साहित्य - History in Hindi

गुप्तकाल में साहित्य का विकास एवं प्रमुख लेखक

Share this Post

गुप्त काल को व्यापक रूप से संस्कृत साहित्य का स्वर्ण युग माना जाता है। इसकी तुलना अक्सर अन्य संस्कृतियों के महत्वपूर्ण कालखंडों से की जाती है, जैसे ग्रीस में पेरीक्लीन काल या ब्रिटिश इतिहास में एलिज़ाबेथ और स्टुअर्ट काल। इस युग में कुछ बेहतरीन कवि पैदा हुए, जिन्हें उनके कार्यों के बारे में जानकारी की उपलब्धता के आधार पर दो श्रेणियों में विभाजित किया गया।

गुप्तकाल में साहित्य का विकास एवं प्रमुख लेखक

गुप्तकाल में साहित्य का विकास


हरिषेण:

महादयनायक ध्रुवभूति के पुत्र हरिषेण ने समुद्रगुप्त के शासनकाल के दौरान महत्वपूर्ण पदों पर कार्य किया। हालाँकि उनके कार्यों के बारे में कोई जानकारी नहीं है, लेकिन हमें “प्रयाग स्तम्भ” लेख से हरिषेण की शैली के बारे में जानकारी मिलती है। स्तंभ लेख में पाए गए छंद कालिदास की शैली से समानता दर्शाते हैं। हरिषेण का संपूर्ण कार्य “चंपू” (गद्य-मिश्रित) शैली का एक अनूठा उदाहरण प्रस्तुत करता है।

शाव (वीरसेन):

शाव, जिन्होंने चंद्रगुप्त विक्रमादित्य के समय में संधिविग्रहिक (अमात्य) के रूप में कार्य किया था, को मुख्य रूप से उदयगिरि गुफा की दीवार पर एक शिलालेख के माध्यम से जाना जाता है। इस शिलालेख से पता चलता है कि शाव व्याकरण, न्याय और राजनीति में पारंगत थे और पाटलिपुत्र में रहते थे।

वत्सभट्टी:

वत्सभट्टी की काव्य शैली की जानकारी मालव संवत के “मंदसौर के स्तंभ” लेख में मिलती है। इस लेख में 44 छंद हैं, जिनमें पहले तीन छंद सूर्य की स्तुति के लिए समर्पित हैं।

Also Read-गुप्त साम्राज्य की प्रशासनिक संरचना: प्रमुख अधिकारियों की भूमिकाएँ और जिम्मेदारियाँ: एक तुलनात्मक विश्लेषण

वसुल:

यशोधर्मन के शासनकाल में वसुला ने “मंदसौर प्रशस्ति” की रचना की। कविता के इस असाधारण अंश में नौ छंद हैं।

ज्ञात कृतियों वाले प्रमुख कवि

कालिदास:

संस्कृत साहित्य के सबसे प्रसिद्ध कवियों में से एक, कालिदास ने महत्वपूर्ण साहित्य कार्यों में योगदान दिया, जिनमें “ऋतुसंहार,” “मेघदूत,” “कुमारसंभव,” और महाकाव्य “रघुवंश” शामिल हैं। उनका नाटक “अभिज्ञान शाकुंतलम” उनकी उत्कृष्ट कृति मानी जाती है। इसके अतिरिक्त, उन्होंने “मालविकाग्निमित्रम्” और “विक्रमोर्वशीयम्” जैसे नाटकों की रचना की।

Also Readसुदर्शन झील का इतिहास: प्राचीन भारत की मानव प्रतिभा, इंजीनियरिंग कौशल का सबूत

भारवि:

भारवि का महाकाव्य “किरातार्जुनियम” महाभारत के वनपर्व पर आधारित है। इसमें 18 सर्ग हैं।

भट्टी:

भट्टी की रचना, “भटिकाव्य”, जिसे “रावणवध” के नाम से भी जाना जाता है, रामायण की कहानी पर आधारित एक कविता है। इसमें 22 सर्ग और 1624 श्लोक हैं।

गुप्त काल-नाटक और नाटककार

गुप्त काल में नाटक के क्षेत्र में भी उल्लेखनीय योगदान देखा गया। इस दौरान कई उल्लेखनीय नाटक और नाटककार उभरे।

Read more

Share this Post

मुगल कालीन इतिहास जानने के साहित्यिक स्रोत-मुगल युग में उर्दू, फारसी और अरबी साहित्य

Share this Post

मुगलों ने इन क्षेत्रों में महत्वपूर्ण योगदान देते हुए वास्तुकला, साहित्य, विज्ञान और प्रशासनिक दक्षता सहित विभिन्न क्षेत्रों में उत्कृष्ट प्रदर्शन किया। मुगल युग साहित्य के उल्लेखनीय उत्कर्ष का गवाह बना। मुगल कालीन इतिहास भारतीय साहित्य के विकास ने चौथी शताब्दी ईस्वी के उत्तरार्ध में एक स्वतंत्र भाषा के रूप में उर्दू के उद्भव को … Read more

Share this Post