| | |

इमाम हुसैन की कहानी | इमाम हुसैन की हत्या क्यों की गई थी?

इमाम हुसैन की कहानी | इमाम हुसैन की हत्या क्यों की गई थी?-इमाम हुसैन साहब का जन्मदिन और उनके पिता, माता का नाम उनके चार लड़के और दो लड़कियों का नाम क्या है?

इमाम हुसैन की कहानी | इमाम हुसैन की हत्या क्यों की गई थी?
image credit-wikipedia

इमाम हुसैन की कहानी | इमाम हुसैन की हत्या क्यों की गई थी?

दोस्तों आज हम इस पोस्ट में इमाम हुसैन के बारे में बात करेंगे कि वे कौन थे, उनके माता-पिता का नाम क्या था? और उनके कितने लड़के थे, कितनी लड़कियां थीं? तो आप इस पोस्ट को अंत तक जरूर पढ़ें।

इमाम हुसैन का प्रारम्भिक जीवन

हज़रत इमाम हुसैन का जन्म इस्लामिक कैलेंडर के अनुसार मदीना, सऊदी अरब में 3 शाबान, 4 हिजरी (यानी 8 जनवरी 626 ईस्वी) को हुआ था और उनके पिता का नाम हज़रत इमाम अली इब्न तालिब हज़रत था। उनकी माता यानि वलीदा (माँ) हज़रत जनेबे बिनते फातिमा अली इब्न तालिब था, जब इमाम हुसैन ने इस्लाम का प्रसार शुरू किया, तब तक अरब के लगभग सभी कबीलों ने मुहम्मद के उपदेशों का पालन करते हुए इस्लाम धर्म स्वीकार किया था।

इमाम हुसैन kaa इतिहास

हज़रत हुसैन शाहब के 4 नवासे (बेटी के लड़के) (लड़के) और दो 2 नवासी (बेटी की लड़कियां) (लड़की) पहले नवासे (लड़के) का नाम हज़रत अली ज़ैनुल आबेदीन था, दूसरे नवासे (मुहम्मद की बेटी के बच्चे) (लड़के) का नाम हज़रत अली अकबर था, तीसरा नवासे (लड़का) था। लड़के का नाम हज़रत अली असगर चौथे नवासा (लड़के) का नाम ज़फ़र इब्न हुसैन था और पहले नवाशी-ए-रसूल (लड़की) का नाम हज़रत सैय्यदा बीबी शकीना था।

हजरत इमाम हुसैन मदीना छोड़कर इराक यानि कर्बला क्यों गए?

लगभग 22 दिनों तक रेगिस्तान की यात्रा करने के बाद, इमाम हुसैन (2 अक्टूबर 680 ईस्वी या 2 मुहर्रम 61 हिजरी) का काफिला इराक में उस स्थान पर पहुंचा जिसे कर्बला कहा जाता है। इमाम हुसैन के सभी सैनिक कर्बला में इमाम के पीछे आ गए थे, जैसे ही इमाम का डेरा डाला गया, यज़ीद की सेना हजारों की संख्या में पहुंचने लगी। शिविर को हटाने की घोषणा की और इस तरह अपने नापाक इरादों का जिक्र किया।

पांच दिन बाद यानी सात मुहर्रम पर नहर के किनारे पर कड़ा पहरा लगा दिया गया और इमाम हुसैन और उनके साथियों के परिवारों को नदी से पानी लेने पर रोक लगा दी गई। दो दिन बाद रेगिस्तान की भीषण गर्मी में पानी रुकते ही यजीदी सेनाओं ने इमाम के काफिले पर अचानक हमला बोल दिया. इमाम हुसैन ने यज़ीदी सेना से एक रात का समय मांगा ताकि वे अपने अल्लाह की इबादत कर सकें। यदीजी जानते थे कि प्यास उनकी शारीरिक और मानसिक स्थिति को और भी कमजोर कर देगी।

ALSO READ-मुहम्मद साहब की मृत्यु के बाद इस्लाम धर्म और उत्तराधिकारी

मुहर्रम में शोक क्यों मनाते हैं मुसलमान?

रात भर इमाम हुसैन, उनके परिवार के सदस्य और उनके साथी अल्लाह से दुआ करते रहे, इसी बीच इमाम हुसैन ने 9 मुहर्रम की रात को काला (अँधेरा) करने के लिए कहा, और उसके बाद सभी को बताया कि सभी प्रशंसाएं अल्लहा के लिए हैं, मैं इतना बहादुर नहीं हूं कि दुनिया में किसी के भी साथी उसके प्रति इतने वफादार हों। मैं समझता हूं कि दुनिया में कोई भी मेरे साथी के रूप में ऐसे रिश्तेदार नहीं ढूंढ सकता है, जैसे मेरे रिश्तेदार, कुलीन और वफादार मेरे रिश्तेदार हैं, भगवान आपको तौफीक आमीन देंगे, सावधान रहें कि कल दुश्मन निश्चित रूप से लड़ेंगे।

मैं खुशी-खुशी तुम्हें जाने देता हूँ जहाँ तुम्हारा दिल चाहता है, मैं तुम्हें कभी नहीं रोकूंगा। यजीदी सेना तो सिर्फ मेरे खून की प्यासी है, अगर वे मुझे पकड़ लेंगे तो तुम्हारी तलाश नहीं करेंगे। इसके बाद इमाम हुसैन ने सारे दीये बुझाने को कहा और कहा कि इस अंधेरे में तुम लोग जहां चाहो वहां जा सकते हो.

मैंने तुझ से वह कसम भी बापस ले ली, जो तुमने मेरे प्रति विश्वासयोग्य रहने के लिये ली थी। इस घटना के बारे में बात करते हुए, कोई भी इमाम को कर्बला में हर मौका देने के बाद भी छोड़ने के लिए तैयार नहीं हुआ। ज़ुहैन इब्न क़ैन जैसे बूढ़े साहब कहते हैं, ऐ इमाम हुसैन, अगर मैं अपनी जान नहीं खोता, तो मैं तुम्हें नहीं छोड़ूंगा, सभी साहबी और उनके सैनिक सब रुक जाते हैं और अचानक दसवीं मुहर्रम पर हमला कर देते हैं।

ALSO READ-इस्लाम का उदय कब हुआ ? The Rise Of Islam In Hindi

दास्तान-ए इमाम हुसैन

और इस लड़ाई में इमाम हुसैन साहब की मौत हो गई और साथ ही उनके लस्कर और उनके पोते अली असगर भी शहीद हो गए। इमाम हुसैन साहब ने अपनी गर्दन काट दी और पूरी दुनिया से कहा कि इस्लाम किसी के आगे झुक नहीं सकता। इस प्रकार इमाम हुसैन ने शहीद होकर इस्लाम की शान बचाई।

यजीदी ने कहा कि मुझे जो कहना है वह करना है, इसलिए कर्बला का युद्ध (680 ई.) हुआ।

दोस्तों अगर आपको यह जानकारी अच्छी लगी हो तो इसे शेयर जरूर करें और अगर आप हमसे इस्लामिक से जुड़ा कोई सवाल पूछना चाहते हैं तो ईमेल या कमेंट करें।

ALSO READ-पैगंबर की मृत्यु और दफन | Death and Burial of the Prophet

मुसलमान मुहर्रम क्यों मनाते हैं, तिथि, इतिहास और महत्व

कर्बला की लड़ाई

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *