संथाल विद्रोह: कारण, घटनाएं और परिणाम

Share this Post

भारत में अंग्रेजों के खिलाफ सर्वप्रथम आवाज़ उठाने वाले लोगों में इस देश के धनाढ्य या शिक्षित वर्ग के लोग नहीं थे बल्कि इस देश के जंगलवासी अथवा आदिवासी समुदाय से संबंधित लोग थे। ऐसे ही एक आदिवासी विद्रोह ‘संथाल विद्रोह’ का इतिहास में बहुत महत्व है।

संथाल विद्रोह: कारण, घटनाएं और परिणाम
A symbolic picture of the Santhal rebellion-photo credit wikipedia

संथाल विद्रोह

संथाल विद्रोह भारत के इतिहास में एक महत्वपूर्ण घटना है जो 1855 और 1856 के दौरान बिहार, झारखंड और ओडिशा के संथाल जनजाति के बीच हुई थी। इस विद्रोह के मुख्य कारणों में से एक था अंग्रेजों के भूमिहीनीकरण नीति के खिलाफ जो इन जनजातियों के जमीनों पर उनकी खेती और जीवन शैली को खत्म करने के लिए लागू की गई थी।

संथाल विद्रोह के दौरान, संथाल जनजाति के लोगों ने अंग्रेजों के खिलाफ जंग शुरू की और कई अंग्रेजों को मार डाला। हालांकि, उन्होंने इस लड़ाई में अंततः हार माननी पड़ी। यह विद्रोह ब्रिटिश सरकार को इस बात का अंदाजा लगाने में मदद करता है कि भारत में जनजातियों के आंदोलन का एक नया दौर शुरू हो गया था जो बाद में भारत की स्वतंत्रता संग्राम के लिए महत्वपूर्ण साबित हुआ।

संथाल विद्रोहकहाँ हुआ था

आदिवासियों के विद्रोहों में संथालों का विद्रोह सबसे जबरदस्त था। भागलपुर से राजमहल के बीच का क्षेत्र ‘दामन-ए-कोह’ के नाम से जाना जाता था। यह क्षेत्र संथाल जनजाति बहुल इलाका था। यहाँ हज़ारों संथालों ने संगठित विद्रोह किया था। संथाल विद्रोहियों ने गैर-आदिवासियों को भगाने, उनकी सत्ता समाप्त कर अपनी सत्ता स्थापित करने के लिए जोरदार संघर्ष छेड़ा।

READ ALSO

संथाल विद्रोह के क्या कारण थे

वे कौन-से सामाजिक-आर्थिक कारण थे, जिनके चलते संथाल विद्रोही बने।  संथालों पर होने वाले अत्याचारों के विषय में कलकत्ता रिव्यू’ में एक बहुत ही सत्य लेख छपा था इसका वर्णन उस समय के एक लेखक ने किया है, जो इस प्रकार है :—

 “अधिकांश जमींदार, पुलिस के लोग, राजस्व विभाग के कर्मचारी और अदालतों ने संथालों पर बेइंतहा जुल्म किये हैं। संथालों की जमीन-जायदाद हड़प ली।  संथालों को विभिन्न तरीकों से अपमानित किया जाता है और उनके साथ मारपीट करना एक आम बात है। सूदखोर संथालों को कर्ज देकर उनसे मनमाफिक ब्याज ( कभी-कभी तो 50 से 500 फीसदी की दर ) वसूला जाता था।”

“धनाढ्य और ताकतवर लोग, जब मन में आता था, मेहनतकश संथालों के घर और फसल उजाड़ देते थे। उनकी खड़ी तैयार पकी फसलों पर हाथी दौड़ा दिए जाते थे। इस प्रकार की घटनाएं और अत्याचार आम बात हो गयी थी। दिकू ( गैर-आदिवासी ) और सरकारी कर्मचारी भी संथालों की निगाह में अत्याचारी थे। ये लोग संथालों से बेगार कराते थे।  चोरी करना, झूठ बोलना और शराब पीना इनकी आदत सी बन गई थी।”

संथाल विद्रोह का प्रारम्भ

1854 के आते-आते आदिवासी लोग अपने विरुद्ध होने वाले अत्याचारों के विरुद्ध आवाज़ उठाने के लिए कसमसाने लगे थे।आदिवासियों के मुखिया मजलिस और परगणित बैठकें करने लगे और तैयारी शुरू हो गई खुले विद्रोह की।

जमींदारों और सूदखोरों को लूटने की छुटपुट घटनाएं शुरू हुईं।

“30 जून 1855 को भगनीडीह में में 400 आदिवासी गांवों के करीब छह हज़ार आदिवासी प्रतिनिधि इकट्ठे हुए और सभा की। सभी ने सहमति से निर्णय लिया कि बाहरी लोगों को भगाने, विदेशियों का राज हमेशा के लिए खत्म कर सतयुग का राज-न्याय और धर्म पर अपना राज-स्थापित करने के लिए खुला विद्रोह किया जाए।

READ ALSO1859-60 के नील विद्रोह के कारणों की विवेचना कीजिए

संथाल विद्रोह के नेता कौन थे

संथाल लोगों को विश्वास था कि भगवन उनके साथ है। विद्रोही संथालों के दो प्रमुख नेता थे —-सीदो और कान्हू थे।  इन दोनों नेताओं ने घोषणा की कि ठाकुरजी ( भगवान ) ने उन्हें निर्देश दिया है कि आज़ादी के लिए अब हथियार उठा लो। सीदो ने अधिकारियों से कहा,

“ठाकुरजी ने मुझे आदेश देते समय कहा कि यह देश साहबों का नहीं है। ठाकुर जी स्वयं हमारी तरफ से लड़ेंगे। इस तरह आप साहब लोग और सिपाही लोग खुद ठाकुरजी से लड़ेंगे।

संथाल विद्रोहियों की कार्यवाही

इन आदिवासियों ने गांव में जुलूस निकले। ‘ढोल’ और नगाड़े बजाते ये पुरुषों, महिलाओं से संघर्ष करने का आह्वान करते।  इन्होंने सभी को संघर्ष करने के लिए तैयार कर लिया। संथाल नेता हाथी, घोड़े और पालकी पर चलते थे। बहुत जल्दी इन्होंने करीब 60 हज़ार हथियारबंद संथालों को इकठ्ठा कर लिया।  इसके आलावा कई हज़ार आदिवासियों को तैयार रहने के लिए कहा गया। उनसे कहा गया कि जब नगाड़ा बजे तो हथियार उठा लेना।

विद्रोहियों माहजनों और जमींदारों पर हमला बोलना शुरू कर दिया। जमींदारों के मकानों  आग लगा दी गई। पुलिस स्टेशन, रेलवे स्टेशन और डाक धोने वाली गाड़ियों को जला दिया गया। लगभग उन सभी चीजों पर हमला किया गया, जो दिकू ( गैर-आदिवासी ) और उपनिवेशवादी सत्ता के शोषण के माध्यम थे।

READ ALSOबारदोली सत्याग्रह | बारदोली आंदोलन

अंग्रेज सरकार द्वारा संथाल विद्रोह का दमन / संथाल विद्रोह का दमन किसने किया था ?

संथालों के इस संगठित विद्रोह ने अंग्रेज सरकार को चकित कर दिया। औरनिवेशिक सरकार ने इस विद्रोह से निपटने के लिए सेना का सहारा लिया। विद्रोहियों  का सफाया करने के लिए एक मेजर जनरल (जनरल लाइड ) के नेतृत्व में 10 टुकड़ियां भेजी गईं। विद्रोह प्रभावित इलाकों में मार्शल लॉ लागू किया गया और विद्रोही नेताओं को पकड़ने पर 10 हज़ार रुपए का इनाम घोषित किया गया।

संथाल विद्रोह का परिणाम

निरंकुश और शक्तिशाली सत्ता के अत्याचार और बल प्रयोग ने इस विद्रोह को कुचल दिया। अंग्रेज सरकार की कार्यवाही में 15 हज़ार से अधिक संथाल विद्रोही मारे गए। संथालों के गांव पूरी तरह उजाड़ दिए गए।

अगस्त 1955 में सीदो को गिरफ्तार कर लिया गया, सीदो को मार डाला गया। कान्हू फरवरी 1886 में पकड़ा गया। राजमहल की पहाड़ियां संथालों के खून से लाल हो गईं।

एल. एस. एस. ओ. मुले ने संथालों के विद्रोह को मुठभेड़ की संज्ञा दी है और उनकी बहादुरी का वर्णन कुछ इन शब्दों में  किया है :—–

 “संथालों ने  अदम्य साहस दिखाया, असह्न्य यातना पर भी उफ़ तक नहीं की। एक बार एक झोपडी में 45 संथाल छिपे थे। सिपाही इन्हें घेरे हुए थे।  सिपाही जब-जब गोली चलाते, ये संथाल तीर चलाते। जब उनके तीर निशाने से चूक गए तो सिपाही झोपडी में घुसे।  झोपडी में केवल एक बूढ़ा संथाल ज़िंदा था। एक सिपाही ने जब उससे आत्मसमर्पण करने को कहा तो वह बूढ़ा संथाल सिपाही पर हमले के लिए झपट पड़ा और अपनी कुल्हाड़ी से सिपाही के टुकड़े-टुकड़े कर दिए।

इस प्रकार संथाल विद्रोह भले ही औपनिवेशिक सरकार ने दबा दिया हो मगर उसकी धमक आने वाले कई वर्षों तक सुनाई देती रही। इन आदिवासियों के संघर्ष  ने ही आगे चलकर क्रांतिकारी आंदोलन को जन्म दिया।

Share this Post

Leave a Comment

Discover more from History in Hindi

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading