| |

कम बजट में केदारनाथ धाम की यात्रा कैसे करें? जानिए पूरी जानकारी हिंदी में

    आज के इस ब्लॉग में मैं आपको “कम लागत में केदारनाथ मंदिर कैसे जाएं” के बारे में सब कुछ बताने जा रहा हूं। यहाँ मैंने भोजन, आवास, टैक्सी और बस का किराया आदि सभी चीजों का उल्लेख किया है, लेकिन मैं आपको इस ब्लॉग में कम कीमत पर हरिद्वार से केदारनाथ मंदिर यात्रा पूरी करने की जानकारी दूंगा।

कम बजट में केदारनाथ धाम की यात्रा कैसे करें? जानिए पूरी जानकारी हिंदी में
image credit-hitc.com

   अगर आप हरिद्वार के अलावा देश के किसी भी कोने से केदारनाथ धाम के दर्शन करने जा रहे हैं, तो आपको अपने शहर और वापस हरिद्वार जाने के खर्च के बारे में अच्छी तरह से जानकारी होनी चाहिए, ताकि मैं हरिद्वार से केदारनाथ जा सकूं और केदारनाथ के दर्शन कर सकूं। मैं आपको केदारनाथ से वापस हरिद्वार आने का खर्चा बताऊंगा ताकि आप अपने हिसाब से बजट तैयार कर सकें। आइए अब विस्तार से जानते हैं कि कम खर्च में केदारनाथ मंदिर के दर्शन कैसे करें?

कम खर्च में हरिद्वार से केदारनाथ मंदिर की यात्रा कैसे करें?

   सबसे पहले आपको पता होना चाहिए कि केदारनाथ मंदिर के दर्शन करने के लिए सबसे पहले आपको हरिद्वार जाना होगा, जो दिल्ली जैसे देश के प्रमुख शहरों से सड़क और रेल मार्ग से बहुत अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। हरिद्वार पहुंचने के लिए आप ट्रेन और बस दोनों की कोई भी सुविधा ले सकते हैं।

    हरिद्वार से केदारनाथ मंदिर पहुंचने के लिए सोनप्रयाग तक नियमित बस सेवा है, जिसकी लागत लगभग ₹800 प्रति व्यक्ति है। अगर आप केदारनाथ मंदिर के दर्शन के लिए बस, टैक्सी या अपनी कार से जाते हैं, तो आपको अपनी कार सोनप्रयाग में ही खड़ी करनी होगी और सोनप्रयाग से गौरीकुंड के बीच 5 किमी की दूरी तय करनी होगी। आपको टैक्सी से यात्रा पूरी करनी होगी।

    अब आप सोच रहे होंगे कि जब कोई सोनप्रयाग से गौरीकुंड टैक्सी जा सकता है, तो हमारी अपनी कार, किराये की टैक्सी, शेयर टैक्सी या बस क्यों नहीं। इसका कारण यह है कि सोनप्रयाग से गौरीकुंड तक जो टैक्सी चलती है, वह टैक्सी वहां की स्थानीय है और वहां के स्थानीय लोग टैक्सी, बस और यहां तक ​​कि दूसरों की कार आदि लेकर गौरीकुंड तक अपनी आमदनी कमाते हैं। उन्हें सोनप्रयाग से गौरीकुंड तक अपनी टैक्सी न चलाने दें, जिसका किराया लगभग ₹30 है।

दिन-1 (हरिद्वार से सोनप्रयाग)-

पहले दिन आप सुबह हरिद्वार से बस पकड़ कर सोनप्रयाग जा सकते हैं, जिसका एक व्यक्ति का किराया लगभग ₹800 है, लेकिन ध्यान रहे कि जिस दिन आप हरिद्वार पहुंचे हैं, उसी दिन हरिद्वार से सोनप्रयाग के लिए बस का टिकट बुक करा लें। उसी दिन शाम को। क्योंकि केदारनाथ मंदिर दर्शन के मौसम में सुबह हरिद्वार से सोनप्रयाग जाने वाली बस में जगह ही नहीं बची और भीड़भाड़ के कारण उस दिन सोनप्रयाग के लिए बस भी नहीं मिलती।

बस न मिलने के झंझट से बचने के लिए सोनप्रयाग जाने से एक दिन पहले बस का टिकट बुक कर लें ताकि आप समय पर सोनप्रयाग पहुंच सकें और रात भर ठहरने आदि के लिए जगह ढूंढ सकें।

हरिद्वार से सोनप्रयाग जाने के लिए सुबह 4 बजे बस खुलनी शुरू हो जाती है, इसलिए आपको हरिद्वार से सोनप्रयाग जाने के लिए जल्द से जल्द बस पकड़नी चाहिए। सोनप्रयाग पहुंचने के बाद आपको सबसे पहले बायोमेट्रिक पंजीकरण कार्यालय में जाना होगा ताकि बायोमेट्रिक पंजीकरण हो सके क्योंकि बायोमेट्रिक पंजीकरण कार्यालय शाम 5 बजे के बाद बंद हो जाता है और फिर सुबह 5 बजे खुलता है।

यदि आप सोनप्रयाग के दिन शाम के बजाय अगले दिन सुबह अपना बायोमेट्रिक पंजीकरण करवाते हैं, तो आपको कार्यालय के बाहर लाइन में खड़ा होना पड़ सकता है और उसके बाद आपको लंबी कतारों में भी खड़ा होना पड़ेगा। सोनप्रयाग से गौरीकुंड जाने के लिए टैक्सी। इस वजह से आपको केदारनाथ पहुंचने में काफी समय लग सकता है।

अगर आप सुबह बायोमेट्रिक रजिस्ट्रेशन करवाने में देर करते हैं तो केदारनाथ मंदिर पहुंचने में आपको अंधेरा हो सकता है, क्योंकि गौरीकुंड से केदारनाथ मंदिर की दूरी करीब 16-18 किमी है। है। यह 16-18 किमी. आपको पैदल ही ट्रेकिंग करके दूरी पूरी करनी होगी। यह 16-18 किमी. आप जितनी देर से केदारनाथ की दूरी तय कर पहुंचेंगे, वहां आपको होटल उतना ही महंगा मिलेगा।

यदि आप उपरोक्त सभी समस्याओं से छुटकारा पाना चाहते हैं, तो जब आप शाम 5 बजे से पहले हरिद्वार से सोनप्रयाग पहुँचते हैं, तो आपको उसी समय बायोमेट्रिक पंजीकरण करवाना चाहिए।

बॉयोमीट्रिक रजिस्ट्रेशन करवाने के बाद आप सोनप्रयाग में एक होटल की जगह एक डॉरमेटरी लेकर रात भर रुक सकते हैं, जिसकी कीमत करीब ₹250 है। डॉर्मिटरी में ठहरने वाले पर्यटकों और तीर्थयात्रियों को एक गद्दा, तकिया और कंबल या रजाई दी जाती है। अगर आप सस्ते में केदारनाथ की यात्रा करना चाहते हैं, तो आपको डॉरमेटरी में ही रात भर रुकना चाहिए। सोनप्रयाग के किसी एक रेस्तरां में भोजन करने के बाद, आप अपनी रात छात्रावास में बिता सकते हैं। छात्रावास में भी आपको केदारनाथ मंदिर के दर्शन करने वाले कई तीर्थयात्री मिल जाएंगे।

दूसरा दिन (सोनप्रयाग से गौरीकुंड और गौरीकुंड से केदारनाथ मंदिर) –

सोनप्रयाग से गौरीकुंड जाने के लिए आपको सुबह 3 या 4 बजे सोनप्रयाग के टैक्सी स्टैंड पर जाना चाहिए, नहीं तो सोनप्रयाग के टैक्सी स्टैंड पर जाने में जितनी देर होगी, केदारनाथ मंदिर पहुंचने में उतनी ही देरी होगी। इसलिए आप सुबह 3 या 4 बजे सोनप्रयाग के टैक्सी स्टैंड पर जाएं और वहां से टैक्सी लेकर गौरीकुंड पहुंचकर केदारनाथ की यात्रा शुरू करें। गौरीकुंड से केदारनाथ मंदिर की दूरी करीब 16-18 किलोमीटर है। है। अगर आप कम खर्चे में केदारनाथ मंदिर जाना चाहते हैं तो आपको पैदल चलकर गौरीकुंड से केदारनाथ मंदिर तक की यात्रा पूरी करनी होगी।

गौरीकुंड से केदारनाथ मंदिर तक पैदल यात्रा करते हुए, आपको कई युवा और बूढ़े, विशेष रूप से बूढ़ी महिलाएं मिल जाएंगी, जिनके साथ आप भगवान शिव की जय-जयकार करते हुए केदारनाथ मंदिर तक आसानी से पहुंच सकते हैं।

नोट :- केदारनाथ के रास्ते में पीने के पानी और खाने के लिए रेस्टोरेंट की व्यवस्था की गई है। रास्ते में जगह-जगह बाथरूम की भी व्यवस्था है।

भगवान शिव के भक्तों को शाम 5 बजे के बाद केदारनाथ मंदिर में स्थापित भगवान शिव के शिवलिंग के दर्शन करने की अनुमति नहीं है। शाम 5 बजे के बाद आपको केदारनाथ मंदिर के बाहर से शिवलिंग के दर्शन करने होंगे। इसलिए अगर आप शाम 5 बजे से पहले केदारनाथ मंदिर पहुंचते हैं तो शिवलिंग के दर्शन कर सकते हैं, नहीं तो सुबह फिर से शिवलिंग के दर्शन करने की अनुमति मिल जाएगी।

केदारनाथ पहुंचने के बाद आप वहां एक टेंट में रुकते हैं, जिसका 24 घंटे का किराया करीब ₹300 है। अगर आपको टेंट नहीं मिल रहा है, तो आप वहां एक GMVN होटल में रुक सकते हैं, जिसकी कीमत ₹500 प्रति व्यक्ति है। केदारनाथ मंदिर के आसपास के रेस्टोरेंट और होटलों में खाना थोड़ा महंगा है। वहां आपको नाश्ते के लिए ₹100 और रात के खाने/दोपहर के भोजन के लिए ₹150 देने पड़ सकते हैं।

रात को खाना खाने के बाद आप जल्दी सो जाएं और सुबह जल्दी उठकर भगवान शिव के दर्शन करने जाएं, क्योंकि मंदिर के बाहर सुबह 3 बजे से दर्शन के लिए लाइन लगती है।

तीसरा दिन (केदारनाथ से गौरीकुंड और गौरीकुंड से सोनप्रयाग) –

केदारनाथ मंदिर के दर्शन करने के बाद सुबह नाश्ता करके गौरीकुंड की यात्रा शुरू करें। अगर आप शाम को गौरीकुंड आते हैं या फिर अंधेरा हो जाता है तो घबराने की बात नहीं है, क्योंकि गौरीकुंड से सोनप्रयाग के बीच शेयर टैक्सी की आवाजाही रात 10 बजे तक होती है। केदारनाथ मंदिर से गौरीकुंड आने के बाद आप वहां से सोनप्रयाग के लिए साझा टैक्सी पकड़ सकते हैं।

सोनप्रयाग आने के बाद आप वहां जीएमवीएन द्वारा उपलब्ध कराया गया कोई छात्रावास या होटल ले सकते हैं और किसी भी रेस्तरां में भोजन करने के बाद उसी छात्रावास या होटल में रात भर रुक सकते हैं।

दिन-4 (सोनप्रयाग से हरिद्वार)-

सोनप्रयाग आदि में नाश्ता करने के बाद आप वहां से हरिद्वार के लिए बस पकड़ सकते हैं। अगर हरिद्वार आने के बाद वहां से आपके शहर के लिए बस या ट्रेन की सुविधा है तो आप अपने शहर के लिए निकल सकते हैं या हरिद्वार में होटल ले सकते हैं और सुबह नाश्ता कर अपने शहर के लिए बस या ट्रेन पकड़ सकते हैं। कर सकते हैं।

हरिद्वार से केदारनाथ मंदिर और वापस हरिद्वार जाने का कुल खर्च –

दिन-1 (हरिद्वार से सोनप्रयाग)-

हरिद्वार – सोनप्रयाग (बस) – ₹800

दोनों पक्ष – ₹ 800 + ₹ 800 = ₹ 1600

नाश्ता (₹ 50) + दोपहर का भोजन (₹ 100) + रात का खाना (₹ 100) = ₹ 250

सोनप्रयाग (रात भर छात्रावास में रहना) – ₹250

दूसरा दिन (सोनप्रयाग से गौरीकुंड और गौरीकुंड से केदारनाथ मंदिर) –

सोनप्रयाग – गौरीकुंड (टैक्सी) – ₹ 30

दोनों पक्ष – ₹ 30 + ₹ 30 = ₹ 60

गौरीकुंड से केदारनाथ मंदिर –

नाश्ता – ₹100 + दोपहर का भोजन – ₹150 + रात का खाना – ₹150) = ₹400 (केदारनाथ मंदिर के पास खाने-पीने की कीमत थोड़ी महंगी है।)

टेंट (केदारनाथ मंदिर के पास) – ₹300

या जीएमवीएन होटल – ₹500 (केदारनाथ मंदिर)

तीसरा दिन (केदारनाथ से गौरीकुंड और गौरीकुंड से सोनप्रयाग) –

केदारनाथ मंदिर – गौरीकुंडी

नाश्ता – ₹ 100 (केदारनाथ) + दोपहर का भोजन – ₹ 100 + रात का खाना ₹ 100 (सोनप्रयाग) = ₹ 300

सोनप्रयाग (रात भर छात्रावास में रहना) – ₹250

या जीएमवीएन होटल – ₹400 (सोनप्रयाग)

दिन-4 (सोनप्रयाग से हरिद्वार)-

नाश्ता – ₹ 100 (सोनप्रयाग) + दोपहर का भोजन – ₹ 100 + रात का खाना – ₹ 150 (हरिद्वार) = ₹ 350

हरिद्वार में होटल – ₹ 700-800

नोट:- मैंने सोनप्रयाग से हरिद्वार का किराया बस से जोड़ा है। तो चलिए अब जोड़ लेते हैं हरिद्वार से केदारनाथ मंदिर की यात्रा का पूरा खर्चा।

यदि आप सोनप्रयाग से हरिद्वार आकर उसी दिन अपने शहर के लिए निकलते हैं तो आपके लिए हरिद्वार में होटल का किराया बच जाएगा।

दिन -1 – ₹ 1600 (बस) + ₹ 250 (भोजन) + ₹ 250/400 (सोनप्रयाग छात्रावास/जीएमवीएन में होटल) = ₹ 2100/2250

दिन -1 की कुल लागत ₹ 2250 मानी जाती है, इसलिए यदि सोनप्रयाग में छात्रावास उपलब्ध नहीं है, तो आप जीएमवीएन होटल में रात भर रुक सकते हैं।

दिन – 2 – ₹ 60 (टैक्सी) + ₹ 400 (भोजन) + ₹ 300/500 (टेंट/जीएमवीएन होटल – केदारनाथ मंदिर के पास) = ₹ 760/960

मान लें कि दिन-2 का कुल बजट ₹950 है।

दिन – 3 – ₹ 300 (भोजन) + ₹ 250/400 (सोनप्रयाग में छात्रावास/जीएमवीएन होटल) = ₹ 550/700

मान लें कि दिन-3 का कुल बजट ₹700 है।

दिन – 4 – ₹ 350 (भोजन) + ₹ 800 (होटल) = ₹ 1150

कुल खर्च – दिन-1 (₹ 2250) + दिन-2 (₹ 950) + दिन-3 (₹ 700) + दिन-4 (₹ 1150) = ₹ 5050

यानी आप ₹5000 में हरिद्वार से केदारनाथ मंदिर की यात्रा कर सकते हैं। अगर आप हरिद्वार से होटल लेने के बजाय चौथे दिन अपने शहर के लिए निकलते हैं, तो आपकी लगभग ₹700-800 की बचत होगी।

आशा है कि आपको “कम लागत में केदारनाथ मंदिर के दर्शन कैसे करें” के बारे में दी गई जानकारी पसंद आई होगी। अगर आपके मन में इस पोस्ट से संबंधित कोई सवाल है तो आप हमें कमेंट बॉक्स में पूछ सकते हैं। मैं निश्चित रूप से आपको जवाब देने की कोशिश करूंगा।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *