अंकिता भंडारी हत्याकांड में गिरफ्तार पुलकित आर्य कौन है ?

अंकिता भंडारी हत्याकांड में गिरफ्तार पुलकित आर्य कौन है ?

Share This Post With Friends

अंकिता भंडारी हत्याकांड में गिरफ्तार पुलकित आर्य कौन है ?– उत्तराखंड के बीजेपी नेता के बेटे के रिजॉर्ट में 19 साल की लड़की की हत्या के बाद पूरा उत्तराखंड सदमे में है. मृत लड़की का शव शनिवार सुबह चिल्ला नहर के पास मिला, शव मिलने के बाद से भारत का यह उत्तरी राज्य जो अपनी प्राकृतिक सुंदरता के लिए विश्वभर में प्रसिद्ध है, में सदमे में है।

अंकिता भंडारी हत्याकांड में गिरफ्तार पुलकित आर्य कौन है ?-

ताजा अपडेट

अंकिता भंडारी हत्याकांड में गिरफ्तार पुलकित आर्य कौन है ?
IMAGE –newsable.asianetnews.

अंकिता भंडारी हत्याकांड में गिरफ्तार पुलकित आर्य कौन है ?

भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी उत्तराखंड ) के एक नेता के बेटे और उत्तराखंड के पौड़ी में एक रिसॉर्ट के दो कर्मचारियों को कथित तौर पर रिसेप्शनिस्ट की हत्या के आरोप में पुलिस द्वारा गिरफ्तार किया गया है। पुलिस ने इस घटना के संबंध में जानकारी देते हुए बताया कि मृतक पिछले कुछ दिनों से लापता थी। इसके अतिरिक्त सरकार ने, एक राजस्व पुलिस उप-निरीक्षक को पीड़िटा के माता-पिता के साथ दुर्व्यवहार करने के आरोप में सस्पैंड कर दिया गया, जब वे अपनी बेटी की गुमशुदगी की रिपोर्ट लिखने थाने पहुंचे थे।

पीड़िता का नाम अंकिता भंडारी (19 वर्षीय) है जो पौड़ी जिले के गंगा भोजपुर रिसॉर्ट में रिसेप्शनिस्ट के तौर पर नौकरी करती थी। घरवालों के अनुसार अंकिता सोमवार से लापता थी। शनिवार सुबह उसका शव चिल्ला रेंज नहर से बरामद किया गया। तीनों आरोपियों में से एक की पहचान पुलकित आर्य के रूप में हुई है, जो यमकेश्वर ब्लॉक में रिसॉर्ट के मालिक हैं, इसके अतिरिक्त दो अन्य आरोपी रिसॉर्ट के मैनेजर सौरभ भास्कर और सहायक प्रबंधक अंकित गुप्ता हैं। तीनों आरोपियों को पुलिस ने गिफ्तार कर लिया और शुक्रवार को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया गया।

पुलकित आर्य कौन है?

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि पुलिस के मुताबिक वनंतरा रिजॉर्ट के मालिक पुलकित आर्य हैं जिसकी पहचान राज्य के पूर्व मंत्री विनोद आर्य के बेटे के रूप में हुई है. एक विश्वस्त सूत्र ने दावा किया कि पुलकित मुख्य रूप से उस समय भी विवाद में शामिल था, भले ही देश महामारी के तहत था। वह उत्तर प्रदेश के एक विवादित और बहुचर्चित नेता अमरमणि त्रिपाठी के साथ उत्तरकाशी के प्रतिबंधित क्षेत्र में पहुंचा था। आपको बता दें कि अमरमणि त्रिपाठी पर एक महिला (मधुमिता शुक्ला) की हत्या का आरोप है और वह हत्या के आरोप में 14 साल से जेल में कैद है।

इस मामले के मुख्य आरोपी पुलकित आर्य का संबंध रसूखदार हस्ती से है और इसका संज्ञान लिया जाना चाहिए कि पुलकित के पिता विनोद आर्य भारतीय जनता पार्टी में एक जाना-माना और प्रमुख नाम हैं। आपकी बता दें कि विनोद आर्य अब भाजपा ओबीसी मोर्चा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी में कार्यरत हैं। उससे पहले वह राज्य मंत्री थे और अब उत्तर प्रदेश के सह-प्रभारी हैं।

उनके दूसरे बेटे अंकित आर्य उत्तराखंड सरकार में राज्य मंत्री हैं। वह अब उत्तराखंड के ओबीसी कल्याण आयोग के उपाध्यक्ष के रूप में कार्य करते हैं।

ताजा अपडेट

उत्तराखंड की चर्चित अंकिता भंडारी हत्याकांड में लगातार नए खुलासे हो रहे हैं. ताजा अपडेट यह है कि डीजीपी अशोक कुमार ने बड़ा खुलासा करते हुए कहा है कि इस मामले में अब तक 3 आरोपियों को गिरफ्तार किया जा चुका है. उन्होंने यह भी कहा कि अंकिता पर गलत करने का दबाव था। डीजीपी ने कहा कि जल्द ही इस मामले में और जानकारी के साथ विस्तृत खुलासा किया जाएगा. पहले खबर आई थी कि पुलिस को अंकिता का शव मिला है।

एसडीआरएफ ने चीला पावर हाउस से अंकिता भंडारी का शव बरामद किया है. इस पूरे मामले पर मीडिया से बात करते हुए उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि 19 वर्षीय अंकिता भंडारी की हत्या के आरोप में भाजपा के एक पूर्व मंत्री के बेटे और तीन अन्य को गिरफ्तार किए जाने के एक दिन बाद पीड़िता का शव बरामद किया गया. चला गया। हो गया है। उन्होंने कहा कि मामले की जांच के लिए विशेष जांच दल (एसआईटी) का गठन किया गया है। इस गंभीर मामले की गहन जांच के आदेश दिए गए हैं। आरोपी के अवैध रूप से बने रिजॉर्ट को बुलडोजर से तोड़ दिया गया है।

अंकिता भंडारी की हत्या क्यों की गई थी?

पुलिस के मुताबिक, पुलकित और अंकिता का रिजॉर्ट में 18 सितंबर की शाम को झगड़ा हुआ था। पुलकित फिर अंकित और सौरभ से कहता है कि अंकिता गुस्से में है और वे इसके बारे में ऋषिकेश जाते हैं। इसके बाद चारों लोग बाइक और स्कूटी पर सवार होकर ऋषिकेश के लिए निकल गए। चारों एम्स ऋषिकेश पहुंचे और वहां से लौटे। उनके लौटने पर पुलकित और अंकिता बैराज चौकी से करीब डेढ़ किलोमीटर दूर चीला रोड पर नहर के किनारे अंधेरे में रहे। वहीं रहकर चारों ने मोमोज खाया और तीनों लड़कों ने शराब पी।

इस सब के बीच अंकिता और पुलकित फिर से झगड़ने लगे। आरोपी ने पुलिस को बताया कि अंकिता अपने साथियों के बीच हमें बदनाम करती थी। अंकिता रिजॉर्ट की हकीकत उजागर करने की धमकी देती है और पुलकित का मोबाइल छीन कर नहर में फेंक देती है। इसके बाद अंकिता ने आरोपित से हाथापाई शुरू कर दी और आरोपी ने उसे नहर में धकेल दिया।


Share This Post With Friends

Leave a Comment

error: Content is protected !!

Discover more from History in Hindi

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading