|

भूपेन हजारिका की जीवनी, जन्म और मृत्यु, परिवार, पुरस्कार और गूगल डूडल 2022

भूपेन हजारिका जीवनी – मरणोपरांत भारत रत्न से सम्मानित भूपेन हजारिका असम के एक बहुमुखी व्यक्तित्व थे। असमिया भाषा के कवि, गीतकार, संगीतकार और फिल्म निर्माता के रूप में उनकी ख्याति दूर-दूर तक फैली हुई है।

भूपेन हजारिका की जीवनी, जन्म और मृत्यु, परिवार, पुरस्कार और गूगल डूडल 2022
IMAGE CREDITwww.livemint.com

भूपेन हजारिका की जीवनी, जन्म और मृत्यु, परिवार, पुरस्कार और गूगल डूडल 2022

भूपेन हजारिका एक भारतीय कलाकार थे जिन्होंने स्वयं गीत लिखे, संगीतबद्ध और गाए। उन्होंने लेखन, पत्रकारिता, गायन, फिल्म निर्माण आदि महत्वपूर्ण क्षेत्रों में अपना महत्वपूर्ण योगदान दिया।

भूपेन हजारिका जीवनी

नाम – भूपेन हजारिका
जन्म – 8 सितंबर, 1926
जन्मस्थान – सादिया, असम, भारत
माता – श्रीमती। शांति प्रिया
पिता – श्री नीलकंठो
पत्नी – प्रियंवदा पटेल
पुत्र- तेज हजारिका
व्यवसाय – लेखक, गीतकार, संगीतकार, गायक
शिक्षा – स्नातकोत्तर और पीएचडी
शैक्षिक संस्थान – बनारस हिंदू विश्वविद्यालय, कोलंबिया विश्वविद्यालय (न्यूयॉर्क)
पुरस्कार – भारत रत्न, पद्म विभूषण, पद्म श्री, दादा साहब फाल्के पुरस्कार, पद्म भूषण, और भी बहुत कुछ
Death – 5 नवंबर, 2011
मृत्यु स्थान – मुंबई

भूपेन हजारिका का जन्म 8 सितंबर, 1926 को पूर्वोत्तर भारत के असम राज्य के तिनसुकिया जिले के सादिया शहर में हुआ था। वह अपने पिता की दस संतानों में सबसे बड़े थे। उनके पिता का नाम श्री नीलकंठ और माता का नाम श्रीमती था। शांति प्रिया देवी। भूपेन हजारिका को विरासत में संगीत उनकी मां से मिला था।

उन्होंने लगभग 10 साल की उम्र में अपना पहला गाना लिखा और गाया था। 12 साल की उम्र में उन्होंने असमिया सिनेमा की दूसरी फिल्म “इंद्रमालती” में काम किया।

भूपेन हजारिका की शिक्षा

  • उनका प्रारंभिक जीवन गुवाहाटी, असम में बीता और उन्होंने वहीं से इंटरमीडिएट की पढ़ाई पूरी की।
  • इसके बाद उन्होंने बनारस हिंदू विश्वविद्यालय से राजनीति विज्ञान में स्नातकोत्तर की पढ़ाई पूरी की।
  • इसके बाद उन्होंने अपनी पीएच.डी. न्यूयॉर्क में कोलंबिया विश्वविद्यालय से।

भूपेन हजारिका की शादी

1949 में भूपेन हजारिका पढ़ने के लिए कोलंबिया विश्वविद्यालय गए और वहां उनकी मुलाकात प्रियंवदा पटेल से हुई। दोनों के बीच प्यार हुआ और साल 1950 में दोनों ने शादी कर ली। 1952 ई. में एक पुत्र का जन्म हुआ, जिसका नाम तेज हजारिका था।

1953 में भूपेन हजारिका अपने परिवार के साथ भारत लौट आए। भारत आने के बाद उन्होंने गुवाहाटी विश्वविद्यालय में अध्यापन का कार्य किया। यह काम ज्यादा दिन नहीं चला और इस्तीफा दे दिया। आर्थिक तंगी के चलते उनकी पत्नी प्रियंवदा पटेल ने उन्हें छोड़ दिया।

भूपेन हजारिका का करियर

प्रियंवदा पटेल को छोड़ने के बाद उन्होंने संगीत बनाया और अपना साथी लिखा। इसके बाद उन्होंने “दमन”, “गजगामिनी”, “सज”, “दर्मियां”, “क्यूं” आदि सुपरहिट फिल्मों में गाने दिए। भूपेन हजारिका ने अपने जीवनकाल में लगभग एक हजार गाने और 15 किताबें लिखीं। स्टार टीवी पर आने वाले सीरियल ‘डॉन’ को प्रोड्यूस किया।

उनके बेहतरीन गाने ‘दिल हूं हूं’, ‘ओ गंगा तू बहती है क्यों’, ‘जूठी मुठी मितवा’ आदि हैं। भूपेन हजारिका के लिखे गाने करोड़ों दिलों को छू गए। भूपेन हजारिका ने असमिया, हिंदी, बंगाली और कई अन्य भाषाओं में भी गाया। उन्होंने फिल्म “गांधी टू हिटलर” में महात्मा गांधी का पसंदीदा भजन “वैष्णव जन” गाया था।

भूपेन हजारिका को मिले पुरस्कार और सम्मान

2019 – भारत रत्न (मरणोपरांत)
2012 – पद्म विभूषण
2009 – असम रत्न पुरस्कार (असम सरकार का सर्वोच्च सम्मान और पुरस्कार)
2001 – पद्म भूषण
1992 – दादा साहब फाल्के पुरस्कार
1987 – संगीत नाटक अकादमी पुरस्कार
1977 – पद्मश्री
1975 – सर्वश्रेष्ठ संगीत निर्देशक का राष्ट्रीय पुरस्कार (फिल्म चमेली मेमसाहब)
1961 – सर्वश्रेष्ठ असमिया फिल्म का राष्ट्रीय पुरस्कार (भूपेन हजारिका द्वारा निर्देशित शकुंतला के लिए)

भूपेन हजारिका ब्रिज

असम में लोहित नदी (ब्रह्मपुत्र की एक सहायक नदी) पर बना देश का सबसे लंबा ढोला-सादिया पुल, जिसका 26 मई, 2017 को प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदी द्वारा अनावरण किया गया था, का नाम भूपेन हजारिका के नाम पर रखा गया था।

भूपेन हजारिका की मृत्यु

बहुमुखी प्रतिभा के धनी भूपेन हजारिका का 85 वर्ष की आयु में 5 नवंबर, 2011 को मुंबई में निधन हो गया।

भारतीय डाक विभाग ने 30 दिसंबर 2016 को देश के 10 प्रख्यात पार्श्व गायकों की स्मृति में 10 स्मारक डाक टिकटों का एक प्रतिशत जारी किया। उनमें से भूपेन हजारिका पर एक डाक टिकट था।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *