चिह्नित करते हुए, अंतिम मुगल सम्राट, बहादुर शाह जफर को 1858 में अंग्रेजों द्वारा पदच्युत कर दिया गया था। इसके पतन के बावजूद, मुगल साम्राज्य का भारत की संस्कृति, भाषा और इतिहास पर स्थायी प्रभाव पड़ा।

यह बदलाव 2023-2024 शैक्षणिक वर्ष के लिए पूरे भारत में एनसीईआरटी का पालन करने वाले सभी स्कूलों पर लागू होगा।


Share This Post With Friends

Leave a Comment

error: Content is protected !!

Discover more from History in Hindi

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading