|

जितिया व्रत कथा 2022: जीतिया व्रत कथा हिंदी में, इस पौराणिक कथा से प्राप्त करें जिमुतवाहन का आशीर्वाद

जितिया व्रत कथा 2022: जीतिया व्रत कथा हिंदी में, इस पौराणिक कथा से प्राप्त करें जिमुतवाहन का आशीर्वाद

Jitiya Vrat Katha in Hindi: बच्चों की लंबी उम्र के लिए माताएं जितिया का व्रत रखती हैं. पौराणिक मान्यता है कि इस दिन कथा पढ़ने से जीत जिमुतवाहन की विशेष कृपा प्राप्त होती है। यहां पढ़ें जिवितपुत्रिका व्रत यानी जिउतिया व्रत कथा हिंदी में।

जितिया व्रत कथा 2022: जीतिया व्रत कथा हिंदी में, इस पौराणिक कथा से प्राप्त करें जिमुतवाहन का आशीर्वाद
image credit-www.india.com

जितिया व्रत कथा 2022: जीतिया व्रत कथा हिंदी में, इस पौराणिक कथा से प्राप्त करें जिमुतवाहन का आशीर्वाद

मुख्य बातें

  • 18 सितंबर 2022 को जितिया का व्रत रखा जाएगा
  • पौराणिक मान्यता है कि इस व्रत को करने से संतान स्वस्थ रहती है और आयु लंबी होती है।
  • ऐसा माना जाता है कि जितिया व्रत में कथा को पढ़ने से मनचाहा फल मिलता है।

Jitiya Vrat Katha in Hindi 2022, जिवितपुत्रिका व्रत कथा 2022: हिंदू कैलेंडर के अनुसार इस बार जितिया व्रत (Jitiya Vrat) माताएं 18 सितंबर 2022 को रखेंगी। इस व्रत (Jivitputrika Vrat 2022) में माताएं व्रत रखकर पूजा-अर्चना करती हैं। बच्चे का लंबा जीवन। कहते हैं इस व्रत को करने से मन की हर मनोकामना पूरी होती है. यह व्रत कई राज्यों में मनाया जाता है विशेषकर बिहार, झारखंड, उत्तर प्रदेश, पश्चिम बंगाल और नेपाल जैसे राज्यों में मनाया जाता है।

जितिया व्रत को जिवितपुत्रिका व्रत के नाम से भी जाना जाता है। आपको बता दें कि यह व्रत निर्जल है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार इस दिन कथा को पढ़ने या सुनने से संतान की आयु लंबी होती है। अगर आप भी यह व्रत करने की सोच रहे हैं तो इस दिन यह कथा अवश्य पढ़ें। ऐसा माना जाता है कि इस कथा (जितिया व्रत 2022 व्रत कथा) को पढ़ने से जिमुतवाहन बहुत जल्दी प्रसन्न हो जाते हैं।

जिवितपुत्रिका (जितिया) व्रत कथा,

धार्मिक मान्यताओं के अनुसार जितिया व्रत का संबंध महाभारत काल से है। पौराणिक कथा के अनुसार युद्ध में जब अश्वत्थामा के पिता की मृत्यु हुई तो वे बहुत क्रोधित हुए। अपने पिता की मृत्यु का बदला लेने के लिए वह पांडवों के शिविर में गया और उसने वहां जाकर 5 निर्दोष लोगों को मार डाला। उसने सोचा कि वे 5 लोग पांडव थे।

लेकिन उसकी गलतफहमी के कारण पांडव बच गए। जब पांडव अश्वत्थामा के सामने आए, तो उन्हें पता चला कि उन्होंने पांडवों के बजाय द्रौपदी के पांच पुत्रों को मार डाला था। जब अर्जुन को इस बात का पता चला, तो वह बहुत क्रोधित हुआ और अश्वत्थामा को बंदी बना लिया और उससे दिव्य रत्न छीन लिया।

इसका बदला लेने के लिए अश्वत्थामा ने अभिमन्यु की पत्नी उत्तरा के गर्भ में पैदा हुए बच्चे को मारने की योजना बनाई। उन्होंने अजन्मे बच्चे को मारने के लिए ब्रह्मास्त्र का इस्तेमाल किया, जिससे उत्तरा का गर्भ नष्ट हो गया। लेकिन उस बच्चे को जन्म लेना जरूरी था, इसलिए भगवान श्री कृष्ण ने उत्तरा के मृत बच्चे को गर्भ में ही जीवित कर दिया।

उत्तरा की संतान गर्भ में मरने के बाद जीवित थी, इसलिए इस व्रत का नाम जिवितपुत्रिका पड़ा। तब से सभी माताएं अपने बच्चों की लंबी उम्र के लिए पूरी श्रद्धा के साथ इस व्रत का पालन करने लगीं। तभी से यह व्रत दुनिया में मशहूर हो गया।

(डिस्क्लेमर: यहां दी गई जानकारी केवल अनुमानों और सूचनाओं पर आधारित है। historyclasses.in किसी भी तरह के विश्वास या जानकारी की पुष्टि नहीं करता है।)

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.