| |

सऊदी प्रिंस की अबाया को लेकर नई घोषणा,सऊदी क्राउन प्रिंस का कहना है कि अबाया जरूरी नहीं है | Saudi crown prince says abaya not necessary

यह स्वयं इस देश की महिलाओं को तय करना चाहिए कि उन्हें किस प्रकार के वस्त्र धारण करने चाहिए, जब तक कि वह सभ्य और सम्मानजनक और शालीन हों।

सऊदी क्राउन प्रिंस का कहना है कि अबाया जरूरी नहीं है
फोटो -gulfnews.com


रियाद: सऊदी अरब में महिलाओं को हेडकवर या काला अबाया ( जिससे सिर को ढंका जाता है ) पहनने की ज़रूरत नहीं है – ढीले-ढाले, पूरी लंबाई के कपड़े इस्लामिक धर्म परायणता के प्रतीक हैं – जब तक कि उनकी पोशाक “सभ्य और सम्मानजनक” है, राज्य के सुधार-दिमाग वाले क्राउन प्रिंस ने कहा।

सऊदी के युवा सुधारवादी राजकुमार मोहम्मद बिन सलमान के सत्ता में आने के बाद से देश में महिलाओं की स्वतंत्रता और अधिकारों में क्रमिक वृद्धि देखी गई है। हाल ही में, खेल स्टेडियमों में खेल देखने के साथ-साथ महिलाओं को मिश्रित खेलों में भाग लेने की अनुमति दी गई थी। इसके अतिरिक्त, महिलाएं भी इस गर्मी की शुरुआत से सऊदी में कार चलाने में सक्षम होंगी। इस देश ने जिस तरह से महिलाओं के प्रति सुधारवादी रवैया अपनाया है, वह निश्चित रूप से उत्साहजनक है और यह भविष्य में बहुत सकारात्मक परिणाम लाएगा।

यह एक प्रशंसनीय कदम माना जाना चाहिए कि एक परंपरागत रूप से कठोर इस्लामिक नियमों के मानने वाले रूढ़िवादी देश में आधुनिकीकरण की दिशा में एक नई पहल का होना इस देश के प्रगतिशील प्रवृत्ति के प्रमाण के रूप में इतिहास में दर्ज होगा और इन परिवर्तनों का स्वागत किया गया है।

  शरिया (इस्लामी कानून) के कानूनों में कानून बहुत स्पष्ट और निर्धारित हैं: कि महिलाएं पुरुषों की तरह सभ्य, सम्मानजनक कपड़े पहनती हैं …”


                                                – सऊदी क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान

    मोहम्मद ने रविवार देर रात प्रसारित सीबीएस टेलीविजन के साथ एक साक्षात्कार में कहा, “कानून बहुत स्पष्ट हैं और शरिया (इस्लामी कानून) के कानूनों में निर्धारित हैं: महिलाएं पुरुषों की तरह सभ्य, सम्मानजनक कपड़े पहनती हैं।”

”  “यद्यपि, यह एक विशेष प्रकार का वस्त्र जिसे अबाया या एक काला कपड़ा जिससे सिर को ढका जाता है ऐसा किसी ग्रंथ में निर्देशित अथवा बाध्य नहीं है। अब यह निर्णय पूरी तरह महिलाओं पर निर्भर करता है कि उन्हें किस प्रकार कर वस्त्र धरण करने है जिससे वह शालीन और सभ्य लगें। “

       एक वरिष्ठ मौलवी ने पिछले महीने कहा था कि महिलाओं को शालीन कपड़े पहनने चाहिए, लेकिन इसके लिए अभय पहनना जरूरी नहीं था।

 “”यद्यपि, यह एक विशेष प्रकार का कला वस्त्र होता है और सिर को ढंकने के लिए प्रयोग किया जाता है मगर ऐसा कोई धार्मिक निर्देश नहीं है की यह प्रयोग करना ही होगा अब यह पूर्णतया महिलाओं पर निर्भर है कि वे किस प्रकार के सभ्य और सम्मानजनक पोशाक पहनना पसंद करती हैं।”


                                    – सऊदी क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान

अभी यह स्पष्ट तौर पर नहीं कहा जा सकता है कि क्या ये बयान इस रूढ़िवादी देश में महिलाओं के ड्रेस कोड को लागू करने में किस प्रकार के बदलाव का संकेत के रूप में सामने आते हैं। यह भविष्य में तय होगा कि ये सुधार कितने प्रभावशाली सिद्ध होंगें।

प्रिंस ने स्पष्ट किया कि सऊदी अरब के पास शरिया बनाने वाले धार्मिक ग्रंथों ऐसा कोई विशेष ड्रेस कोड नहीं है जिसका पालन करना महिलाओं को अनिवार्य हो और पुलिस और न्यायपालिका ने लंबे समय से एक कठोर वस्त्र कोड लागू किया है जिसमें सऊदी महिलाओं को अबाय पहनने और कई मामलों में अपने बालों और चेहरे को ढंकने की आवश्यकता होती है।

लेकिन दशकों के बुजुर्ग शासकों के बाद 32 वर्षीय क्राउन प्रिंस के सत्ता में आने के साथ देश ने सामाजिक स्वतंत्रता का एक साहसिक नया माहौल देखा है।

सऊदी क्राउन प्रिंस का कहना है कि अबाया जरूरी नहीं है
PHOTO CREDIT-gulfnew.com

अभी के हाल समय में सऊदी में यह बात सामने आई है कि सऊदी में महिलाओं ने पारम्परिक हल्के नील और गुलाबी तथा काले अबाया के स्थान पर अधिक चटकीले रंगों वाले के अबाया पहनना शुरू कर दिया है,

देश के कुछ हिस्सों में लंबी स्कर्ट या जींस के ऊपर खुले अबाय भी आम होते जा रहे हैं।

8 मार्च को, सऊदी शहर जेद्दा में महिलाओं के एक समूह ने अपनी नई अधिग्रहीत स्वतंत्रताओं में से एक का प्रयोग करके अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस को चिह्नित किया: जॉगिंग के लिए जाने का अधिकार, भ्रमित दर्शकों पर ध्यान न देना।

 यह निश्चित तौर पर एक ऐसी खबर जो भारत और अन्य मुस्लिम बाहुल्य जनसंख्या वाले देशों में हलचल पैदा करेगी। अभी हाल ही में भारत में हिजाब पर उठा विवाद और गर्माने की आशंका से इंकार नहीं किया जा सकता। भारत के मुसलमानों के ऊपर भी यह दबाब डाला जायेगा कि वे भारतीय नियमों का पालन करें लेकिन भारत के संविधान ने किसी प्रकार के भोजन और वस्त्रों के संबंध मेंकिसी प्रकार का कोई प्रतिबंध नहीं लगाया है।


Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.