|

महमूद गजनवी (971 ई. से 1030 ई.)

महमूद गजनवी (971 ई. से 1030 ई.)-गजनी का महमूद, जिसे गजनी के महमूद (2 नवंबर 971 सीई – 30 अप्रैल 1030 सीई), महमूद-ए-जबूली के नाम से भी जाना जाता है, एक प्रमुख गजनवी शासक था जिसने 997 से 1030 में अपनी मृत्यु तक शासन किया था। महमूद गजनवी गजनी का शासक था। जिन्होंने 971 से 1030 ई. तक शासन किया। वह सुबक्तगिन का पुत्र था। भारत की दौलत से आकर्षित होकर गजनवी ने कई बार भारत पर आक्रमण किया। वास्तव में गजनवी ने भारत पर 17 बार आक्रमण किया। उसके हमले का मुख्य मकसद भारत की संपत्ति को लूटना था।

महमूद गजनवी गजनी का शासक था जिसने 971 से 1030 ईस्वी तक शासन किया था। वह सुबक्तगिन का पुत्र था। भारत की दौलत से आकर्षित होकर गजनवी ने कई बार भारत पर आक्रमण किया। वास्तव में गजनवी ने भारत पर 17 बार आक्रमण किया। उसके हमले का मुख्य मकसद भारत की संपत्ति को लूटना था।

1000 ई. में महमूद गजनी के आक्रमण: महमूद गजनी ने सबसे पहले 1000 ई. में आधुनिक अफगानिस्तान और पाकिस्तान पर आक्रमण किया। उन्होंने हिंदू शासक जय पाल को हराया, जिन्होंने बाद में आत्महत्या कर ली और उनके पुत्र आनंदपाल उनका उत्तराधिकारी बना।

महमूद गजनवी (971 ई. से 1030 ई.)

  • 1005 ई. में गजनी ने भाटिया पर आक्रमण किया।
  • गजनी ने 1006 ई. में मुल्तान पर आक्रमण किया। इसी दौरान आनंदपाल ने उन पर हमला कर दिया।
  • 1007 ई. में गजनी के महमूद ने भटिंडा के शासक सुखपाल पर आक्रमण कर उसे कुचल दिया।
  • गजनी ने 1011 ई. में पंजाब की पहाड़ियों में नगरकोट पर आक्रमण किया।
  • महमूद ने आनंदपाल के शाही राज्य पर आक्रमण किया और 1013 ईस्वी में पेशावर के पास हिंद शाही राजधानी में वाहिंद की लड़ाई में उसे हरा दिया।
  • गजनी के महमूद ने 1014 ई. में थानेसर पर अधिकार कर लिया।
  • गजनी के महमूद ने 1015 ई. में कश्मीर पर आक्रमण किया।
    इसने 1018 ईस्वी में मथुरा पर आक्रमण किया और चंद्र पाल नामक शासक सहित शासकों के एक गठबंधन को हराया।
  • महमूद गजनवी ने 1021 ई. में कन्नौज के शासक चंदेल गौर को पराजित कर कन्नौज को जीत लिया।
  • 1023 ई. में महमूद गजनी ने ग्वालियर पर आक्रमण कर उस पर अधिकार कर लिया।
  • गजनी के महमूद ने 1025 ईस्वी में सोमनाथ मंदिर पर हमला किया ताकि मंदिर के अंदर की संपत्ति को लूट कर एकत्र किया जा सके।
  • अपने अंतिम आक्रमण (1030) के समय महमूद गजनवी की मलेरिया के कारण मृत्यु हो गई थी।

महमूद गजनवी ने भारत पर आक्रमण क्यों किया?

वह भारत के महान धन से आकर्षित था। इसीलिए उसने एक के बाद एक भारत पर हमला बोला। इसने भारत पर आक्रमण के दौरान एक धार्मिक आयाम भी जोड़ा। गजनी सोमनाथ, कांगड़ा, मथुरा और ज्वालामुखी के मंदिरों को नष्ट करके “आइडल टॉड” के रूप में एक नाम कमाना चाहता था।

गजनवी के आक्रमणों का भारत पर प्रभाव

यद्यपि गजनवी के आक्रमणों का भारत पर कोई स्थायी राजनीतिक प्रभाव नहीं पड़ा है। मगर महमूद के इन आक्रमणों ने भारत के राजपूत राजाओं की युद्ध रणनीतियों की खामियों को उजागर किया। इससे आगे पता चला कि भारत में कोई राजनीतिक एकरूपता नहीं थी और इस बात ने भविष्य में और अधिक हमलों का आह्वान किया।

Related Article-

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *