|

Solar Eclipse October 2022: जानिए धार्मिक और वैज्ञानिक कारण, क्यों होते हैं सूर्य ग्रहण।

Solar Eclipse October 2022: जानिए धार्मिक और वैज्ञानिक कारण, क्यों होते हैं सूर्य ग्रहण।
image-pixabay

Solar Eclipse October 2022: जानिए धार्मिक और वैज्ञानिक कारण, क्यों होते हैं सूर्य ग्रहण।

  • 18 साल और 18 दिनों की अवधि में 41 सूर्य ग्रहण और 29 चंद्र ग्रहण हैं।
  • खगोलविदों के अनुसार एक वर्ष में अधिकतम पांच सूर्य ग्रहण और 2 चंद्र ग्रहण हो सकते हैं।

25 अक्टूबर 2022 को सूर्य ग्रहण: भारत हो या कोई अन्य देश, ग्रहण को लेकर सभी देशों में समान उत्सुकता देखी जा रही है। कई बड़े वैज्ञानिक ग्रहणों (सूर्य ग्रहण और चंद्र ग्रहण) पर शोध करते हैं और इसे एक अवसर के रूप में देखते हैं। सूर्य और चंद्रमा पर ग्रहण देखने के लिए लोग कई तरह के सोलर ग्लास और सोलर फिल्टर का इस्तेमाल करते हैं, जिससे आंखों पर इसका कोई साइड इफेक्ट न हो।

भारत समेत दुनिया में कई ऐसे लोग हैं जो इस खगोलीय घटना को देखने के लिए बेताब हैं। वहीं भारतीय ज्योतिष और प्राचीन परंपरा के अनुसार ग्रहण देखना शुभ नहीं माना जाता है, खासकर गर्भवती महिलाओं के लिए जिन्हें ग्रहण का विशेष ध्यान रखने की सलाह दी जाती है।

भारत में ग्रहण के दौरान कई ऐसे काम होते हैं जिन्हें करने से मना किया जाता है। आपकी शंकाओं के समाधान के लिए हम ज्योतिषी पंडित हितेंद्र कुमार शर्मा से जानेंगे कि ग्रहण क्यों होता है और इस समय क्या सावधानियां बरतनी चाहिए।

जानिए क्यों होता है सूर्य ग्रहण?

हिंदू धर्म में ग्रहण को लेकर कई मान्यताएं और किंवदंतियां हैं। पौराणिक हिंदू शास्त्रों, वेदों, पुराणों और शास्त्रों के अनुसार सूर्य या चंद्रमा पर लगने वाले ग्रहण का संबंध राहु और केतु ग्रह से है। हालांकि यह एक दिलचस्प तथ्य है कि ज्योतिष में राहु और केतु को ग्रह नहीं माना गया है।

पौराणिक धार्मिक मान्यताओं के अनुसार देवी काल में जब देवताओं को अमृत पिलाया गया था और राक्षसों को वरुणी अर्पित की गई थी, तब राक्षस राहु को इस बात का पता चला था। तब राक्षस राहु देवताओं की पंक्ति में छिप गया और अमृत पिया और यह सब सूर्य और चंद्रमा ने देखा। तब से यह माना जाता है कि राहु कुछ समय के लिए सूर्य और चंद्रमा को निगल जाता है। इसे सूर्य ग्रहण और चंद्र ग्रहण कहते हैं। लेकिन इसे वैज्ञानिक रूप से स्वीकार नहीं किया गया है। यह केवल भारतीय पौराणिक ग्रंथों की कथा है।

ग्रहण के लिए वैज्ञानिक दृष्टिकोण

वैज्ञानिक दृष्टिकोण से ग्रहण का घटित होना महज एक खगोलीय घटना है। विज्ञान के अनुसार जब चंद्रमा पृथ्वी और सूर्य के बीच से गुजरता है। फिर पृथ्वी से देखने पर सूर्य पूरी तरह या आंशिक रूप से चंद्रमा से ढक जाता है। सीधे शब्दों में समझा जाए तो जब चंद्रमा सूर्य और पृथ्वी के बीच आ जाता है तो चंद्रमा के पीछे सूर्य की छवि कुछ समय के लिए ढक जाती है, इस घटना को सूर्य ग्रहण कहते हैं।

खगोल विज्ञान के वैज्ञानिकों के अनुसार, 18 वर्ष और 18 दिनों की अवधि में 41 सूर्य ग्रहण और 29 चंद्र ग्रहण होते हैं।

खगोलविदों के अनुसार एक वर्ष में अधिकतम पांच सूर्य ग्रहण और 2 चंद्र ग्रहण हो सकते हैं।

खगोलविदों का मानना ​​है कि साल में दो ही सूर्य ग्रहण होने चाहिए, लेकिन अगर साल में दो ही ग्रहण हों तो दोनों ही सूर्य ग्रहण होंगे, लेकिन एक साल में सात ग्रहण हो सकते हैं।

मानव इतिहास में एक वर्ष में 4 से अधिक ग्रहण शायद ही कभी देखे गए हों। प्रत्येक ग्रहण 18 वर्ष 11 दिन बीतने के बाद फिर से होता है।

ज्यादातर ऐसा देखा गया है कि चंद्र ग्रहण सूर्य ग्रहण की तुलना में पूरे साल अधिक होते हैं।

अधिक दिखाई देने वाले चंद्र ग्रहण का कारण पृथ्वी के आधे से अधिक भाग में इसकी दृश्यता है। जबकि सूर्य ग्रहण पृथ्वी के बहुत कम हिस्सों में दिखाई देता है।

सूर्य ग्रहण के दौरान बरती जाने वाली सावधानियां

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार ग्रहण काल ​​में भोजन बनाने और खाने से बचना चाहिए। ग्रहण के बाद नया भोजन बनाना चाहिए। हो सके तो ग्रहण के बाद घर में रखे सभी जल को बदल दें। ऐसा माना जाता है कि ग्रहण के बाद जल दूषित हो जाता है। इसलिए ग्रहण काल ​​में रखा हुआ जल या भोजन नहीं करना चाहिए। कहा जाता है कि अगर यह सावधानी बरती जाए तो ग्रहण का कोई दुष्प्रभाव नहीं होता है।

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार अगर खाना बन रहा है और ग्रहण लगने वाला है तो उसमें तुलसी के पत्ते या कुश डाल दें। ऐसा माना जाता है कि ऐसा करने से ग्रहण पर कोई बुरा प्रभाव नहीं पड़ता है। ज्योतिषियों के अनुसार ग्रहण काल ​​के 12 घंटे पहले और 12 घंटे बाद को सूतक काल माना जाता है। इस दौरान खाने-पीने से बचना चाहिए। हालांकि, बूढ़े, बच्चे, बीमार और गर्भवती महिलाएं ग्रहण से चार घंटे पहले तक भोजन कर सकती हैं। यदि आवश्यक हो, तो उन्हें ग्रहण काल ​​में भी भोजन करने की अनुमति है। जब भी सूर्य ग्रहण समाप्त हो जाए तो उसकी शुद्ध छवि देखकर ही भोजन करना चाहिए।

ग्रहण देखने से बचें

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार ग्रहण काल ​​में भी घर से बाहर निकलने से बचना चाहिए। इसके अलावा ग्रहण देखने से भी बचना चाहिए। ऐसा कहा जाता है कि सूर्य ग्रहण और चंद्र ग्रहण के दौरान सूर्य और चंद्रमा संकट में होते हैं। इसलिए ग्रहण के समय इनसे बचना चाहिए। इसके अलावा ग्रहण के दौरान संभोग, ब्रश करना, तेल लगाना और ताला खोलना जैसी गतिविधियों से बचना चाहिए। नहीं तो इसके दुष्परिणाम होते हैं और कई तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ता है।

यह करना न भूलें

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार किसी को धोखा देना और धोखा देना पाप माना गया है। शास्त्रों में कहा गया है कि जो लोग ग्रहण के समय दूसरों को धोखा देते हैं या धोखा देते हैं, उन्हें अगले जन्म में सर्प योनि के रूप में जन्म लेना होता है। ग्रहण के समय मालिश करवाना भी अशुभ माना जाता है। ऐसा माना जाता है कि इससे कुष्ठ और चर्म रोग होते हैं।

सूर्य ग्रहण के दौरान कभी न खाएं

पारंपरिक मान्यताओं के अनुसार मांसाहारी भोजन से शरीर का तापमान बढ़ जाता है क्योंकि इसमें प्रोटीन की मात्रा अधिक होती है और शरीर के लिए इन्हें पचाना मुश्किल हो जाता है। इसलिए जो लोग पहले से ही बीमार हैं उन्हें ग्रहण के दौरान अंडे और मांस से दूर रहना चाहिए।

इस भोजन के सेवन से मनुष्य को मिलता है नरक

स्कंद पुराण में कहा गया है कि ग्रहण के समय दूसरों का भोजन करने से 12 वर्ष का संचित पुण्य नष्ट हो जाता है। जबकि देवी भागवत पुराण में बताया गया है कि ग्रहण के समय भोजन करने से मनुष्य को जितने वर्ष अन्न खाता है, उतने वर्षों तक अरूणुंड नामक नरक भोगना पड़ता है। ऐसा व्यक्ति जब पृथ्वी पर जन्म लेता है तो उसे पेट के रोग, मसूढ़ों की बीमारी और दांतों की समस्या होती है।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *