मनसबदारी व्यवस्था क्या थी? मनसबदारी व्यवस्था कब और किसने शुरू की। गुण और दोष | Mansabdari System in Hindi

मनसबदारी व्यवस्था क्या थी? मनसबदारी व्यवस्था कब और किसने शुरू की। गुण और दोष | Mansabdari System in Hindi

Share This Post With Friends

मुगलों ने मनसबदारी व्यवस्था के रूप में जानी जाने वाली एक अनूठी प्रशासनिक प्रणाली विकसित की, जिसका भारत के बाहर कोई समानांतर नहीं था। ऐसा माना जाता है कि इस प्रणाली की उत्पत्ति प्रसिद्ध मंगोल विजेता और आक्रमणकारी चंगेज खान के समय में हुई होगी। चंगेज खान ने अपनी सेना को एक दशमलव संरचना के आधार पर संगठित किया, जहां सबसे छोटी इकाई दस थी, और सबसे बड़ी इकाई दस हजार (“टोमन” के रूप में जानी जाती थी) थी, जिसमें सेना प्रमुख खान की उपाधि धारण करते थे।

विषय सूची

मनसबदारी व्यवस्था क्या थी? मनसबदारी व्यवस्था कब और किसने शुरू की। गुण और दोष | Mansabdari System in Hindi

मनसबदारी व्यवस्था


मंगोल सैन्य व्यवस्था का प्रभाव कुछ हद तक दिल्ली सल्तनत की सैन्य संरचना में देखा जा सकता है। इस अवधि के दौरान, हम एक सौ (सादी) और एक हजार (हजारा) रैंक वाले सेना प्रमुखों के संदर्भ में आते हैं। हालाँकि, यह स्पष्ट नहीं है कि बाबर और हुमायूँ के समय में मनसबदारी व्यवस्था मौजूद थी या नहीं। नतीजतन, इतिहासकार मनसबदारी प्रणाली की उत्पत्ति के संबंध में अलग-अलग विचार रखते हैं।

उपलब्ध साक्ष्यों के आधार पर, ऐसा प्रतीत होता है कि अकबर ने अपने शासनकाल के उन्नीसवें वर्ष, लगभग 1575 में मनसबदारी प्रणाली की शुरुआत की थी।

मनसब का अर्थ और व्युत्पत्ति


“मनसब” शब्द फ़ारसी भाषा से उत्पन्न हुआ है, और इसमें रैंक, स्थिति या पद की धारणा शामिल है। जिस व्यक्ति को बादशाह से मनसब मिलता था, उसे मनसबदार कहा जाता था। अकबर ने अपने प्रत्येक सैन्य और नागरिक अधिकारियों को एक मनसब (पद) सौंपने का निश्चय किया।

इन पदों को आगे दो श्रेणियों में विभाजित किया गया जिन्हें “जात” और “सवार” के रूप में जाना जाता है। “जात” को व्यक्तिगत रैंक या स्थिति को निरूपित किया, जबकि “सवार” घुड़सवारों की निश्चित संख्या का प्रतिनिधित्व करता था जिसे एक मनसबदार को अपनी कमान के तहत बनाए रखने का अधिकार था।

शब्द “मनसब” पूरी तरह से सैन्य प्रणाली से जुड़े होने से परे है; यह सैन्य और गैर-सैन्य दोनों अधिकारियों की नियुक्ति या प्रतिधारण को दर्शाता है। संक्षेप में, एक मनसब पद में प्रतिष्ठा और अधिकार होता था, जो किसी व्यक्ति की स्थिति, नियुक्ति और वेतन का निर्धारण करता था। इसके महत्व को पूरी तरह से समझने के लिए इसकी अंतर्निहित विशेषताओं को समझना आवश्यक है।

Read this Aerticle in English-Mughal Mansabdari System: Mughal History

मनसबदारी प्रणाली की विशेषताएं


मनसबदारों का श्रेणियों में विभाजन

अकबर द्वारा शुरू की गई मनसबदारी प्रणाली के तहत, मनसबदारों (पद धारण करने वाले अधिकारियों) को तीन श्रेणियों में वर्गीकृत किया गया था:

1-प्रथम श्रेणी के मनसबदार: किसी व्यक्ति को जितना ऊंचा ‘जात’ (व्यक्तिगत) मनसब दी जाती थी, उतनी ही अधिक संख्या में घुड़सवारों को बनाए रखने का उसे अधिकार था। इस श्रेणी में महत्वपूर्ण अधिकार वाले मनसबदार शामिल थे। अकबर के शासनकाल के दौरान, सबसे कम रैंक या पद के लिए दस सैनिकों पर अधिकार अनिवार्य था, जबकि उच्चतम रैंक ने दस हजार घुड़सवारों पर अधिकार की अनुमति दी थी। बाद में अकबर ने उच्चतम मनसब की अधिकतम सीमा बढ़ाकर बारह हजार घुड़सवार कर दी।

2-द्वितीय श्रेणी के मनसबदार: इस श्रेणी में आने वाले मनसबदारों में अपनी ‘जात’ (व्यक्तिगत रैंक) के अनुरूप कम से कम आधे घुड़सवारों को बनाए रखने की क्षमता थी। वे प्रणाली के भीतर एक मध्यम उच्च स्थान रखते थे।

3-तृतीय श्रेणी के मनसबदार: इस श्रेणी के मनसबदारों को अपनी ‘जात’ (व्यक्तिगत रैंक) के आधे से भी कम संख्या में घुड़सवार रखने का अधिकार था। प्रथम और द्वितीय श्रेणी के मनसबदारों की तुलना में उनकी स्थिति अपेक्षाकृत कम थी।

सभी मनसबदारों के लिए प्रत्येक घुड़सवार के लिए दो घोड़े रखना आवश्यक था। इसके अतिरिक्त, प्रत्येक मनसबदार को अपनी ‘जात’ या रैंक के अनुसार घुड़सवार रखने की अनुमति थी।

मनसबदारों की नियुक्ति


मनसबदारों की नियुक्ति पूरी तरह से सम्राट के विवेक पर थी, और वे अपने पदों पर तब तक सेवा करते थे जब तक सम्राट चाहते थे। आमतौर पर, सात हजार (7000) का मनसब शाही परिवार के सदस्यों या राजा मानसिंह(7000, मनसब), मिर्जा शाहरुख और मिर्जा अजीज कोका जैसे अत्यधिक सम्मानित और भरोसेमंद सरदारों (कमांडरों) को दिया जाता था। बारह हजार(12000) तक के मनसब केवल राजकुमारों को दिए जाते थे।

मनसबदारों का वेतन


मुगल मनसबदारों को उदार वेतन मिलता था, जो अक्सर नकद में दिया जाता था। हालांकि, ऐसे उदाहरण थे जहां वेतन के स्थान पर जागीर राजस्व दिया जाता था। मनसबदार अपनी व्यक्तिगत आय और वेतन का उपयोग करके अपने घुड़सवारों और घोड़ों के खर्चों के प्रबंधन के लिए जिम्मेदार था।

इस जिम्मेदारी के बावजूद, अकबर के शासनकाल के दौरान मनसबदारों ने एक भव्य और संतुष्ट जीवन शैली का आनंद लिया। वे आयकर से मुक्त थे, और उस समय पैसे की क्रय शक्ति वर्तमान की तुलना में काफी अधिक थी।

प्रथम श्रेणी के पंचहज़ारी मनसबदार के लिए मासिक वेतन 30,000 रुपये था। द्वितीय श्रेणी के पंचहज़ारी को प्रति माह 29,000 रुपये मिलते थे, जबकि तृतीय श्रेणी के पंचहज़ारी को 28,000 रुपये प्रति माह मिलते थे। इसके अतिरिक्त, प्रत्येक मनसबदार को उनकी कमान के तहत प्रत्येक सवार के लिए प्रति माह दो रुपये का अतिरिक्त वेतन मिलता था।

मनसबदारों के कार्य


मनसबदारों ने विभिन्न जिम्मेदारियों को संभाला और मुगल प्रशासन के भीतर विविध कार्यों का प्रदर्शन किया:

सैन्य अभियान: मनसबदारों को अक्सर सैन्य अभियानों पर तैनात किया जाता था। उनकी प्राथमिक भूमिका लड़ाई में भाग लेना, नए क्षेत्रों को जीतना और विद्रोहों को रोकना था। उन्होंने साम्राज्य के विस्तार और सुरक्षा में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

प्रशासनिक कर्तव्य: मनसबदारों के पास उनकी स्थिति के आधार पर गैर-सैन्य और प्रशासनिक कार्य भी सौंपे गए थे। इन कर्तव्यों में शासन, राजस्व संग्रह, कानून और व्यवस्था बनाए रखना और अन्य प्रशासनिक कार्य शामिल हो सकते हैं। उन्होंने साम्राज्य के समग्र प्रशासन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

मनसबदारों पर नियंत्रण के नियम


मनसबदारों को मनमानी करने से रोकने और उनकी क्षमता सुनिश्चित करने के लिए अकबर ने विशिष्ट नियम लागू किए:

चयनात्मक भर्ती: मनसबदारों के रूप में अनुभवी और कुशल सवारों की भर्ती में अकबर ने बहुत सावधानी बरती। इसने यह सुनिश्चित किया कि केवल सक्षम व्यक्ति ही व्यवस्था के भीतर अधिकार और उत्तरदायित्व के पदों पर आसीन हों।

लेखा-जोखा रखना और घोड़ों की ब्रांडिंग: अकबर ने प्रत्येक सवार के हुलिया (भौतिक विवरण) को नोट करने और उनके घोड़ों को ब्रांड करने की प्रथा शुरू की। यह मनसबदारों की पहचान और जवाबदेही के साधन के रूप में कार्य करता था। इसने अनुशासन बनाए रखने में मदद की और कपटपूर्ण प्रथाओं को रोका।

निरीक्षण: सेना की प्रभावशीलता सुनिश्चित करने के लिए सम्राट स्वयं समय-समय पर सेना का निरीक्षण करता था। वैकल्पिक रूप से, वह इन निरीक्षणों को करने के लिए एक समिति नियुक्त कर सकता था। इन उपायों ने सैन्य बलों की गुणवत्ता और तत्परता सुनिश्चित की।

वित्तीय विनियम: मनसबदारों को अपनी कमान के तहत प्रत्येक घुड़सवार के लिए अरबी या इराकी नस्ल के दो घोड़े रखने की आवश्यकता थी। यदि नकद में भुगतान किया जाता है तो वे मासिक आधार पर सीधे सम्राट से अपना वेतन वसूल करते थे। उनकी मृत्यु के बाद, अत्यधिक धन के संचय को रोकते हुए, उनकी संचित पूंजी को जब्त कर लिया गया। इन वित्तीय नियमों का उद्देश्य मुगलों की सैन्य शक्ति को मजबूत करना और संसाधनों के दुरुपयोग को रोकना था।

मिश्रित ‘सवार’


अकबर ने मुगल, पठान, राजपूत और अन्य विभिन्न जातियों के सैनिकों को मिलाकर मनसबदारों के घुड़सवारों में विविधता लाने की नीति लागू की। प्रारंभ में, मुगल और राजपूत मनसबदारों को विशेष रूप से अपनी जातियों से सवार रखने की अनुमति थी। हालांकि, समय के साथ, उन्होंने मिश्रित सवारों के अभ्यास को भी अपनाया। अकबर ने तुर्कों के निरंतर प्रभुत्व को सुनिश्चित करते हुए, सेना के भीतर जाति और विशिष्टता के प्रभाव को कमजोर करने का लक्ष्य रखा।

विभिन्न सैन्य कर्मियों की भर्ती

मुगल सेना ने न केवल घुड़सवार बल्कि धनुर्धारियों, बंदूकधारियों और खाई खोदने वालों को भी भर्ती किया। प्रत्येक श्रेणी के कर्मियों को अलग-अलग वेतन मिलता था। ईरानी और तुर्की सवारों को अधिक वेतन दिया जाता था, जबकि अन्य सवारों का औसत वेतन रु. 20 प्रति माह। दूसरी ओर पैदल सैनिकों को काफी कम वेतन मिलता था, केवल रु.3 प्रति माह वेतन।

मनसबदारी प्रणाली में ब्रांडिंग और दायित्व


ब्रांडिंग और दायित्व

अकबर ने 1575 में मनसबदारी प्रणाली के एक भाग के रूप में ब्रांडिंग की प्रथा शुरू की। इसका मुख्य उद्देश्य यह सुनिश्चित करना था कि प्रत्येक मनसबदार राज्य सेवा के लिए घोड़ों और घुड़सवारों की आवश्यक संख्या बनाए रखे। ब्रांडिंग को लागू करके, अकबर का उद्देश्य सैन्य जिम्मेदारियों से बचाव को रोकना था। अनुपालन को लागू करने के लिए घोड़ों और व्यक्तियों को ‘चेहरा’ (पहचान चिह्न) के साथ चिह्नित किया गया था।

घोड़ों या सैनिकों की संख्या?

एक ऐतिहासिक प्रश्न है कि क्या एक मनसबदार से उनकी ‘सवार’ श्रेणी के अनुसार घोड़ों या सैनिकों की संख्या की अपेक्षा की जाती है। अबुल फ़ज़ल के वृत्तांत से पता चलता है कि अकबर के समय में, एक मनसबदार से अपेक्षा की जाती थी कि वह अपने ‘सवार’ पद के बराबर सैनिक प्रदान करे। ऐसा करने में विफलता के परिणामस्वरूप सजा हुई। यह अनिश्चित है कि यह संख्या घोड़ों या सैनिकों का प्रतिनिधित्व करती है या नहीं।

शाहजहाँ के अधीन पुनर्गठन

शाहजहाँ के शासन काल में मनसबदारी व्यवस्था का पुनर्गठन हुआ। विशिष्ट प्रदेशों में जागीर रखने वाले मनसबदारों को सैनिकों के रूप में अपने ‘सवार’ रैंक का एक-तिहाई प्रदान करना आवश्यक था। जब उन्हें उन क्षेत्रों में नियुक्त किया गया जहाँ उनके पास जागीर नहीं थी, तो वे अपने ‘सवार’ रैंकों का केवल एक-चौथाई प्रदान करने के लिए बाध्य थे।

बल्ख या बदख्शां में नियुक्तियों के लिए पंचमांश का नियम लागू होता था, जिसे पंचमांश कहते थे। इसका अर्थ यह हुआ कि पंचमांश श्रेणी के मनसबदार वार्षिक व्यवस्था में प्रत्येक 5000 ‘सवार’ श्रेणी के लिए 1000 सवार और 2200 घोड़ों को बनाए रखने के लिए जिम्मेदार थे।

मनसबदारी प्रणाली के गुणों को निम्नानुसार संक्षेपित किया जा सकता है:

गैर-वंशानुगत: जागीरदारी प्रणाली के विपरीत, मनसबदारी प्रणाली वंशानुगत उत्तराधिकार पर आधारित नहीं थी। इसने कुछ प्रभावशाली परिवारों के हाथों में सत्ता की एकाग्रता को रोका और अधिक योग्यता-आधारित नियुक्ति प्रक्रिया सुनिश्चित की।

प्रत्यक्ष नियंत्रण और कम विद्रोह: मनसबदारों, या व्यवस्था में अधिकारियों को हर महीने प्रांतों से व्यक्तिगत रूप से अपना वेतन लेने की आवश्यकता थी। इस व्यवस्था ने सरकार को उन जागीरदारों के विपरीत, जिनके पास अधिक स्वायत्तता थी, विद्रोह या विद्रोह की संभावना को कम करते हुए, उन पर प्रत्यक्ष नियंत्रण करने की अनुमति दी।

योग्यता आधारित नियुक्तियाँ: सम्राट ने कुशल सैनिकों और असैनिक अधिकारियों को उनकी योग्यता और योग्यता के आधार पर नियुक्त किया। युद्ध या प्रशासन में स्वयं को सक्षम सिद्ध करने वालों को पदोन्नति दी जाती थी। इस अभ्यास ने एक सक्षम और कुशल प्रशासन सुनिश्चित किया।

आर्थिक सुधार: मनसबदारों की मृत्यु के बाद, सरकार ने जाब्ती का अभ्यास किया, जिसमें उनकी संपत्ति पर कब्जा करना शामिल था। इस प्रथा ने राज्य की आर्थिक भलाई में योगदान दिया और मनसबदारों को धन संचय के भ्रष्ट तरीकों का सहारा लेने से रोका।

कला और साहित्य का संरक्षण: मनसबदार अक्सर कला और साहित्य का समर्थन और प्रोत्साहन करते थे। कई प्रतिभाशाली कलाकारों और बुद्धिजीवियों ने उनके प्रायोजन के तहत संरक्षण पाया, मुगल काल के दौरान सांस्कृतिक और बौद्धिक गतिविधियों के फलने-फूलने में योगदान दिया।

प्रशासनिक राहतः मनसबदारी व्यवस्था ने मनसबदारों को सैन्य उत्तरदायित्व सौंपकर प्रशासनिक बोझ को कम किया। इसने मुगल सरकार को अन्य प्रशासनिक कार्यों पर ध्यान केंद्रित करने में सक्षम बनाया, जिससे बेहतर शासन और दक्षता प्राप्त हुई।

सांस्कृतिक एकीकरण: मनसबदारी प्रणाली ने विविध जातियों और धर्मों के व्यक्तियों को शामिल करके सांस्कृतिक एकीकरण को बढ़ावा दिया। इसने विभिन्न पृष्ठभूमि के लोगों को गले लगाकर और साम्राज्य के भीतर एक बहुसांस्कृतिक समाज को बढ़ावा देकर एकता और सद्भाव की भावना पैदा की।

मनसबदारी प्रणाली के दोष


फिजूलखर्ची और विलासिता में वृद्धि: कुछ आलोचकों का तर्क है कि मनसबदारी प्रणाली, गैर-पारंपरिक होने के कारण, मनसबदारों के बीच अपव्यय में वृद्धि हुई। चूंकि उनकी संपत्तियों को उनकी मृत्यु पर जब्त कर लिया गया था, इसलिए वे अपने पर्याप्त वेतन से भरपूर खर्च करने के लिए प्रवृत्त थे।

नैतिक पतन: बेईमान अधिकारियों और धोखेबाज मनसबदारों ने अक्सर निरीक्षणों के दौरान भ्रामक प्रथाओं का सहारा लिया। वे अन्य मनसबदारों से अस्थायी रूप से सैनिकों और घोड़ों को उधार लेते थे, वास्तविकता में अपर्याप्त संसाधनों को बनाए रखते हुए कागज पर एक मजबूत सैन्य बल का भ्रम पैदा करते थे।

अकबर के समय में मनसबदारी व्यवस्था में परिवर्तन


जहाँगीर और शाहजहाँ ने अकबर द्वारा स्थापित प्रशासनिक और कर संरचनाओं को बनाए रखते हुए मनसबदारी प्रणाली में महत्वपूर्ण संशोधन किए:

मनसब रैंकों का विस्तार: प्रारंभ में, 7,000 से ऊपर के मनसब केवल राजकुमारों को दिए गए थे। हालाँकि, अकबर ने बाद में राजकुमारों के लिए मनसब बढ़ाकर 12,000 कर दिया। अकबर के इतिहासकार, अबुल फ़ज़ल ने उल्लेख किया है कि सम्राट अकबर ने “अल्लाह” (1+30+35+5=66) शब्द के अक्षरों के संख्यात्मक मूल्य के आधार पर सेना के अधिकारियों (मनसबदारों) को 66 वर्गों में विभाजित किया था।

बढ़ाया नियंत्रण और निरीक्षण: बाद के सम्राटों के शासनकाल के दौरान मनसबदारों पर नियंत्रण और कड़ा कर दिया गया था। घोड़ों को चिह्नित करने और सैनिकों का वर्णन करने जैसे उपायों को लागू किया गया और सेना के एक हिस्से (लगभग 1/3 या 1/4) को निरीक्षण के लिए बुलाया गया। निरीक्षण के दौरान अच्छी तरह से प्रशिक्षित सैनिकों को प्रस्तुत करने वाले मनसबदारों को प्रति सैनिक दो रुपये की दर से उन सैनिकों की संख्या के बराबर राशि से पुरस्कृत किया गया।

इन प्रयासों के बावजूद, यह सुनिश्चित करने में चुनौतियाँ बनी रहीं कि मनसबदार सैनिकों की निर्धारित संख्या को बनाए रखते हैं, जिससे निरीक्षणों के दौरान जाँच और अनुपालन में वृद्धि हुई।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न: मनसबदारी प्रणाली

1-प्रश्न : मनसबदारी व्यवस्था कब प्रारंभ हुई ?

उत्तर: मनसबदारी प्रणाली की उत्पत्ति इतिहासकारों के बीच बहस का विषय है। मौजूदा साक्ष्यों के आधार पर, यह माना जाता है कि मनसबदारी प्रणाली को सम्राट अकबर ने अपने शासनकाल के उन्नीसवें वर्ष, लगभग 1575 में शुरू किया था।

2-प्रश्न: मनसबदारी प्रथा की शुरुआत किसने की थी?

उत्तर: मनसबदारी प्रणाली की शुरुआत मुगल सम्राट अकबर ने 1571 में की थी। अकबर ने इस प्रणाली में सुधार किया और इसे संस्थागत रूप दिया, इसे मुगल साम्राज्य के सैन्य और नागरिक प्रशासन में एकीकृत किया। इस प्रणाली के तहत मुगल प्रशासन में शामिल होने वाले अधिकारियों को मनसबदार के रूप में जाना जाता था।

3-प्रश्न : सबसे बड़ा मनसबदार कौन था ?

उत्तर: राजा मान सिंह(7000) सर्वोच्च मनसबदार पद पर आसीन थे। हालाँकि, अपने उच्च पद के बावजूद, उन्हें अबू फ़ज़ल की तुलना में सम्राट के दरबार में महत्वपूर्ण स्थान नहीं दिया गया था। अबू फ़ज़ल ने न केवल अकबर के दरबार में एक महत्वपूर्ण मंत्री पद संभाला था बल्कि उसे नवरत्नों (नौ रत्नों) की सूची में भी शामिल किया गया था।

4-प्रश्न: मनसबदारी व्यवस्था विफल क्यों हुई?

उत्तर: मनसबदारी प्रणाली को चुनौतियों का सामना करना पड़ा और अंततः इसका पतन हो गया। अकबर के बाद, मनसबदारों ने अपने छोटे-छोटे प्रदेश स्थापित करना शुरू कर दिया, और उनके अधीन सैनिक राजा की तुलना में अपने मनसबदारों के प्रति अधिक वफादार हो गए। हिंदू मनसबदारों ने, विशेष रूप से, राजा की ओर से साथी हिंदू मनसबदारों के खिलाफ लड़ने से इनकार कर दिया, जिससे केंद्रीय सत्ता कमजोर हो गई।

5-प्रश्न: औरंगजेब के दरबार में मनसबदार कौन थे?

उत्तर: औरंगजेब के शासनकाल में जय सिंह, शुजात और जसवंत सिंह मनसबदार थे। वे मनसबदारी प्रणाली में अधिकारियों के रूप में पद धारण करते थे।

6-प्रश्न: मनसबदार और जागीरदार में क्या अंतर है?

उत्तर: मनसबदारों को अपना वेतन भूमि अनुदान के रूप में मिलता था जिसे जागीर कहा जाता था। हालाँकि, मनसबदार सीधे जागीरों का प्रशासन नहीं करते थे; उनकी भूमिका इन जमीनों से उत्पन्न राजस्व एकत्र करने की थी। दूसरी ओर, जागीरदार, जागीरों के वास्तविक धारक और प्रशासक थे।


Share This Post With Friends

Leave a Comment

error: Content is protected !!

Discover more from History in Hindi

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading