मध्यकालीन भारत - History in Hindi

सल्तनत कालीन प्रशासन: केंद्रीय, प्रांतीय, सैन्य व्यवस्था, सुल्तान और ख़लीफ़ा, उलेमा और अमीर, न्याय व्यवस्था

भारत में मुसलमानों के आगमन का प्रभाव समाज, संस्कृति, शासन, और प्रशासन पर पड़ा। प्रथम मुस्लिम शासन गुलाम वंश द्वारा प्रारम्भ किया गया और 1526 तक के मुस्लिम शासन को सल्तनत काल कहा जाता है। इस काल में 5 अलग-अलग वंशों ने शासन किया और एक अलग प्रशासनिक व्यवस्था अपनाई। इनमें एक बात समान थी कि यह वयवस्था इस्लाम के सिद्धांतों पर आधारित थी। इस लेख में हम विस्तृत रूप में ‘सल्तनत कालीन प्रशासन’ के विषय का अध्ययन करेंगें।

सल्तनत कालीन प्रशासन: केंद्रीय, प्रांतीय, सैन्य व्यवस्था, सुल्तान और ख़लीफ़ा, उलेमा और अमीर, न्याय व्यवस्था

सल्तनत कालीन प्रशासन


राज्य की प्रकृति और स्वरूप-

मुस्लिम राज्य सैधान्तिक रूप से एक धर्माधारित या धर्मप्रधान राज्य था। राज्य का सर्वोच्च प्रमुख सुल्तान होता था। ऐसा माना जाता था कि इसे उसके पद और अधिकार ईश्वर ने दिए हैं।

इस्लाम में एक राज्य इस्लामी राज्य, एक ग्रन्थ कुरान, एक धर्म इस्लाम तथा एक जाति मुसलमान की अवधारणा है। मुसलमानों का विश्वास है कि ‘कुरान’ में अल्लाह की जो शिक्षाएं और आदेश संचित है उनमें सभी कालों व सभी देशों के लिए उपयुक्त निर्देश है। इसलिए इस्लामी शासन का संगठन उन्हीं के आधार पर किया गया है।

कुरान के अनुसार सारी दुनिया का वास्तविक मालिक और बादशाह अल्लाह है। अल्लाह की आज्ञा का पालन सभी का पवित्र कर्त्तव्य है। उलेमाओं (इस्लामी ग्रन्थों के व्याख्याकार) के विभिन्न परिस्थितियों और देश में उपस्थित समस्याओं के समाधान के लिए कुरान व हदीश के आधार पर व्यवस्थाएं दी जो शरीयत कहलाया।

वास्तव में इस्लामी कानून शरीयत, कुरान और हदीश पर अधारित है। इस्लाम धर्म के अनुसार शरीयत प्रमुख है। खलीफा तथा शासक उसके अधीन होते हैं। शरीयत के अनुसार कार्य करना उनका प्रमुख कर्त्तव्य होता है। इस दृष्टि से खलीफा और सुल्तान धर्म के प्रधान नहीं बल्कि शरीयत के कानून के अधीन राजनीतिक प्रधान मात्र थे। इनका कर्त्तव्य धर्म के कानून के अनुसार शासन करना था।

दिल्ली सल्तनत को इसके तुर्क अफगान शासकों ने एक इस्लामी राज्य घोषित किया था। वे अपने साथ ऐसे राजनैतिक सिद्धान्त लाए थे जिसमें राज्य के राजनैतिक प्रमुख और धार्मिक प्रमुख में कोई भेद नहीं समझा जाता था।

इस्लाम का राजनैतिक सिद्धान्त तीन प्रमुख आधारों पर स्थापित था –

(1) एक धर्म ग्रन्थ
(2) एक सम्प्रभु
(3) एक राष्ट्र।

एक धर्म ग्रन्थ कुरान था । सम्प्रभु इमाम, नेता तथा खलीफा था और राष्ट्र मिल्लत (मुस्लिम भाईचारा ) था। मुस्लिम राजनैतिक सिद्धान्त की • विशेषता इन तीनों तत्वों की अविभाज्यता थी।

दिल्ली सुल्तानों की नीति पर धर्म का प्रभाव रहा और कम या अधिक मात्रा में इस्लाम धर्म के कानूनों का पालन करना उनका कर्त्तव्य रहा । यद्यपि जब एक बार इल्तुतमिश ने अपने वजीर मुहम्मद जुनैदी से इस्लामिक कानूनों को पूरी तरह से लागू करने को कहा तब उसने उत्तर दिया कि भारत में मुस्लिम समुद्र में बूँद के समान है अतः यहाँ इस्लामिक कानूनों को पूरी लागू करना तथा दारुल हरब (काफिर देश) को दारूल इस्लाम (इस्लामी देश तरह से लागू नहीं किया जा सकता। सुल्तान का आदर्श लोगों को इस्लाम धर्म में में परिवर्तित करना था ।

खलीफा-


खलीफा मुस्लिम जगत का प्रधान होता था। मुहम्मद के बाद प्रारम्भ में चार खलीफा हुए-अबूबक्र, उमर, उस्मानअली। प्रारम्भ में खलीफा का चुनाव होता था किन्तु आगे चलकर खलीफा का पद वंशानुगत हो गया। 661 ई० में उमैय्या वंश खलीफा के पद पर प्रतिष्ठित हुआ। उसका केन्द्र दश्मिक (समिरिया) था।

750 ई० में अब्बासी खलीफा स्थापित हुआ। इसका केन्द्र बगदाद था। 1253 ई० में चंगेज खाँ का पोता हलाकू खाँ ने बगदाद के खलीफा की हत्या कर दी। इस घटना के बाद खलीफा की सत्ता का केन्द्र मिस्र हो गया। अब खलीफा के पद के कई दावेदार हो गये थे, यथा- स्पेन का उम्मैया वंश, मिश्र का फतिमी वंश और बगदाद का अब्बासी वंश प्रारम्भ में एक ही इस्लाम राज्य था।

कालान्तर में जब खलीफा की राजनैतिक सत्ता कमजोर पड़ी तो कुछ क्षेत्रों में ” खलीफा के प्रतिनिधि के रूप में स्वतंत्र शासकों ने सत्ता ग्रहण की व्यवहारिक रूप से ये शासक पूर्णतः स्वतंत्र थे और सार्वभौम सत्ता का उपयोग करते थे किन्तु सैद्धान्तिक रूप से उन्हें खलीफा का प्रतिनिधि माना जाता था। उन्हें खलीफा द्वारा मान्यता प्रदान की जाती थी। ऐसे शासक ‘सुल्तान’ कहे जाते थे। धीरे-धीरे इनका पद वंशानुगत होता गया और इस तरह राजतंत्र का विकास हुआ।

सुल्तान-


सुल्तान शब्द शक्ति अथवा सत्ता का द्योतक है। कभी-कभी खलीफा के प्रान्तीय राज्यपालों के लिए भी इस शब्द का प्रयोग किया जाता था। जब खिलाफत का विघटन शुरू हुआ तो विभिन्न प्रदेशों के स्वतंत्र मुसलमान शासकों ने सुल्तान की उपाधि धारण कर ली।

भारत में मुस्लिम साम्राज्य की नींव शासकों द्वारा सुल्तान की उपाधि धारण करने के साथ प्रारम्भ हुयी दिल्ली के सुल्तानों ने सुल्तान की उपाधि महमूद गजनवी से ग्रहण किया था। महमूद गजनवी पहला स्वतंत्र शासक था जिसने अपने आपको सुल्तान की उपाधि से विभूषित किया। उसने यह उपाधि समारिदों की प्रभुसत्ता से स्वतंत्र होने के उपरान्त धारण की थी।

सुल्तान पूर्णरूप से निरंकुश शासक था सल्तनत की प्रशासनिक संरचना में वह सर्वाधिक प्रतिष्ठित स्थिति में था। वह एक सैनिक निरंकुश शासक था। राज्य की समस्त शक्तियों, कार्यपालिका, विधायी न्यायिक अथवा सैन्य उसके हाथों में केन्द्रित थी। वह एक धुरी था जिसके चारों ओर सल्तनत की समस्त प्रशासनिक संरचना घूमती थी हिन्दू विचारधारा के अनुसार भी राजा मानव रूप में ईश्वर होता है।

Read more

मुगल कालीन इतिहास जानने के साहित्यिक स्रोत-मुगल युग में उर्दू, फारसी और अरबी साहित्य

मुगलों ने इन क्षेत्रों में महत्वपूर्ण योगदान देते हुए वास्तुकला, साहित्य, विज्ञान और प्रशासनिक दक्षता सहित विभिन्न क्षेत्रों में उत्कृष्ट प्रदर्शन किया। मुगल युग साहित्य के उल्लेखनीय उत्कर्ष का गवाह बना। मुगल कालीन इतिहास भारतीय साहित्य के विकास ने चौथी शताब्दी ईस्वी के उत्तरार्ध में एक स्वतंत्र भाषा के रूप में उर्दू के उद्भव को … Read more

बहमनी साम्राज्य (1347-1518)- दक्कन में एक शक्तिशाली इस्लामिक राज्य, संस्थापक, प्रमुख शासक, उदय और पतन, प्रशासनिक व्यवस्था, उपलब्धियां 

बहमनी साम्राज्य, 1347 में स्थापित, एक मुस्लिम साम्राज्य था जो भारत में दिल्ली सल्तनत से उभरा था। शुरुआत में अपनी राजधानी गुलबर्गा में और बाद में बीदर में स्थानांतरित होने के साथ, बहमनी सल्तनत ने दक्कन क्षेत्र के इतिहास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। इसने एक सामंती प्रशासनिक प्रणाली का पालन किया और तरफदारों द्वारा शासित कई प्रांतों को शामिल किया। राज्य के सांस्कृतिक और स्थापत्य प्रभाव इंडो-इस्लामिक और फ़ारसी शैलियों का मिश्रण थे। बहमनी सल्तनत ने इस्लाम के प्रसार, सूफी संतों के संरक्षण और क्षेत्रीय भाषाओं के विकास को आकार देते हुए दक्षिण भारत पर एक स्थायी प्रभाव छोड़ा।

बहमनी साम्राज्य (1347-1518) - दक्कन में एक शक्तिशाली इस्लामिक राज्य, संस्थापक, प्रमुख शासक, उदय और पतन, प्रशासनिक व्यवस्था, उपलब्धियां 

बहमनी साम्राज्य की स्थापना (1347 ई.)-विद्रोह और सत्ता में वृद्धि


बहमनी साम्राज्य की स्थापना 1347 ई. में मुहम्मद बिन तुगलक के शासनकाल के ढलते दिनों के दौरान दक्कन में ‘अमीरन-ए-सदाह’ के नेतृत्व में हुए विद्रोह के परिणामस्वरूप हुई थी। दक्कन के सरदारों ने दक्कन के किले पर कब्जा करने के बाद ‘इस्माइल’ अफगान को दक्खन का राजा घोषित किया, उसका नाम ‘नसीरुद्दीन शाह’ रखा। हालाँकि, इस्माइल अपनी अधिक उम्र और योग्यता की कमी के कारण इस पद के लिए अयोग्य साबित हुआ। नतीजतन, उन्हें एक अधिक सक्षम नेता, हसन गंगू, जिसे ‘जफर खान’ के नाम से जाना जाता है, के पक्ष में गद्दी छोड़ने के लिए मजबूर होना पड़ा।

अलाउद्दीन बहमनशाह – संस्थापक सुल्तान


3 अगस्त, 1347 को जफर खान को ‘अलाउद्दीन बहमनशाह’ के नाम से सुल्तान घोषित किया गया। जबकि उन्होंने ईरान से ‘इसफंडियार’ के वीर पुत्र ‘बहमनशाह’ के वंश का दावा किया था, ऐतिहासिक वृत्तांत, जैसे कि फरिश्ता, संकेत करते हैं कि उन्होंने शुरू में एक ब्राह्मण गंगू की सेवा की थी। अपने पूर्व गुरु का सम्मान करने के लिए, उन्होंने सिंहासन ग्रहण करने पर बहमनशाह की उपाधि धारण की। अलाउद्दीन हसन ने गुलबर्गा को अपनी राजधानी के रूप में स्थापित किया, इसका नाम बदलकर ‘अहसनाबाद’ रखा। उसने साम्राज्य को चार प्रांतों में विभाजित किया: गुलबर्गा, दौलताबाद, बरार और बीदर। अलाउद्दीन बहमनशाह की मृत्यु 4 फरवरी, 1358 को हुई थी।

फिरोज शाह – बहमनी साम्राज्य के सबसे योग्य शासक


अलाउद्दीन बहमनशाह के बाद सिंहासन पर बैठने वाले उत्तराधिकारियों में फिरोज शाह (1307-1422) सबसे योग्य शासक सिद्ध हुआ। उन्होंने अपने शासनकाल के दौरान साम्राज्य के प्रक्षेपवक्र और शासन को आकार देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

फ़िरोज़ शाह बहमनी: बहमनी साम्राज्य का सर्वश्रेष्ठ शासक


उदय और विजयनगर साम्राज्य के साथ संघर्ष

बहमनी साम्राज्य के उदय और 1446 में देवराय द्वितीय की मृत्यु तक की अवधि के दौरान, बहमनी साम्राज्य का विजयनगर साम्राज्य के साथ संघर्षों का मिश्रित इतिहास रहा है। बहमनी साम्राज्य के लिए इन संघर्षों के सकारात्मक और नकारात्मक दोनों परिणाम हुए।

फिरोज शाह बहमनी: सबसे शक्तिशाली शासक

बहमनी साम्राज्य के शासकों में, फिरोज शाह बहमनी सबसे प्रभावशाली और सक्षम नेता के रूप में सामने आए। उनके पास कुरान की व्याख्याओं और न्यायशास्त्र सहित धर्मशास्त्र का व्यापक ज्ञान था। फ़िरोज़ शाह की वनस्पति विज्ञान, प्राकृतिक विज्ञान, रेखीय गणित और तर्क जैसे विभिन्न क्षेत्रों में गहरी रुचि थी। इसके अतिरिक्त, वह एक कुशल मुंशी और कवि थे, जो अक्सर बातचीत के दौरान कविताएँ रचते थे।

बहुभाषी और बहुसांस्कृतिक प्रभाव

फिरोज शाह की भाषाई क्षमता उल्लेखनीय थी। ऐतिहासिक वृत्तांतों के अनुसार, वह न केवल फ़ारसी, अरबी और तुर्की में बल्कि तेलुगु, कन्नड़ और मराठी जैसी क्षेत्रीय भाषाओं में भी कुशल थे। उनकी पत्नियाँ, जो विभिन्न धर्मों और देशों से थीं। उनमें से कई हिंदू पत्नियां थीं, और कहा जाता है कि उन्होंने उनमें से प्रत्येक के साथ अपनी भाषा में बातचीत की, अपने समावेशी और बहुभाषी दृष्टिकोण का प्रदर्शन किया।

फ़िरोज़ शाह बहमनी के शासनकाल ने उनकी बौद्धिक गतिविधियों, भाषाई कौशल और बहमनी साम्राज्य के भीतर एक बहुसांस्कृतिक वातावरण को बढ़ावा देने की क्षमता का प्रदर्शन किया।

Read more

हुमायूं का जीवन और संघर्ष : प्राम्भिक जीवन, विजय और निर्वासन तथा सत्ता की पुनः प्राप्ति

हुमायूँ, जिसे नसीरुद्दीन मुहम्मद हुमायूँ के नाम से भी जाना जाता है, एक प्रसिद्ध मुगल वंश का दूसरा शासक और बाबर का पुत्र था। उनका जन्म 6 मार्च, 1508 ई. को काबुल में बाबर की पत्नी ‘महम बेगम’ के गर्भ से हुआ था। बाबर के चार बेटों में, हुमायूँ सबसे बड़ा था, उसके बाद कामरान, अस्करी और हिन्दाल थे।

बाबर ने हुमायूँ को अपना उत्तराधिकारी नामित किया। 12 वर्ष की अल्पायु में, 1520 ई. में, हुमायूँ को भारत में उसके राज्याभिषेक से पहले ही बदख्शां का राज्यपाल नियुक्त कर दिया गया था। बदख्शां के गवर्नर के रूप में अपने कार्यकाल के दौरान, हुमायूँ ने भारत में बाबर के सभी सैन्य अभियानों में सक्रिय रूप से महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी।

हुमायूं का जीवन और संघर्ष : प्राम्भिक जीवन, विजय और निर्वासन तथा सत्ता की पुनः प्राप्ति

हुमायूँ का प्रारंभिक जीवन | Early Life


हुमायूँ, 6 मार्च, 1508 को अफगानिस्तान के काबुल में पैदा हुए, मुगल साम्राज्य के संस्थापक बाबर और उनकी पत्नी महम बेगम के सबसे बड़े पुत्र थे। वह तैमूरी राजवंश से संबंधित था, जिसकी मध्य एशिया में समृद्ध विरासत थी।

अपने प्रारंभिक वर्षों के दौरान, हुमायूँ ने भविष्य के शासक के अनुरूप व्यापक शिक्षा प्राप्त की। उन्होंने साहित्य, इतिहास, कला, गणित और खगोल विज्ञान सहित विभिन्न विषयों का अध्ययन किया। उनकी शिक्षा में सैन्य प्रशिक्षण भी शामिल था, जो उन्हें सेनाओं का नेतृत्व करने और युद्ध में शामिल होने के लिए आवश्यक कौशल से लैस करता था।

हुमायूं का बचपन उस अशांत राजनीतिक माहौल से प्रभावित हुआ जिसमें उनके पिता ने काम किया। नव स्थापित मुगल साम्राज्य पर अपना शासन स्थापित करने और बनाए रखने में बाबर को कई चुनौतियों का सामना करना पड़ा। नतीजतन, हुमायूँ ने कम उम्र से ही राजनीति और सैन्य रणनीतियों की पेचीदगियों को प्रत्यक्ष रूप से देखा।

1526 में, 18 वर्ष की आयु में, हुमायूँ अपने पिता के साथ पानीपत की लड़ाई में गया, जहाँ बाबर विजयी हुआ और उसने भारत में मुगल साम्राज्य की स्थापना की। इस महत्वपूर्ण क्षण ने हुमायूँ को शासन की कला और एक विशाल साम्राज्य पर शासन करने की जटिलताओं से अवगत कराया।

1530 में बाबर की मृत्यु के बाद, हुमायूँ 22 वर्ष की आयु में सिंहासन पर चढ़ा, दूसरा मुगल सम्राट बना। हालाँकि, शासक के रूप में उनके शुरुआती वर्षों में चुनौतियों और विरोध का सामना करना पड़ा। उन्हें विभिन्न क्षेत्रीय शक्तियों और प्रतिद्वंद्वियों से विद्रोह का सामना करना पड़ा, जिन्होंने उनके अधिकार को कम करने और अपने लिए सत्ता पर कब्जा करने की कोशिश की।

इन बाधाओं के बावजूद, हुमायूँ ने अपने शासन को मजबूत करने के प्रयासों में कूटनीतिक कौशल और सैन्य कौशल का प्रदर्शन किया। उन्होंने एक विशाल और विविध साम्राज्य के शासक के रूप में अपनी स्थिति को सुरक्षित करते हुए, आंतरिक और बाहरी खतरों के खिलाफ अपने साम्राज्य का सफलतापूर्वक बचाव किया।

हुमायूँ के शुरुआती शासनकाल में हमीदा बानू बेगम से उनकी शादी भी हुई, जो बाद में उनके प्रसिद्ध बेटे और उत्तराधिकारी, अकबर महान की माँ बनीं।

हालाँकि, 1540 में हुमायूँ का शासन बाधित हो गया था, जब शेर शाह सूरी, एक प्रमुख अफगान कुलीन, ने उसे कन्नौज की लड़ाई में हरा दिया था। परिणामस्वरूप, हुमायूँ को निर्वासन के लिए मजबूर होना पड़ा, जिसके कारण पंद्रह साल तक संघर्ष और भटकना पड़ा।

अपने निर्वासन के दौरान, हुमायूँ ने कई कठिनाइयों और असफलताओं का सामना किया, लेकिन मूल्यवान अनुभव और सहयोगी भी प्राप्त किए। उसने फारस में शरण ली, जहाँ उसने सफ़विद वंश के साथ गठजोड़ किया और सैन्य सहायता प्राप्त की।

हुमायूँ के प्रारंभिक जीवन में राजसी शिक्षा, सत्ता की पेचीदगियों के संपर्क में आने और एक साम्राज्य पर शासन करने की चुनौतियों का संयोजन था। ये अनुभव उनके चरित्र और नेतृत्व शैली को आकार देंगे क्योंकि उन्होंने अपने सिंहासन को पुनः प्राप्त करने और मुगल साम्राज्य को बहाल करने के लिए एक उल्लेखनीय यात्रा शुरू की थी।

Read more

त्रिपक्षीय संघर्षः कन्नौज पर प्रभुत्व की होड़-कारण, संघर्ष और परिणाम

कन्नौज पर नियंत्रण को लंबे समय से हर्षवर्धन के शासनकाल के दौरान उत्तरी भारत पर प्रभुत्व के प्रतीक के रूप में माना जाता था। हालाँकि, अरब आक्रमण के साथ, भारतीय प्रायद्वीप में तीन प्रमुख शक्तियाँ उभरीं: गुजरात और राजपुताना के गुर्जर-प्रतिहार, दक्कन के राष्ट्रकूट और बंगाल के पाल। लगभग 200 वर्षों के दौरान, इन तीनों … Read more

खिलजी वंश का उदय और विरासत: इतिहास, शासक, विजय, नीतियां और सांस्कृतिक योगदान

खिलजी वंश भारत में मुस्लिम सल्तनत का दूसरा राजवंश था जिसने 1290 से 1320 तक उत्तरी भारत में दिल्ली सल्तनत पर शासन किया था। इसकी स्थापना जलाल-उद-दीन खिलजी द्वारा की गई थी, जो एक कुशल सेनापति था, जिसने दिल्ली सल्तनत के पिछले सुल्तानों के अधीन सेवा की थी।

खिलजी वंश का उदय और विरासत: इतिहास, शासक, विजय, नीतियां और सांस्कृतिक योगदान

खिलजी वंश का उदय

खिलज़ी राजवंश अपने प्रशासनिक और आर्थिक सुधारों के साथ-साथ कला और संस्कृति के संरक्षण के लिए जाना जाता था। खिलजी वंश के सबसे शक्तिशाली शासकों में से एक अलाउद्दीन खिलजी था, जिसने राज्य की सत्ता को केंद्रीकृत करने और अर्थव्यवस्था को विनियमित करने के लिए कई उपाय पेश किए। खलजी वंश ने उत्तरी भारत के इतिहास को आकार देने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई, और इसकी विरासत का आज भी अध्ययन और सराहना की जा रही है।

साम्राज्य खिलजी वंश
समयावधि 1290 से 1320 तक
प्रमुख शासक जलालुद्दीन फिरोज 1290-1296
अलाउद्दीन खिलजी 1296-1316
शिहाबुद्दीन उमर 1316
कुतुबुद्दीन मुबारक 1316-1320
उपलधियाँ वास्तुकला और प्रशासनिक सुधार

खिलजी वंश: दिल्ली सल्तनत का दूसरा शासक वंश

गुलाम साम्राज्य को उखाड़ फेंकने के बाद खिलजी वंश दिल्ली सल्तनत के दूसरे शासक वंश के रूप में उभरा। जलालुद्दीन फ़िरोज़ खिलजी ने राजवंश की स्थापना की, जो लगभग 30 वर्षों (1290-1320) तक चला और इसके शासन के दौरान महत्वपूर्ण परिवर्तन हुए। खिलजी वंश का सबसे प्रभावशाली शासक अलाउद्दीन खिलजी था, जिसने कई सैन्य जीत हासिल की और कई सुधारों को लागू किया। इस लेख में खिलजी वंश से संबंधित सभी आवश्यक विवरणों को शामिल किया गया है, जो यूपीएससी पाठ्यक्रम में मध्यकालीन इतिहास का एक महत्वपूर्ण विषय है।

खलजी वंश का इतिहास: सत्ता में वृद्धि

गुलाम वंश को उखाड़ फेंकने और दिल्ली सल्तनत का दूसरा शासक वंश बनने के बाद खिलजी या खलजी वंश सत्ता में आया। वे तुर्क-अफगान थे जो अफगानिस्तान से भाग गए थे और मुहम्मद गोरी के साथ भारत में खुद को शासकों के रूप में स्थापित कर लिया था। दिल्ली के मामलुक साम्राज्य में खलजी इसके जागीरदार थे, और राजवंश की स्थापना जलालुद्दीन खिलजी ने की थी, जिन्होंने 1290 से 1296 तक शासन किया था।

खलजी युग के दौरान, अफगानों ने तुर्क कुलीनों के साथ सत्ता साझा करना शुरू कर दिया था, जो पहले इसे विशेष रूप से अपने पास रखते थे। राजवंश अपनी सैन्य ताकत के लिए जाना जाता था और दक्षिण भारत की विजय सहित एक सफल शासन था। इसने बार-बार भारत में मंगोल आक्रमणों को भी नाकाम किया। हालांकि, सुल्तान को सलाह देने वाली चालीस सदस्यीय परिषद चहलगानी के अधिकार को अंतिम प्रमुख मामलुक शासक बलबन ने अपने अवज्ञाकारी तुर्की अधिकारियों पर नियंत्रण बनाए रखने की लड़ाई में नष्ट कर दिया था।

खिलजी वंश के संस्थापक: जलाल-उद-दीन फिरोज खिलजी

जलाल-उद-दीन फिरोज खिलजी खिलजी वंश के संस्थापक और नेता थे। वह व्यापक रूप से शांति की वकालत और हिंसा के विरोध के लिए जाने जाते थे, जिससे उन्हें “करुणा जलालुद्दीन” की उपाधि मिली। उसने कारा में मलिक छज्जू के विद्रोह को समाप्त कर दिया। उन्होंने अपने दामाद और भतीजे अलाउद्दीन खिलजी को कारा के राज्यपाल के रूप में प्रस्तावित किया। जलाल-उद-दीन ने भी उन मंगोलों पर सफलतापूर्वक हमला किया और उन्हें हराया जो अभी तक सुनाम तक नहीं पहुंचे थे। हालाँकि, बाद में अलाउद्दीन ने उसके साथ विश्वासघात किया और उसकी हत्या कर दी। फिरोज खिलजी के शांति और अहिंसा पर जोर देने के बावजूद उसकी रणनीति लोगों को पसंद नहीं आई।

खिलजी वंश के शासक

खिलजी राजवंश के संक्षिप्त इतिहास में कई प्रमुख नेताओं ने शासन किया था। जलालुद्दीन फिरोज खिलजी और कुतुब-उद-दीन भारत में राजवंश के क्रमशः पहले और अंतिम शासक थे। खलजी वंश के प्रमुख राजा उनके शासनकाल के वर्षों के साथ निम्नलिखित हैं।

जलालुद्दीन फिरोज खिलजी (1290-1296)

जलालुद्दीन फिरोज खिलजी खिलजी वंश के संस्थापक थे और इसके पहले राजा के रूप में सेवा की। गुलाम वंश को उखाड़ फेंकने के बाद वह दिल्ली का सुल्तान बना। उनके शासनकाल के दौरान महत्वपूर्ण घटनाओं में से एक देवगिरि पर आक्रमण था। हालाँकि उन्होंने शांति की वकालत की, लेकिन उनकी तुर्क कुलीनता उनकी रणनीति से असहमत थी। 1296 में उसके दामाद अलाउद्दीन खिलजी ने उसकी हत्या कर दी।

अलाउद्दीन खिलजी (1296-1316)

अलाउद्दीन खिलजी खिलजी वंश का सबसे शक्तिशाली शासक था और अली गुरशास्प और सिकंदर-ए-सानी नामों से जाना जाता था। उन्हें 1292 में जलालुद्दीन द्वारा कारा का प्रशासक नियुक्त किया गया था। राजत्व के दैवीय सिद्धांत का पालन करते हुए, उन्होंने खुद को खलीफा के डिप्टी के रूप में संदर्भित किया। वह भारतीय उपमहाद्वीप के सबसे दक्षिणी सिरे तक अपने साम्राज्य का विस्तार करने वाले पहले मुस्लिम सम्राट थे।

अलाउद्दीन खिलजी ने उन मापों के आधार पर भूमि माप और राजस्व संग्रह का आदेश दिया, जिससे वह ऐसा करने वाले पहले दिल्ली सुल्तान बन गए। इसके अतिरिक्त, उन्होंने नुसरत खान, उलुग खान और मलिक काफूर जैसे अपने सक्षम सैन्य जनरलों के बल पर पूरे भारत में कई सफल सैन्य अभियान चलाए। इस लेख के बाद के भाग में, सैन्य अभियानों को शामिल किया गया है। अलाउद्दीन ने मंगोलियाई दृष्टि से प्रभावी रूप से बारह बार दिल्ली का बचाव किया। जनवरी 1316 में, अलाउद्दीन खिलजी का निधन हो गया।

Read more

जहीरुद्दीन मुहम्मद बाबर: फरगना का असफल भारत में कैसे सफल हुआ और मुग़ल साम्राज्य की स्थापना की

जहीरुद्दीन मुहम्मद बाबर: फरगना का असफल भारत में कैसे सफल हुआ और मुग़ल साम्राज्य की स्थापना की
Image-BBC URDU

जहीरुद्दीन मुहम्मद बाबर

प्रसिद्ध अंग्रेजी उपन्यासकार ईएम फोस्टर लिखते हैं कि आधुनिक राजनीतिक दर्शन के आविष्कारक मैकियावेली ने शायद बाबर के बारे में नहीं सुना होगा क्योंकि अगर उसने सुना होता तो वह ‘द प्रिंस’ नामक पुस्तक लिखने के बजाय उसके (बाबर के) जीवन के बारे में लिखता। उनमें अधिक रुचि रही है क्योंकि वह एक ऐसा चरित्र था जो न केवल सफल था बल्कि सौंदर्य बोध और कलात्मक गुणों से भी संपन्न था।

जबकि जहीरुद्दीन मुहम्मद बाबर (1530-1483), मुगल साम्राज्य का संस्थापक, को एक महान विजेता के रूप में देखा और वर्णित किया जाता है, उसे कई क्षेत्रों में एक महान कलाकार और एक महान लेखक भी माना जाता है।

बाबर के इतिहासकार स्टीफन डेल ने लिखा है कि यह तय करना मुश्किल हो जाता है कि बाबर राजा के रूप में अधिक महत्वपूर्ण है या एक कवि और लेखक के रूप में।

बाबर को भारत में बहुसंख्यक हिंदू वर्ग की एक निश्चित विचारधारा वाले लोगों के बीच एक आक्रमणकारी, डाकू, सूदखोर, हिंदुओं का दुश्मन, क्रूर और दमनकारी शासक भी माना जाता है। यहीं तक सीमित नहीं है, भारत की सत्तारूढ़ पार्टी केवल बाबर ही नहीं, बल्कि मुगल साम्राज्य के लिए जिम्मेदार हर चीज के खिलाफ दिखती है। और अब धीरे-धीरे मुग़ल इतिहास को स्कूल के पाठ्यक्रम से भी हटाया जा रहा है।

मुग़ल साम्राज्य की स्थापना

लगभग पांच सौ साल पहले बाबर ने एक ऐसे साम्राज्य की स्थापना की जो अपने आप में अनूठा है। 1526 में पानीपत की पहली लड़ाई में इब्राहिम लोधी को हराकर, उसने भारत में एक साम्राज्य की स्थापना की, जिसकी बुलंदी पर दुनिया की एक चौथाई से अधिक संपत्ति थी और लगभग पूरे उपमहाद्वीप को शासित किया। इसमें अफगानिस्तान भी शामिल था।

लेकिन बाबर के जीवन को निरंतर संघर्ष के रूप में परिभाषित किया गया है। बाबर का आज दुनिया से सबसे बड़ा परिचय उनकी अपनी जीवनी है। उनके इस काम को आज ‘बाबर नामा’ या ‘तजुक-ए-बाबरी’ के नाम से जाना जाता है।

दिल्ली के केंद्रीय विश्वविद्यालय, जामिया मिलिया इस्लामिया में इतिहास विभाग के प्रमुख निशात मंज़र का कहना है कि बाबर के जीवन को दो भागों में विभाजित किया जा सकता है: एक सेहुन नदी (सर दरिया) के मारवनहार क्षेत्र में और जेहुन नदी (अमु दरिया) में। मध्य में मध्य एशिया में वर्चस्व के लिए संघर्ष को शामिल किया गया है और दूसरी अवधि बहुत छोटी है लेकिन बहुत महत्वपूर्ण है कि केवल चार वर्षों में उसने भारत में एक महान साम्राज्य की स्थापना की जो लगभग तीन सौ वर्षों तक चला।

ऑक्सफोर्ड सेंटर फॉर इस्लामिक स्टडीज में दक्षिण एशियाई इस्लाम के एक साथी मोइन अहमद निजामी ने बीबीसी को बताया कि बाबर, जो उनके रिश्तेदारों द्वारा तैमूरिद और चंगेजियन वंश का था, को अपने पिता उमर शेख मिर्जा से फरगाना नामक एक छोटा सा राज्य विरासत में मिला था।

“उसने अपनी मातृभूमि को भी खो दिया और अपना अधिकांश जीवन रेगिस्तानी चढ़ाई और रोमांच में बिताया,” वे बताते हैं। अपनी मातृभूमि को पुनः प्राप्त करने के उसके प्रयास विफल होते रहे, जब तक कि परिस्थितियों ने उसे भारत की ओर मुड़ने के लिए मजबूर नहीं किया।

बाबर ने अपनी उस समय की लगातार असफलताओं के बारे में अपनी आत्मकथा में लिखा है: ‘जितने दिन मैं ताशकंद में रहा, मैंने अपार कष्ट और दुःख सहे। न तो मुल्क कब्जे में था और न ही मिलने की उम्मीद थी। नौकर अक्सर चले गए, जो छूट गए वे गरीबी के कारण फिर मेरे साथ नहीं हो सके।

वे आगे लिखते हैं कि ‘आखिरकार इस तरह की भटकन और इस बेघरपन से मैं तंग आ गया और जीवन से थक गया। मैंने मन ही मन कहा कि इतनी कठोरता से जीने से तो अच्छा है कि यहाँ से चला जाऊँ। छिप जाऊं ताकि कोई देख न सके। लोगों के सामने इस तरह की अपमानजनक स्थिति में रहने से बेहतर है कि जहां तक ​​हो सके, जहां तक ​​मुझे कोई पहचान न पाए, वहां से चले जाना ही बेहतर है, मैंने खाता (उत्तरी चीन) जाने का फैसला किया। मुझे बचपन से ही विदेश घूमने का शौक था, लेकिन साम्राज्य और परिवार के कारण नहीं जा सका।

मोईन अहमद निजामी ने कहा कि बाबर ने ऐसी बातें कहीं और लिखी हैं. एक जगह लिखा है ‘क्या कुछ बचा है देखने को, क्या विडम्बना भाग्य और अत्याचार को अब देखना बाकी है।’

एक कविता में बाबर ने अपना हाल बयां किया है, जिसका अर्थ है कि ‘अब मेरे पास न तो मित्र हैं, न परिवार और न संपत्ति, मुझे एक क्षण की भी इच्छा नहीं है। यहां आने का फैसला मेरा था, लेकिन अब मैं वापस भी नहीं जा सकता।

डॉ. प्रेमकल कादिरोव ने अपने जीवनी उपन्यास ‘ज़हीरुद्दीन बाबर’ में बाबर की रोमांचक और अशांत स्थिति का चित्रण किया है। एक जगह वह लिखता है कि ‘बाबर कुछ देर के लिए सांस लेने के लिए रुका लेकिन उसने अपना भाषण जारी रखा। सब कुछ नश्वर है, बड़े-बड़े साम्राज्य भी अपने संस्थापकों के संसार से उठते ही बिखर जाते हैं। लेकिन कवि के शब्द सदियों तक जीवित रहते हैं।

उन्होंने जमशेद बादशाह का जिक्र करते हुए एक बार अपनी एक कविता एक पत्थर पर उकेरी थी, जो अब ताजिकिस्तान के एक संग्रहालय में है। वह उनकी स्थिति की व्याख्या करता है।

ग्रातिम आलम बाह मर्दी और ज़ोर

लेकिन बर्दिम बा खोम बाह गोर नहीं

इसका अनुवाद यह है कि ताकत और साहस से दुनिया को जीता जा सकता है, लेकिन कोई खुद को दफन भी नहीं कर सकता।

इससे पता चलता है कि वह हार मानने वालों में से नहीं था। बाबर के पास एक पहाड़ के झरने की शक्ति थी जो पथरीली जमीन से फूटकर इतनी ऊंचाई से इतनी ताकत से बहता था कि पूरी धरती को सींच देता था। तो प्रेमकुल कादिरोव ने इस स्थिति का वर्णन एक स्थान पर इस प्रकार किया है।

उस समय शक्तिशाली वसंत को देखकर बाबर बहुत चकित हुआ। बाबर ने सोचा कि इस झरने में पानी पारिख ग्लेशियर से आ रहा होगा। इसका मतलब यह था कि पारिख से नीचे आने और फिर आसमान की चोटी तक जाने के लिए पानी को दो पहाड़ों के बीच की घाटियों की गहराई से कहीं अधिक गहराई तक जाना पड़ता था। पानी के फव्वारे को इसके लिए इतनी शक्ति कहाँ से मिल रही थी? बाबर को अपने जीवन की तुलना ऐसे फव्वारे से करना बहुत उचित और अच्छा लगा। वह खुद गिरती चट्टान के नीचे आ गया था।

Read more

मुगल साम्राज्य का उदय और पतन – भारतीय संस्कृति पर मुगलों का प्रभाव

मुगल साम्राज्य का उदय और पतन मुगल साम्राज्य-तैमूर की मृत्यु के बाद उसकी पीढ़ी में कोई ऐसा योग्य व्यक्ति पैदा नहीं हुआ जो तैमूर के महान साम्राज्य को बिखरने से बचा सके। इसलिए, तैमूर के बाद, तैमूरी राजकुमारों और अमीरों ने मध्य एशिया में छोटे राज्यों की स्थापना की और गृहयुद्धों में उलझ गए। इनमें … Read more

मुहम्मद बिन कासिम: जीवनी, भारत पर आक्रमण, सिंध की विजय, मृत्यु और महत्व

मुहम्मद बिन कासिम (अरबी में : محمد بن القاسم الثقافي), जिसका पूरा नाम इमाद अल-दीन मुहम्मद बिन कासिम था, वह हज्जाज बिन यूसुफ का भतीजा था, जो एक प्रसिद्ध बानू उमय्यद जनरल था। मुहम्मद बिन कासिम ने 17 साल की उम्र में सिंध पर विजय प्राप्त कर इस्लाम को भारत में पेश किया। इस महान धार्मिक विजय के कारण, उन्हें भारत और पाकिस्तान के मुसलमानों के बीच एक मसीहा का सम्मान माना जाता है और इसीलिए सिंध को “बाब अल-इस्लाम” कहा जाता है, क्योंकि इस्लाम का द्वार यहीं से भारत के लिए खुला था।

मुहम्मद बिन कासिम: जीवनी, भारत पर आक्रमण, मृत्यु और महत्व

मुहम्मद बिन कासिम का जन्म 31 दिसंबर, 695 को तैफ में हुआ था। उसके पिता शाही परिवार के प्रमुख सदस्यों में गिने जाते थे। जब हज्जाज बिन युसुफ को इराक का गवर्नर नियुक्त किया गया, तो उसने थक्फी परिवार के प्रमुख लोगों को विभिन्न पदों पर नियुक्त किया। उनमें मुहम्मद का पिता कासिम भी था, जो बसरा का गवर्नर था। इस प्रकार मुहम्मद बिन कासिम का प्रारंभिक पालन-पोषण बसरा में हुआ। जब वह लगभग 5 वर्ष का था तब उसके पिता की मृत्यु हो गई।

मुहम्मद बिन कासिम का प्रारम्भिक जीवन

मुहम्मद बिन कासिम को बचपन से ही भविष्य के एक बुद्धिमान और सक्षम व्यक्ति के रूप में देखा जाता था। गरीबी के कारण उसकी उच्च शिक्षा प्राप्त करने की इच्छा पूरी नहीं हो सकी, इसलिए प्राथमिक शिक्षा के बाद वह खलीफा की सेना में भर्ती हो गए। उसने दमिश्क में अपना सैन्य प्रशिक्षण प्राप्त किया और बहुत ही कम उम्र में अपनी योग्यता और असाधारण क्षमता के कारण उसने सेना में एक विशिष्ट स्थान हासिल किया।

15 साल की उम्र में, 708 ईस्वी में, उसे ईरान में कुर्द विद्रोह को कुचलने के लिए सैन्य कमांडर की जिम्मेदारी सौंपी गई। उस समय बानू उमैय्यद के शासक वलीद बिन अब्दुल मलिक सत्ता में था और हज्जाज बिन युसूफ इराक का गवर्नर था। मुहम्मद बिन कासिम इस अभियान में सफल रहा और शिराज को एक साधारण छावनी से एक विशेष शहर में बदल दिया। इस दौरान मुहम्मद बिन कासिम को फारस की राजधानी शिराज का गवर्नर बनाया गया, उस समय उसकी उम्र मात्र 17 वर्ष थी, उसने अपने समस्त गुणों से शासन करके अपनी योग्यता और बुद्धिमता का परिचय दिया और 17 वर्ष की आयु में , सिंध के अभियान पर उसे सालार के रूप में भेजा गया था.

हज़रत अली के एक समर्थक का दमन

इतिहासकारों के अनुसार तीर्थयात्रियों ने मक्का में हजरत अबू बक्र के पोते अब्दुल्ला बिन जुबैर के शासन को समाप्त कर दिया और उसके शरीर को प्रदर्शन के लिए मस्जिद अल-हरम में लटका दिया। मुहम्मद बिन कासिम इराक गया और हजरत अबू बक्र के भतीजे के बेटे अब्द अल-रहमान बिन मुहम्मद बिन अल-अश’थ के विद्रोह को कुचल दिया। उनके साथ प्रसिद्ध कथावाचक और हदीस के शिक्षक अतिया इब्न साद अवफी भी थे। वह काफी वृद्ध था, लेकिन इस विद्रोह की असफलता के बाद वह कूफा छोड़कर ईरान चला गया। मुहम्मद बिन कासिम ने आतिया को शिराज में गिरफ्तार किया। इस युग में, हाफिज इब्न हजर अस्कलानी तहसीब अल-तहज़ीब में, इब्न साद तबक़ात अल-कुबरा और इब्न जरीर अल-तबरी में तारिख अल-तबरी में लिखा है कि:

“हज्जाज इब्न यूसुफ ने मुहम्मद बिन कासिम को लिखा था कि वह हजरत अतिया बिन साद अवफी को बुलाए और मांग करे कि वह हजरत अली की बदनामी करे और अगर उसने ऐसा करने से इनकार कर दिया, तो उसे चार सौ चाबुक मारे जाएंगे और उसकी दाढ़ी काट दी जाएगी। मुहम्मद बिन कासिम ने उन्हें बुलाया और मांग की कि वे हजरत अली को श्राप दें। उन्होंने ऐसा करने से इनकार कर दिया, इसलिए मुहम्मद बिन कासिम ने अपनी दाढ़ी मुंडवा दी और उसे चार सौ कोड़े लगाए गए। इस घटना के बाद, वह खुरासान चला गया। वह हदीस के एक भरोसेमंद वक्ता हैं।

Read more

जहांगीर की जीवनी और उपलब्धियां: प्रारम्भिक जीवन, विद्रोह, साम्राज्य विस्तार, नूरजहां विवाह, न्याय जंजीर और कला संरक्षक

महान मुग़ल सम्राट अकबर की मृत्यु के बाद उसका पुत्र शाहजहां मुग़ल सिहांसन पर आसीन हुए। यद्यपि वह एक उदार शासक था पर उसमें चारित्रिक दोष भी थे। उसे शराब और शबाव का बहुत शौक था। इसके बाबजूद उसने जनता के हितों का पूरा ख्याल रखा। आज इस ऐतिहासिक लेख में हम मुग़ल शासक जहांगीर की जीवनी और उसकी उपलब्धियों के विषय में अध्ययन करेंगे। लेख को अंत तक अवश्य पढ़ें।

जहांगीर की जीवनी और उपलब्धियां: प्रारम्भिक जीवन, विद्रोह, साम्राज्य विस्तार, नूरजहां विवाह, न्याय जंजीर और कला संरक्षक

जहांगीर की जीवनी

अपने पिता जलालुद्दीन अकबर की मृत्यु के पश्चात् 24 अक्टूबर 1605 को वारुद्दीन जहांगीर गद्दी पर बैठा। बादशाह अकबर निःसंतान थे और अबुल फजल की सलाह पर उन्होंने एक सूफी संत शेख सलीम चिश्ती से दुआ मांगी तो उन्होंने दुआ की कि अल्लाह आपकी मनोकामना पूरी करें और आपको तीन बेटों का आशीर्वाद दें।

जहांगीर

जहांगीर

नाम जहांगीर
पूरा नाम मिर्ज़ा नूर-उद्दीन बेग़ मोहम्मद ख़ान सलीम जहाँगीर
निकनेम शेख़ू बाबा
जन्म 30 अगस्त, सन् 1569
जन्म स्थान फ़तेहपुर सीकरी उत्तर प्रदेश भारत
पिता का नाम अकबर,
माता का नाम मरियम उज़-ज़मानी (जोधा बाई)
पत्नियों के नाम नूरजहाँ, मानभवती, मानमती
पुत्र-पुत्रियों के नाम ख़ुसरो मिर्ज़ा, ख़ुर्रम (शाहजहाँ), परवेज़, शहरयार, जहाँदारशाह, निसार बेगम, बहार बेगम बानू
राज्याभिषेक 3 नवम्बर 1605 आगरा
उपाधि ‘ नुरुद्दीन मुहम्मद जहाँगीर बादशाह ग़ाज़ी
शासन अवधि 22 वर्ष
साम्राज्य की सीमा उत्तर और मध्य भारत
शासन काल सन 15 अक्टूबर, 1605 ई. – 8 नवंबर, 1627 ई.
धर्म सुन्नी, मुस्लिम
राजधानी आगरा, दिल्ली
पूर्ववर्ती अकबर
उत्तरवर्ती शाहजहाँ
राजवंश मुग़ल राजवंश
मृत्यु की दिनांक 8 नवम्बर सन् 1627 (उम्र 58 वर्ष)
मृत्यु का स्थान लाहौर पाकिस्तान
मक़बरा शहादरा लाहौर, पाकिस्तान
प्रसिद्धि कार्य जहाँगीर की न्याय की जंजीर और 12 राजाज्ञाएं
विशेष जानकारी शहजादा ‘सलीम’ और उसकी प्रेमिका ‘अनारकली’ की मशहूर और काल्पनिक प्रेम कहानी पर बनी फ़िल्म ‘मुग़ल-ए-आज़म’ भारत की सफल ऐतिहासिक पृस्ठभूमि पर आधारित फिल्म है।

जहांगीर का जन्म और प्रारम्भिक जीवन

जहांगीर का जन्म 30 अगस्त, 1569 को जयपुर की राजपूत राजकुमारी जोधा बाई उर्फ ​​मरियम ज़मानी के यहाँ हुआ था। सूफी संत के नाम पर उनका नाम सलीम रखा गया। अकबर उन्हें शेखोबाबा कहते थे। अकबर ने ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती अजमेरी दरगाह में पैदल जाकर अपनी मन्नत पूरी की। उसके बाद दो और बेटे मुराद और दनियाल का जन्म हुआ।

जहांगीर का पालन-पोषण

चूँकि सम्राट अकबर अशिक्षित था और अपनी अशिक्षा के नुकसान से अवगत था, इसलिए उसने अपने बेटों की शिक्षा के लिए अच्छी व्यवस्था की, सबसे उत्तम शिक्षकों ने अरबी, फारसी, तुर्की, हिंदी, संस्कृत, गणित, भूगोल, संगीत और इतिहास पढ़ाया।

राजकुमार सलीम बुद्धिमान था और जल्द ही राज्य के मामलों में दिलचस्पी लेने लगा, नौ साल की उम्र में वह दस हजार पैदल सेना का सेनापति बन गया और इलाहाबाद की जागीर का मालिक बन गया। जलालुद्दीन अकबर के तीन बेटे सलीम, मुराद और दानियाल तीनों बहुत मदिरा का सेवन करते थे, अकबर उन्हें इस आदत से नहीं रोक पाया और ऐन शबाब में अत्यधिक शराब पीने के कारण राजकुमार मुराद और राजकुमार दनियाल की मृत्यु हो गई, लेकिन राजकुमार सलीम ने फिर भी अपनी शराब पीना जारी रखा।

सलीम ने आदत नहीं बदली और वह एक दिन में 20 कप डबल-डिस्टिल्ड वाइन पीते थे। यह हालत हो गई कि आखिरी उम्र में वे एक कप वाइन मुंह तक नहीं ले जा सकते थे। प्रिंस सलीम रंगीन मिजाज के थे और विलासिता और महफ़िल के आदी थे, उन्होंने कई शादियां भी कीं, कई गुप्त और कई सार्वजनिक, सोलह वर्ष की उम्र में उनकी पहली शादी राजा भगवान दास वली अंबर की बेटी मान बाई उर्फ ​​शाह से हुई थी।

बेगम से हिंदू और मुस्लिम दोनों तरीके से शादी की, दूसरी शादी 17 साल की उम्र में राजा अवध सिंह की बेटी से, तीसरी शादी ईरानी रईस ख्वाजा हुसैन की बेटी से, चौथी शादी राजा गेसू दास की बेटी से की, पाँचवीं शादी अपने शिक्षक क़ैम से हुई थी।खान अरब की बेटी से शादी की, उनकी छठी शादी मेहर-उल-निसा बेगम (नूरजहाँ) से उनके सिंहासन पर बैठने के बाद हुई।

राजकुमार सलीम का विद्रोह 1600 ईस्वी

शहजादे सलीम की अपने पिता अकबर से शिकायत थी कि उन्हें युवराज होने का सम्मान नहीं दिया गया, उन्हें अंदेशा था कि बादशाह अकबर अपने पोते सलीम के बेटे खुसरो को युवराज बनाना चाहते हैं। उसके विद्रोही व्यवहार से तंग आकर बादशाह अकबर ने अबुल फजल को सलीम को गिरफ्तार करने के लिए भेजा, जिसकी राजकुमार सलीम (जहाँगीर) ने हत्या कर दी। इससे अकबर को अत्यंत दुःख हुआ।

इसके बाद सलीम अपनी दादी के साथ, बादशाह अकबर के सामने उपस्थित हुआ और क्षमा याचना की और सुलह की, लेकिन रिश्ता नहीं चल सका। शहजादे खुसरो अपने दादा अकबर के धर्म के समर्थक थे, यही कारण था जिसने उन्हें बादशाह बनने से रोका और जो शहजादे हजरत मुजदादी अल-शनी के अनुयायी थे, उनमें शेख फरीद, अब्दुल रहीम खान खानान, सैयद सदर जमाल, और नाहा खान ने राजकुमार सलीम से प्रतिज्ञा ली कि यदि वह सिंहासनारूढ़ होता है, तो वह इस्लामी कानूनों का पूरी तरह से पालन करेगा और अपने राजनीतिक विरोधियों को क्षमा कर देगा।

इस प्रतिज्ञा के बाद, शेख फरीद ने बादशाह अकबर के साथ शांति स्थापित की और सलीम को आधिकारिक उत्तराधिकारी के रूप में नियुक्त किया। दस्तरबंदी और परिवार की तलवार सौंप दी गई।

Read more