|

What is Monkey Pox Virus?, Symptoms, Treatment and Prevention – Information in Hindi

मंकी पॉक्स को वायरस लेकर WHO के महानिदेशक ने दी चेतावनी, कुछ देशों को सावधान रहने की सलाह दी .What is Monkey Pox Virus?, Symptoms, Treatment and Prevention – Information in Hindi

What is Monkey Pox Virus?, Symptoms, Treatment and Prevention - Information in Hindi
IMAGE-ISTOCKPHOTO

विश्व स्वास्थ्य संघठन -WHO – विश्वभर में नए वायरस मंकीपॉक्स (MONKEYPOX ) के बढ़ रहे संकट के बीच विश्व स्वास्थ्य संगठन के महानिदेशक अपील की है कि जो देश अब तक इस वायरस के मामले झेल रहे है उनकों सावधानी वरतने की आवश्यकता है। इसके अतिरिक्त उन्होंने इस बात को भी दोहराया कि जिन देशों में यह बीमारी स्थायी नहीं है वहां भी खतरा मौजूद है।

WHO की मंकी पॉक्स के विरुद्ध अपील- मंकी पॉक्स के बढ़ते मामलों के बीच WHO महानिदेशक टेड्रोस एडनॉम घेब्रेयेसस ने इस वायरस से पीड़ित अथवा संक्रमित देशों से इस वायरस को फैलने से रोकने के लिए सभी आवश्यक उपाय करने को कहा है। इस संबंध में उन्होंने ट्वीट भी किया है।

अब तक २९ देशों में सामने आ चुके हैं मामले

What is Monkey Pox Virus?, Symptoms, Treatment and Prevention – Information in Hindi

2022 यू.एस. मंकीपॉक्स के मामले

   सीडीसी मंकीपॉक्स के कई मामलों पर नज़र रख रहा है जो कई देशों में रिपोर्ट किए गए हैं जो आम तौर पर संयुक्त राज्य अमेरिका सहित मंकीपॉक्स की रिपोर्ट नहीं करते हैं।

   सीडीसी अमेरिका में स्वास्थ्य सेवा प्रदाताओं से उन रोगियों के लिए सतर्क रहने का आग्रह कर रहा है, जिन्हें मंकीपॉक्स के अनुरूप दाने वाली बीमारियां हैं।

सीडीसी राज्य और स्थानीय स्वास्थ्य अधिकारियों के साथ काम कर रहा है ताकि उन लोगों की पहचान की जा सके जो उन लोगों के संपर्क में रहे हैं MONKEYPOX के लिए जिन्होंने सकरात्मक टेस्ट ( परीक्षण ) किया है, ताकि ऐसे लोग अपने स्वास्थ्य की ठीक से देखभाल कर पाएं।

मंकीपॉक्स एक दुर्लभ बीमारी है जो मंकीपॉक्स वायरस के संक्रमण के कारण होती है। मंकीपॉक्स वायरस Poxviridae परिवार में ऑर्थोपॉक्सवायरस जीनस से संबंधित है। ऑर्थोपॉक्सवायरस जीनस में वेरियोला वायरस (जो चेचक का कारण बनता है), वैक्सीनिया वायरस ( यह चेचक के लिए जिम्मेदार होता है ) चेचक के टीके में प्रयोग होने वाला वायरस ( वैक्सीनिया वायरस ) और COWPOX वायरस भी इसी श्रेणीं में आते हैं।

मंकी पॉक्स की खोज कब की ग?

1958 में पहली बार मंकी पॉक्स की खोज की गई था, शोधकर्ताओं ने शोध के लिए लाये गए झुण्ड में चेचक के जैसे बीमारी के लक्षण दो बंदरों में पाए, इसीलिए इस वायरस का नाम मंकी पॉक्स रखा गया।

    मंकीपॉक्स का पहला मानव मामला 1970 में डेमोक्रेटिक रिपब्लिक ऑफ कांगो (DRC) में दर्ज किया गया था। ) चेचक को खत्म करने के लिए गहन प्रयास की अवधि के दौरान।

    तब से, कई अन्य मध्य और पश्चिमी अफ्रीकी देशों में लोगों में मंकीपॉक्स की सूचना मिली है: कैमरून, मध्य अफ्रीकी गणराज्य, कोटे डी आइवर, कांगो लोकतांत्रिक गणराज्य, गैबॉन, लाइबेरिया, नाइजीरिया, कांगो गणराज्य और सिएरा लियोन। अधिकांश संक्रमण कांगो लोकतांत्रिक गणराज्य में हैं

अंतर्राष्ट्रीय स्तर मंकी पॉक्स का विस्तार अफ्रीका से बहार जाने का कारण मुख्य रूप से यात्रियों और जानवरों ( आयात किये गए ) से जुड़ा हुआ है। मुख्य तौर पर ऐसे देशों में अमेरिका सहित इजराइल, सिंगापुर और ब्रिटेन में ऐसे मामले पाए गए हैं।

मंकीपॉक्स का प्राकृतिक भंडार अज्ञात है। हालांकि, अफ्रीकी कृन्तकों और गैर-मानव प्राइमेट (जैसे बंदर) वायरस को बंद कर सकते हैं और लोगों को संक्रमित कर सकते हैं।

मंकीपॉक्स के लक्षण

  • मंकीपॉक्स एक दुर्लभ बीमारी है जो मुख्य रूप से मध्य और पश्चिम अफ्रीका के वर्षावन देशों में होती है।
  • मंकी पॉक्स वायरस को हम चेचक की श्रेणीं में रख सकते हैं, इस प्रकार मंकी पॉक्स के लिए मंकी पॉक्स वायरस जिम्मेदार होता है।
  • स्वास्थ्य शोधकर्ताओं ने प्रयोगशाला बंदरों, अफ्रीकी पेड़ गिलहरी, चूहों, चूहों और खरगोशों में वायरल संक्रमण की पहचान की है।
  • मंकीपॉक्स इंसानों में फैल सकता है। शुरुआती लक्षणों में बुखार, सिरदर्द, मांसपेशियों में दर्द, पीठ दर्द, सूजी हुई लिम्फ नोड्स, बेचैनी की एक सामान्य भावना और थकावट शामिल हैं।
  • बुखार के कारण कुछ लक्षण बाद में उभर कर सामने आते हैं , एक या दो दिन में ये स्पष्ट हो जाते है। इन लक्षणों में लाल चकत्ते अथवा धक्के और दाने उभरना शामिल है, जो अक्सर पहले चेहरे पर विकसित होते हैं।
  • मंकीपॉक्स एक संक्रमित जानवर से जानवरों के काटने या जानवर के घावों या शारीरिक तरल पदार्थ के सीधे संपर्क से मनुष्यों में फैल सकता है।
  • यह रोग एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैल सकता है, हालाँकि यह चेचक की तरह संक्रामक नहीं है।
  • मंकीपॉक्स 10% मामलों में घातक हो सकता है।
  • मंकीपॉक्स का फिलहाल कोई इलाज उपलब्ध नहीं है।

मंकीपॉक्स के लक्षण और संकेत

पहले लक्षण जो होते हैं वे गैर-विशिष्ट होते हैं – बुखार, पसीना, अस्वस्थता, और कुछ रोगियों में खांसी, मतली और सांस की तकलीफ हो सकती है। बुखार विकसित होने के लगभग दो से चार दिनों के बाद, चेहरे और छाती पर पपल्स और पस्ट्यूल के साथ एक दाने सबसे अधिक बार विकसित होता है, लेकिन शरीर के अन्य क्षेत्र अंततः प्रभावित हो सकते हैं, जिसमें नाक और मुंह के अंदर श्लेष्म झिल्ली भी शामिल है। ये त्वचा और श्लेष्मा झिल्ली चेचक के घाव अल्सर कर सकते हैं, पपड़ी बन सकते हैं, और फिर लगभग 14-21 दिनों में ठीक होना शुरू हो जाते हैं। इसके अलावा, लिम्फ नोड्स आमतौर पर इस समय के दौरान सूज जाते हैं।

मंकीपॉक्स के लक्षण और संकेत
IMAGE -ISTCOKPHOTO

   चेचक के कुछ घाव परिगलित ( necrotic) हो सकते हैं और वसामय ग्रंथियों (sebaceous glands) को नष्ट कर सकते हैं, अवसाद के रूप में निशान छोड़ सकते हैं, जो कि मंकीपॉक्स के साथ, कुछ सालों में धीरे-धीरे निशान कम हो जायेंगे। चेचक के साथ जो टॉक्सिमिया देखा गया था, वह मंकीपॉक्स के साथ नहीं देखा जाता है।

मंकीपॉक्स क्या है?

मंकीपॉक्स एक दुर्लभ चेचक जैसी बीमारी है जो मुख्य रूप से मध्य और पश्चिम अफ्रीका के वर्षावन देशों में होती है। 1958 में प्रयोगशाला बंदरों में इस बीमारी की खोज की गई थी। अफ्रीका में जानवरों के अध्ययन में बाद में कई अफ्रीकी कृन्तकों में ऑर्थोपॉक्सवायरस संक्रमण के प्रमाण मिले। वायरस को एक अफ्रीकी पेड़ गिलहरी से अलग किया गया है, जो कि प्राकृतिक मेजबान हो सकता है।

    प्रयोगशाला अध्ययनों से पता चला है कि मंकीपॉक्स चूहों, चूहों और खरगोशों को भी संक्रमित कर सकता है। 1970 में, पहली बार मनुष्यों में मंकीपॉक्स की सूचना मिली थी। जून 2003 में, संयुक्त राज्य अमेरिका में प्रेयरी कुत्तों और मनुष्यों में मंकीपॉक्स की सूचना मिली थी।

मंकीपॉक्स का कारण क्या है?

मंकीपॉक्स, मंकीपॉक्स वायरस के कारण होता है, जो वायरस के ऑर्थोपॉक्सवायरस समूह से संबंधित है। वायरस के इस समूह के अन्य सदस्य जो मनुष्यों में संक्रमण का कारण बनते हैं, उनमें वेरियोला (चेचक), वैक्सीनिया (चेचक के टीके के लिए इस्तेमाल किया जाता है), और काउपॉक्स वायरस शामिल हैं।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *