भारत के मैनचेस्टर के रूप में अहमदाबाद: जानिए कारण

बहुत से लोग आश्चर्य करते हैं कि अहमदाबाद को भारत का मैनचेस्टर क्यों कहा जाता है? अहमदाबाद भारत के सबसे औद्योगिक शहरों में से एक है। मुंबई के साथ, यह भारत के पश्चिमी भाग में सबसे महत्वपूर्ण वाणिज्यिक केंद्र है। यह पहले गुजरात की राजधानी थी, हालांकि यह अभी भी गुजरात उच्च न्यायालय की सीट का दावा करती है।

भारत के मैनचेस्टर के रूप में अहमदाबाद

भारत के मैनचेस्टर के रूप में अहमदाबाद: जानिए कारण

अहमदाबाद साबरमती नदी के तट पर स्थित है। दिलचस्प बात यह है कि अहमदाबाद गुजरात की वर्तमान राजधानी गांधीनगर से सिर्फ 30 किमी दूर स्थित है। अहमदाबाद भारत में कपड़ा मिलों का एक प्रमुख केंद्र है। यह लेख अहमदाबाद को भारत का मैनचेस्टर कहे जाने के कारणों की व्याख्या करता है।

मैनचेस्टर और अहमदाबाद के बीच समानताएं

इंग्लैंड का मैनचेस्टर अपने सूती कपड़ों के लिए पूरी दुनिया में मशहूर है। मैनचेस्टर की जलवायु समशीतोष्ण है जो सूती धागे की कताई के अनुकूल है। इसके अलावा, मैनचेस्टर नदी का पानी, जिसके किनारे मैनचेस्टर स्थित है, सूती धागे को सुखाने के लिए आदर्श है। इसी प्रकार साबरमती नदी का जल सूती धागों को सुखाने के लिए अच्छा होता है। अहमदाबाद और उसके आसपास की जलवायु परिस्थितियाँ सूती धागे को उगाने और कताई के लिए आदर्श हैं।

Also Readराकेश झुनझुनवाला नेट वर्थ, पोर्टफोलियो, बायो, फैमिली, डेथ

अहमदाबाद में बड़ी संख्या में कपड़ा मिलों की उपस्थिति के कारण, सूती वस्त्रों में काम करने वाली कंपनियों के लिए शहर एक पसंदीदा विकल्प बन गया है। कांडला बंदरगाह से अहमदाबाद में कपास का आयात किया जाता है और तैयार कपड़ा उत्पादों को दुनिया के कई देशों में निर्यात किया जाता है।

कपास और श्रम की आसानी से उपलब्धता

अहमदाबाद सूती वस्त्र निर्माण के केंद्र के रूप में विकसित होने का कारण यह है कि यह कपास उगाने वाले क्षेत्र में स्थित है। इसका मतलब यह है कि यहां की कपड़ा मिलों के लिए कच्चा स्टेपल कपास हमेशा उपलब्ध रहता है। कपड़ा व्यापार के फलने-फूलने का एक अन्य कारण आसपास के क्षेत्रों से आने वाले सस्ते कुशल और अकुशल श्रम की आसानी से उपलब्धता है।

अंत में, कपड़ा मिलों को स्थापित करने के लिए आवश्यक धन गुजरात के अमीर व्यापारियों द्वारा प्रदान किया गया। अहमदाबाद भारत के सभी प्रमुख शहरों से जुड़ा हुआ है। इसका मतलब था कि तैयार माल आसानी से देश के सभी भागों और यहाँ तक कि विदेशों तक भी पहुँचाया जा सकता था। बिजली की अच्छी और निरंतर आपूर्ति के साथ, अहमदाबाद का सूती कपड़ा उद्योग जल्द ही बड़े पैमाने पर विकसित हो गया।

कपास और श्रम की आसानी से उपलब्धता

अहमदाबाद सूती वस्त्र निर्माण के केंद्र के रूप में विकसित होने का कारण यह है कि यह कपास उगाने वाले क्षेत्र में स्थित है। इसका मतलब यह है कि यहां की कपड़ा मिलों के लिए कच्चा स्टेपल कपास हमेशा उपलब्ध रहता है। कपड़ा व्यापार के फलने-फूलने का एक अन्य कारण आसपास के क्षेत्रों से आने वाले सस्ते कुशल और अकुशल श्रम की आसानी से उपलब्धता है।

अंत में, कपड़ा मिलों को स्थापित करने के लिए आवश्यक धन गुजरात के अमीर व्यापारियों द्वारा प्रदान किया गया। अहमदाबाद भारत के सभी प्रमुख शहरों से जुड़ा हुआ है। इसका मतलब था कि तैयार माल आसानी से देश के सभी भागों और यहाँ तक कि विदेशों तक भी पहुँचाया जा सकता था। बिजली की अच्छी और निरंतर आपूर्ति के साथ, अहमदाबाद का सूती कपड़ा उद्योग जल्द ही बड़े पैमाने पर विकसित हो गया।https://studyguru.org.in

कपड़ा उद्योग में अहमदाबाद का योगदान

भारत के 7वें सबसे बड़े महानगरीय शहर अहमदाबाद को ‘भारत का मैनचेस्टर’ कहा जाता है। शहर में कपड़ा निर्माण और संबद्ध उद्योगों की लगभग 250 इकाइयाँ हैं।

अहमदाबाद के कपड़ा उद्योग ने 1950 और 60 के दशक में दस लाख से अधिक लोगों को रोजगार दिया था। उस समय, अहमदाबाद में दो-तिहाई औद्योगिक उत्पादन कपड़ा और संबद्ध उद्योगों के माध्यम से प्राप्त किया गया था।

वहीं, ‘राज्य का रेशम शहर’ यानी सूरत कपड़ा उद्योग का सबसे बड़ा केंद्र बन गया है। शहर में साढ़े छह लाख तक पावरलूम हैं, जिनसे चार लाख मीट्रिक टन सूत का उत्पादन होता है।

Also ReadNarendra Modi Biography 2022, आयु, परिवार, पत्नी, जाति, कुल संपत्ति, राजनीतिक यात्रा, विकिपीडिया और अधिक

इस उद्योग से 50,000 करोड़ रुपये के वार्षिक कारोबार के साथ सूरत और उसके आसपास लगभग 450 कपड़ा उत्पादन (रंगाई और छपाई) इकाइयाँ हैं। ये सभी इकाइयां कच्चे कपड़े को अंतिम रूप देती हैं। शहर में प्रतिदिन लगभग 20 मिलियन मीटर कच्चे कपड़े (ग्रे कपड़ा) का उत्पादन होता है।

सिर्फ सूरत का पावरलूम सेक्टर ही 6 लाख लोगों को रोजगार दे रहा है। वहीं प्रोसेसिंग इंडस्ट्री 5 लाख लोगों को रोजगार दे रही है। शहर में करीब 150 थोक बाजार हैं। बता दें कि सूरत राज्य से कपड़ा निर्यात का 40% हिस्सा है।

इसके अलावा कपड़ा व्यापार, इसकी पैकिंग और परिवहन जैसे कामों में भी लाखों लोग जुड़े हुए हैं। राज्य के नगरीय क्षेत्रों में वस्त्र उद्योग का निरन्तर बड़े पैमाने पर विकास हो रहा है।

भारतीय अर्थव्यवस्था में कृषि के बाद कपड़ा उद्योग का सबसे बड़ा योगदान है। गुजरात देश भर में इस उद्योग में अग्रणी राज्य है क्योंकि यह देश में कपड़ा निर्यात का 12% हिस्सा है।

गुजरात का उचित आर्थिक विकास कपड़ा उद्योग पर बहुत अधिक निर्भर है, क्योंकि राज्य के सकल घरेलू उत्पाद का 23% इस क्षेत्र से आता है। बता दें कि गुजरात देश में कपास (कॉटन) के उत्पादन में पहले नंबर पर आता है। यहाँ की 16% उपजाऊ भूमि पर कपास की खेती की जाती है।

Also Readअडानी: कैसे अरबपति के साम्राज्य ने कुछ ही दिनों में $100bn खो दिया

अहमदाबाद और सूरत को गुजरात में कपड़ा उद्योग का बड़ा केंद्र माना जाता है। ये हैं बड़े शहर…

  • अहमदाबाद– कपास
  • सूरत- पॉलिएस्टर
  • कच्छ– हैंड प्रिंटेड
  • जेतपुर– रंगाई और छपाई

राष्ट्रीय आन्दोलन में अहमदाबाद का विशेष योगदान रहा है – गाँधी जी ने पहली बार भूख हड़ताल की

1918 में, अहमदाबाद में एक सूती कपड़ा मिल के मजदूर 21 दिनों के लिए हड़ताल पर चले गए। यह अहमदाबाद मिल हड़ताल के नाम से प्रसिद्ध है। 1917 में चंपारण सत्याग्रह की सफलता के बाद, गांधी ने दूसरे सफल सत्याग्रह, 1918 के अहमदाबाद मिल मजदूरों की हड़ताल का नेतृत्व किया।

1917 में अहमदाबाद में प्लेग फैलने के कारण मिल मजदूरों को प्लेग बोनस दिया गया। 1918 में, मिल मालिकों ने बोनस को समाप्त करने की घोषणा की, जिसका मिल श्रमिकों ने विरोध किया। गांधी ने मामले में हस्तक्षेप किया और मिल मजदूरों को शांतिपूर्ण, अहिंसक हड़ताल पर जाने और 35% बोनस की मांग करने के लिए कहा, लेकिन मजदूर 50% भत्ते की मांग कर रहे थे।

गांधीजी ने मजदूरों के समर्थन में भूख हड़ताल पर जाने का फैसला किया। हड़ताल को देखते हुए मिल मालिक 20 फीसदी भत्ता देने को राजी हो गए। गांधीजी के समर्थन से कार्यकर्ताओं में उत्साह बढ़ा और आंदोलन और सक्रिय हो गया।https://www.historystudy.in/

अंबालाल साराभाई की बहन अनुसुइया बेन ने इस आंदोलन में गांधीजी का साथ दिया और एक दैनिक समाचार पत्र भी प्रकाशित किया। विवश होकर मिल मालिक मजदूरों से समझौता करने को तैयार हो गए। पूरा मामला एक ट्रिब्यूनल को सौंप दिया गया था। पूरे मामले को देखते हुए ट्रिब्यूनल ने मजदूरों को 35 फीसदी भत्ता देने की घोषणा की, जिससे हड़ताल खत्म हो गई.https://www.onlinehistory.in

भारत में गांधीजी का यह दूसरा सफल आंदोलन था। इस आंदोलन में गांधी जी ने पहली बार अनशन (उपवास) किया।

Leave a Comment

 - 
Arabic
 - 
ar
Bengali
 - 
bn
English
 - 
en
French
 - 
fr
German
 - 
de
Hindi
 - 
hi
Indonesian
 - 
id
Portuguese
 - 
pt
Russian
 - 
ru
Spanish
 - 
es