| |

Main features of Palaeolithic Age, भारत और विश्व इतिहास

Main features of Palaeolithic Age, भारत और विश्व इतिहास
Image Credit-www.candefine.com

Main features of Palaeolithic Age, भारत और विश्व इतिहास

पुरापाषाण काल ​​प्रागैतिहासिक काल का वह समय है जब आदिम मनुष्य ने अपने जीवन में सबसे पहले पत्थर के औजार बनाने शुरू किए। यह काल 25-20 करोड़ वर्ष पूर्व से 12,000 वर्ष पूर्व तक का माना जाता है। इस अवधि के दौरान मानव इतिहास का 99% विकास हुआ है। इस अवधि के बाद मेसोलिथिक युग आया जब मानव ने सूक्ष्म उपकरणों के साथ शिकार और खेती शुरू की।

भारत में, पुरापाषाण काल ​​​​के अवशेष आंध्र प्रदेश के कुरनूल, कर्नाटक के हुनसंगी, ओडिशा के कुलियाना, राजस्थान के डीडवाना में श्रृंगी तालाब के पास और मध्य प्रदेश के भीमबेटका और छत्तीसगढ़ के रायगढ़ जिले के सिंघनपुर में भी पाए जाते हैं। इन अवशेषों की संख्या मध्यपाषाण काल ​​से प्राप्त अवशेषों से काफी कम है।

इस काल को जलवायु परिवर्तन तथा उस समय के पत्थर के बने हथियारों और औजारों के प्रकार के आधार पर निम्नलिखित तीन भागों में बांटा गया है:-

(1) निम्न पुरापाषाण युग
(2) मध्य पुरापाषाण युग
(3) उच्च पुरापाषाण युग

निम्न पुरापाषाण काल ​​- यह पुरापाषाण काल ​​की एक लंबी अवधि है। इस समय मानव पत्थर के बने औजारों का प्रयोग करता था।

जैसे- हस्तकुथा, खंडक, विदरानी। अधिकांश पुरापाषाण युग हिमयुग से गुजरे।

निम्न पुरापाषाण स्थल भारतीय महाद्वीप के लगभग सभी क्षेत्रों में पाए जाते हैं। असम घाटी, सिंधु घाटी, बेलन घाटी और नर्मदा घाटी प्रमुख हैं।

2. मध्य पुरापाषाण काल- मध्य पुरापाषाण काल ​​में शल्क उपकरणों के प्रयोग में वृद्धि हुई। मुख्य उपकरण के रूप में पत्थर के टुकड़ों से बने विभिन्न प्रकार के फ्लेल, बोरर, छेनी और स्क्रेपर्स पाए जाते हैं। हमें बड़ी संख्या में फ़्लेल और फ़्लेल जैसे हथियार मिले हैं।

3. उच्च पुरापाषाण काल:- उच्च पुरापाषाण काल ​​में आर्द्रता कम हो गई थी और यह हिमयुग का अंतिम चरण था। आधुनिक मानव, होमो सेपियन्स, इसी समय उभरे। इस काल के औजार बहुत तीखे और बहुत चमकदार थे। हमें ये उपकरण आंध्र, कर्नाटक, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, दक्षिणी उत्तर प्रदेश और बिहार के पठार में मिले हैं। चिलकोलिथ की खोज चालकोलिथिक काल में हुई थी।

1. निम्न पुरापाषाण काल

इस काल में मानव भोजन के लिए शिकार करता था। मानव ने मध्य और होलोसीन में चॉपर्स और चॉपर टूल्स बनाए, जिसमें चॉपर ने एक तरफ फ्लेयर करके टूल्स बनाए। इन औजारों से बाद में हाथ की कुल्हाड़ियाँ बनाई गईं और बाद में इनसे सुंदर हाथ की कुल्हाड़ियाँ बनाई गईं।

1. निम्न पुरापाषाण काल ​​के उपकरण – इस काल के मानव कोर से बने औजारों का प्रयोग करते थे, जिन पत्थर के गुच्छे से उपकरण बनते थे उन्हें हटाकर फेंक दिया जाता था और उपकरण का केवल मध्य भाग ही बनाया जाता था। इस काल में बनने वाले औजारों में चॉपर/काटने के औजार, हाथ की कुल्हाड़ी, विदरानी, ​​स्क्रेपर्स आदि प्रमुख थे। मनुष्य इनका उपयोग काटने, त्वचा को साफ करने आदि के लिए तथा मिट्टी से जड़ और कंद निकालने के लिए करते थे।

2. निम्न पुरापाषाण काल ​​का विस्तार क्षेत्र – मानव के औजार हमें सर्वप्रथम इसी काल में अफ्रीका से प्राप्त हुए। यहाँ ये उपकरण मध्य-पूर्वी अफ्रीका में ओल्डुवई कण्ठ के प्रथम स्तर से मिले हैं। इसके अलावा मोरक्को से भी इन्हें रिसीव किया गया है। ये उपकरण यूरोप के लगभग सभी देशों में पाए गए हैं, जिनमें फ्रांस की सोम्मे घाटी में अब्बेविल भी शामिल है, जहाँ हाथ की कुल्हाड़ी प्राप्त की गई थी।

स्वांसकोम्बे इंग्लैंड में थेम्स नदी, फ्रांस में अमीन्स, जर्मनी में स्टेनहेम और हंगरी में वर्टिज़ोलस गुफा सिर पर स्थित है। एशिया में ये यंत्र साइबेरिया को छोड़कर सभी क्षेत्रों से प्राप्त हुए हैं।

चीन में बीजिंग के पास झोउ-टेन गुफा में उस काल के मानव औजारों और आग के साक्ष्य मिले हैं। भारतीय उपमहाद्वीप में ऐसे यंत्र पाकिस्तान के सोहनघाटी, दक्षिण भारत के तमिलनाडु और साथ ही पूरे भारत से मिले हैं। जावा दक्षिण-पूर्व एशिया में महत्वपूर्ण है, जहाँ इस काल के मानव अवशेष मिले हैं।

Also Readहड़प्पा सभ्यता, सिंधु सभ्यता, कांस्य युग की सभ्यता हिंदी में जानकारी

3. निम्न पुरापाषाण युग के मानव – इन स्थानों से हमें इस काल के मानवों के अवशेष भी प्राप्त हुए हैं, जो इस संस्कृति के संस्थापक भी थे। ओल्डुवई गॉर्ज के पहले स्तर से ऑस्ट्रेलोपिथेकस मानव के साक्ष्य, चीन में औ-काउ टेन गुफा से सिनाउथ्रोपिथिकस और इसी तरह जावा से पिथिकैन्थ्रोपस प्रजाति, दक्षिण अफ्रीका से स्टरकोफोंटीन में भी ऑस्ट्रेलोपिथेकस मानव के प्रमाण मिले हैं। इस काल के मानव की कपाल क्षमता 750 घन सेमी और कहीं-कहीं इससे भी अधिक थी।

4. निम्न पुरापाषाण युग में जीवन- इस काल के मानव के निवास स्थान नदी घाटियाँ, शैलाश्रय और गुफाएँ आदि थे। स्टुअर्ट पिगॉट के अनुसार इस युग के मानव जीवन का आधार शिकार और भोजन संग्रह था, उनका जीवन अस्थायी और खतरों से भरा और विविध था। इस काल के मानव औजारों की सहायता से जंगली जानवरों का शिकार करते थे। इनका मांस भोजन के रूप में कच्चा होता था, कई स्थानों पर पकाने के प्रमाण भी मिलते हैं।

इसके अलावा उनके खाने में कंद, जंगली फल और खाने योग्य जड़े भी शामिल थे। इस काल का मनुष्य हाथियों, गैंडों, घोड़ों, जल भैंसों, मृग, कछुओं, मछलियों, पक्षियों, मेंढकों, अनेक प्रकार के मगरमच्छों आदि का शिकार करता था।

5. निम्न पुरापाषाण युग की उत्पत्ति एवं तिथि – तिथि के अनुसार मानव के अवशेष मेसोजोइक काल में रखे जा सकते हैं। ये अवशेष दूसरे इंटरग्लेशियल काल या उससे भी पहले के हैं। जिसे हम कम से कम पांच लाख वर्ष से सवा लाख वर्ष के बीच निर्धारित कर सकते हैं।

प्रागैतिहासिक संस्कृति की शुरुआत अफ्रीका में ओल्डुवई गॉर्ज और मोरक्को से देखी जा सकती है, यहीं से इस काल के मानवों ने विभिन्न क्षेत्रों में जाकर इस संस्कृति का विकास किया। कुछ विद्वानों का मत है कि इस काल में अफ्रीका भारत से जुड़ा हुआ था, इसलिए इस काल के मनुष्य स्थल मार्ग से भारत पहुंचे। लेकिन इस अवधि से बहुत पहले महाद्वीप अलग हो गए थे।

इस प्रकार एक शाखा उत्तरी अफ्रीका होते हुए माउंट कार्मेल होते हुए यूरोप में उत्तर की ओर गई और दूसरी भारत तथा दक्षिण पूर्व एशिया की ओर पूर्व की ओर जाकर वहाँ इस संस्कृति का विकास किया।

2. मध्य पुरापाषाण काल

मध्यम पुरापाषाण काल– इस काल में मानव के अवशेष मिलने लगे और उन्होंने अपनी संस्कृति का विकास किया। प्रारंभिक पुरापाषाण काल ​​के उपकरण कोर निर्मित होते थे, जिनमें औजारों में ब्लेड का प्रयोग नहीं किया जाता था। लेकिन इस काल के विसर्प स्थल के मनुष्यों ने ब्लेडों पर अपने औजार बनाना शुरू किया, जो आकार में अपेक्षाकृत छोटे और अच्छी तरह से बने होते थे।

विनिर्मित औजारों में बोरर्स स्क्रेपर टूल का व्यापक रूप से उपयोग किया जाता था। इनके अलावा, ब्लेड से बने औजारों में हाथ की कुठार, बेधक, कुल्हाड़ी और विदारक प्रमुख थे।

1. मध्य पुरापाषाण काल ​​में औजार बनाने की तकनीक – इस काल के ब्लेड वाले औजार दो तकनीकों द्वारा बनाए जाते थे। पहली विधि के उपकरण सर्वप्रथम इंग्लैंड में क्लैक्टन-ऑन-सी नामक स्थान से प्राप्त किए गए थे। इस विधि में, पहले पत्थर से एक ब्लेड निकाला जाता था, फिर ब्लेड को फिर से तेज किया जाता था (रीटचिंग) आवश्यक आकार का एक उपकरण बनाने के लिए।

दूसरी विधि को लोवालोसी-ऑन-तकनीक नाम दिया गया था। इस विधि द्वारा बनाए गए उपकरण सर्वप्रथम फ्रांस के तवल्वा नामक स्थान से प्राप्त किए गए थे, इसलिए इसे लावलवा तकनीक का नाम दिया गया। इस विधि से पत्थर से जो तख़्ता अलग किया गया था, उसी तरह इस्तेमाल किया जा सकता था।

इस पद्धति में जिस प्रकार के औज़ारों को नुकीले औज़ारों से बनाना होता था, उस पत्थर पर एक रूपरेखा दी जाती थी, जिसकी योजना बनाई जाती थी। दूसरे चरण में उसके भीतरी भाग को ऊपर से छीलकर उसे कछुआ अयस्क कहा जाता था। तीसरे चरण में एक छोटा चबूतरा तैयार किया जाता था। जहां कोई नुकीली चीज रखी थी और उस पर हथौड़े से वार किया गया था। इस प्रकार, किसी भी वांछित आकार का उपकरण बनाया जा सकता है।

2. मध्य पुरापाषाण काल ​​का विस्तार क्षेत्र- इस संस्कृति का सर्वप्रथम प्रमाण 1869 ई. में फ्रांस के एक स्थल ले मॉस्टियर से प्राप्त होता है, इसलिए इसका नाम मौस्टेरियन (मौस्टेरियन) संस्कृति रखा गया। यहाँ प्रथम एश्यूलियन प्रकार के मौस्टरियन उपकरण मिले थे, जिनमें हथकुठार, स्क्रेपर्स और छिद्रित चाकू प्रमुख हैं।

समय के साथ-साथ हाथ की कुल्हाड़ियों की संख्या घटती गई और स्क्रेपर्स और लावलव-प्रकार के औजारों की संख्या में वृद्धि हुई। जिसमें एंड स्क्रेपर्स, साइड स्क्रेपर्स, बरिन्स, बोरर्स आदि प्रमुख हैं।

इस संस्कृति का प्रसार उन सभी क्षेत्रों में मिलता है जहाँ पुरापाषाण काल ​​के उपकरण प्राप्त हुए हैं। इसके अलावा मानव ने सबसे पहले साइबेरिया में प्रवेश किया लेकिन इसी काल में रहना शुरू किया।

3. मध्य पुरापाषाण काल- मध्य पुरापाषाण काल, ऊपरी-प्लीस्टोसिन काल के निचले हिस्से की संस्कृति है, यानी वुर्म हिमनद (बूम हिमयुग) का निचला हिस्सा, जब बहुत ठंडा काल था। इसलिए हमें इस काल के अधिकांश मानव अवशेष गुफाओं से प्राप्त हुए हैं।

4. मध्य पुरापाषाण काल ​​के आवास – इस काल के मानव के आवास नदी घाटियों की अपेक्षा शैलाश्रयों और गुफाओं से अधिक प्राप्त हुए हैं। अतीत में पाए जाने वाले विलेफ्रेंश प्रकार के जानवर इस काल में लुप्त हो गए और अन्य सभी प्रकार के जानवर और पक्षी इस काल के मानव शिकार का आधार थे। इस काल के मानव ने तीरों और मछली पकड़ने के कांटों से शिकार करना प्रारंभ किया।

इस काल के मानव आवास से गन्ना, चारकोल तथा जली हड्डियाँ प्राप्त हुई हैं। भारत में पुष्कर झील और डीडवाना क्षेत्र के अलावा यूरोप के विभिन्न देशों और एशिया के विभिन्न देशों से इस काल के मानव अवशेष प्राप्त हुए हैं।

5. मध्य पुरापाषाण काल ​​में धर्म का प्रारंभ – इस काल में मनुष्य के धार्मिक विश्वासों की जानकारी मिलने लगती है। इस काल में पुनर्जन्म में विश्वास था, इसलिए मनुष्य मृतकों को अपनी गुफाओं के नीचे गाड़ देते थे। दॉरदॉग्ने में ला फेरासी (ला फ्रेसी) नामक स्थान पर 2 वयस्कों और एक बच्चे को दफनाने के साक्ष्य मिले हैं। शवों के सिर की रक्षा के लिए पत्थर रखे गए थे। क्रीमिया के की-कोबा और फ़िलिस्तीन के माउंट करमल नामक स्थान से भी शव को सीधा लेट कर दबाने के प्रमाण मिले हैं।

पूर्वी उज्बेकिस्तान की एक गुफा ताशिक ताश में एक बच्चे का शव है जिसके सिर के पास छह जोड़ी बकरी के सींग हैं। इस प्रमाण से पता चलता है कि मनुष्य सामाजिक रूप से एक साथ रहते थे और आपस में स्नेह विकसित हो गया था।

6. मध्य पुरापाषाण काल ​​में उद्भव – इस संस्कृति का उद्भव भी सर्वप्रथम अफ्रीका के ओल्डवई कण्ठ में हुआ। यहीं से मियांदादस्थल मानव ने कार्मेल पर्वत के रास्ते यूरोप और एशिया के विभिन्न क्षेत्रों में जाकर इस संस्कृति का विकास किया।

7. मध्य पुरापाषाण काल ​​का काल-निर्धारण- यह संस्कृति अपर प्लेइस्टोसिन काल की है और इसकी तिथि बूम हिमयुग के निम्न काल में निर्धारित की जा सकती है, अर्थात् इस काल को 1,25,000 ईसा पूर्व से 40,000 ईसा पूर्व के बीच माना जा सकता है।

3. मध्यपाषाण काल

प्लेइस्टोसिन लगभग 10,000 साल पहले समाप्त हो गया था और जलवायु आज के समान हो गई थी। हिम युग के दौरान जमी हुई बर्फ की चादर पिघलने लगी और अधिकांश निचले इलाकों में पानी भर गया। इस अवधि की शुरुआत 7900 ईसा पूर्व में स्कैंडिनेविया में पानी के जमाव के साथ जमी हुई मिट्टी की परतों की गिनती करके की जा सकती है, जबकि हिमयुग की अवधि 8300 ईसा पूर्व रेडियोकार्बन डेटिंग द्वारा निर्धारित की जा सकती है। बर्फ के पिघलने से समुद्र का जल स्तर बढ़ गया, जिससे और पानी निचले समुद्र में फैल गया।

जलवायु परिवर्तन ने वनस्पतियों और जीवों को भी प्रभावित किया। यूरोप में चौड़ी पत्ती वाले पेड़-पौधे उगने लगे और साथ ही लाल हिरण, घोड़े, बायसन आदि के स्थान पर हिरण, जंगली सूअर, बारहसिंगा आदि अधिक पाये जाने लगे। इस प्रकार की वनस्पतियों के पौधे पाये गये। पश्चिमी एशिया के क्षेत्रों में, जो वर्तमान में गेहूँ और जौ की जंगली प्रजातियाँ थीं। इस प्रकार की वनस्पतियों का उपयोग करने तथा शिकार में पशुओं को मारने के लिए उस काल के मानवों को अपने औजार भी बदलने पड़ते थे।

इस काल में पत्थर के बहुत महीन औजार बनाए जाते थे। ये उपकरण इतने सूक्ष्म थे कि इन्हें अकेले इस्तेमाल नहीं किया जा सकता था, लेकिन वन उपकरणों को किसी और चीज के साथ मिलाकर ही इस्तेमाल किया जा सकता था। इन औजारों में बिंदु, तीर का सिरा, सूक्ष्म बरिन, स्क्रेपर्स, हाथ की कुल्हाड़ी, त्रिकोणीय, ट्रोप, वर्धमान, अर्धवृत्ताकार आदि प्रमुख हैं। इन उपकरणों को दो भागों में बांटा जा सकता है। दोनों प्रकार के उपकरणों को प्रकार के आधार पर विभाजित किया गया है।

1. मध्यपाषाण काल ​​में औजार बनाने की तकनीक – पत्थर की छोटी-छोटी शिलाओं से बहुत महीन औजार निकालने के लिए दाब तकनीक का प्रयोग किया जाता था। इस तकनीक में एक विशेष आकार के ब्लेड को पत्थर पर एक तेज यंत्र रखकर ऊपर से उस पर दबाव डालकर अलग किया जाता था। इन यंत्रों को किसी लकड़ी के सामने रखकर नुकीले बाण बनाए जाते थे। किसी जानवर की हड्डी या लकड़ी में कुछ बिंदु या ब्लेड लगाकर हँसिया बनाया जा सकता है।

इनके औजारों के प्रयोग से ही ज्ञात होता है कि इस काल में मनुष्य ने जंगली पौधों के बीजों को काटकर अलग करना सीख लिया था। कई जगहों पर मकड़ी के जाले भी पाए गए हैं, जैसे एल-वाड गुफा से, जो इस साक्ष्य का संकेत है।

2. मध्यपाषाण काल ​​का प्रसार एवं जीवन- इस संस्कृति का प्रसार अधिकतर पश्चिमी एशिया, यूरोप, भारतीय प्रायद्वीप, एशिया एवं अफ्रीका में हुआ। हमें इस काल के अवशेष पश्चिम एशिया के फ़िलिस्तीन में कार्मेल काउज़ पर्वत से प्राप्त होते हैं।

इसके अतिरिक्त सीरिया, लेबनान आदि में भी इसके प्रमाण मिले हैं। यहाँ इस संस्कृति को नैचुफियन कहा जाता था। क्योंकि इसे सबसे पहले फिलिस्तीन के एक स्थल वाडेन-नटुफ से प्राप्त किया गया था। वे अपनी दिनचर्या को गुफाओं की दीवारों पर चित्रों के माध्यम से प्रदर्शित करते थे। जो कला के प्रति उनके प्रेम को दर्शाता है। प्राय: वे प्राकृतिक चित्रकारी करते थे।

इस संस्कृति के औजारों में बारीक पत्थर के औजार और चकमक पत्थर के ब्लेड और बरिन भी शामिल थे। इसके अलावा, वे अंतिम संस्कार में अपने मृतकों को शंख, जानवरों के दांत और गहनों के साथ दफनाते थे। एल-वाड नामक स्थल पर एक लटकन भी मिला है। उन्होंने मछली पकड़ने के लिए एरोहेड और फिश-टेक का इस्तेमाल किया। उसने कुत्ते की देखभाल भी शुरू कर दी थी।

इस काल के मानव ने जंगली पौधों से अनाज निकालकर उसका उपयोग भोजन में करना शुरू कर दिया था। कई इलाकों से मिले मकड़ी के जाले इस बात की पुष्टि करते हैं। इनमें अल-वाड स्थल प्रमुख है। सीरिया के मुरैबिट क्षेत्र में जंगली गेहूँ और जौ खाए जाते थे। यूरोप में, इस संस्कृति को एजिलियन संस्कृति के रूप में जाना जाता है। जो फ्रांस, बेल्जियम और स्विट्जरलैंड से प्राप्त होता है।

इसके अतिरिक्त कुछ स्थानों पर इससे विकसित मध्यपाषाण संस्कृति को आस्तुरियन एवं मैग्लामोसियन संस्कृति भी कहा जाता है। जो लाल हिरण, परती हिरण, जंगली सूअर आदि का शिकार करते थे। वे मछलियाँ पकड़ते, कुत्ते पालते और फल-फूल आदि इकट्ठा करके खाते थे। उनके अन्य उपकरणों में हड्डी की सुई, मछली के हुक और चमड़े के काम के लिए इस्तेमाल होने वाले अन्य उपकरण शामिल थे।

पश्चिमी यूरोप में इस प्रकार की संस्कृति के विस्तार काल को बाल्टिक और उत्तरी समुद्रों के आसपास किचन-मिडडन कहा जाता था। जिसमें सामान्यत: अक्ष प्राप्त होते हैं। कभी-कभी उनके वाद्य यंत्रों में तीर, बास और तुरही आदि अधिक होते थे। इस काल में इस काल का मनुष्य बेल्जियम में गड्ढा खोदकर अपना जीवन यापन करता था। उनकी संस्कृति को कैंपिनियन का नाम दिया गया है।

इस संस्कृति के प्रमाण भारत के प्राय: सभी क्षेत्रों में मिलते हैं। लेकिन मुख्य रूप से तमिलनाडु में टेरी स्थल, गुजरात में लेघनाज, पूर्वी भारत में बिस्मानपुर, मध्य भारत में आदमगढ़ और भीमबेटका  गुफाएं, राजस्थान में बागोर, उत्तर प्रदेश में लेखादियां, सराय नाहर आदि प्रमुख हैं।

Also Read-भारत में लौह युग: अर्थ और इतिहास

3. मध्यपाषाण काल ​​का निवास – जलवायु परिवर्तन के कारण इस काल में मानव के आवास में बहुत परिवर्तन आया। इस काल में उन्हें गहरी गुफाओं में रहने की आवश्यकता नहीं पड़ी, अब वे गुफाओं के मुहाने पर तथा बाहरी क्षेत्रों में रहने लगे। उन्होंने कई क्षेत्रों में अपनी मंजिलों को गेरुए रंग से भी रंगा था। जैसा कि इनाम और एल-वाड की गुफाओं में देखा गया है। दक्षिण भारत में वह समुद्र के किनारे और यूरोप में झीलों, पहाड़ों और मैदानों के किनारे रहने लगा। उसने बेल्जियम में भी अनेक स्थानों पर गड्ढे खोदकर जीवन यापन करना प्रारंभ किया।

4. मध्यपाषाण काल ​​की तिथि- मध्यपाषाण काल ​​की तिथि अलग-अलग स्थानों पर अलग-अलग निर्धारित की गई है। कई जगहों पर इसे 8000 ईसा पूर्व और कुछ जगहों पर 2000 ईसा पूर्व तक तय किया गया है। नास्तफ़ियन संस्कृति लगभग 8000 ईसा पूर्व की है और यूरोप और भारत में 7500 ईसा पूर्व से 2000 ईसा पूर्व तक चली। दक्षिण भारत का मेसोलिथिक उद्योग 4000 ईसा पूर्व अनुमानित किया गया है। आदमगढ़ (मध्य प्रदेश) की तिथि क्रम 5500 ईसा पूर्व जबकि उत्तर प्रदेश में स्थित सराय नाहर राय ने 7300 ईसा पूर्व के आसपास इस अवधि की शुरुआत की थी। इसके अलावा, पूर्वी भारत की मेसोलिथिक संस्कृति लगभग 2000 ईसा पूर्व अनुमानित की गई है।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *