शीत युद्ध: कारण, स्वरुप, घटनाएं, और विश्व पर प्रभाव | The Cold War

शीत युद्ध: कारण, स्वरुप, घटनाएं, और विश्व पर प्रभाव | The Cold War

Share this Post

अमेरिकी इतिहास का प्रतिनिधित्व करने वाली सदियों की अवधि जब हम पीछे मुड़कर देखते हैं, तो इस देश के प्रमुख युद्धों का प्रतिनिधित्व करने वाले प्रमुख सैन्य संगठनों को बाहर करना आसान है  द्वितीय विश्व युद्ध से लेकर गृहयुद्ध तक, कोरिया से प्रथम विश्व युद्ध तक, अमेरिका कई सैन्य गतिविधियों में शामिल रहा है, और उनमें से कुछ में ही विजयी हुए हैं। लेकिन अमेरिका के इतिहास में सबसे प्रमुख महत्व उस युद्ध का है जो सबसे सबसे लंबे समय तक चलने वाले युद्धों में से एक है जिसे “शीत युद्ध” कहा गया था। 

आज रहने वाले कई अमेरिकियों के लिए, शीत युद्ध दशकों तक जीवन का एक तथ्य था। जिसका कारण शीत युद्ध था यहाँ  कोई युद्ध का मैदान नहीं था, कोई सेना तैनात नहीं की गयी थी, कोई शारीरिक गतिविधि नहीं थी और रिपोर्ट करने के लिए कोई बड़ी व्यस्तता नहीं थी। बल्कि यह संयुक्त राज्य अमेरिका और सोवियत संघ (रूस) के बीच मूक दुश्मनी लम्बी अवधि तक चलने वाला अघोषित युद्ध था, जो द्वितीय विश्व युद्ध के अंत से लेकर 1990 के दशक तक चला था।

शीत युद्ध क्या था

शीत युद्ध संयुक्त राज्य अमेरिका और सोवियत संघ के बीच भू-राजनीतिक तनाव और प्रतिद्वंद्विता का काल था जो 1945 में द्वितीय विश्व युद्ध के अंत से 1991 में सोवियत संघ के पतन तक चला। दो महाशक्तियों के बीच प्रत्यक्ष सैन्य संघर्ष शामिल नहीं होने के बावजूद , शीत युद्ध की विशेषता तीव्र राजनीतिक, आर्थिक और सैन्य प्रतिस्पर्धा के साथ-साथ दोनों पक्षों के बीच अविश्वास और संदेह की व्यापक भावना थी। “कोल्ड” शब्द इस तथ्य को संदर्भित करता है कि कोई प्रत्यक्ष सैन्य संघर्ष नहीं था, बल्कि तनाव और प्रतिद्वंद्विता की एक लंबी अवधि थी जिसने दशकों तक वैश्विक राजनीति और अंतर्राष्ट्रीय संबंधों को आकार दिया।

शीत युद्ध का कारण

शीत युद्ध संयुक्त राज्य अमेरिका और सोवियत संघ के बीच भू-राजनीतिक तनाव का काल था जो 1945 में द्वितीय विश्व युद्ध के अंत से 1991 में सोवियत संघ के पतन तक चला। शीत युद्ध की उत्पत्ति जटिल और बहुआयामी है, लेकिन कुछ मुख्य कारणों में शामिल हैं:

वैचारिक मतभेद: संयुक्त राज्य अमेरिका और सोवियत संघ में मौलिक रूप से भिन्न राजनीतिक और आर्थिक प्रणालियाँ थीं। अमेरिका एक पूंजीवादी लोकतंत्र था, जबकि सोवियत संघ एक साम्यवादी राज्य था। इन विरोधी विचारधाराओं ने दो महाशक्तियों के बीच अविश्वास और संदेह पैदा किया।

सामरिक हित: दुनिया के विभिन्न हिस्सों में अमेरिका और सोवियत संघ दोनों के रणनीतिक हित थे। अमेरिका साम्यवाद के प्रसार को रोकने का इच्छुक था, जबकि सोवियत संघ अपने प्रभाव क्षेत्र का विस्तार करना चाहता था।

परमाणु हथियारों की होड़: अमेरिका और सोवियत संघ दोनों द्वारा परमाणु हथियारों के विकास ने आपसी प्रतिरोध की भावना पैदा की, लेकिन विनाशकारी संघर्ष के जोखिम को भी बढ़ाया।

ऐतिहासिक तनाव: सोवियत संघ और अमेरिका के बीच तनाव और अविश्वास का इतिहास रहा है, जो 1917 में रूसी क्रांति और रूस के बोल्शेविक अधिग्रहण से जुड़ा है।

शीत युद्ध का स्वरूप 

यह एक ऐसा युद्ध था जिसमें किसी प्रकार की सैन्य गतिविधि नहीं थी बल्कि यह एक मूक दुश्मनी थी। विचित्र बात यह थी कि द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान सोवियत संघ और अमेरिका एकसाथ मित्र देशों के विरुद्ध मिल थे और शीत युद्ध का बीज इसी मित्रता से द्वित्य विश्व युद्ध के दौरान ही पनपा। लेकिन “संघर्ष” के बीज उस भयानक युद्ध के अंत में थे।
अमेरिका के पास परमाणु शक्ति थी और यही परमाणु तकनीक  की उपस्थिति के कारण , एक “महाशक्ति” की अवधारणा का जन्म हुआ। यह तब तक तनाव का कारण नहीं था, जब तक कि सोवियत संघ ने स्वयं बम का विकास नहीं किया था और रूस ने लम्बे समय तक शांति से  सैन्य क्षमता को विकसित किया था, अमेरिका और रूस दोनों ही राष्ट्रों ने एक-दूसरे को चेतावनी देने के लिए एक-दूसरे पर इन हथियारों के हजारों प्रशिक्षण किये थे लेकिन वे कभी भी इस हथियारों का प्रयोग एक दूसरे के विरुद्ध नहीं करने की बात पर सहमत थे।

शीत युद्ध कैसे खत्म हुआ

यह लगभग पचास वर्षों तक चलने वाली एक कड़ी प्रतियोगिता थी और दोनों देशों की अर्थव्यवस्थाओं में एक जबरदस्त नाली खुल गयी। दोनों देशों को अपने परमाणु हथियारों के संतुलन को बनाए रखना था, इसलिए न तो दोनों देश अपनी सैन्य शक्ति को कमजोर करना चाहते थे और न ही किसी भी शक्ति को अनुचित लाभ प्राप्त करने देना चाहते थे।
यह एक अजीब तर्क दिया जाता है कि दोनों देशों के पास इतनी बड़ी मात्रा  हथियार यही कि पृथ्वी को दर्जों बार नष्ट किया जा सकता था, लेकिन फिर भी दोनों देशों ने शीत युद्ध के दौरान शांति बांये राखी और पूरे शीत युद्ध के दौरान “समता रखने” पर जोर दिया। 
यह स्पष्ट था कि सोवियत संघ और अमेरिका के बीच कोई लड़ाई कभी भी बर्दाश्त नहीं की जा सकती थी। यदि इस शीत युद्ध के दौरान परमाणु या अन्य सैन्य हथियारों का प्रयोग होता तो पृथ्वी गृह पर जीवन का अंत हो जाता। लेकिन न तो दोनों देश अपने हथियारों काम करने को तैयार थे और न ही एक-दूसरे के साथ शांति प्रक्रिया शुरू करने के लिए तैयार था। इसलिए हथियारों को एक-दूसरे को इंगित करते रहे, दिन-प्रतिदिन, साल-दर-साल, और यह सब चला पचास साल तक। 

 

शीत युद्ध: कारण, स्वरुप, घटनाएं, और विश्व पर प्रभाव  | The Cold War

 

इसलिए इन दोनों देशों ने सीधे युद्ध करने के बजाय, दुनिया भर में छोटे युद्धों के माध्यम से एक-दूसरे के विरुद्ध लड़ाई लड़ी। चीन के साथ मिलकर सोवियत संघ ने वियतनाम में अमेरिका की शर्मनाक पराजय का जश्न मनाया, जिसे संयुक्त राज्य अमेरिका ने सहन किया। लेकिन संयुक्त राज्य अमेरिका ने भी इसका बदला लेने के लिए अफगान मुजाहिदीन पर हमला किया, जिसके कारण अफगानिस्तान में सोवियत संघ की हार हुई जिसने उस देश में अपना प्रभुत्व स्थापित किया हुआ था।
छद्म युद्धों से, अंतरिक्ष की दौड़, और कभी-कभी क्यूबा की मिसाइल संकट जैसी घटनाओं के उतार-चढ़ाव, दशकों तक शीत युद्ध दोनों देशों की इच्छाशक्ति और संकल्प का परीक्षण करता रहा और और दोनों देशों ने एक दूसरे को हानि पहुँचाने का कोई अवसर नहीं गंवाया।

शीत युद्ध का परिणाम

अंत में दोनों देशों की कमजोर होती अर्थव्यवस्थाओं के परिणामस्वरूप 1990 के दशक के प्रारंभ में, विशेष रूप से सोवियत संघ ( रूस ) ने अपनी अर्थव्यवस्था को बचने के लिए इस लम्बे युद्ध को सम्पत करने में ही भलाई समझी। क्योंकि इस तरह के एक महंगे और अनुत्पादक युद्ध को बनाए रखने के तनाव ने सोवियत अर्थव्यवस्था को बर्बादी के कगार पर पहुंचा दिया था और साम्राज्य टूट गया था।
संयुक्त राज्य अमेरिका ने शीत युद्ध को जीत लिया था और सहिष्णुता को स्वीकार करने की जिद को ठुकरा दिया था। यह अमेरिकी भावना के मूल तत्व की बात की जाती है, लेकिन यह एक एक सबक था जिसे सोवियत रूस ने अपनी आपदा का परीक्षण करने के लिए सीखा। उम्मीद है कि कोई अन्य “महाशक्ति” कभी नहीं सोचेगी कि वे इसे फिर से परखने के लिए तैयार हैं।
शीत युद्ध: कारण, स्वरुप, घटनाएं, और विश्व पर प्रभाव  | The Cold War

शीत युद्ध का दुनिया भर में प्रभाव

शीत युद्ध का दुनिया पर गहरा प्रभाव पड़ा, तनाव की अवधि के दौरान और उसके बाद दोनों में। कुछ सबसे महत्वपूर्ण प्रभावों में शामिल हैं:

वैश्विक ध्रुवीकरण: शीत युद्ध के दौरान दुनिया दो वैचारिक खेमों में बंट गई थी, जिसमें एक तरफ अमेरिका और उसके सहयोगी और दूसरी तरफ सोवियत संघ और उसके सहयोगी थे। इस ध्रुवीकरण के अंतर्राष्ट्रीय संबंधों, व्यापार और कूटनीति पर दूरगामी परिणाम हुए।

हथियारों की होड़: शीत युद्ध ने अमेरिका और सोवियत संघ के बीच हथियारों की तीव्र दौड़ को जन्म दिया, जिसमें दोनों पक्ष तेजी से परिष्कृत और शक्तिशाली परमाणु हथियार विकसित कर रहे थे। हथियारों की इस होड़ ने तनाव की एक निरंतर भावना पैदा की और विनाशकारी संघर्ष के जोखिम को बढ़ा दिया।

प्रॉक्सी युद्ध: शीत युद्ध की विशेषता प्रॉक्सी युद्धों की एक श्रृंखला थी, जिसमें अमेरिका और सोवियत संघ ने दुनिया भर के संघर्षों में विरोधी पक्षों का समर्थन किया। इससे कोरिया, वियतनाम और अफगानिस्तान जैसे क्षेत्रों में व्यापक अस्थिरता और संघर्ष हुआ।

अंतरिक्ष की दौड़: शीत युद्ध ने उन्नत अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी विकसित करने के लिए अमेरिका और सोवियत संघ के बीच एक प्रतियोगिता को भी बढ़ावा दिया, जिसके परिणामस्वरूप महत्वपूर्ण तकनीकी प्रगति हुई और अंतत: चंद्रमा पर मानव उतरा।

शीत युद्ध का अंत: 1991 में सोवियत संघ के पतन ने शीत युद्ध की समाप्ति को चिह्नित किया, और इसके महत्वपूर्ण भू-राजनीतिक प्रभाव थे। इसने नए राज्यों के उद्भव, यूरोपीय संघ के विस्तार और वैश्विक शक्ति गतिशीलता के पुनर्गठन का नेतृत्व किया।

कुल मिलाकर, शीत युद्ध का दुनिया पर गहरा प्रभाव पड़ा, जिसने अंतरराष्ट्रीय संबंधों, प्रौद्योगिकी और वैश्विक राजनीति को इस तरह से आकार दिया जो आज भी महसूस किया जाता है।

इस प्रकार शीत युद्ध संयुक्त राज्य अमेरिका और सोवियत संघ रूस के बीच चलने वाला वह युद्ध था जो युद्ध के मैदान पर नहीं बल्कि विश्व के राजनीतिक और आर्थिक मंचों पर लड़ा गया।  दोनों देशों ने एक दूसरे को नीचा दिखने का कोई अवसर नहीं छोड़ा।  राजनितिक और आर्थिक रूप से एक दूसरे को छोट पहुंचाई। 

द्वित्य विश्व युद्ध की समाप्ति के बाद रूस और अमेरिका दोनों ही विश्व के देशों का नेतृत्व करना चाहते थे लेकिन वे दोनों ही द्वित्य विश्व युद्ध में हुए जनसंहार को देख कर सीधे युद्ध करने से घवराते थे इसलिए शीत युद्ध का रास्ता अपनाया। 50 वर्षों तक दोनों देश एकदूसरे को चोट पहुंचाते रहे और अंततः रूस के विघटन के बाद ही यह सम्पत हुआ।

Share this Post

Leave a Comment