|

भारत के सबसे ईमानदार प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री की जीवनी और उनकी मौत का रहस्य

भारत के सबसे ईमानदार प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री की जीवनी और उनकी मौत का रहस्य

जन्म:                       2 अक्टूबर, 1904 भारत

मृत्यु हो गई:              जनवरी 11, 1966 (आयु 61) ताशकंद उज़्बेकिस्तान

शीर्षक / कार्यालय:      प्रधान मंत्री (1964-1966), भारत

राजनीतिक संबद्धता:  भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस

में भूमिका:   ताशकंद समझौता

lal bahadur shashtri


 

   

       लाल बहादुर शास्त्री, (जन्म 2 अक्टूबर, 1904, मुगलसराय, भारत- मृत्यु 11 जनवरी, 1966, ताशकंद, उजबेकिस्तान, यूएसएसआर), भारतीय राजनेता, जवाहरलाल नेहरू के बाद भारत के प्रधान मंत्री (1964-66) ।

        भारत में ब्रिटिश सरकार के खिलाफ महात्मा गांधी के असहयोग आंदोलन के सदस्य, उन्हें थोड़े समय के लिए (1921) जेल में रखा गया था। रिहा होने पर उन्होंने एक राष्ट्रवादी विश्वविद्यालय, काशी विद्यापीठ में अध्ययन किया, जहाँ उन्होंने शास्त्री (“शास्त्रों में विद्वान”) की उपाधि से स्नातक किया। फिर वे गांधी के अनुयायी के रूप में राजनीति में लौट आए, कई बार जेल गए, और संयुक्त प्रांत, अब उत्तर प्रदेश राज्य की कांग्रेस पार्टी में प्रभावशाली पदों को प्राप्त किया।

        शास्त्री 1937 और 1946 में संयुक्त प्रांत की विधायिका के लिए चुने गए थे। भारतीय स्वतंत्रता के बाद, शास्त्री ने उत्तर प्रदेश में गृह मामलों और परिवहन मंत्री के रूप में अनुभव प्राप्त किया। वह 1952 में केंद्रीय भारतीय विधायिका के लिए चुने गए और केंद्रीय रेल और परिवहन मंत्री बने। 1961 में गृह मंत्री के प्रभावशाली पद पर नियुक्ति के बाद उन्होंने एक कुशल मध्यस्थ के रूप में ख्याति प्राप्त की। तीन साल बाद, जवाहरलाल नेहरू की बीमारी पर, शास्त्री को बिना पोर्टफोलियो के मंत्री नियुक्त किया गया, और नेहरू की मृत्यु के बाद वे जून 1964 में प्रधान मंत्री बने। .

       भारत की आर्थिक समस्याओं से प्रभावी ढंग से निपटने में विफल रहने के लिए शास्त्री की आलोचना की गई, लेकिन उन्होंने विवादित कश्मीर क्षेत्र पर पड़ोसी देश पाकिस्तान (1965) के साथ शत्रुता के प्रकोप पर अपनी दृढ़ता के लिए बहुत लोकप्रियता हासिल की। पाकिस्तानी राष्ट्रपति अयूब खान के साथ “युद्ध विराम” समझौते पर हस्ताक्षर करने के बाद दिल का दौरा पड़ने से उनकी मृत्यु हो गई।

 ताशकंद  में में लाल बहादुर शास्त्री की मृत्यु मौत या हत्या

  ताशकंद में शास्त्री  जी की मौत का रहस्य  आज भी बना हुआ है। पाकिस्तान के साथ ताशकंद समझौते ( 10 जनवरी 1966 ) पर हस्ताक्षर करने के बाद मात्र 12 घंटे पश्चात् उनकी मृत्यु की खबर दुनिया के सामने आई।
      जनवरी की रात्रि 1:32 पर उनकी मौत की सूचना बहार आई। इस संबंध में उनके निकट संबंधियों और अधिकारियों का कहना था की अपनी मृत्यु से आधे घंटे पहले तक वह एकदम स्वस्थ थे, लेकिन मात्र 15 से 20 मिनट के अंदर उनकी तबियत बिगड़ने लगी। उनकी बिगड़ती हालत को देखकर डॉक्टर ने उन्हें इंजेक्शन ( इंट्रामस्कुलर नामक ) दिया।  इस इंजेक्शन के बाद कुछ ही मिनट में उनकी मृत्यु हो गई।

     सरकारी सूत्रों ने उनकी मौत का कारण दिल का दौरा बतया। इसके पक्ष में यह बात भी सही है कि वे दिल की बीमारी से पहले ही पीड़ित थे और 1959 में उन्हें एक बार दिल का दौरा पड़ चुका था। इसके बाद उनके करीबियों और डॉक्टर ने उन्हें कम काम करने की सलाह भी दी थी। लेकिन नेहरू की म्रत्यु के बाद जब 9 जून 1964 को वे देश के प्रधानमंत्री बने तो उन पर काम का बोझ भी बढ़ गया।  यद्पि उनकी मृत्यु पर कुछ रिपोर्ट्स में उनकी मृत्यु को एक साजिश के तौर  पर भी दर्शाया गया।  इससे उनकी मृत्यु एक रहस्य बन गई।

जब सोवियत पीएम और पाकिस्तानी राष्ट्रपति ने शास्त्री जो को कंधा दिया  

      यह वह दृश्य था जब दुनिया ने देखा कि एक दुश्मन देश पाकिस्तान और एक मित्र  देश ने भारत के सबसे ईमानदार प्रधानमंत्री की अर्थी को कन्धा दिया। शास्त्री जी के शव को ताशकंद से दिल्ली लाने के लिए जब उनका शव ताशकंद के हवाई अड्डे पर पहुंचा तो सोवियत राष्ट्रपति कोसिगिन, तथा पाकिस्तान के राष्ट्रपति अयूब खान ने उनके ताबूत को कन्धा दिया। सोवियत संघ, पाकिस्तान और भारत  उनके शोक में झुके हुए थे।

शस्त्री जी की पत्नी का  आरोप जहर देकर की गई हत्या

     शास्त्री जी की पत्नी के इस दावे के पक्ष में कुछ लोगों का कहना है कि जिस रात शास्त्री जी की मृत्यु हुई उस रात का खाना सोवियत रूस में भारत के तत्कालीन राजदूत टीएन कौल के रसोईया जान मुहम्मद ने बनाया पकाया था। जबकि शास्त्री जी के साथ उनके रसोईया और निजी सहायक रामनाथ उनके साथ थे। रात्रि भोज के बाद शास्त्री जी सोने चले गए।  उनकी  मौत के बाद उनका शरीर नीला पड़ गया था। इसे देखकर बहुत  ने खाने में जहर मिलाये जाने की आशंका व्यक्त की थी। उनके शव को देखने के बाद उनकी पत्नी ललिता शास्त्री ने भी यही आशंका व्यक्त की थी कि उनके पति को जहर देकर मारा गया है। अगर मृत्यु का कारण दिल का दौरा था तो शरीर पर नील निशान क्यों थे ? उनके बेटे  शास्त्री ने भी यही आशंका व्यक्त की थी। 

  • उनकी मृत्यु में क्या रूस का हाथ था ?
  • उनके शव का पोस्टमार्टम क्यों नहीं कराया गया ?
  • उनका शरीर नीला क्यों पड़ गया था ?

      ऐसे कई अनुत्तरित सवाल हैं जिनके उत्तर हर भारतीय जानना चाहता है ताकी देश के सबसे ईमानदार प्रधानमंत्री की मौत के रहस्य को सामने लाया जा सके। एक प्रधानमंत्री की मौत वो भी रहस्यमय तरिके से और उस पर उनका पोस्टमार्टम न कराया जाना उनकी हत्या के दावे को मजबूत करता है।

जब शास्त्री जी ने खाया सिर्फ एक वक़्त खाना

      भारत और पाकिस्तान के बीच 1965 की जंग के बीच तत्कालीन अमेरिकी राष्ट्रपति लिंडन जॉनसन ने भारत के प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री को धमकी दो कि यदि उन्होंने पाकिस्तान के बिरुद्ध युद्ध नहीं रोका तो वह भारत को गेहूं भेजना बंद कर देंगे।  क्योंकि उस समय भारत गेहूं के उत्पादन में आत्मनिर्भर नहीं था और अधिकांश गेहूं अमेरिका से आयत करना  पड़ता था। लेकिन शास्त्री जी अमेरिकी धमकी के सामने  और  उन्होंने देशवासियों से अपील की कि वह आज से एक वक़्त का भोजन करेंगे।  उनकी पेाल पर लाखों भारतीयों ने एक वक़्त का खाना खाया ताकि अमेरिका से गेहूं के आयात की आवश्यकता न पड़े।


Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *