| | | |

Rakshabandhan 2023-रक्षा बंधन 2023: तिथि, भद्रा समय, राखी बांधने का शुभ समय, राखी (रक्षा बंधन) का इतिहास

Share this Post

Rakshanbandhan 2023-राखी (रक्षा बंधन) महोत्सव का इतिहास-रक्षाबंधन भाई-बहन के रिश्तों का प्रसिद्ध त्योहार है, जिसे राखी के नाम से भी जाना जाता है। रक्षा बंधन में, रक्षा का अर्थ है सुरक्षा और बंधन का अर्थ है ‘बाध्य’। रक्षाबंधन में राखी या रक्षासूत्र का अत्यधिक महत्व है। राखी रंगीन कलाकृतियों, रेशम के धागों और यहां तक ​​कि सोने या चांदी जैसी महंगी वस्तुओं की भी हो सकती है। इस दिन बहनें अपने भाइयों को राखी बांधती हैं और भगवान से उनकी उन्नति के लिए प्रार्थना करती हैं।

Rakshanbandhan 2023-राखी (रक्षा बंधन) महोत्सव

हालाँकि आमतौर पर राखी बहनें अपने भाई को ही बांधती हैं, इसके अलावा ब्राह्मण, गुरु और परिवार में छोटी लड़कियों द्वारा सम्मानित रिश्तेदारों (जैसे पिता द्वारा बेटी) को भी राखी बांधी जाती है। आइए जानते हैं क्या है रक्षाबंधन का इतिहास और कब से मनाया जाने लगा।

‘रक्षा बंधन’ का पारंपरिक त्योहार यानी राखी लगभग 6000 साल पहले आर्यों के दौरान अपनी पहली सभ्यता की स्थापना के दौरान हुई थी। कई भाषाओं और संस्कृतियों में विविधता के कारण, राखी त्योहार मनाने के पारंपरिक रीति-रिवाज और रीति-रिवाज पूरे भारत में एक क्षेत्र से दूसरे क्षेत्र में भिन्न होते हैं।

Rakshabandhan 2023-रक्षा बंधन 2023: तिथि, भद्रा समय, राखी बांधने का शुभ समय

रक्षा बंधन कब है? राखी बांधने की सही तारीख

रक्षा बंधन कब आता है और राखी बांधने के लिए सबसे उपयुक्त दिन का सवाल अक्सर उठता है। इस हृदयस्पर्शी अनुष्ठान की शुभ अवधि के साथ-साथ राखी बांधने के लिए अशुभ भद्रा समय को समझना बहुत महत्व रखता है। यहां रक्षा बंधन और उससे जुड़े विवरणों पर एक विस्तृत नज़र डाली गई है।

रक्षा बंधन 2023 तिथि: महत्व पर एक नज़र

रक्षा बंधन, जिसे आमतौर पर राखी के नाम से जाना जाता है, हिंदू धर्म में एक विशेष स्थान रखता है। प्रत्येक वर्ष यह प्रिय त्योहार सावन माह की पूर्णिमा के दिन मनाया जाता है। इस अवसर पर बहनें अपने भाइयों की कलाइयों को राखियों से सजाती हैं और उनकी लंबी उम्र के लिए प्रार्थना करती हैं। “रक्षा बंधन” शब्द की उत्पत्ति संस्कृत से हुई है, जहां ‘रक्षा’ का अर्थ है “रक्षा करना” और ‘बंधन’ का अर्थ है “बांधना।” आइए इस वर्ष के रक्षा बंधन उत्सव की तारीख के बारे में जानें।

रक्षाबंधन पर भद्रा का साया

रक्षा बंधन आम तौर पर सावन महीने की पूर्णिमा के दिन मनाया जाता है। 2023 में सावन की पूर्णिमा 30 अगस्त को है। फिर भी, भद्रा की छाया – एक अशुभ समय – इस दिन पर प्रभाव डालती है, जिससे इस अवधि के दौरान राखी बांधना अशुभ हो जाता है। नतीजतन, रक्षा बंधन 30 और 31 अगस्त को दो दिनों तक चलता है। हिंदू कैलेंडर के अनुसार, भद्रा 30 अगस्त को सुबह 10:58 बजे से रात 09:01 बजे तक रहेगी।

Also Read- Happy Onam : क्यों मनाया जाता है ओणम का त्योहार? जानिए धार्मिक महत्व, शुभ मुहूर्त, और ओणम 2023 शुभकामना सन्देश

राखी बांधने का सर्वोत्तम समय

सावन की पूर्णिमा 30 अगस्त को सुबह 10:58 बजे शुरू होगी और 31 अगस्त को सुबह 07:05 बजे समाप्त होगी। भद्रा समाप्त होने से राखी बांधने का शुभ समय 30 अगस्त की रात 9 बजे के बाद आएगा। 31 अगस्त को सूर्योदय से प्रातः 07:05 बजे तक का समय इस हार्दिक भाव के लिए शुभ है। भद्रा की उपस्थिति इस समय स्लॉट को प्रभावित नहीं करती है। संक्षेप में, भद्रा के प्रभाव के कारण रक्षा बंधन 30 और 31 अगस्त दोनों दिन मनाया जाएगा।

राखी बांधने की विधि और मंत्र

सावन पूर्णिमा (पूर्णिमा) के दिन, स्नान करके और साफ कपड़े पहनकर शुरुआत करें। देवी-देवताओं के प्रति श्रद्धा रखें और उनका आशीर्वाद लें।

  • राखी, अक्षत, रोली या सिन्दूर को किसी बर्तन में चांदी, पीतल या तांबे की थाली में रखें।
  • इस थाली को अपने पूजा स्थल पर रखें और पहली राखी बाल गोपाल या अपने चुने हुए देवता को अर्पित करें।
  • राखी बांधते समय यह सुनिश्चित करें कि आपके भाई का मुख पूर्व दिशा की ओर हो।
  • समारोह के दौरान भाई अपने सिर पर रूमाल या कपड़ा रख सकते हैं।
  • बहनें अपने भाई के माथे पर रोली का टीका लगाकर शुरुआत करती हैं।
  • भाई को आशीर्वाद स्वरूप टीका लगाकर अक्षत छिड़कें।
  • बुरी नजर से बचने के लिए दीपक से आरती करें।
  • कुछ बहनें अपने भाइयों की आंखों में काजल लगाती हैं।
  • मंत्र का जाप करते हुए राखी का पवित्र धागा भाई की दाहिनी कलाई पर बांधें। इससे धागे में सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है।
  • भाई-बहनों के बीच मिठाइयों का आदान-प्रदान होता है, जिससे उनके रिश्ते में मधुरता आती है।
  • यदि भाई बड़ा है तो बहनें उसके पैर छू सकती हैं; अगर बहनें बड़ी हैं तो भाई भी इसी तरह आशीर्वाद ले सकते हैं।
  • भाई अक्सर अपनी बहन की सुख-समृद्धि की कामना करते हुए उसे कपड़े, गहने या पैसे देते हैं।

राखी (रक्षा बंधन) महोत्सव का इतिहास

हिंदू त्योहार रक्षा बंधन के उत्सव के संबंध में भारतीय इतिहास में कई ऐतिहासिक साक्ष्य मौजूद हैं।

भगवान कृष्ण और द्रौपदी की कहानी

पृथ्वी पर धर्म की रक्षा के लिए भगवान कृष्ण ने शैतान राजा शिशुपाल का वध किया था। भगवान कृष्ण युद्ध में घायल हो गए और खून बहने वाली उंगली के साथ चले गए। द्रौपदी ने अपनी उंगली से खून बहता देख अपनी साड़ी की एक पट्टी फाड़ दी थी और खून बहने से रोकने के लिए अपनी घायल उंगली के चारों ओर बांध दिया था।

भगवान कृष्ण ने उनकी चिंता और स्नेह को महत्व दिया है। वह अपनी बहन के प्यार और करुणा से बंधा हुआ महसूस करता था। उन्होंने उसके भविष्य में कृतज्ञता का कर्ज चुकाने का संकल्प लिया। पांडवों ने कई वर्षों के बाद कुटिल कौरवों के हाथों पासा के खेल में अपनी पत्नी द्रौपदी को खो दिया। कौरवों ने द्रौपदी की साड़ी को खींचने का प्रयास किया था, इसी समय भगवान कृष्ण ने प्रकट होकर अपनी दिव्य शक्तियों के द्वारा द्रौपदी की इज़्ज़त की रक्षा की थी। इस प्रकार उन्होंने रक्षा के दिए बचन का पालन किया था।

राजा बलि और देवी लक्ष्मी

राक्षस राजा महाबली भगवान विष्णु के कट्टर भक्त थे। अपनी अपार भक्ति के कारण, भगवान विष्णु ने विकुंदम में अपने सामान्य निवास स्थान को छोड़कर बाली के राज्य की रक्षा करने की जिम्मेदारी ली। भगवान विष्णु की पत्नी यानी देवी लक्ष्मी बहुत दुखी हो गईं। वह अपने पति भगवान विष्णु के साथ रहना चाहती थी। इसलिए वह ब्राह्मण महिला के वेश में राजा बलि के पास गई और उनके महल में शरण ली। उन्होंने श्रावण पूर्णिमा नामक पूर्णिमा के दिन राजा बलि की कलाई पर राखी बांधी।

बाद में देवी लक्ष्मी ने खुलासा किया कि वह वास्तव में कौन थीं और क्यों आई थीं। राजा उसके और भगवान विष्णु की सद्भावना और उसके और उसके परिवार के प्रति स्नेह से प्रभावित हुए। बाली ने भगवान विष्णु से अपनी पत्नी के साथ वैकुंठम जाने का अनुरोध किया। ऐसा माना जाता है कि उस दिन से श्रावण पूर्णिमा पर अपनी बहन को राखी या रक्षा बंधन का शुभ धागा बांधने के लिए आमंत्रित करने की परम्परा बन गई है।

रानी कर्णावती और सम्राट हुमायूँ की कहानी

रानी कर्णावती एक राजपूत रानी और मुगल सम्राट हुमायूं की कहानी इतिहास में सबसे प्रामाणिक साक्ष्य है। मध्यकाल में, राजपूत शासक मुस्लिम आक्रमणों से अपने राज्य की रक्षा के लिए लड़ रहे थे। उस समय से, रक्षा बंधन का अर्थ है अपनी बहन की प्रतिबद्धता और सुरक्षा सबसे महत्वपूर्ण।

रानी कर्णावती चित्तौड़ के राजा की विधवा रानी थीं। उसने महसूस किया कि वह गुजरात के सुल्तान बहादुर शाह के आक्रमण से अपने राज्य की रक्षा करने में सक्षम नहीं थी। उसने मुगल सम्राट हुमायूं को राखी का धागा भेजा। सम्राट ने कर्णवती का रक्षा का अनुरोध पाकर और बिना समय बर्बाद किए अपने सैनिकों के साथ चित्तौड़ की रक्षा के चल पड़ा ताकि एक बहन की रक्षा कर सके।

सिकंदर महान और राजा पुरु की कहानी

राखी त्योहार के इतिहास के सबसे पुराने संदर्भों में से एक 326 ईसा पूर्व का है। उस समय के दौरान जब सिकंदर ने भारत पर आक्रमण किया था। ऐसा माना जाता है कि महान विजेता, मैसेडोनिया के राजा सिकंदर ने रक्षा के अपने पहले प्रयास में भारतीय राजा पुरु के क्रोध का अनुभव किया था। अपने पति की दुर्दशा देखकर सिकंदर की पत्नी, जो राखी के त्योहार से अवगत थी, राजा पुरु के पास गई। राजा पुरु ने उन्हें अपनी राखी बहन के रूप में स्वीकार किया और उन्होंने सिकंदर के खिलाफ युद्ध से परहेज किया।

शुभ मुहूर्त में ही बांधें राखी

ये थी भगवान कृष्ण से जुड़ी एक दिलचस्प घटना। आपको बता दें कि इस रक्षा बंधन पर आपके भाई को रक्षा का धागा बांधने के लिए अधिक समय मिल रहा है। हिन्दू पंचांग के अनुसार रक्षा सूत्र यानि राखी बांधने का शुभ मुहूर्त सुबह 10 बजे से 38 मिनट रात 9 बजे तक है। इस दौरान बहनें अपने भाई की कलाई पर राखी बांध सकती हैं।

sources: www.historystudy.in,

amarujala. zee news india

Share this Post

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *