अर्थव्यवस्था - History in Hindi

पूंजीवाद | परिभाषा, विशेषताएँ, इतिहास, गुण-दोष और आलोचना

पूंजीवाद, जिसे खुली अर्थव्यवस्था या मुक्त बाजार अर्थव्यवस्था या मुक्त उद्यम अर्थव्यवस्था भी कहा जाता है, या आर्थिक व्यवस्था, सामंतवाद के टूटने के बाद से पश्चिमी दुनिया में प्रमुख है, जिसमें उत्पादन के अधिकांश साधन निजी तौर पर स्वामित्व अथव पूंजीवादियों के हाथ में हैं और उत्पादन निर्देशित होता है और आय बड़े पैमाने पर बाजारों के संचालन के माध्यम से वितरित की जाती है। पूंजीवाद का एक मात्रा उद्देश्य अधिकाधिक लाभ कमाना है।

पूंजीवाद | परिभाषा, विशेषताएँ, इतिहास, गुण-दोष और आलोचना
Image Credit-https://assets.ltkcontent.com/

पूंजीवाद का इतिहास और विकास

यद्यपि एक स्थापित प्रणाली के तौर पर पूंजीवाद का निरंतर विकास केवल 16वीं शताब्दी से हुआ है, पूंजीवादी संस्थानों के पूर्ववृत्त (पूर्व लक्षण) प्राचीन दुनिया में उपस्थित थे, और पूंजीवाद के समृद्ध क्षेत्र बाद के मध्य युग के दौरान यूरोप में मौजूद थे।

पूंजीवाद को समझना

पूंजीवाद की अवधारणा को समझने के लिए, इस आर्थिक प्रणाली के अर्थ और इसकी परिभाषित विशेषताओं को समझना महत्वपूर्ण है। पूंजीवाद आदिम मानव प्रणालियों के बाद आर्थिक विकास के शिखर का प्रतिनिधित्व करता है। सभ्यता के प्रारंभिक चरण से उभरते हुए, पूंजीवाद निजी संपत्ति के विकास का प्रतीक है और आज तक आर्थिक संगठन के सबसे उन्नत रूप के रूप में कार्य करता है।

उत्पत्ति और विकास


आदिम व्यवस्था से पूंजीवाद तक

पूंजीवाद की जड़ें प्रारंभिक मानव समाजों के भीतर निजी संपत्ति के उद्भव में खोजी जा सकती हैं। यह परिवर्तन प्रारंभिक आदिम व्यवस्था के बाद हुआ, जो सभ्यता के विकास में एक महत्वपूर्ण मील का पत्थर साबित हुआ।

गुलामी और सामंतवाद

पूंजीवादी व्यवस्था की उत्पत्ति मालिक-गुलामी से हुई, जैसा कि मार्क्सवाद द्वारा मान्यता प्राप्त है। हालाँकि, इस व्यवस्था में निहित विरोधाभासों ने सामंतवाद को जन्म दिया, जो मुख्य रूप से कृषि और ग्रामीण कुटीर उद्योगों पर आधारित था। आज भी ये तत्व पूंजीवाद के शुद्ध और मिश्रित दोनों रूपों की नींव बने हुए हैं।

राजनीतिक और सामाजिक व्यवस्थाएँ

पूंजीवाद के प्रारंभिक चरण प्रचलित राजनीतिक संरचना के रूप में राजशाही की स्थापना के साथ मेल खाते थे। इसके बाद, सामंती समाज और संस्कृति के साथ-साथ अन्य अधिनायकवादी प्रणालियाँ उभरीं, जिससे परस्पर जुड़ी संस्थाओं का एक जटिल जाल तैयार हुआ।

पूंजीवाद का जन्म किस प्रकार हुआ?

16वीं, 17वीं और 18वीं शताब्दी के दौरान ब्रिटिश कपड़ा व्यवसाय के विकास से पूंजीवाद का विकास हुआ। इस विकास की वह विशेषता जिसने पूंजीवाद को पिछली प्रणालियों से भिन्न रूप में प्रस्तुत किया वह पिरामिड और कैथेड्रल जैसे आर्थिक रूप से अनुत्पादक उद्यमों में निवेश करने के बजाय उत्पादक क्षमता बढ़ाने के लिए संचित पूंजी का उपयोग था। इस विशेषता को कई ऐतिहासिक घटनाओं द्वारा प्रोत्साहित किया गया।

Read more

इंडोनेशिया की अर्थव्यवस्था: कृषि, व्यापार, आयत और निर्यात | Indonesia’s economy

इंडोनेशिया ने 20वीं सदी के मध्य से विश्व अर्थव्यवस्था में एक साधारण सी  भूमिका निभाई है, और इसका महत्व इसके आकार, संसाधनों और भौगोलिक स्थिति की तुलना में काफी कम रहा है। यह देश कच्चे पेट्रोलियम पदार्थ  और प्राकृतिक गैस का एक प्रमुख निर्यातक है। इसके अतिरिक्त, इंडोनेशिया रबर, कॉफी, कोको और ताड़ के तेल … Read more