मैत्रेयी पुष्पा, जीवन परिचय, साहित्य, पति, नेट वर्थ

मैत्रेयी पुष्पा, जीवन परिचय, साहित्य, पति, नेट वर्थ

Share This Post With Friends

मैत्रेयी पुष्पा (जन्म 30 नवंबर 1944), एक हिंदी कथा लेखक हैं। हिंदी की एक प्रख्यात लेखिका मैत्रेयी पुष्पा के पास दस उपन्यास और सात लघु कहानी संग्रह हैं, वह महिलाओं से संबंधित समसामयिक मुद्दों पर समाचार पत्रों के लिए भी खूब लिखती हैं, और अपने लेखन में एक प्रश्नात्मक, साहसी और चुनौतीपूर्ण रुख अपनाती हैं। वह, एक लेखक के रूप में अपनी चक, अल्मा कबुतारी, झूला नट और एक आत्मकथात्मक उपन्यास ‘कस्तूरी कुंडल बसे’ के लिए जानी जाती हैं।


मैत्रेयी पुष्पा, जीवन परिचय,

मैत्रेयी पुष्पा अलीगढ़ जिले की 79 वर्षीय भारतीय लेखिका हैं। मैत्रयी के पिता का नाम ‘हीरालाल’ और माता का नाम ‘कस्तूरी’ था। उनका जन्म 30 नवंबर 1944 को अलीगढ़ जिले में हुआ था। डॉ रमेश चंद्र शर्मा से उनका विवाह हुआ था। बड़ी बेटी नम्रता, मझली मोहिता तथा सबसे छोटी सुजाता । मैत्रेयी जी की तीनों बेटियाँ अपने पिता की तरह ही डॉक्टर हैं।

मैत्रेयी पुष्पा हिंदी साहित्य में एक ऐसी लेखिका के तौर पर जानी जाती हैं जिन्होंने अपने साहित्य में रूढ़िवाद और पुरुषवादी वर्चस्व को चुनौती दी है। उनका लेखन न सिर्फ समाज को उसकी हकीकत का आईना दिखाता है बल्कि समाज में रह रहे दबे कुचले वर्गों की आवाज को भी सामने लातीं हैं। मैत्रयी के लेखन में ब्रज और बुंदेल दोनों संस्कृतियों और भाषा की झलक दिखती है। रांगेय राघव और फणीश्वर नाथ ‘रेणु’ के समकक्ष मानी जाने वाली मैत्रयी यथारतवादी लेखिका मानी जाती हैं। 

नाम
मैत्रेयी पुष्पा
जन्म
30 नवंबर 1944
जन्मस्थान
सिकुर्रा गाँव, अलीगढ़
पिता
हीरालाल
माता
कस्तूरी
पति
डॉ रमेश चंद्र शर्मा
बच्चे
बड़ी बेटी नम्रता, मझली मोहिता तथा सबसे छोटी सुजाता
पेशा
हिंदी उपन्यास कथा लेखक
आयु
79 वर्ष 
जाति
ब्राह्मण
धर्म
हिन्दू
नागरिकता
भारतीय
पुरस्कार और सम्मान
प्रेमचंद सम्मान’, ‘हिंदी अकादमी साहित्य सम्मान’, ‘सार्क लिटरेरी पुरस्कार’

मैत्रेयी पुष्पा का साहित्यिक जीवन


मैत्रेयी पुष्पा एक हिंदी कथा लेखक हैं। हिन्दी की एक प्रख्यात लेखिका मैत्रेयी पुष्पा के नाम दस उपन्यास और सात लघु कहानी संग्रह हैं। वह एक लेखक के रूप में अपने चाक,अल्मा कबूतरी, झूला नट और एक आत्मकथात्मक उपन्यास ‘कस्तूरी कुंडल बसे’ के लिए जानी जाती हैं।

Also Read-  William Wordsworth, biography, facts, daffodil,poems in hindi

आजीविका

मैत्रेयी पुष्पा ने साप्ताहिक राष्ट्रीय सहारा में एक नियमित कॉलम लिखने के अलावा लघु कथाओं के सात संग्रह और दस उपन्यास लिखे हैं।

दिल्ली महिला आयोग ( DWC ) की अध्यक्षा पर के लिए दिल्ली सरकार ने मैत्रेयी पुष्पा के नाम का प्रस्ताव रखा।

लेखन शैली

चूंकि वह हिंदी की एकमात्र महिला लेखिका हैं, जिन्होंने ग्रामीण भारत के बारे में लिखने का साहस किया है, उनका लेखन सामंती व्यवस्था के खिलाफ एक निरंतर संघर्ष है जो अभी भी भारतीय गांवों में व्याप्त है। उनके नायक हमेशा नारी की गरिमा को बनाए रखने वाली निडर महिलाएं हैं, जो पुरुष वर्चस्व को झेलती हैं और उसका विरोध करती हैं।

हिंदी की कोई अन्य महिला लेखिका मैत्रेयी से बेहतर ग्रामीण राजनीति और वास्तविकता को नहीं समझती और उसका चित्रण करती है। वह बोल्ड और स्पष्टवादी है। वह अपनी शक्तिशाली मुहावरेदार भाषा और बेहिचक इलाज के लिए जानी जाती हैं।

मैत्रेयी पुष्पा के विषय में राजेंद्र यादव ने कहा है कि ” मैत्रेयी पुष्पा ने अपने लेखन में जिस प्रकार गांव, खेतों खलिहानों के खुले वातावरण से अपने साहित्य का सृजन किया है वह शहर की घुटन भरी ज़िंदगी में एक ताजा हवा के झोंके के समान है, उनसे पहले इस तरह का साहसिक साहित्य लेखन देखने को नहीं मिला है । उन्होंने हमारे किताबी शीर्षक और भाषा दोनों को नई परिभाषाएं दी हैं। आजादी के बाद रंगे राघव और फणीश्वर नाथ ‘रेणु’ के बाद तीसरा नाम मैत्रेयी का होगा जो धूमकेतु की तरह साहित्य के आसमान में फूट पड़ा है।

Also Readहेमा शर्मा उम्र 28, ऊंचाई, पति, नेट वर्थ, जीवनी और बहुत कुछ | Hema Sharma Biography In Hindi

नेट वर्थ 

मैत्रेयी पुष्पा अपने लेखन से लगभग 7 से 9 करोड़ रूपये की आय कर चुकी हैं 

उनका लेखन कार्य

कहानी संग्रह:

  • फाइटर की डायरी
  • समग्र कहानियां अब तक
  • 10 प्रतिनिधि कहानी
  • प्यारी का सपना
  • गोमा हंसती है
  • ललमनियानी
  • चिनहारी

उपन्यास:

  • गुनाह बेगुनाः
  • कहीं इसुरी फागो
  • त्रिया हाथी
  • बेतावा बहती रही
  • इदन्नाम्मम
  • चाक
  • झूला नट
  • अल्मा कबूत्री
  • दृष्टि ( विज़न )
  • आगनपाखी
  • आत्मकथाएँ:
  • गुड़िया भितर गुड़िया
  • कस्तूरी कुंडल बसे 

नाटक:

  • मंदक्रांत
  • टेलीफिल्म:
  • “फैसला” कहानी पर आधारित “वसुमती की चिट्ठी”

नारी विमर्श :

  • खुली खिडकियानी
  • सुनो मालिक सुनो
  • चर्चा हमारा
  • आवाज़
  • तबदील निगाहें

पुरस्कार और सम्मान

पुरस्कार और वर्ष पुरस्कार
2001 सार्क साहित्य पुरस्कार
2003 हंगर प्रोजेक्ट द्वारा सरोजिनी नायडू पुरस्कार
2012 महात्मा गांधी सम्मान
1996 प्रेमचंद सम्मान (इदन्नमम उपन्यास के लिए)
1995 उत्तर प्रदेश साहित्य संस्थान द्वारा प्रेमचंद सम्मान
2011 आगरा विश्वविद्यालय गौरव श्री पुरस्कार
2011 वनमाली सम्मान
2009 सुधा स्मृति सम्मान
2006 मंगला प्रसाद परितोषक
2000 कथकराम सम्मान (इदन्नाम्मम के लिए)
1998 हिंदी अकादमी, दिल्ली द्वारा साहित्यकार सम्मान
1996 वीर सिंह जू देव पुरस्कार (इदन्नाम्मम के लिए)
1995 नंजनगुड्डु तिरुमलम्बा पुरस्कार (इदन्नाम्मम के लिए)
1993 कथा पुरस्कार (“फैसला” कहानी के लिए)
1991 हिंदी अकादमी द्वारा साहित्य कृति सम्मान
 

FAQs

Q-मैत्रेयी पुष्पा का जन्मस्थान क्या है ?

Ans– मैत्रेयी का जन्म 30 नवंबर 1944 को अलीगढ जिले के सिकुर्रा गांव में हुआ था।

Q- मैत्रेयी पुष्पा के माता-पिता कौन थे ?

Ans – मैत्रयी की माता-पिता ‘कस्तूरी’ और ‘हीरालाल’ थे।

Q- मैत्रेयी पुष्पा का प्रथम उपन्यास कौनसा है?

Ans -‘स्मृति दंश’ उनका प्रथम उपन्यास है जो वर्ष 1990 में प्रकाशित हुआ था।

Q- मैत्रेयी पुष्पा के पति कौन हैं?

Ans – डॉ. रमेशचंद्र शर्मा मैत्रयी जी के पति हैं जो पेशे से डॉक्टर हैं।

Home Page Click Here

Share This Post With Friends

Leave a Comment

error: Content is protected !!

Discover more from History in Hindi

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading