|

History of World War I 1914–18, इसके प्रमुख कारण, रूप और परिणाम क्या थे?

History of World War I 1914–18, इसके प्रमुख कारण, रूप और परिणाम क्या थे?
Image Credit-www.theatlantic.com

Contents

History of World War I 1914–18, इसके प्रमुख कारण, रूप और परिणाम क्या थे?

परिचय

    प्रथम विश्व युद्ध वैश्विक स्तर पर लड़ा जाने वाला पहला विनाशकारी युद्ध था। विश्व के लगभग सभी प्रभावशाली राष्ट्रों ने इसमें भाग लिया। यह युद्ध मित्र राष्ट्रों (इंग्लैंड, फ्रांस, रूस, संयुक्त राज्य अमेरिका, इटली, रोमानिया और उनके सहयोगियों) और केंद्रीय शक्तियों (जर्मनी, ऑस्ट्रिया-हंगरी, तुर्की, बुल्गारिया, आदि) के बीच हुआ था। प्रथम विश्व युद्ध में मित्र राष्ट्रों की विजय तथा केन्द्रीय शक्तियों की पराजय हुई।

प्रथम विश्व युद्ध के मुख्य कारण

     प्रथम विश्वयुद्ध के लिए अनेक कारण उत्तरदायी थे। इनमें से निम्नलिखित महत्वपूर्ण हैं:-

यूरोपीय शक्ति – संतुलन का बिगड़ना –

    1871 में जर्मनी के एकीकरण से पहले जर्मनी ने यूरोपीय राजनीति में महत्वपूर्ण भूमिका नहीं निभाई, लेकिन बिस्मार्क के नेतृत्व में एक शक्तिशाली जर्मन राष्ट्र का उदय हुआ। इससे यूरोपीय शक्ति संतुलन गड़बड़ा गया। जर्मनी इंग्लैंड और फ्रांस के लिए एक चुनौती बन गया। इससे यूरोपीय देशों के बीच प्रतिस्पर्धा की भावना बढ़ी।

गुप्त गठबंधनों और गुटों का निर्माण-

      जर्मनी के एकीकरण के बाद चांसलर बिस्मार्क ने अपने देश को यूरोपीय राजनीति में प्रभावशाली बनाने तथा फ्रांस को यूरोप की राजनीति में मित्रविहीन रखने के लिए गुप्त संधियों की नीतियों को अपनाया। उन्होंने ऑस्ट्रिया-हंगरी (1879) के साथ दोहरा गठबंधन किया। रूस से भी मित्रता सन्धि (1881 और 1887) की गई। बिस्मार्क ने इंग्लैंड के साथ मैत्रीपूर्ण सम्बन्ध भी स्थापित किये।

    1882 में उसने इटली और आस्ट्रिया से मित्रता की सन्धि की। परिणामस्वरूप, यूरोप में ट्रिपल एलायंस नामक एक नए गुट का गठन हुआ। इसमें जर्मनी, ऑस्ट्रिया-हंगरी और इटली शामिल थे। इंग्लैंड और फ्रांस इस समूह से दूर रहे।

जर्मनी और फ्रांस के बीच दुश्मनी

     जर्मनी और फ्रांस के बीच पुरानी दुश्मनी थी। जर्मनी के एकीकरण के दौरान बिस्मार्क ने फ्रांस के समृद्ध क्षेत्र अल्सेस-लोरेन पर अधिकार कर लिया था। मोरक्को में फ्रांसीसी हितों को भी नुकसान पहुंचा था। इसलिए फ्रांस में जनता की राय जर्मनी के खिलाफ थी। फ्रांस हमेशा जर्मनी को नीचा दिखाने की कोशिश कर रहा था।

     दूसरी ओर जर्मनी भी फ्रांस को शक्तिहीन रखना चाहता था। इसलिए फ्रांस को मित्रविहीन रखने के लिए जर्मनी ने त्रिपक्षीय समझौता किया। इसके बदले में फ्रांस ने भी जर्मनी के विरुद्ध अपने सहयोगियों का एक समूह बनाया। प्रथम विश्व युद्ध के समय तक जर्मनी और फ्रांस के बीच दुश्मनी इतनी बढ़ गई थी कि इसने युद्ध को अपरिहार्य बना दिया था।

साम्राज्यवादी प्रतियोगिता

  • साम्राज्य विस्तार के लिए साम्राज्यवादी देशों की आपसी प्रतिद्वंद्विता और हितों के टकराव को प्रथम विश्व युद्ध का मूल कारण माना जा सकता है।
  • औद्योगिक क्रांति के फलस्वरूप कारखानों को चलाने के लिए कच्चे माल तथा कारखानों में उत्पादित वस्तुओं के उपभोग के लिए बाजार की आवश्यकता थी। परिणामस्वरूप, साम्राज्यवादी शक्तियों इंग्लैंड, फ्रांस और रूस ने एशिया और अफ्रीका में अपने-अपने उपनिवेश स्थापित किए और उन पर अधिकार कर लिया।
  • बाद में जब जर्मनी और इटली औपनिवेशिक जाति में शामिल हुए तो विस्तार की बहुत कम गुंजाइश थी। इसलिए, इन देशों ने औपनिवेशिक विस्तार की नई नीति अपनाई। यह नीति अन्य राष्ट्रों के उपनिवेशों पर बलपूर्वक कब्जा करके अपनी स्थिति को सुदृढ़ करने की थी।
  • प्रथम विश्व युद्ध की शुरुआत से पहले जर्मनी की आर्थिक और औद्योगिक स्थिति बहुत मजबूत हो गई थी। अतः जर्मन सम्राट जर्मनी को पृथ्वी पर और सूर्य के नीचे उचित स्थान दिलाने के लिए व्याकुल हो उठा। उसकी सेना शक्तिशाली थी, अब वह एक मजबूत नौसैनिक बेड़ा बनाकर और समुद्र पर इंग्लैंड की संप्रभुता को चुनौती देकर अपने साम्राज्य के विकास का प्रयास करने लगा।
  • 1911 में, एंग्लो-जर्मन नौसैनिक प्रतियोगिता के परिणामस्वरूप अगाडिर का संकट उत्पन्न हुआ। इसे सुलझाने का प्रयास किया गया लेकिन यह विफल रहा। 1912 में, जर्मनी में एक विशाल जहाज, सम्राट बनाया गया था, जो उस समय का सबसे बड़ा जहाज था। परिणामस्वरूप, जर्मनी और इंग्लैंड के बीच दुश्मनी और प्रतिस्पर्धा बढ़ गई।
  • इसी तरह, मोरक्को और बोस्निया के संकट ने इंग्लैंड और जर्मनी के बीच प्रतिस्पर्धा को और बढ़ा दिया।
  • अपने प्रभाव के क्षेत्र को बढ़ाने के लिए, जब जर्मनी ने तुर्की साम्राज्य, इंग्लैंड, फ्रांस और रूस की अर्थव्यवस्था पर नियंत्रण स्थापित करने के उद्देश्य से वेरलाइन बगदाद रेल रूट योजना बनाई, तो इसका विरोध किया। इससे कड़वाहट बढ़ गई।

सैनिक शासन

      साम्राज्यवाद की तरह सैन्यवाद भी प्रथम विश्व युद्ध को करीब ले आया। अपनी सुरक्षा और विस्तारवादी नीति को लागू करने के लिए हर देश हथियारों के निर्माण और खरीद-बिक्री में लगा हुआ है। अपने ही उपनिवेशों की सुरक्षा के लिए सैनिक दृष्टि से भी शक्तिशाली होना आवश्यक हो गया। परिणामस्वरूप, युद्ध के नए हथियारों का निर्माण हुआ। राष्ट्रीय आय का एक बड़ा हिस्सा हथियारों के निर्माण और सैन्य संगठनों पर खर्च होने लगा।

    उदाहरण के लिए, फ्रांस, जर्मनी और अन्य प्रमुख राष्ट्र अपनी आय का 85% सैन्य प्रणालियों पर खर्च कर रहे थे। कई देशों में अनिवार्य सैन्य सेवा लागू की गई थी।

     सैनिकों की संख्या बहुत बढ़ा दी गई थी। देश की राजनीति में फौजी अफसरों का दबदबा था। इस तरह सारा यूरोप बारूद के ढेर पर बैठ गया। विस्फोट में अभी देरी हुई थी। यह विस्फोट 1914 में हुआ था।

कट्टरपंथी राष्ट्रवाद

उग्र या विकृत राष्ट्रवाद भी प्रथम विश्व युद्ध का एक मूलभूत कारण बना।

  • यह यूरोप के सभी देशों में समान रूप से विकसित हुआ। यह भावना तेजी से बढ़ी कि यदि एक ही जाति, धर्म, भाषा और ऐतिहासिक परंपरा के लोग एक साथ मिलकर काम करेंगे तो उनकी एक अलग पहचान और प्रगति होगी।
  • पहले भी इसी आधार पर जर्मनी और इटली का एकीकरण हुआ था। बाल्कन क्षेत्र में यह भावना अधिक प्रबल थी। बाल्कन क्षेत्र तुर्की साम्राज्य के अधीन था। तुर्की साम्राज्य के कमजोर होने के साथ ही इस क्षेत्र में स्वतंत्रता की माँग जोर पकड़ने लगी। तुर्की साम्राज्य और ऑस्ट्रिया-हंगरी के कई क्षेत्रों में स्लाव नस्ल के लोगों का वर्चस्व था। वह एक अलग स्लाव राष्ट्र की मांग कर रहा था।
  • रूस का मानना था कि ऑस्ट्रिया-हंगरी और तुर्की से स्वतंत्र होने के बाद स्लाव रूस के प्रभाव में आ जाएंगे। इसलिए रूस ने सर्व-स्लाव या सर्वस्लाववाद आंदोलन को बढ़ावा दिया। इससे रूस और ऑस्ट्रिया-हंगरी के संबंधों में खटास आ गई।
  • इसी प्रकार अखिल जर्मन आन्दोलन भी प्रारम्भ हुआ। सर्व, चेक और ध्रुव जाति के लोग भी स्वतंत्रता की मांग कर रहे थे। इससे यूरोपीय देशों में कटुता की भावना बढ़ गई।

अंतर्राष्ट्रीय संगठन का अभाव

प्रथम विश्व युद्ध से पहले साम्राज्यवाद, सैन्यवाद और उग्रवादी राष्ट्रवाद को नियंत्रित करके विभिन्न राष्ट्रों के बीच सौहार्दपूर्ण संबंध बनाए रखने वाली कोई संस्था नहीं थी। प्रत्येक राष्ट्र स्वतंत्र रूप से अपनी मनमानी कर रहा था, जिससे यूरोप की राजनीति में एक प्रकार की अराजक स्थिति व्याप्त हो गई।

जनमत सर्वेक्षण और समाचार पत्र

प्रथम विश्व युद्ध के लिए तत्कालीन जनमत भी कम जिम्मेदार नहीं था। हर देश के राजनेता, दार्शनिक और लेखक अपने लेखों में युद्ध की वकालत कर रहे थे। पूंजीपति वर्ग भी अपने हित में युद्ध का समर्थक बन गया। युद्धोन्मुखी जनमत तैयार करने में समाचार पत्रों की सबसे महत्वपूर्ण भूमिका थी।

प्रत्येक देश के समाचार पत्र दूसरे राष्ट्र के विरुद्ध झूठे और भड़काऊ लेख प्रकाशित करते थे। इससे विभिन्न राष्ट्रों तथा वहाँ के लोगों में कटुता उत्पन्न हो गई। समाचार पत्रों के झूठे प्रचार ने यूरोप के वातावरण को जहरीला बना दिया और युद्ध को अपरिहार्य बना दिया।

तात्कालिक कारण-ऑस्ट्रिया के क्राउन प्रिंस आर्कड्यूक फ्रांसिस फर्डिनेंड की हत्या

प्रथम विश्व युद्ध का तात्कालिक कारण बोस्निया की राजधानी साराजेवो में ऑस्ट्रिया के क्राउन प्रिंस आर्कड्यूक फ्रांसिस फर्डिनेंड की हत्या थी। 28 जून, 1914 को, एक आतंकवादी संगठन, ब्लैक हैंड से संबंधित एक बोस्नियाई युवक ने राजकुमार और उसकी पत्नी की गोली मारकर हत्या कर दी। इससे पूरा यूरोप स्तब्ध रह गया। ऑस्ट्रिया ने इस घटना के लिए सर्बिया को जिम्मेदार माना।

    ऑस्ट्रिया ने सर्बिया को 48 घंटे के भीतर इस संबंध में स्थिति स्पष्ट करने और आतंकवादियों का दमन करने की धमकी दी। सर्बिया ने ऑस्ट्रिया की मांगों को खारिज कर दिया। परिणामस्वरूप, 28 जुलाई 1914 को ऑस्ट्रिया ने सर्बिया के विरुद्ध युद्ध की घोषणा कर दी। इसके साथ ही अन्य राष्ट्र भी अपने-अपने गुटों के समर्थन में युद्ध में शामिल हुए। इस प्रकार प्रथम विश्व युद्ध शुरू हुआ।

प्रथम विश्व युद्ध की जिम्मेदारी

      प्रथम विश्व युद्ध के लिए कौन जिम्मेदार था यह निर्धारित करना मुश्किल है। युद्ध में शामिल किसी भी पक्ष ने स्वयं को युद्ध के लिए जिम्मेदार नहीं माना। इसके विपरीत, सभी ने तर्क दिया कि उन्होंने शांति बनाए रखने की कोशिश की, लेकिन युद्ध दुश्मन राष्ट्र की नीतियों के कारण हुआ। वर्साय की संधि के एक खंड में उल्लेख किया गया था कि युद्ध के लिए जर्मनी और उसके सहयोगी जिम्मेदार थे। यह मित्र राष्ट्रों का एकतरफा फैसला था।

     वास्तव में प्रथम विश्वयुद्ध के लिए सभी राष्ट्र जिम्मेदार थे, केवल जर्मनी ही इसके लिए जिम्मेदार नहीं था। सर्बिया ने ऑस्ट्रिया की जायज माँगों को ठुकराते हुए युद्ध की शुरुआत की। ऑस्ट्रिया ने युद्ध की घोषणा कर रूस को सैन्य कार्रवाई करने के लिए विवश कर दिया।

      सर्बिया के सवाल पर रूस ने भी जल्दबाजी की। उसने कूटनीतिक स्तर पर सर्बिया की समस्या को हल करने के बजाय सैन्य कार्रवाई के माध्यम से इसे हल करने का फैसला किया। जर्मनी की मजबूरी यह थी कि वह अपने सहयोगी ऑस्ट्रिया का साथ नहीं छोड़ सकता था। रूस, फ्रांस और इंग्लैंड जर्मनी के घोर शत्रु थे। जब रूस ने सैन्य कार्रवाई शुरू की तो जर्मनी भी चुप नहीं बैठ सका।

        उसके लिए फ्रांस और रूस पर नियंत्रण करना आवश्यक था। फ्रांस ने अपनी ओर से रूस को रोकने की कोशिश नहीं की। बल्कि, इसके विपरीत, ऑस्ट्रिया विरोधी अभियान में रूस को पूर्ण समर्थन का आश्वासन दिया। इससे सर्बिया जैसा छोटा देश ऑस्ट्रिया और जर्मनी से लड़ने को तैयार हो गया।

    इंग्लैंड ने भी युद्ध की स्थिति को टालने के लिए कोई ठोस कदम नहीं उठाया। उसने अपने सहयोगियों को युद्ध से दूर रहने के लिए भी नहीं कहा। परिणामस्वरूप, दोनों रणनीति के राष्ट्र युद्ध में शामिल हो गए। कोई भी भविष्यवाणी नहीं कर सकता था कि एक छोटा युद्ध विश्व युद्ध में बदल जाएगा।

इस तरह प्रथम विश्वयुद्ध के लिए सभी राष्ट्र जिम्मेदार थे, इसके लिए किसी एक राष्ट्र को जिम्मेदार नहीं ठहराया जा सकता।

प्रथम विश्व युद्ध की प्रमुख घटनाएँ

युद्ध का प्रारंभिक चरण

      28 जुलाई, 1914 को जैसे ही ऑस्ट्रिया ने सर्बिया के खिलाफ युद्ध की घोषणा की, युद्ध का बिगुल बज गया। रूस ने सर्बिया के समर्थन में और जर्मनी ने ऑस्ट्रिया के समर्थन में सैन्य कार्रवाई शुरू की। इंग्लैंड और फ्रांस रूस के समर्थन में आ गए। जापान ने भी जर्मनी के विरुद्ध युद्ध की घोषणा कर दी।

     जर्मन सेना बेल्जियम को रौंदती हुई फ्रांस की राजधानी पेरिस पहुँची। उसी समय जर्मनी और ऑस्ट्रिया पर रूस का आक्रमण हुआ। इसके चलते जर्मनी ने पूर्वी मोर्चे पर रूस के प्रसार को रोकने के लिए अपनी सेना की एक टुकड़ी भेजी। इससे फ्रांस सुरक्षित हो गया और पेरिस शहर बच गया।

     पश्चिम एशिया में, फिलिस्तीन, मेसोपोटामिया और अरब देशों में तुर्की और जर्मनी के खिलाफ अभियान चल रहे थे। सुदूर पूर्व में, जापान ने जर्मन क्षेत्रों पर अधिकार कर लिया। इंग्लैंड और फ्रांस ने अफ्रीका में अधिकांश जर्मन उपनिवेशों पर अधिकार कर लिया।

अमेरिका का युद्ध में प्रवेश

      1917 तक संयुक्त राज्य अमेरिका मित्र राष्ट्रों से सहानुभूति रखने के बावजूद युद्ध में तटस्थ रहा। 1915 में, जर्मनी ने एक ब्रिटिश जहाज, लुसिटानिया को डूबो दिया, जिसमें अमेरिकी यात्री भी सवार थे। इस घटना के बाद अमेरिका शांत नहीं रह सका। उसने 6 अप्रैल 1917 को जर्मनी के खिलाफ युद्ध की घोषणा की। युद्ध में अमेरिका की भागीदारी ने युद्ध का रुख मोड़ दिया।

युद्ध से सोवियत संघ की वापसी

     जबकि अमेरिका 1917 में युद्ध में शामिल हुआ, सोवियत संघ युद्ध से हट गया। 1917 की बोल्शेविक क्रांति के बाद, लेनिन के नेतृत्व वाली सरकार ने युद्ध से हटने का फैसला किया। सोवियत संघ ने जर्मनी के साथ गठबंधन किया और युद्ध से हट गया।

युद्ध का निर्णायक चरण

     अप्रैल 1917 में अमेरिका प्रथम विश्व युद्ध में शामिल हुआ। इसके साथ ही घटनाओं का चक्र तेज हो गया। केंद्रीय शक्तियों की हार और मित्र राष्ट्रों की जीत का सिलसिला शुरू हुआ। मजबूर होकर, तुर्की और ऑस्ट्रिया ने क्रमशः अक्टूबर-नवंबर 1918 में आत्मसमर्पण कर दिया। जर्मनी अकेला रह गया था। युद्ध में हार और आर्थिक संकट ने जर्मनी में विद्रोह की स्थिति पैदा कर दी।

     ऐसी स्थिति में जर्मन सम्राट कैसर विलियम द्वितीय को गद्दी छोड़नी पड़ी। वह हॉलैंड भाग गया। वीमर गणराज्य जर्मनी में स्थापित किया गया था।

नई सरकार ने 11 नवंबर 1918 को युद्धविराम की घोषणा पर हस्ताक्षर किए। इसके साथ ही विनाशकारी प्रथम विश्व युद्ध समाप्त हो गया।

प्रथम विश्व युद्ध की विशेषताएं-

1914-18 के युद्ध को कई कारणों से प्रथम विश्व युद्ध कहा जाता है। इसकी प्रमुख विशेषताएँ निम्नलिखित थीं-

यह पहला युद्ध था जिसमें विश्व के लगभग सभी शक्तिशाली राष्ट्रों ने भाग लिया था। यह यूरोप तक ही सीमित नहीं था बल्कि एशिया, अफ्रीका और सुदूर पूर्व में भी लड़ा गया था। यह पहली बार इतना व्यापक युद्ध था। इसलिए 1914-18 के युद्ध को प्रथम विश्व युद्ध कहा गया।

यह युद्ध जमीन के अलावा आसमान और समुद्र में भी लड़ा गया था।

इस युद्ध में नए घातक और विनाशकारी हथियारों और युद्ध के अन्य साधनों का इस्तेमाल किया गया। इसमें पहली बार मशीनगनों और तरल आग का इस्तेमाल किया गया, बमबारी के लिए हवाई जहाजों का इस्तेमाल किया गया, इंग्लैंड में टैंकों और जर्मनी में बड़े पैमाने पर यू-बोट पनडुब्बी का इस्तेमाल किया गया।

प्रथम विश्वयुद्ध में सैनिकों के अतिरिक्त आम लोगों ने भी सहायक सेना के रूप में युद्ध में भाग लिया।

इस युद्ध में इतने बड़े पैमाने पर सैनिक और नागरिक मारे गए थे कि इससे पहले के किसी भी युद्ध में ऐसा नहीं हुआ था।

इस युद्ध में यह स्पष्ट दिखा दिया गया कि वैज्ञानिक अविष्कारों का दुरुपयोग मानवता के लिए घातक हो सकता है।

इस प्रकार प्रथम विश्वयुद्ध को विश्व इतिहास की युगान्तरकारी घटना माना जा सकता है।

पेरिस शांति सम्मेलन

  • इसमें गुप्त संधियों को समाप्त करना शामिल है,
  • समुद्र की स्वतंत्रता बनाए रखना,
  • आर्थिक प्रतिबंधों को हटाना,
  • आयुध कम करना,
  • शांति की स्थापना के लिए विभिन्न राष्ट्रों का एक संगठन बनाना,
  • रूसी क्षेत्र को मुक्त करने के लिए फ्रांस को अल्सेस-लोरेन देना,
  • सर्बिया को समुद्र तक पहुँच प्रदान करना,
  • तुर्की साम्राज्य के गैर-तुर्कों को स्वशासन का अधिकार देना,
  • स्वतंत्र पोलैंड बनाने जैसे सुझाव दिए गए।

सेंट जर्मेन की संधि

1919 तक, ऑस्ट्रिया को अपना औद्योगिक क्षेत्र बोहेमिया और मोराविया चेकोस्लोवाकिया को और बोस्निया और हर्ज़ेगोविना सर्बिया को देना पड़ा। इसके साथ ही मोंटेनेग्रो का विलय कर स्लोवाकिया बना दिया गया। पोलैंड का पुनर्गठन किया गया। ऑस्ट्रिया का कुछ क्षेत्र इटली को भी दे दिया गया।

1920 में ट्रायोन की संधि के अनुसार स्लोवाकिया और रूथेनिया चेकोस्लोवाकिया को दे दिए गए। यूगोस्लाविया और रोमानिया को भी कई क्षेत्र दिए गए। इन सन्धियों के फलस्वरूप आस्ट्रिया-हंगरी की राजनीतिक एवं आर्थिक स्थितियाँ अत्यंत कमजोर हो गयीं।

1919 की निउली की संधि ने बुल्गारिया के कई क्षेत्रों को ग्रीस, यूगोस्लाविया और रोमानिया को दे दिया।

1920 में सेव्रेस की संधि द्वारा तुर्क साम्राज्य को भंग कर दिया गया था। इसके कई क्षेत्र ग्रीस और इटली को दे दिए गए थे। ब्रिटिश जनादेश के तहत फ्रांस को सीरिया और फिलिस्तीन, इराक और ट्रांसजॉर्डन दिया गया था। इससे तुर्की में विद्रोह की ज्वाला भड़क उठी। इन सभी संधियों में सबसे व्यापक और प्रभावशाली 1919 में जर्मनी के साथ वर्साय की संधि थी।

वर्साय की संधि

इस सन्धि में 440 धाराएँ थीं। इसने जर्मनी को राजनीतिक, सैन्य और आर्थिक दृष्टिकोण से पंगु बना दिया। सन्धि के प्रमुख प्रावधान इस प्रकार थे-

युद्ध के दोषी के रूप में जर्मनी और उसके सहयोगियों की कड़ी निंदा की गई। साथ ही, जर्मनी को युद्ध में मित्र राष्ट्रों को हुए नुकसान की भरपाई के लिए मजबूर होना पड़ा।

1870 में, जर्मनी द्वारा जीते गए अल्सेस और लोरेन प्रांतों को फ्रांस को वापस दे दिया गया। इसके अलावा जर्मनी का वह पूरा क्षेत्र जो लोहे और कोयले की खदानों से भरा हुआ था, 15 वर्षों के लिए फ्रांस को दे दिया गया।

जर्मनी की पूर्वी सीमा का अधिकांश भाग पोलैंड को दे दिया गया। पोलैण्ड को समुद्री तट तक पहुँचाने के लिए जर्मनी के मध्य का एक विस्तृत भूभाग निकालकर पोलैण्ड को दे दिया गया। इस इलाके को पुलिस कॉरिडोर कहा जाता था।

डेजिंग और मेमेल बंदरगाहों को राष्ट्र संघ को सौंप दिया गया। कुल मिलाकर, जर्मनी ने अपने 13 प्रतिशत क्षेत्र और 10 प्रतिशत आबादी खो दी।

जर्मनी के निरस्त्रीकरण की व्यवस्था की गई। जर्मन सेना की अधिकतम सीमा एक लाख निर्धारित की गई। युद्ध उपयोगी वस्तुओं के उत्पादन पर प्रतिबंध लगा दिया गया।

जर्मनी के सभी नौसैनिक जहाजों को जब्त करके उसे केवल छह युद्धपोत रखने का अधिकार दिया गया। पनडुब्बियों और विमानों के कब्जे पर भी प्रतिबंध लगा दिया गया था।

राइन नदी के बाएं किनारे पर 31 मील की भूमि को पूरी तरह से असैन्यकृत कर दिया गया और मित्र राष्ट्रों को 15 वर्षों के लिए दे दिया गया।

मित्र राष्ट्रों ने जर्मनी के सभी उपनिवेशों को आपस में बाँट लिया। दक्षिण पश्चिम अफ्रीका और पूर्वी अफ्रीका के उपनिवेश इंग्लैंड, बेल्जियम, पुर्तगाल और दक्षिण अफ्रीका को दे दिए गए। टोगोलैंड और कैमरून पर फ्रांस ने कब्जा कर लिया था। जापान को प्रशांत महासागर क्षेत्र और चीन का जर्मन अधिकृत क्षेत्र मिला।

वर्साय की संधि जर्मनी के लिए अत्यंत कठोर और अपमानजनक थी। इसकी शर्तें एक विजित राष्ट्र पर विजित राष्ट्रों द्वारा जबरदस्ती और धमकियों द्वारा थोपी गई थीं। जर्मनी ने मजबूरी में इसे स्वीकार कर लिया, उसने इस सन्धि को अन्यायपूर्ण बताया और जर्मनी को सन्धि पर हस्ताक्षर करने के लिए विवश होना पड़ा। चूंकि उन्होंने इसे स्वेच्छा से कभी स्वीकार नहीं किया।

इसलिए वर्साय की संधि को आरोपित संधि कहा जाता है, जर्मन नागरिक इसे कभी स्वीकार नहीं कर सके। जर्मनी में इस सन्धि के विरुद्ध प्रबल जनमत था।

वर्साय की संधि के विरुद्ध जनमत को अपने पक्ष में मोड़कर हिटलर और नाजी दल ने सत्ता हथिया ली। सत्ता में आते ही उसने संधि की व्यवस्था को नकार कर अपनी शक्ति बढ़ानी शुरू कर दी, जिसका परिणाम द्वितीय विश्व युद्ध हुआ, इसलिए कहा जाता है कि द्वितीय विश्व युद्ध के बीज वर्साय की संधि में निहित थे।

प्रथम विश्व युद्ध के परिणाम

परिणामों की दृष्टि से प्रथम विश्वयुद्ध को विश्व इतिहास में एक महत्वपूर्ण मोड़ माना गया है। इसके कई तात्कालिक और दूरगामी परिणाम हुए। इस युद्ध का प्रभाव राजनीतिक, सैन्य, सामाजिक और आर्थिक था।

राजनीतिक परिणाम

साम्राज्य का अंत

प्रथम विश्व युद्ध में केंद्रीय शक्तियों के साथ भाग लेने वाले महान साम्राज्य युद्ध के बाद ध्वस्त हो गए।

पेरिस शांति सम्मेलन के परिणामस्वरूप, ऑस्ट्रो-हंगेरियन साम्राज्य बिखर गया।

जर्मनी में होहेनज़ोलर्न और ऑस्ट्रिया-हंगरी में हाप्सबर्ग राजवंश का शासन समाप्त हो गया। वहां गणतंत्र की स्थापना हुई।

इसी प्रकार 1917 में हुई रूसी क्रांति के फलस्वरूप रूस में रोमानोव राजवंश की सत्ता समाप्त हो गई और गणतंत्र की स्थापना हुई।

तुर्की का ऑटोमन साम्राज्य भी समाप्त हो गया और इसका अधिकांश भाग यूनान और इटली को दे दिया गया।

दुनिया का नक्शा बदलें

प्रथम विश्व युद्ध के बाद दुनिया का नक्शा बदल गया। साम्राज्यों के विघटन के साथ, पोलैंड, चेकोस्लोवाकिया और यूगोस्लाविया जैसे नए राष्ट्रों का उदय हुआ।

ऑस्ट्रिया, जर्मनी, फ्रांस और रूस की सीमाएं बदल गईं।

बाल्टिक राज्य रूसी साम्राज्य से स्वतंत्र हो गए।

मित्र राष्ट्रों द्वारा एशियाई और अफ्रीकी उपनिवेशों पर कब्जे के कारण वहां भी स्थिति बदल गई। इसी प्रकार जापान को भी अनेक नए प्रदेश मिले। इराक को ब्रिटिश और सीरिया को फ्रांसीसी संरक्षण में रखा गया था।

फिलिस्तीन इंग्लैंड को दे दिया गया।

सोवियत संघ का उदय

प्रथम विश्व युद्ध के दौरान 1917 में रूस में बोल्शेविक क्रांति हुई। इसके परिणामस्वरूप रूसी साम्राज्य के स्थान पर सोवियत संघ का उदय हुआ। जारशाही का स्थान समाजवादी सरकार ने ले लिया।

उपनिवेशों में गृहयुद्ध के दौरान, मित्र राष्ट्रों ने घोषणा की कि अंतिम निर्णय के सिद्धांत को युद्ध के अंत में लागू किया जाएगा। इससे अनेक उपनिवेशों तथा आश्रित देशों में स्वतंत्रता प्राप्ति की भावना प्रबल हुई। प्रत्येक उपनिवेश में राष्ट्रवादी आंदोलन शुरू हो गए।

भारत में भी स्वतंत्रता संग्राम का निर्णायक दौर 1917 में महात्मा गांधी के नेतृत्व में शुरू हुआ।

विश्व राजनीति पर यूरोप के प्रभाव को कमजोर करना

युद्ध से पहले यूरोप की विश्व राजनीति में अग्रणी भूमिका थी। विश्व राजनीति जर्मनी, फ्रांस, इंग्लैंड और रूस के इर्द-गिर्द घूमती थी। लेकिन 1918 के बाद यह स्थिति बदल गई और युद्ध के बाद की अवधि में अमेरिका का प्रभुत्व बढ़ गया।

अधिनायकवाद का उदय

प्रथम विश्व युद्ध के परिणामस्वरूप अधिनायकवाद का उदय हुआ।
हिटलर और उसकी नाजी पार्टी ने वर्साय की संधि का सहारा लेकर जर्मनी में सत्ता हथिया ली।

नाज़ीवाद ने एक नया राजनीतिक दर्शन दिया, जिसके कारण सारी शक्ति एक शक्तिशाली नेता के हाथों में केंद्रित हो गई।

जर्मनी की तरह इटली में भी मुसोलिनी के नेतृत्व में फासीवाद का उदय हुआ। पेरिस सम्मेलन से इटली भी असंतुष्ट था। अतः मित्र राष्ट्रों के प्रति इटली की कटुता बढ़ गई। हिटलर के सामान में भी और मुसोलिनी के हाथों में भी उसने सारी सत्ता केंद्रित कर दी।

द्वितीय विश्व युद्ध के बीज रोपण

प्रथम विश्व युद्ध ने द्वितीय विश्व युद्ध के बीज भी बोए। पराजित राष्ट्रों के साथ जैसा व्यवहार किया गया, वे स्वयं को अपमानित समझने लगे। उन राष्ट्रों में फिर उग्र राष्ट्रवाद प्रभावी हो गया और प्रत्येक राष्ट्र ने एक बार फिर संगठित होकर अपनी शक्ति बढ़ानी शुरू कर दी, एक-एक करके संधि की शर्तें जोड़ी गईं। इससे विश्व एक बार फिर बारूद के ढेर पर बैठ गया, उसका अंतिम परिणाम द्वितीय विश्व युद्ध था।

विश्व शांति स्थापित करने का पहला प्रयास

सैन्य परिणाम

पराजित राष्ट्र की सैन्य शक्ति को कमजोर करने के लिए पेरिस सम्मेलन में निरस्त्रीकरण की व्यवस्था की गई। इस नीति का सबसे बड़ा शिकार जर्मनी हुआ। विजित राष्ट्रों ने अपनी सैन्य शक्ति में वृद्धि करनी प्रारम्भ कर दी जिससे पराजित राष्ट्रों में भय की भावना उत्पन्न हो गई। अतः वे भी अपने को शक्तिशाली बनाने का प्रयत्न करने लगे, जिससे शस्त्रों की होड़ प्रारम्भ हो गई, जिसका विश्व शान्ति पर बुरा प्रभाव पड़ा।

वित्तीय परिणाम

जनता के पैसे का भारी नुकसान

प्रथम विश्व युद्ध एक विनाशकारी युद्ध था। इसमें लाखों लोग मारे गए थे। अरबों की संपत्ति का नुकसान हुआ। इसका सामाजिक आर्थिक व्यवस्था पर बुरा प्रभाव पड़ा। कल हजारों कारखाने बंद हो गए। कृषि उद्योग और व्यापार लगभग नष्ट हो गए। बेरोजगारी और भुखमरी की समस्या उत्पन्न हो गई।

आर्थिक संकट

प्रथम विश्व युद्ध ने दुनिया में आर्थिक संकट पैदा कर दिया। वस्तुओं की कीमतों में वृद्धि हुई और मुद्रा की स्थिति की समस्या उत्पन्न हुई। इसके परिणामस्वरूप पूरी दुनिया में आर्थिक अराजकता फैल गई और कर्ज बढ़ने के कारण लोगों पर कर का बोझ बढ़ गया।

सरकार की आर्थिक नीतियों में परिवर्तन

सामाजिक परिणाम

नस्ल समानता

युध्द से पूर्व यूरोपियन नस्लवाद या काले और गोरे के बीच भेदभाव पर अधिक बल देते थे। वह एशिया और अफ्रीका के अश्वेत लोगों को अपना मानता था। लेकिन युद्ध में उनकी वीरता को देखकर उन्हें अपनी धारणा बदलनी पड़ी। धीरे-धीरे काले और गोरे का फर्क कम होने लगा।

जनसंख्या का नुकसान

महिलाओं की स्थिति में सुधार

मजदूरों की स्थिति में सुधार

सामाजिक मानदंडों में परिवर्तन

वैज्ञानिक प्रगति

इस प्रकार यह कहा जा सकता है कि प्रथम विश्वयुद्ध के कुछ सुखद परिणाम हुए, परन्तु अधिकांश परिणाम दुखदायी थे।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *