|

क्या आप भी पतंजलि गाय का घी इस्तेमाल करते हैं, तो जान लें ये जरुरी खबर

क्या आप भी पतंजलि गाय का घी इस्तेमाल करते हैं, तो जान लें ये जरुरी खबर-भारत समाचार में प्रकशित एक खबर के मुताबिक पतंजलि गाय का घी का सैम्पल प्रयोगशाला में फेल हो गया है। खबर के मुताबिक जाँच में पतंजलि घी में मिलावट पायी गयी और इसे स्वास्थ्य के लिए बहुत हानिकारक बताया गया है।

क्या आप भी पतंजलि गाय का घी इस्तेमाल करते हैं, तो जान लें ये जरुरी खबर
image credit-Amazon.in

क्या आप भी पतंजलि गाय का घी इस्तेमाल करते हैं, तो जान लें ये जरुरी खबर

उत्तराखंड: भारत सहित विदेशों में भी अपनी पहचान बना चुकी पतंजलि कम्पनी अब एक बहुराष्ट्रीय कंपनी है। मगर पतंजलि गाय का घी प्रयोगशाला की जाँच में फेल हो गया है। पहले यह सैम्पल उत्तरखंड राज्य की लेब में भेजा गया जहां यह मानक पर खरा नहीं उतरा। इसके बाद केन्द्रीय प्रयोगशाला में भी इस घी का सैंपल फेल हो गया। इस जाँच रिपोर्ट के बाद सामने आये नतीजों के बाद टिहरी जनपद के खाद्य संरक्षा और औषधि विभाग ने पतंजलि कम्पनी के विरुद्ध एडीएम कोर्ट में मुक़दमा दायर करने का निर्णय लिया है।

बाबा रामदेव द्वारा स्थापित जानी-पहचानी कम्पनी पतंजलि के गाय के घी का सैंपल खाद्य संरक्षा और औषधि विभाग ने पिछले वर्ष यानि 2021 में दीपावली के त्यौहार के अवसर पर टिहरी जनपद के घनसाली में एक दुकान से सैंपल लिया था। राज्य के खाद्य संरक्षा विभाग ने इस सैंपल को राज्य की प्रयोगशाला में जाँच हेतु भेजा जहाँ यह घी जाँच में मिलावटी पाया गया। इसके बाद खाद्य विभाग ने कंपनी को नोटिस जारी किया, मगर पतंजलि कप्म्पनी ने राज्य प्रोगशाला की रिपोर्ट को गलत बताया।

पतंजलि के रूख को देखते हुए राज्य खाद्य संरक्षा विभाग ने घी का सैंपल केंद्रीय प्रयोगशाला को भेज दिया। केंद्रीय प्रयोगशाला ने भी अपनी जाँच में में पतंजलि के घी को मिलावटी पाया और यह जाँच में फेल हो गया। इसके बाद राज्य खाद्य संरक्षा विभाग ने कम्पनी के विरुद्ध टिहरी के एडीएम कोर्ट में मुकदमा दायर करने का निर्णय लिया है। भारत समाचार में छपी इस खबर के अनुसार खाद्य संरक्षा अभिहित अधिकारी एम एन जोशी ने बताया कि प्रयोगशाला की रिपोर्ट में पतंजलि गाय का घी मिलावटी है और यह मानकों पर खरा नहीं उतरा है और इसे स्वास्थ्य के लिए हानिकारक बताया गया है।

एम एन जोशी इसके आलावा यह भी बताया कि चार धाम यात्रा के दौरान चंबा-धरासू राजमार्ग पर सेलू पानी में संचालित एक होटल से खाने के चावल का सैम्पल भी लिया गया था, यह सैंपल भी जाँच हो गया है, जिसके बाद राज्य खाद्य संरक्षा विभाग ने होटल मालिक को नोटिस भेजा है। उन्होंने बताया है कि इस चावल में तय मानक से अधिक कीटनाशक पाया गया है। उन्होंने जल्द ही होटल स्वामी के विरुद्ध जल्द कार्यवाही की बात कही है।

स्रोत- ‘भारत समाचार’ ( 18/08/2022 )

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *